साहित्य विमर्श एंड्रॉयड एप

0 0 वोट
पोस्ट को रेट करें

झंडा ऊंचा रहे हमारा.

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा, झंडा ऊंचा रहे हमारा .

 

सदा शक्ति बरसाने वाला,

प्रेम सुधा सरसाने वाला,

वीरों को हरषाने वाला,

मातृभूमि का तन-मन सारा, झंडा ऊंचा रहे हमारा.

 

स्वतंत्रता के भीषण रण में,

लखकर जोश बढ़े क्षण-क्षण में,

कांपे शत्रु देखकर मन में,

मिट जावे भय संकट सारा, झंडा ऊंचा रहे हमारा.

 

इस झंडे के नीचे निर्भय,

हो स्वराज्य जनता का निश्चय,

बोलो भारत माता की जय,

स्वतंत्रता ही ध्येय हमारा, झंडा ऊंचा रहे हमारा.

 

आओ प्यारे वीरों आओ,

देश-जाति पर बलि-बलि जाओ,

एक साथ सब मिलकर गाओ,

प्यारा भारत देश हमारा, झंडा ऊंचा रहे हमारा.

 

इसकी शान न जाने पावे,

चाहे जान भले ही जावे,

विश्व-विजय करके दिखलावे,

तब होवे प्रण-पूर्ण हमारा, झंडा ऊंचा रहे हमारा.

 

0 0 वोट
पोस्ट को रेट करें
सबस्क्राइब करें
सूचित करें
guest
0 टिप्पणियाँ
इनलाइन प्रतिक्रिया
सभी टिप्पणियाँ देखें

.

साहित्य विमर्श

साहित्य विमर्श

हिंदी साहित्य चर्चा का मंच कथा -कहानी ,कवितायें, उपन्यास. किस्से कहानियाँ और कविताएँ, जो हमने बचपन में पढ़ी थी, उन्हें फिर से याद करना और याद दिलाना

नए पोस्ट की सूचना के लिए 

नए पोस्ट की सूचना के लिए 

Powered by सहज तकनीक
© 2020 साहित्य विमर्श
0
आपके विचार महत्वपूर्ण हैं। कृपया टिप्पणी करें। x
()
x