नरेश मेहता

अनुमानित समय : < 1 मिनट-

एक कवि, गीतकार, कथाकार, उपन्यासकार, नाटककार और विचारक के रूप में नरेश मेहता का हिंदी साहित्य में विशिष्ट स्थान है. 15 फरवरी 1922 को शाजापुर (मध्य प्रदेश) में जन्म. आरंभिक शिक्षा उज्जैन में . उच्च शिक्षा काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से.
बन पाखी सुनो, बोलने दो चीड़ को, मेरा समर्पित एकान्त, उत्सवा तुम मेरा मौन हो, अरण्या, देखना एक दिन आदि उनके महत्वपूर्ण कविता संग्रह हैं . खण्डकाव्यों में: ”संशय की एक रात”, ”महाप्रस्थान”, ”शबरी”, “प्रार्थनापुरुष”, तथा उपन्यासों में “डूबते मरूदूल”, ”नदी यशस्वी है”, ”धूमकेतु एक श्रुति”, ”प्रथम फाल्गुन”, “यह पथ बन्धु था”, ”उत्तर कथा” उल्लेखनीय हैं. एक समर्पित महिला और तथापि उनके चर्चित कहानी संग्रह हैं. नाटकों में सुबह के घण्टे, खण्डित यात्राएं का नाम उनकी उल्लेखनीय कृतियों में है.

This user account status is Approved