4 Comments

  1. विकास नैनवाल
    March 13, 2018 @ 12:01 pm

    वाह!! क्या कहने। मज़ेदार किस्सा था।

    Reply

    • Rajiv
      March 13, 2018 @ 3:26 pm

      धन्यवाद… सीरीज जारी रहेगी. कई मजेदार किस्से मिलेंगे…

      Reply

  2. नीलेश पवार
    March 13, 2018 @ 1:18 pm

    मजेदार ।
    पढ़ कर बचपन की कहानियां याद आ गई । सरल और रोचक

    Reply

    • Rajiv
      March 13, 2018 @ 3:25 pm

      धन्यवाद. पढ़ते रहिये. अभी और आएँगी.

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यू पी एस सी - हिन्दी साहित्य कोचिंग के लिए संपर्क करें - 8800695993-94-95 या और जानकारी प्राप्त करें