साहित्य विमर्श एंड्रॉयड एप

0 0 वोट
पोस्ट को रेट करें

प्रकरण-1

सौदागर की दुकान

 

चतुर मनुष्‍य को जितनें खर्च मैं अच्‍छी प्रतिष्ठा अथवा धन मिल सक्ता है, मूर्ख को उस्‍सै अधिक खर्चनें पर भी कुछ नहीं मिलता- लार्ड चेस्‍टरफील्‍ड.

 

लाला मदनमोहन एक अंग्रेजी सौदागर की दुकानमैं नई, नई फाशन का अंग्रेजी अस्‍बाब देख रहे हैं. लाला ब्रजकिशोर, मुन्शी चुन्‍नीलाल और मास्‍टर शिंभूदयाल उन्‍के साथ हैं.

 

“मिस्‍टर ब्राइट ! यह बड़ी काच की जोड़ी हमको पसंद है. इस्‍की क़ीमत क्‍या है ?” लाला मदनमोहन नें सौदागर सै पूछा.

 

“इस साथकी जोड़ी अभी तीन हजार रुपे मैं हमनें एक हिन्दुस्थानी रईस को दी है लेकिन आप हमारे दोस्‍त हैं आपको हम चारसौ रुपे कम कर दैंगे.”

 

“निस्‍सन्‍देह ये काच आपके कमरेके लायक है इन्के लगनें सै उस्‍की शोभा दुगुनी हो जायगी.” शिंभूदयाल बोले.

 

“आहा ! मैं तो इन्‍के चोखटोंकी कारीगरी देखकर चकित हूँ ! ऐसे अच्‍छे फूल पत्ते बनाये हैं कि सच्‍चे बेल बूटों को मात करते हैं. जी चाहता है कि कारीगर के हाथ चूम लूं” मुन्शी चुन्‍नीलालनें कहा.

 

“इन्‍के बिना आपका इस्‍समय कौन्सा काम अटक रहा है ?” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “खेल तमाशेकी चीजों सै भोलेभाले आदमियों का जी ललचाता है. वह सौदागर की सब दुकान को अपनें घर लेजाया चाहते हैं परन्तु बुद्धिमान अपनी ज़रुरी चीजोंके सिवाय किसी पर दिल नहीं दौड़ाते” लाला ब्रजकिशोर बोले.

 

“ज़रुरत भी तो अपनी, अपनी रुचि के समान अलग, अलग होती है” मुन्शी चुन्‍नीलालनें कहा.

 

“और जब दरिद्रियों की तरह धनवान भी अपनी रुचि के समान काम न कर सकैं तो फ़िर धनी और दरिद्रियों मैं अन्‍तर ही क्‍या रहा ?” मास्टर शिंभूदयालनें पूछा.

 

“नामुनासिब काम करके कोई नुक्‍सानसै नहीं बच सक्‍ता.”

 

” धनी दरिद्री सकल जन हैं जग के आधीन ।

 

चाहत धनी विशेष कछु तासों ते अति दीन ।। ”

 

लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे, “मुनासिब रीति सै थोड़े खर्च मैं सब तरहका सुख मिल सक्ता है परन्तु इन्तज़ाम और कामके सिल्सिले बिना बड़ीसै बड़ी दौलत भी ज़रूरी खर्चों को पूरी नहीं हो सक्ती. जब थोथी बातों मैं बहुतसा रुपया खर्च हो जाता है तो ज़रूरी काम के लिये पीछेसै ज़रूर तकलीफ उठानी पड़ती है.”

 

“चित्त की प्रसन्नता के लिये मनुष्य सब काम करते हैं फ़िर जिन के देखनेंसै चित्त प्रसन्न हो उन्का खरीदना थोथी बातोंमैं कैसे समझा जाय ?” मुन्शी चुन्नीलालनें कहा.

 

“चित्त प्रसन्‍न रखनें की यही रीति नहीं है. चित्‍त तो उचित व्‍यवहारसै प्रसन्‍न रहता है” लाला ब्रजकिशोरनें जवाब दिया.

 

“परन्‍तु निरी फिलासफीकी बातोंसै भी तो दुनियादारीका काम नहीं चल सक्‍ता” लाला मदनमोहननें दुनियादार बन कर कहा.

 

“बलायत की सब उन्‍नति का मूल लार्ड बेकन की यह नीति है कि ‘केवल बिचार ही बिचार मैं मकड़ी के जाले न बनाओ आप परीक्षा करके हरेक पदार्थ का स्‍वभाव जानों’ मिस्‍टर ब्राइट नें कहा.

 

“क्‍यौं साहब ! ये काच कहां के बनें हुए हैं ?” मुन्शी चुन्‍नीलालनें सौदागरसै पूछा.

 

“फ्रान्स के सिवाय ऐसी सुडोल चीज कहीं नहीं बन सक्‍ती. जबसै ये काच यहां आए हैं हर वक्‍त देखनेंवालों की भीड़ लगी रहती है और कई कारीगर तो इन्‍का नक्‍शा भी खींच लेगये हैं”

 

“अच्‍छा जी ! इन्की कीमत हमारे हिसाब मैं लिखो और ये हमारे यहां भेज दो”

 

“मैंनें एक हिन्‍दुस्थानी सौदागर की दुकान मैं इसी मेल के काच देखे हैं. उन्‍के चोखटों मैं निस्‍सन्‍देह ऐसी कारीगरी नहीं है परन्तु कीमत मैं यह इन्‍सै बहुत ही सस्‍ते हैं” लाला ब्रजकिशोर बोले.

 

“मैं तो अच्‍छी चीज़ का गाहक़ हूँ. चीज़ पसंद आये पीछे मुझको कीमत की कुछ परवा नहीं रहती.”

 

“अंग्रेजों की भी यही चाल है” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“परन्तु सब बातों मैं अंग्रेजों की नकल करनी क्‍या ज़रूर है ?” लाला ब्रजकिशोरनें जवाब दिया.

 

“देखिये ! जबसै लाला साहब यह अमीरी चाल रखनें लगे हैं लोगों मैं इन्‍की इज्‍ज़त कितनी बढ़ती जाती है !” मास्‍टर शिंभूदयालनें कहा.

 

“सर सामानसै सच्‍ची इज्‍ज़त नहीं मिल सक्‍ती. सच्‍ची इज्‍ज़त तो सच्‍ची लियाकतसै मिलती है” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “और जब कोई मनुष्‍य बुद्धि के विपरीत इस रीतिसै इज्‍ज़त चाहता है तो उस्‍का परिणाम बड़ा ही भयंकर होता है.”

 

“साहब ! इतनी बात तो मैं हिम्‍मतसे कहता हूँ कि जो इस साथ की जोड़ी शहर में दूसरी जगह निकल आवेगी तो मैं ये काच मुफ्त नज़र करूँगा” मिस्‍टर ब्राइटनें जोर देकर कहा.

 

“कदाचित इस साथकी जोड़ी दिल्‍ली भरमैं न होगी परन्तु कीमतकी कम्‍ती बढ़ती भी तो चीजकी हैसियत के बमूजिब होनी चाहिये” लाला ब्रजकिशोरनें जवाब दिया.

 

“जिस तरह मोतियोंके हिसाब मैं किसी दानेंकी तोल ज़रा ज्‍याद: होनेंसै चौ बहुत ज्‍याद: बढ़ जाती है इसी तरह इन शीशोंकी कीमतका भी हाल है. मुझको लाला साहबसै ज्‍याद: नफ़ा लेना मंजूर न था इस वास्‍तै मैंनें पहले ही असली कीमत मैं चार सौ रूपे कम कर दिये इसपर भी आपको कुछ संदेह हो तो आप तीसरे पहर मास्‍टर साहब को यहां भेज दें. मैं बीजक दिखला कर इन्‍सै कीमत ठैरा लूंगा.”

 

“अच्‍छा ! मास्‍टर शिंभूदयाल मदरसेसै लोटती बार आपके पास आयेँगे पर ये काच हमसै पूछे बिना आप और किसीको न दैं” लाला मदनमोहननें कहा.

 

इस बातसै सब अपनें-अपनें जीमें राजी हुए, ब्रजकिशोर नें इतना अवकाश बहुत समझा, मदनमोहनके मनमैं हाथसे चीज निकल जानेंका खटका न रहा, चुन्‍नीलाल और शिंभूदयालका अपनें कमीशन सही करनें का समय हाथ आया और मिस्‍टर ब्राइटको लाला मदनमोहन की असली हालत जान्‍नेंके लिये फुरसत मिली.

 

“बहुत अच्‍छा” मिस्‍टर ब्राइटनें जवाब दिया “लेकिन आपको फुरसत हो तो आप एक बार यहां फ़िर भी तशरीफ लायं. हालमैं नई-नई तरहकी बहुतसी चीज़ैं वलायतसै ऐसी उम्‍दा आई हैं जिन्‍को देखकर आप बहुत खुश होंगे परन्तु अभी वह खोली नहीं गईं हैं और इस्‍समय मुझको रुपेकी कुछ ज़रूरत है. इन चीज़ोंकी कीमतके बिलका रुपया देना है. आप मेहरबानी करके अपनें हिसाब मैंसै थोड़ा रुपया मुझको इस्समय भेज दें तो बड़ी इनायत हो.”

 

इस बचनमैं मिस्‍टर ब्राइट अपनें अस्वाबकी खरीदारीके लिये लाला मदनमोहन को ललचाता है परन्तु अपनें रुपेके वास्‍तै मीठा तकाज़ा भी करता है. चुन्‍नीलाल और शिंभूदयालके कारण उस्‍को मदनमोहन के लेन-देनमें बहुत कम फायदा हुआ परन्तु उसके पचास हजार रुपे इस समय मदनमोहनकी तरफ़ बाकी हैं और शहरमैं मदनमोहनकी बाबत तरह, तरहकी चर्चा फैल रही हैं बहुत लोग मदनमोहन को फ़िजूल खर्च, दिवालिया बताते हैं और हकीकत मैं मदनमोहन का खर्च दिन पर दिन बढ़ता जाता है. इस्‍सै मिस्टर ब्राइट को अपनी रकम का खटका है इसीलिये उस्‍नें इन काचों का सौदा इस्‍समय अटकाया है और तीसरे पहर मास्‍टर शिंभूदयाल को अपनें पास बुलाया है.

 

“रुपया ! ऐसी जल्‍दी !” लाला ब्रजकिशोरनें मिस्‍टर ब्राइट को वहम मैं डालनें के लिये आश्‍चर्यसै इतनी बात कहक़र मनमैं कहा “हाय ! इन् कारीगरी की निरर्थक चीजोंके बदले हिंदुस्थानी अपनी दौलत वृथा खोये देते हैं”

 

“सच है पहले आप अपना हिसाब तैयार करायँ, उस्‍को देखकर अंदाजसै रुपे भेजे जायंगे” मुन्शी चुन्‍नीलालनें बात बनाकर कहा.

 

“और बहुत जल्दी हो तो बिल करके काम चला लीजिये, जब तक कागज के घोड़े दौड़ते हैं रुपे की क्‍या कमी है ?” ब्रजकिशोर बीच मैं बोल उठे.

 

“अच्‍छा ! मैं हिसाब अभी उतरवाकर भेजता हूँ मुझको इस्समय रुपे की बहुत ज़रूरत है” मिस्‍टर ब्राइटनें कहा.

 

“आपनें साढ़े नौ बजे मिस्‍टर रसल को मुलाकातके लिये बुलयाहै. इस वास्‍ते अब वहां चलना चाहिये” मास्‍टर शिंभूदयाल नें याद दिवाई.

 

“अच्‍छा मिस्‍टर ब्राइट ! इन् काचों की याद रखना और नया अस्वाब खुलै जब हम को ज़रूर बुला लेना” यह कह कर लाला मदनमोहन नें मिस्टर ब्राइट सै हाथ मिलाया और अपनें साथियों समेत जोड़ी की एक निहायत उम्‍दा वलायती फिटन मैं सवार होकर रवानें हुए.

 

जब बग्‍गी कंपनी बाग मैं पहुँची तो सवेरे का सुहावना समय देखकर सब का जी हरा हो गया. उस्‍समयकी शीतल, मंद, सुगंधित हवा बहुत प्‍यारी लगती थी. वृक्षों पर हर तरहके पक्षी मीठे मीठे सुरों सैं चहचहा रहे थे ! नहरके पानी की धीरी, धीरी आवाज कानको बहुत अच्‍छी मालूम होती थी ! पन्‍ने सी हरी घास की भूमिपर मोतीसी ओस की बूंदे बिखर रहीं थी ! और तरह, तरहकी फुलवाड़ी हरी मखमल मैं रंग-रंगके बूंटों की तरह बड़ी बहार दिखा रही थी. इस स्‍वाभाविक शोभाको देखकर लाला ब्रजकिशोरनें मदनमोहन सै थोड़ी देर वहां ठैरनें के वास्‍ते कहा.

 

इस्‍समय मुन्शीचुन्‍नीलाल नें जेबसै निकालकर घड़ी मैं चाबी दी और घड़ी देखकर घबराहटसै कहा “ओ ! हो ! नौपर बीस मिनिट चले गए तो अब मकान को जल्‍दी चलना चाहिये”

 

निदान लाला मदनमोहन की बग्‍गी म‍कानपर पहुँची और ब्रजकिशोर उन्‍सै रुखसत् होकर अपनें घर गए.

 

 

 

 

 

प्रकरण-2

 

अकाल मैं अधिक मास

 

अप्रापति के दिनन मैं खर्च होत अबिचार

 

घर आवत है पाहुनो बणिज न लाभ लगार

 

वृंद

 

“हैं अभी तो यहां के घन्टे मैं पौनें नौ ही बजे हैं तो क्‍या मेरी घड़ी आध घन्टे आगे थी ?” मुन्शीचुन्‍नीलालनें मकान पर पहुँचते ही बड़े घन्टे की तरफ़ देखकर कहा. परन्तु ये उस्‍की चालाकी थी उसनें ब्रजकिशोर सै पीछा छुड़ानें के लिये अपनी घड़ी चाबी देनें के बहानें सै आध घन्टे आगे कर दी थी !

 

“कदाचित् ये घन्टा आध घन्टे पीछे हो” मास्‍टर शिंभूदयाल नें बात साध कर कहा।

 

“नहीं, नहीं ये घन्टा तोप सै मिला हुआ है” लाला मदनमोहन बोले.

 

“तो लाला ब्रजकिशोर साहब की लच्‍छेदार बातैं नाहक़ अधूरी रह गईं ?” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“लाला ब्रजकिशोर की बातें क्‍या हैं चकाबू का जाल है. वह चाहते हैं कि कोई उन्‍के चक्‍कर सै बाहर न निकालनें पाय” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“मैं यों तो ये काच लेता या न लेता पर अब उन्‍की ज़िद सै अदबद कर लूंगा”

 

“निस्सन्देह जब वे अपनी जिद नहीं छोड़ते तो आपको अपनी बात हारनी क्‍या ज़रूर है ?” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें छींटा दिया.

 

हितोपदेश मैं कहा है “आज्ञालोपी सुतहु कों क्षमैं न नृपति विनीत ।। को बिशेष नृप, चित्र जो न गहे यहरीति” ।।  पंडित पुरुषोत्तमदासनें मिल्‍तीमैं मिलाकर कहा.

 

“बहुत पढ़नें लिखनें सै आदमी की बुद्धि कुछ ऐसी निर्बल हो जाती है कि बड़े, बड़े फिलासफर छोटी, बातों मैं चक्‍कर खानें लगते हैं” मास्‍टर शिंभूदयाल कहनें लगे, “सर आईजिक न्‍यूटन कितनी बार खाना खाकर भूल जाते थे, जरमन का प्रसिद्ध विद्वान लेसिंग एक बार बहुत रात गए अपनें घर आया और कुन्दा खड़कानें लगा, नोकर नें गैर आदमी समझ कर भीतर सै कहाकि “मालिक घर मैं नहीं हैं कल आना” इस्‍पर लेसिंग सचमुच लौट चला ! ! ! इटली का मारीनी नामी कवि एक दिन कविता बनानेंमैं ऐसा मग्‍न हुआ कि अंगीठी सै उस्‍का पैर जल गया तोभी उसै कुछ खबर न हुई!”

 

“लाला ब्रजकिशोर साहब का भी कुछ, कुछ ऐसा ही हाल है. यह सीधी, सीधी बातों को बिचार ही बिचार मैं खेंच तान कर ऐसी पेचीदा बनालेते हैं कि उन्‍का सुलझाना मुश्किल पड़ जाता है” मुन्शी चुन्‍नीलाल बोले.

 

“मैंनें तो मिस्‍टर ब्राइट के रोबरू ही कह दिया था कि कोरी फिलासोफी की बातौं सै दुनियादारी का काम न‍हीं चलता” लाला मदनमोहननें अपनी अकल मंदी ज़ाहर की.

 

इतनेंमैं मिस्‍टर रसल की गाड़ी कमरे के नीचे आ पहुँची और मिस्‍टर रसल खट, खट करते हुए कमरे मैं दाखिल हुए. लाला मदनमोहन नें मिस्‍टर रसल सै शेकिग्हैंड करके उन्‍हें कुर्सी पर बिठाया और मिज़ाज की खैरोआफियत पूछी.

 

मिस्‍टर रसल नील का एक होसले मंद सौदागर है परन्तु इस्‍के पास रुपया नहीं है. यह नील के सिवाय रुई और सन वगैरे का भी कुछ, कुछ व्‍यापार कर लिया करता है. इस्‍का लेन देन डेढ़, पौनें दो बरस सै एक दोस्‍तकी सिफारस पर लाला मदनमोहन के यहां हुआ है. पहले बरसमैं लाला मदनमोहन का जितना रुपया लगा था माल की बिक्री सै ब्‍याज समेत वसूल होगया, परन्तु दूसरे साल रुई की भरती की जिस्मैं सात आठ हजार रुपे टूटते रहे इस्का घाटा भरनेंके लिये पहले सै दुगनी नील बनवायी जिस्‍मैं एक तो परता कम बैठा दूसरे माल कलकत्‍ते पहुँचा उस्‍समय भाव मंदा रह गया जिस्‍मैं नफे के बदले दस, बारह हजार इस्‍मैं टूटते रहे. लाला मदनमोहन के लेन देन सै पहले मिस्‍टर रसल का लेन देन रामप्रसाद बनारसीदास सै था. उन्के आठ हजार रुपे अबतक इस्‍की तरफ़ बाकी थे जब उन्‍की मयाद जानें लगी तो उन्‍होंनैं नालिश करके साढ़ेग्‍यारह हजारकी डिक्री इस्‍पर कराली अब उन्‍की इजराय डिक्री मैं इस्का सब कारखाना नीलाम पर चढ़ रहा है और नीलाम की तारीखमैं केवल चार दिन बाकी हैं इस लिये यह बड़े घबराहट मैं रुपे का बंदोबस्‍त करनें के लिये लाला मदनमोहन के पास आया है.

 

“मेरे मिज़ाज का तो इस्‍समय कोसों पता नहीं लगता परन्तु उस्‍को ठिकानें लाना आपके हाथ है” मिस्‍टर रसल नें मदनमोहन के कुशलप्रश्‍न (मिज़ाजपुर्सी) पर कहा “जो आफत एकाएक इस्‍समय मेरे सिर पर आपड़ी है उस्‍को आप अच्‍छी तरह जान्‍ते हैं. इस कठिन समय मैं आपके सिवाय मेरा सहायक कोई नहीं है. आप चाहैं तो दम भर मैं मेरा बेड़ा पार लगा सक्‍ते हैं नहीं तो मैं तो इस तूफान मैं ग़ारत हो चुका.”

 

“आप इतनें क्‍यों घबराते हैं ?” ज़रा धीरज रखिये” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें पहले की मिलावट के अनुसार सहारा लगाकर कहा “लाला साहब के स्‍वभाव को आप अच्‍छी तरह जान्ते हैं जहां तक हो सकेगा यह आप की सहायता मैं क़भी कसर न करेंगे.”

 

“पहले आप मुझे यह तो बताइये कि आप मुझसै किस तरह की सहायता चाहते हैं ?” लाला मदनमोहन नें पूछा.

 

“मैं इस्‍समय सिर्फ इतनी सहायता चाहता हूँ कि आप रामप्रसाद बनारसीदास की डिक्री का रुपया चुका दें. मुझसै हो सकेगा जहां तक मैं आपका सब कर्जा एक बरसके भीतर चुका दूंगा” मिस्‍टर रसल नें कहा “मुझको अपनी बरबादी का इतना खयाल नहीं है जितनी आपके कर्जे की चिन्‍ता है. रामप्रसाद बनारसीदास की डिक्रीमैं मेरी जायदाद बिक गई तो और लेनदार कोरे रह जायंगे और मैंनें इन्‍सालवन्‍ट होनें की दरखास्‍त की तो आप लोगों के पल्‍ले रुपे मैं चार आनें भी न पड़ेंगे.

 

“अफ्सोस ! आपकी यह हकीकत सुन् कर मेरा दिल आप सै आप उम्ड़ा आता है” लाला मदनमोहन बोले.

 

“सच है महा कवि शेक्‍सपीअर नें कहा है” मास्‍टर शिंभूदयाल कहनें लगे :-

 

कोमल मन होत न किये होत प्रकृति अनुसार ।

 

जों पृथ्वी हित गगन ते वारिद द्रवित फुहार ।।

 

वारिद द्रवित फुहार द्रवहि मन कोमलताई ।

 

लेत, देत शुभ हेत दोउनको मन हरषाई ।।

 

सब गुनते उतकृष्‍ट सकल बैभव को भूषन ।

 

राजहु ते कछु अधिक देत शोभा कोमलमन ।।”

 

“हजरत सादी कहते हैं कि “दुर्बल तपस्‍वी सै कठिन समय मैं उस्‍के दु:ख का हाल न पूछ और पूछै तो उस्‍के दु:ख की दवा कर” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“अच्‍छा इस रुपे के लिये ये हमारी दिल जमई क्‍या कर देंगे ?” लाला मदनमोहन नें बड़ी गम्‍भीरता सै पूछा.

 

“हां हां लाला साहब सच कहते हैं आप इस रुपये के लिये हमारी दिल जमई क्‍या कर देंगे ?” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें दिल-जमई की चर्चा हुए पीछे अपनी सफाई जतानें के लिये मिस्‍टर रसल सै पूछा.

 

“मैं थोड़े दिन मैं शीशे बरतन का एक कारखाना यहां बनाया चाहता हूँ. अबतक शीशे बरतन की सब चीजें वलायत सै आती हैं इसलिये खर्च और टूट फूट के कारण उन्‍की लागत बहुत बढ़ जाती है. जो वह चीजे यहां तैयार की जायंगी तो उन्‍मैं ज़रूर फायदा रहेगा और खुदा नें चाहा तो एक बरस के भीतर भीतर आपकी सब रकम जमा हो जायगी परन्तु आपको इस्‍समय इस बात पर पूरा भरोसा नहीं तो मेरा नील का कारखाना आपकी दिलजमईके वास्तै हाजिर है” मिस्‍टर रसल नें जवाब दिया.

 

“हिन्‍दुस्‍थान मैं अब तक कलों के कारखानें नहीं हैं इस्‍सै हिंदुस्‍थानियों को बड़ा नुक्सान उठाना पड़ता है. मैं जान्‍ता हूँ कि इस्‍समय हिम्‍मत करके जो कलों के कारखानें पहले जारी करेगा उस्‍को ज़रूर फायदा रहेगा” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“आपको रामप्रसाद बनारसीदास के सिवाय किसी और का रुपया तो नहीं देना !” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें पूछा.

 

“रामप्रसाद बनारसीदास की डिक्री का रुपया चुके पीछै मुझको लाला साहब के सिवाय किसी की फूटी कौड़ी नहीं देनी रहैगी” मिस्‍टर रसल नें जवाब दिया.

 

परन्‍तु काच का कारखाना बनानें के लिये रुपे कहां सै आयंगे ? और लाला मदनमोहन के कर्जे लायक नील के कारखानें की हैसियत कहां है ? इन्‍सालवेन्ट होनें सै लेनदारों के पल्‍ले चार आनें भी न पड़ेंगे यह बात मिस्‍टर रसल अपनें मुंह सै अभी कह चुका है पर यहां इन् बातोंकी याद कौन दिलावै ?

 

“इस सूरत मैं रामप्रसाद बनारसीदास की डिक्री का रुपया न दिया जायगा तो उन्‍की डिक्री मैं इस्‍का कारखाना बिकजायगा और अपनी रकम वसूल होनें की कोई सूरत न रहैगी” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें लाला मदनमोहन के कान मैं झुक कर कहा.

 

“परन्तु इस्समय इस्‍को देनें के लिये अपनें पास नकद रुपया कहां है ?” लाला मदनमोहन नें धीरे सै जवाब दिया.

 

“अब मेरी शर्म आप को है ‘वक्‍त निकल जाता है बात रह जाती है’ जो आप इस्‍समय मुझको सहारा देकर उभार लोगे तो मैं आपका अहसान जन्‍म भर नहीं भूलूंगा” मिस्‍टर रसल नें गिड़ गिड़ा कर कहा.

 

“मैं मनसै तुम्‍हारी सहायता किया चाहता हूँ परन्‍तु मेरा रुपया इस्‍समय और कामों मैं लग रहा है इस्‍सै मैं कुछ नहीं कर सक्ता” लाला मदनमोहन नें शर्माते, शर्माते कहा.

 

“अजीहुजूर ! आप यह क्‍या कहते हैं ?” आपके वास्तै रुपे की क्‍या कमी है ? आप कहें जितना रुपया इसी समय हाजिर हो” मास्‍टर शिंभूदयाल बोले .

 

“अच्‍छा ! मुझसै होसकेगा जिस तरह दस हजार रुपे का बंदोबस्‍त करके मैं कल तक आपके पास भेजदूंगा आप किसी तरह की चिन्‍ता न करैं” लाला मदनमोहननें कहा.

 

“आपनें बड़ी महरबानी की मैं आपकी इनायत सै जी गया अब मैं आपके भरोसे बिल्‍कुल निश्चिन्‍त रहूँगा” मिस्‍टर रसल नें जाते, जाते बड़ी खुशी सै हाथ मिला कर कहा. और मिस्‍टर रसल के जाते ही लाला मदनमोहन भी भोजन करनें चले गए.

प्रकरण-3

संगति का फल

सहबासी बस होत नृप गुण कुल रीति विहाय

नृप युवती अरु तरुलता मिलत प्राय संग पाय

हितोपदेशे

 

लाला मदनमोहन भोजन करके आए उस्‍समय सब मुसाहब कमरे में मौजूद थे. मदनमोहन कुर्सी पर बैठ कर पान खानें लगे और इन् लोगों नें अपनी, अपनी बात छेड़ी.

 

हरगोविंद (पन्सारी के लड़के) नें अपनी बगल सै लखनऊ की बनी टोपियें निकाल कर कहा “हजूर ये टोपियें अभी लखनऊसै एक बजाज के यहां आई हैं सोगात मैं भेजनें के लिये अच्‍छी हैं. पसंद हों तो दो, चार ले आऊं ?”

 

“कीमत क्‍या है ?”

 

“वह तो पच्‍चीस, पच्‍चीस रुपे कहता है परन्तु मैं वाजबी ठैरा लूंगा”

 

“बीस, बीस रुपे मैं आवें तो ये चार टोपियें ले आना.”

 

“अच्‍छा ! मैं जाता हूँ अपनें बस पड़ते तोड़ जोड़ मैं कसर नहीं रक्खूंगा” यह कह कर हरगोविंद वहां सै चल दिया.

 

“हुजूर ! यह हिना का अतर अजमेर सै एक गंधी लाया है वह कहता है कि मैं हुजूर की तारीफ सुनकर तरह, तरह का निहायत उम्‍दा अतर अजमेर सै लाता था परन्तु रस्‍ते मैं चोरी होगई सब माल अस्‍बाब जाता रहा सिर्फ यह शीशी बची है वह आपकी नजर करता हूँ” यह कह कर अहमद हुसेन हकीमनें वह शीशी लाला साहब के आगे रखदी.

 

“जो लाला साहब को मंजूर करनें मैं कुछ चारा बिचार हो तो हमारी नज़र करो हम इस्‍को मंजूर करके उस्‍की इच्‍छा पूरी करेंगे” पंडित पुरुषोत्‍तमदास नें बड़ीवजेदारी सै कहा.

 

“आपकी नज़र तो सिवाय करेले के और कुछ नहीं हो सक्ता मरज़ी हो; मंगवांय ?” हकीमजीनें जवाब दिया.

 

“करेले तुम खाओ, तुम्‍हारे घरके खांय हमको मुंह कड़वा करनें की क्‍या ज़रूरत है ? हम तो लाला साहब के कारण नित्‍य लड्डू उड़ाते हैं और चैन करते हैं” पंडित जी नें कहा.

 

“लड्डू ही लड्डूओं की बातें करनी आती हैं या कुछ और भी सीखे हो ?” मास्‍टर शिंभूदयाल नें छेड़ की.

