राजीव सिन्हा

राजीव सिन्हा

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से हिंदी साहित्य में एम. ए. और एम. फिल. करने के पश्चात् दिल्ली में अध्यापन . साहित्य के अतिरिक्त भारतीय इतिहास और संस्कृति में विशेष रूचि

4
अपनी टिप्पणी अवश्य दें

avatar
4 टिप्पणी सूत्र
0 टिप्पणी सूत्र के उत्तर
0 फॉलोअर
 
सर्वाधिक प्रतिक्रिया वाली टिप्पणी
सर्वाधिक लोकप्रिय टिप्पणी सूत्र
1 टिप्पणीकर्ता
विकास नैनवालRajiv Sinha हालिया टिप्पणीकर्ता
  सब्सक्राइब करें  
सबसे नया सबसे पुराना सबसे ज्यादा वोट वाला
सूचित करें
विकास नैनवाल
अतिथि

कहानी के प्रस्तुतिकरण के विषय में एक दो चीज कहना चाहता हूँ। आपकी टिपण्णी के बाद कहानी जहाँ से शुरू होती है उसके बीच में थोड़ी जगह रहेगी तो सही रहेगा। इससे पाठक को पता चलेगा कि कहानी कहाँ से शुरू हो रही है।
अगर कहानी का पहला शब्द बोल्ड और थोड़े बड़े फॉण्ट में हो तो भी सही रहेगा।

Rajiv Sinha
अतिथि

ध्यानाकर्षण के लिए धन्यवाद . अपेक्षित सुधार कर दिए गए हैं

Rajiv Sinha
अतिथि

इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

विकास नैनवाल
अतिथि

शुक्रिया,सर।

कॉपी नहीं शेयर करें !
%d bloggers like this: