Close
Skip to content

साहित्य विमर्श एंड्रॉयड एप

1 1 वोट
पोस्ट को रेट करें

बीती विभावरी जाग री!

अम्बर पनघट में डुबो रही
तारा-घट ऊषा नागरी!

खग-कुल कुल-कुल-सा बोल रहा
किसलय का अंचल डोल रहा
लो यह लतिका भी भर ला‌ई-
मधु मुकुल नवल रस गागरी

अधरों में राग अमंद पिए
अलकों में मलयज बंद किए
तू अब तक सो‌ई है आली
आँखों में भरे विहाग री!

1 1 वोट
पोस्ट को रेट करें
सबस्क्राइब करें
सूचित करें
guest
0 टिप्पणियाँ
इनलाइन प्रतिक्रिया
सभी टिप्पणियाँ देखें

.

बीती विभावरी जाग री

जयशंकर प्रसाद

जन्म:30 जनवरी 1889, वाराणसी, मृत्यु: नवम्बर 15, 1937 काव्य: कामायनी, लहर, झरना, आँसू उपन्यास: कंकाल, तितली कहानी: इंद्रजाल, प्रतिध्वनि नाटक: चन्द्रगुप्त, स्कंदगुप्त
0
आपके विचार महत्वपूर्ण हैं। कृपया टिप्पणी करें। x
()
x