प्रेमचंद

प्रेमचंद

31 जुलाई 1880 को वाराणसी के निकट लमही ग्राम में जन्मे धनपत राय श्रीवास्तव उर्फ नवाब राय साहित्य संसार मे प्रेमचंद के नाम से ख्यात हुए। हिन्दी उपन्यास के विकास मे उनके योगदान के कारण बांग्ला उपन्यासकार शरतचंद्र चट्टोपाध्याय ने उन्हे उपन्यास सम्राट की उपाधि दी। प्रेमचंद ने अपना आरंभिक लेखन उर्दू में किया । 1910 में प्रकाशित सोज़ ए वतन के लिए हमीरपुर के जिला कलक्टर से चेतावनी मिली। सोज़ ए वतन की प्रतियाँ भी जब्त कर जला दी गईं। इसके बाद ‘जमाना’ के संपादक और अपने मित्र दयानारायण निगम की सलाह पर प्रेमचंद नाम अपनाया।हिन्दी में प्रेमचंद की पहली कहानी ‘सौत’ सरस्वती पत्रिका के दिसंबर 1915 के अंक मे प्रकाशित हुई। इसके बाद 1936 में अपनी मृत्यु होने तक प्रेमचंद ने 300 से अधिक कहानियाँ लिखीं। उनकी कहानियों का संकलन मानसरोवर के नाम से 8 भागों में प्रकाशित हुआ। सेवासदन हिन्दी मे प्रेमचंद का पहला उपन्यास है।

1
अपनी टिप्पणी अवश्य दें

avatar
1 टिप्पणी सूत्र
0 टिप्पणी सूत्र के उत्तर
0 फॉलोअर
 
सर्वाधिक प्रतिक्रिया वाली टिप्पणी
सर्वाधिक लोकप्रिय टिप्पणी सूत्र
1 टिप्पणीकर्ता
chandan kumar हालिया टिप्पणीकर्ता
  सब्सक्राइब करें  
सबसे नया सबसे पुराना सबसे ज्यादा वोट वाला
सूचित करें
chandan kumar
अतिथि

प्रेमचंद जी की जयादातर कहानी ग्रामीण परिवेश अौर गरीब लोगो की तकलीफ़ के बारे मे होती थी। इसिलिए इनकी कहानी जयादा अच्छी लगती है। . .
फिर से यादों को जिंदा करने के लिए धन्यवाद

कॉपी नहीं शेयर करें !
%d bloggers like this: