Skip to content

तोड़ो तोड़ो तोड़ो
ये पत्थर ये चट्टानें 

ये झूठे बंधन टूटें 
तो धरती को हम जानें 
सुनते हैं मिट्टी में रस है जिससे उगती दूब है 
अपने मन के मैदानों पर व्यापी कैसी ऊब है 
आधे आधे गाने 
तोड़ो तोड़ो तोड़ो 
ये ऊसर बंजर तोड़ो 
ये चरती परती तोड़ो 
सब खेत बनाकर छोड़ो 
मिट्टी में रस होगा ही जब वह पोसेगी बीज को 
हम इसको क्या कर डालें इस अपने मन की खीज को? 
गोड़ो गोड़ो गोड़ो

तोड़ो – रघुवीर सहाय : प्रश्नोत्तर

कवि/लेखक परिचय

Leave a Reply

Your email address will not be published.