 

“तुम सरीखे छोकरे मदरसे मैं दो एक किताबें पढ़ कर अपनें को अरस्‍तातालीस (Aristotle) समझनें लगते हैं परन्‍तु हमारी विद्या ऐसी नहीं है. तुम को परीक्षा करनी होतो लो इस कागज पर अपनें मन की बात लिखकर अपनें पास रहनें दो जो तुमनें लिखा होगा हम अपनी विद्या सै बता देंगे” यह कह कर पंडितजी नें अपनें अंगोछे मैं सै कागज पेनसिल और पुष्‍टीपत्र निकाल दिया.

 

मास्‍टर शिंभूदयालनें उस कागज पर कुछ लिखकर अपनें पास रख लिया और पंडितजी अपना पुष्‍टीपत्र लेकर थोड़ी देर कुंडली खेंचते रहे फ़िर बोले “बच्‍चा तुमको हर बात मैं हंसी सूझती है तुमनें कागज मैं ‘करेला’ लिखा है परन्तु ऐसी हंसी अच्‍छी नहीं”

 

लाला मदनमोहन के कहनें से मास्‍टर शिंभूदयाल नें कागज खोलकर दिखाया तो हकीकत मैं ‘करेला’ लिखा पाया अब तो पंडितजी की खूब चढ़ बनी मूछों पर ताव दे, दे कर खखारनें लगे.

 

परन्तु पंडितजी नें ये ‘करेला’ कैसे बता दिया ? लाला मदनमोहनके रोबरू आपस की मिलावट सै बकरी का कुत्‍ता बना देना सहजसी बात थी परन्तु पंडित जी का चुन्‍नीलाल और शिंभूदयाल सै ऐसा मेल न था और न पंडितजी को इतनी विद्या थी कि उस्‍के बल सै करेला बता देते. असल बात यह थी कि पंडित जीनें कागज पर काजल लगा कर पुष्टिपत्र मैं रख छोड़ा था जिस्‍समय पुष्टिपत्र पर कागज रख कर कोई कुछ लिखता था कलम के दबाव सै काजलके अक्षर दूसरे कागज पर उतर आते थे फ़िर पंडितजी कुंडली खेंचती बार किसी ढब सै उस्‍को देखकर थोड़ी देर पीछे बता देते थे.

 

“तो हुजूर ! उस गंधीके वास्तै क्‍या हुक्म है ?” हकीमजीनें फ़िर याद दिलाई.

 

अतर मैं चंदनके तैल की मिलावट मालूम होती है और मिलावट की चीज बेचनें का सरकार सै हुक्म नहीं है इस वास्तै कह दो शीशी जप्त हुई वह अपना रस्‍ता ले” पंडितजी शीशी सूंघ कर बीच मैं बोल उठे.

 

“हां हकीम जी ! आपकी राय मैं गन्धी का कहना सच है ?” लाला मदनमोहननें पूछा.

 

“बेशक, अंदाज सै तो ऐसा ही मालूम होता है आगे खुदा जानें” हकीमजी बोले.

 

“तो लो यह पच्‍चीस रुपे के नोट इस्‍समय उस्‍को खर्च के वास्‍तै दे दो. बिदा पीछे सै सामनें बुलाकर की जायगी” लाला मदनमोहन नें पच्‍चीस रुपे के नोट पाकट सै निकाल दिये.

 

“उदारता इस्‍का नाम है”, “दयालुता इसे कहते हैं”, “सच्‍चे यश मिलनेंकी यह राह है”, “परमेश्‍वर इस्‍सै प्रसन्‍न होता है”, चारों तरफ़ सै वाह-वाह की बोछार होनें लगी.

 

“ये बहियाँ मुलाहजे के वास्‍तै हाजिर हैं और बहुत सी रकमों का जमाखर्च आपके हुक्‍म बिना अटक रहा है जो अवकाश हो तो इस्‍समय कुछ अर्ज करूं ?” लाला जवाहरलाल नें आते ही बस्‍ता आगे रखकर डरते, डरते कहा.

 

“लाला जवाहरलाल इतनें बरस सै काम करते हैं परन्तु लाला साहब की तबियत, और कागज दिखानें का मोका अबतक नहीं पहचान्ते” लाला मदनमोहन को सुनाकर चुन्‍नीलाल और शिंभूदयाल आपसमैं कानाफूसी करनें लगे.

 

“भला इस्‍समय इन्बातोंका कौन प्रसंग हैं ? और मुझको बार, बार दिक करनें सै क्‍या फायदा है ? मैं पहले कह चुका हूँ कि तुम्‍हारी समझमैं आवै जैसे जमा खर्च करलो. मेरा मन ऐसे कामों मैं नहीं लगता” लाला मदनमोहन नें झिड़ककर कहा और जवाहरलाल वहां सै उठकर चुपचाप अपनें रस्‍ते लगे.

 

“चलो अच्‍छा हुआ ! थोड़े ही मैं टल गई. मैं तो बहियोंका अटंबार देखकर घबरा गया था कि आज उस्‍तादजी घेरे बिना न रहैंगे” जवाहरलाल के जाते ही लाला मदनमोहन खुश हो, हो कर कहनें लगे.

 

“इन्‍का तो इतना होसला नहीं है परन्तु ब्रजकिशोर होते तो वे थोड़े बहुत उलझे बिना क़भी न रहते” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“जब तक लाला साहब लिहाज करते है तब ही तक उन्‍का उलझना उलझाना बन रहा है नहीं तो घड़ी भर मैं अकल ठिकानें आजायगी” मुन्शी चुन्‍नीलाल बोले.

 

“हुजूर ! मैं लाला हरदयाल साहब के पास हो आया उन्‍होंनें बहुत, बहुत करकै आपकी खैरोआफ़ियत पूछी है. और आज शामको आपसै बागमैं मिलनें का करार किया है” हरकिसन दलाल नें आकर कहा.

 

“तुम गये जब वो क्‍या कर रहे थे ?” लाला मदनमोहन नें खुश होकर पूछा.

 

“भोजन करके पलंग पर लेटे ही थे आपका नाम सुनकर तुर्त उठ आए और बड़े जोश सै आपकी खैरोआफ़ियत पूछनें लगे”

 

“मैं अच्‍छी तरह जानता हूँ वे मुझको प्राण सै भी अधिक समझते हैं” लाला मदनमोहननें पुलकित होकर कहा.

 

“आपकी चाल ही ऐसी है जो एक बार मिल्‍ता है हमेशेके लिये चेला बन् जाता है” मुन्शी चुन्‍नीलालनें बढ़ावा देकर कहा.

 

“परन्तु क़ानूनीबंदे इस्‍सै अलग हैं” मास्‍टर शिंभूदयाल ब्रजकिशोर की तरफ़ इशारा करके बोले.

 

“लीजिये ये टोपियां अठारह, अठारह रूपमैं ठैरा लाया हूँ” हरगोविंदनें लाला मदनमोहनके आगे चारों टोपियें रखकर कहा.

 

“तुमनें तो उसकी आंखोंमैं धूल डालदी ! अठारह, अठारह रूपे मैं कैसे ठैरालाये ? मुझको तो बाईस, बाईस रुपे सै कमकी किसी तरह नहीं जंचती” लाला मदनमोहननें हरगोविंद का हाथ पकड़कर कहा.

 

“मैनें उस्‍को आगेका फायदा दिखाकर ललचाया और बड़ी बड़ी पट्टियें पढाईं तब उस्‍नें लागत मैं दो, दो रुपे कम लेकर आपके नाम ये टोपियें दीं हैं”.

 

“अच्‍छा ! यह लाला हरकिशोर आते हैं इन्‍सै तो पूछिये ऐसी टोपी कितनें, कितनें मैं लादेंगे ?” दूरसै हरकिशोर बज़ाज को आते देखकर पंडित पुरुषोत्तमदासनें कहा.

 

“ये टोपियें हरनारायण बज़ाज के हां कल लखनऊ सै आई हैं और बाजार मैं बारह, बारह रुपे को बिकी हैं पर यहां तो तेरह तेरह मैं आई होंगी” हरकिशोर नें जवाब दिया.

 

“तुम हमें पंदरह, पंदरह रुपे मैं लादो” हरगोविंद नें झुंझला कर कहा.

 

“मैं अभी लाता हूँ. तुम्‍हारे मनमैं आवै जितनी लेलेना”

 

“ला चुके, लाचुके लानें की यही सूरत है ?” हरगोविंद नें बात उड़ानें के वास्तै कहा.

 

“क्‍यों ? मेरी सूरत को क्‍या हुआ ? मैं अभी टोपियां लाकर तुम्‍हारे सामनें रखेदेता हूँ” हरकिशोर नें हिम्‍मत सै जवाब दिया.

 

“तुम टोपियें क्‍या लाओगे ? तुम्‍हारी सूरत पर तो खिसियानपन अभी सै छा गया !” हरगोविंद नें मुस्‍कराकर कहा.

 

“मुझको नहीं मालूम था कि मेरी सूरत मैं दर्पण की खासियत है” हरकिशोरनें हँसकर जवाब दिया.

 

“चलो चुप रहो क्‍यों थोथी बातें बनाते हो ?” मुन्शी चुन्‍नीलाल रोकनें के वास्‍तै भरम मैं बोले.

 

“बहुत अच्‍छा ! मैं टोपी लाये पीछे ही बात करूंगा” य‍ह कह कर हरकिशोर वहां सै चल दिये.

 

“यहां के दुकानदारों मैं यह बड़ा ऐब है कि जलन के मारे दूसरेके माल को बारह आनेंका जांच देते हैं” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“और किसी समय मुकाबला आपड़े तो अपनी गिरह सै घाटा भी दे बैठते हैं” मास्टर शिंभूदयाल बोले.

 

“न जानें लोगों को अपनी नाक कटा कर औरों की बदशगूनी करनें मैं क्‍या मजा आता है” हकीमजीनें कहा.

 

“और जो हरगोविंद कुछ ठगा आया होगा तो क्‍या मैं इन्‍के पीछे उस्‍का मन बिगाडूंगा” लाला मदनमोहन बोले.

 

“आपकी ये ही बातैं तो लोगों को बेदाम गुलाम बना लेती हैं” मुन्शी चुन्‍नीलालनें कहा.

 

“कुछ दिन सै यहां ग्वालियर के दो गवैये निहायत अच्छे आए हैं मरजी हो दो घड़ी के वास्‍तै आज की मजलिस मैं उन्‍‍हें बुला लिया जाय” हरकिसन दलालनें पूछा.

 

“अच्‍छा ! बुलाओ तुम्‍हारी पसंद हैं यो ज़रूर अच्‍छे होंगे” मदनमोहननें कहा.

 

“लखनऊ की अमीरजान भी इन दिनों यहीं है इस्‍के गानें की बड़ी तारीफ सुनी गई है पर मैंनें अपनें कान सै अब तक उस्‍का गाना नहीं सुना” हकीमजी बोले.

 

“अच्‍छा ! आपके सुन्ने को हम उसे भी यहां बुलाये लेते हैं पर उस्‍के गानें मैं समा न बंधा तो उस्के बदले आपको गाना पड़ेगा !” लाला मदनमोहन नें हंस कर कहा.

 

“सच तो ये है कि आपके सबब सै दिल्‍ली की बात बन रही है जो गुणी यहां आता है कुछ न कुछ ज़रूर ले जाता है आप ना होते तो उन बिचारों को यहां कौन पूछता ? आपकी इस उदारता सै आपका नाम बिक्रम और हातम की तरह दूर दूर, तक फैल गया है और बहुत लोग आपके दर्शनोंकी अभिलाषा रखते हैं” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें छींटा दिया.

 

इतनें मैं हरकिशोर टोपी लेकर आ पहुँचे और बारह, बारह रुपे मैं खुशी सै देनें लगे.

