राजीव सिन्हा

राजीव सिन्हा

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से हिंदी साहित्य में एम. ए. और एम. फिल. करने के पश्चात् दिल्ली में अध्यापन . साहित्य के अतिरिक्त भारतीय इतिहास और संस्कृति में विशेष रूचि

2
आपके विचार

avatar
2 टिप्पणी सूत्र
0 टिप्पणी सूत्र के उत्तर
0 फॉलोअर
 
सर्वाधिक प्रतिक्रिया वाली टिप्पणी
सर्वाधिक लोकप्रिय टिप्पणी सूत्र
2 टिप्पणीकर्ता
Amit Wadhwaniविक्की हालिया टिप्पणीकर्ता
  सब्सक्राइब करें  
सबसे नया सबसे पुराना सबसे ज्यादा वोट वाला
सूचित करें
विक्की
अतिथि
विक्की

विचलित कर दिया दुखी भी

Amit Wadhwani
अतिथि
Amit Wadhwani

बहुत पहले पढ़ी आचार्य जी, इनकी कहानियों के संकलन की कई किताबें है पर कहानियां कुछ ही पढ़ी हुई है, पढ़ते ही मन अवसाद से भर गया, फिर कभी हिम्मत नहीं हुई किताब उठाने की आज कई दिनों बाद यह कहानी पढ़ी, इसी पर हालिया एक फिल्म भी आयी है, मंटो नहीं, इस कहानी पे।

कॉपी नहीं शेयर करें !
%d bloggers like this: