जयशंकर प्रसाद

1889 में काशी के एक प्रतिष्ठित वैश्य कुल में जन्म. कवि, नाटककार, उपन्यासकार और कथाकार के रूप में ख्याति. कामायनी (काव्य), चन्द्रगुप्त, स्कंदगुप्त, ध्रुवस्वामिनी (नाटक), आकाशदीप, इंद्रजाल (कहानी संग्रह) आदि महत्वपूर्ण रचनाएँ.

अपनी टिप्पणी अवश्य दें

  सब्सक्राइब करें  
सूचित करें
कॉपी नहीं शेयर करें !
%d bloggers like this: