साहित्य विमर्श एंड्रॉयड एप

0 0 वोट
पोस्ट को रेट करें

उरूजे कामयाबी पर कभी हिन्दोस्तां होगा |

रिहा सैय्याद के हाथों से अपना आशियां होगा ||

चखाएंगे मजा बर्बादिये गुलशन का गुलचीं को |

बहार आ जाएगी उस दम जब अपना बागबां होगा ||

ये आए दिन की छेड़ अच्छी नहीं ऐ खंजरे क़ातिल |

पता कब फैसला उनके हमारे दरम्यां होगा ||

जुदा मत हो मेरे पहलू से ऐ दर्दे वतन हर्गिज़ |

न जाने बाद मुर्दन मैं कहाँ और तू कहाँ होगा ||

वतन की आबरू का पास देखें कौन करता है |

सुना है आज मकतल में हमारा इम्तहां होगा ||

शहीदों की चिताओं पर जुड़ेंगे हर बरस मेले |

वतन पर मरने वालों का यही बाकी निशां होगा ||

कभी वह भी दिन आएगा जब अपना राज देखेंगे|

जब अपनी ही जमीं होगी और अपना आसमां होगा ||

 

 

0 0 वोट
पोस्ट को रेट करें
सबस्क्राइब करें
सूचित करें
guest
0 टिप्पणियाँ
इनलाइन प्रतिक्रिया
सभी टिप्पणियाँ देखें

.

साहित्य विमर्श

साहित्य विमर्श

हिंदी साहित्य चर्चा का मंच कथा -कहानी ,कवितायें, उपन्यास. किस्से कहानियाँ और कविताएँ, जो हमने बचपन में पढ़ी थी, उन्हें फिर से याद करना और याद दिलाना

नए पोस्ट की सूचना के लिए 

नए पोस्ट की सूचना के लिए 

Powered by सहज तकनीक
© 2020 साहित्य विमर्श
0
आपके विचार महत्वपूर्ण हैं। कृपया टिप्पणी करें। x
()
x