अमृत लाल नागर

जन्म: 17 अगस्त, 1916, मृत्यु: 23 फरवरी, 1990
उपन्यास : महाकाल (1970 से ‘भूख’ शीर्षक प्रकाशित), बूँद और समुद्र, शतरंज के मोहरे, सुहाग के नुपूर, अमृत और विष, सात घूँघट वाला मुखड़ा, एकदा नैमिषारण्ये, मानस का हंस, नाच्यौ बहुत गोपाल, खंजन नयन, बिखरे तिनके, अग्निगर्भा, करवट, पीढ़ियाँ
कहानियाँ: वाटिका, अवशेष, तुलाराम शास्त्री, आदमी, नही! नही!, पाँचवा दस्ता, एक दिल हजार दास्ताँ, एटम बम, पीपल की परी, कालदंड की चोरी, भारत पुत्र नौरंगीलाल, सिकंदर हार गया, एक दिल हजार अफसाने ( लगभग सभी कहानियों का संकलन)।

This user account status is Approved