साहित्य विमर्श एंड्रॉयड एप


2 2 वोट
पोस्ट को रेट करें

“भाई ये बिजली के गलत बिल कौन साहब ठीक करते हैं ?”
“क्या काम है ?”
“मैं एक किराए के कमरे में रहता हूँ ।कमरे में बिजली के नाम पर एक पंखा और एक बल्ब है| इन दो चीजों का बिल इस महीने ‘ दस हज़ार ‘ आया ! इसी सिलसिले में साहब से मिलना है।”
चपरासी ने उसे सुधीर साहब के पास  भेजा।
” साहब मेरा बिजली का बिल बहुत ज्यादा  आया है,इसे कृपया ठीक कर दीजिए।”
साहब ने सिर से पांव तक दीनू को देखा !
“जितनी जलाते हो उतना ही आएगा न !”
” साहब ,एक पंखे,बल्ब का दस हज़ार ?”
” हाँ ,तो खाना बिजली के हीटर पर पकाते होंगे ? तुम  लोग कटिया डाल बिजली की चोरी करते हो| इस बार कटिया सही से डली न होगी, तो ज्यादा बिल आ गया।”
” साहब, मैं कोई कटिया न डालता। साथ ही खाना भी ढाबे पर खाता हूँ ,कमरे में नहीं पकाता।”
” अरे जाओ,जो आ गया वो तो देना  होगा ।”

 

दीनू हैरान,परेशान खड़ा था। तभी  सुधीर साहब ने एक आदमी को आवाज़ दी :
“  रमेश, इधर आना ।”
“हाँ बोलो सुधीर।”
” यार घर नया बनवाया है, ऊपर की मंज़िल पर तीन नए ए सी लगवाए हैं, पहले के भी नीचे की मंज़िल पर चल रहे हैं। बाकी बिजली का सामान भी चलता है। तुम देख लेना मेरा बिल,मेरे एरिया की रीडिंग तो तुम ही करते हो न। 500 -1000 के बीच ही रखना ! ” सुधीर ने आंख मारते हुए रमेश से कहा।
रमेश ने भी उसी अंदाज़ में जवाब दिया -” तुम टेंशन न लो ,मैं सब एडजस्ट कर दूंगा। ”
“चल फिर रात को  ‘अपनी तरह’ की पार्टी में मिलते हैं।” दोनों ज़ोर से हँसने  लगे ।

दीनू एक कोने में खड़ा- एक कमरे के ‘एक बल्ब,  पंखे के दस हज़ार औऱ एक दो मंजिला बड़े मकान के तीन-चार ए सी व बाकी लाइट का  500 -1000’ -ये गणित समझने की कोशिश कर रहा था

2 2 वोट
पोस्ट को रेट करें

सबस्क्राइब करें
सूचित करें
guest
0 टिप्पणियाँ
इनलाइन प्रतिक्रिया
सभी टिप्पणियाँ देखें

.

drsangeeta

डॉ संगीता गांधी

शिक्षिका व लेखिका साहित्यिक परिचय ----------------------- लघुकथा कलश, आस-पास से गुज़रते हुए ,सहोदरी लघुकथा, नए पल्लव 2, समकालीन प्रेम संबंधी लघुकथाएं, संग्रहों में लघुकथाएं प्रकाशित मुसाफिर ,सहोदरी सोपान ,कविता प्रसंग संग्रहों में कविताएँ प्रकाशित । कहानी प्रसंग ,व्यंग्य प्रसंग संग्रहों में क्रमशः कहानी व व्यंग्य रचनाएँ प्रकाशित । दृष्टि ,अट्टहास ,निकट ,अनुगुंजन ,विभोम स्वर ,शतदल समय, सरस्वती सुमन ,प्रणाम पर्यटन ,नवल ,शैलसूत्र, प्राची, अविराम साहित्यिकी, सत्य की मशाल, आधुनिक साहित्य, ककसाड़, अहा ज़िन्दगी, नायिका, सुरभि व अन्य पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित ।

नए पोस्ट की सूचना के लिए 

नए पोस्ट की सूचना के लिए 

Powered by सहज तकनीक
© 2020 साहित्य विमर्श
0
आपके विचार महत्वपूर्ण हैं। कृपया टिप्पणी करें। x
()
x