साहित्य विमर्श एंड्रॉयड एप

4.2 6 वोट 5 1
पोस्ट को रेट करें

रामानंद बाबू को अस्पताल में भर्ती हुए आज दो महीने हो गये। वे कर्क रोग से ग्रसित हैं। उनकी सेवा-सुश्रुषा करने के लिए उनका सबसे छोटा बेटा बंसी भी उनके साथ अस्पताल में ही रहता है। बंसी की माँ को गुज़रे हुए क़रीब पाँच वर्ष हो चुके हैं। अपनी माँ के देहावसान के समय बंसी तक़रीबन बीस वर्ष का था। 

सुबह के आठ बज रहे हैं। बंसी अपने पिता के लिए फल लाने बाज़ार गया है। तभी नियमित जाँच करने हेतु डॉक्टर रामाश्रय का आगमन हुआ। रामानंद बाबू और डॉक्टर रामाश्रय लगभग एक ही उम्र के हैं। रामानंद बाबू की शारीरिक जाँच करने के उपरांत डॉक्टर साहब ने उनसे पूछा, “आपकी केवल एक ही संतान है क्या?” 

“नहीं डॉक्टर साहब, बंसी के अलावा भी मेरे दो पुत्र एवं दो पुत्रियाँ हैं,” रामानंद बाबू ने जवाब दिया। 

“फिर दो महीनों तक आपसे कोई मिलने क्यों नहीं आया?” डॉक्टर साहब ने विस्मित होकर पूछा। 

“वे सभी सरकारी सेवाओं में उच्च पदों पर आसीन हैं। आप तो जानते ही हैं, अभी के समय में अधिकारियों को साँस लेने तक की फुर्सत नहीं है। वैसे, बंसी से फोन पर सभी मेरी ख़ैरियत पूछते रहते हैं। मेरे सभी बच्चे बचपन से ही होनहार थे। केवल एक बंसी ही नालायक़ था। इसलिए अपने भाई-बहनों की तरह नहीं बन सका,” रामानंद बाबू ने बड़ी सहजता से कहा। 

“काश! बंसी जैसा नालायक़ बेटा हर बाप के पास होता…” डॉक्टर साहब यह कहते हुए वहाँ से चले गये। 

✍️ आलोक कौशिक

 

4.2 6 वोट 5 1
पोस्ट को रेट करें
सबस्क्राइब करें
सूचित करें
guest
2 टिप्पणियाँ
नवीनतम
प्राचीनतम सबसे ज्यादा वोट
इनलाइन प्रतिक्रिया
सभी टिप्पणियाँ देखें

.

आलोक कौशिक

आलोक कौशिक

शिक्षा- स्नातकोत्तर (अंग्रेजी साहित्य) पेशा- पत्रकारिता एवं स्वतंत्र लेखन साहित्यिक कृतियां- प्रमुख राष्ट्रीय समाचारपत्रों एवं साहित्यिक पत्रिकाओं में सैकड़ों रचनाएं प्रकाशित पता:- मनीषा मैन्शन, जिला- बेगूसराय, राज्य- बिहार, 851101, चलभाष:- 8292043472

नए पोस्ट की सूचना के लिए 

नए पोस्ट की सूचना के लिए 

Powered by सहज तकनीक
© 2020 साहित्य विमर्श
2
0
आपके विचार महत्वपूर्ण हैं। कृपया टिप्पणी करें। x
()
x