साहित्य विमर्श एंड्रॉयड एप

0 0 वोट
पोस्ट को रेट करें

जो तुम आ जाते एक बार

कितनी करूणा कितने संदेश
पथ में बिछ जाते बन पराग
गाता प्राणों का तार तार
अनुराग भरा उन्माद राग

आँसू लेते वे पथ पखार
जो तुम आ जाते एक बार

हँस उठते पल में आर्द्र नयन
धुल जाता होठों से विषाद
छा जाता जीवन में बसंत
लुट जाता चिर संचित विराग

आँखें देतीं सर्वस्व वार
जो तुम आ जाते एक बार

0 0 वोट
पोस्ट को रेट करें
सबस्क्राइब करें
सूचित करें
guest
0 टिप्पणियाँ
इनलाइन प्रतिक्रिया
सभी टिप्पणियाँ देखें
महादेवी वर्मा

महादेवी वर्मा

जन्म: 26 मार्च 1907, मृत्यु: 11 सितंबर 1987 काव्य: यामा, दीपशिखा, नीरजा, नीहार संस्मरण और रेखाचित्र: अतीत के चलचित्र, स्मृति की रेखाएँ, शृंखला की कड़ियाँ
0
आपके विचार महत्वपूर्ण हैं। कृपया टिप्पणी करें। x
()
x