अभिषेक सूर्यवंशी

अभिषेक सूर्यवंशी

लेखक - किस्सागो - प्रोग्रामर - बावर्ची अभिषेक सूर्यवंशी का जन्म बिहार के सहरसा जिले में १५ जून १९९१ को हुआ। प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा पैतृक गाँव तेघड़ा में हुई और फिर माध्यमिक शिक्षा जवाहर नवोदय विद्यालय से हुई। एन आई टी कालीकट से मास्टर्स करने के बाद अभी सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। अभिषेक अब तक दो किताबें लिख चुके हैं, किस्सों की सड़क और बतजगा। किस्सों की सड़क और बतजगा - अपनी दोनों किताबों में अभिषेक गल्प की उस पुरानी विधा को खींच कर सामने लाते दिखते हैं, जिसे जिंदगी की भागमभाग में हम कहीं किसी तकिये के नीचे, किसी पुरानी फटी जींस की जेब में रख कर भूल गये थे। ये किस्से विधाओं का बार-बार अतिक्रमण करते हैं। कहानियाँ? नाह। लघुकथाएँ? बिल्कुल नहीं। संस्मरण? चुटकी भर। रेखाचित्र? कहीं कहीं। सच कहूँ, तो ये किस्से दोस्तों की उन गप्पबाजियों की याद दिलाते हैं, जिनमें रात कब गुजर जाती थी, खबर ही नहीं होती थी।

रचनाएँ

नए पोस्ट की सूचना के लिए 

नए पोस्ट की सूचना के लिए 

Powered by सहज तकनीक
© 2020 साहित्य विमर्श