 

“सच कहो तुमनें इस्‍मैं अपनी गिरह का पलोथन क्‍या लगाया है ?” शिंभूदयाल नें पूछा.

 

“पलोथन लगानें की क्‍या जरुरत थी मैं तो इस्मैं लाला साहब सै कुछ इनाम लिया चाहता हूँ” हरकिशोर नें जवाब दिया.

 

“मुझको टोपियें लेनी होती तो मैं किसी न किसी तरह सै आपही तुम्‍हारा घाटा निकालता पर मैं तो अपनी ज़रूरतके लायक पहलै ले चुका” लाला मदनमोहन नें रूखाई सै कहा.

 

“आपको इस्की कीमत मैं कुछ संदेह हो तो मैं असल मालिक को रोबरू कर सक्ता हूँ ?”

 

“जिस गाँव नहीं जाना उस्का रास्‍ता पूछना क्‍या ज़रूर”

 

“तो मैं इन्‍हें ले जाउं ?”

 

“मैंनें मंगाई कब थी जो मुझसै पूछते हो” यह कहक़र लाला मदनमोहननें कुछ ऐसी त्‍योरी बदली कि हरकिशोर का दिल खट्ठा हो गया और लोग तरह, तरह की न‍कलै करके उस्‍का ठट्ठा उड़ानें लगे.

 

हरकिशोर उस्‍समय वहां सै उठकर सीधा अपनें घर चला गया पर उस्के मन मैं इन् बातोंका बड़ा खेद रहा.

 

प्रकरण-4

 

—–×—–

 

मित्रमिलाप (!)

 

दूरहिसों करबढ़ाय, नयननते जलबहाय,

 

आदरसों ढिंगबूला य , अर्धासन देतसो ।।

 

हितसोंहियमैं लगाय, रुचिसमबाणी बनाय,

 

कहत सुनत अति सुभाय, आ नंद भरि लेत जो ।।

 

ऊपरसों मधु समान, भीतर हलाहल जान,

 

छलमैं पंडितमहान् कपटको निकेतवो।।

 

ऐसो नाटक विचित्र, देख्‍यो न कबहु मित्र,

 

दुष्‍टनकों यह चरित्र, सिखवे को हेतको ? । ।

 

लाला मदनमोहन को हरदयाल सै मिलनें की लालसा मैं दिन पूरा करना कठिन होगया वह घड़ी, घड़ी घन्टे की तरह देखते थे और उखताते थे, जब ठीक चार बजे अपनें मकान सै सवार होकर मिस्‍तरीखानें मैं पहुँचै यहां तीन बग्गियें लाला मदनमोहन की फर्मायश सै नई चाल की बन रही थीं उन्‍के लिये बहुतसा सामान वलायत सै मंगवाया गया था और मुंबई के दो कारीगरों की राह सै वह बनाई जाती थीं. लाला मदनमोहन नें कह रक्‍खा था कि “चीज़ अच्‍छी बनें खर्च की कुछ नहीं अटकी जो होगा हम करेंगे” निदान लाला मदनमोहन इन बग्गियों को देख भाल कर वहां सै आगा हसनजान के तबेले में गये और वहां तीन घोड़े पांच हजार, पांच सो रुपे मैं लेनें करके वहां सै सीधे अपनें बाग ‘दिलपसंद’ को चले गये.

 

यह बाग सबजी मंडी सै आगे बढ़ कर नहर की पटड़ी के किनारे पर था इस्‍की रविशों के दोनों तरफ़ रेलिया की कतार, सुहावनी क्‍यारियों मैं रंग, रंग के फूलों की बहार, कहीं हरी, हरी घासका सुहावना फर्श, कहीं घनघोर वृक्षों की गहरी छाया, कहीं बनावट के झरनें, और बेट, कहीं पेढ़ और टट्टियों पर बेलों की लपेट. एक तरफ़ को संगमरमर के एक कुंड मैं तरह, तरह के जलचर अपना रंग ढंग दिखा रहे थे बाग के बीच मैं एक बड़ा कमरा हवादार बहुत अच्‍छा बना हुआ था उस्‍के चारों तरफ़ संगमरमर का साईवान और साईवान के गिर्द फव्वारों की कतार लगी थी. जिस समय ये फव्वारे छुटते थे जेठ बैसाख को सावन भादों समझ कर मोर नाच उठते थे. बीच के कमरे मैं रेशमी गलीचे की बड़ी उम्‍दा बिछायत थी और बढिया साठन की मडी हुई सुनहरी कौंच, कुर्सियाँ जगह, जगह मोके सै रक्‍खी थीं. दीवार के सहारे संगमरमर की मेजोंपर बड़े, बड़े आठ काच आम्‍नें-साम्‍नें लगे हुए थे. छत मैं बहुमूल्‍य झाड़ लटक रहे थे, गोल बैजई और चौखूटी मेजों के गुलदस्‍ते, हाथीदांत, चंदन, आबनूस, चीनी, सीप और काच वगैरेके के उम्‍दा, उम्दा खिलौनें मिसल सै रक्‍खे थे, चांदी की रकेबियों मैं इलायची, सुपारी चुनी हुई थी. समय, तारीख, बार, महीना बतानें की घड़ी, हारमोनियम बाजा, अंटा खेलनें की मेज, अलबम्, सैरबीन, सितार और शतरंज बगैरे मन बहलानें का सब सामान अपनें, अपनें ठिकानें पर रक्‍खा हुआ था. दिवारों पर गच के फूल पत्तों का सादा काम अबरख की चमक सै चाँदी के डले की तरह चमक रहा था और इसी मकान के लिये हजारों रुपे का सामान हर महीनें नया खरीदा जाता था.

 

इस्‍समय लाला मदनमोहन को कमरे मैं पांव रखते ही बिचार आया कि इस्‍के दरवाजों पर बढिया साठन के पर्दे अवश्‍य होनें चाहियें उसी समय हरकिशोर के नाम हुक्‍म गया कि तरह, तरह की बढिया साठन लेकर अभी चले आओ, हरकिशोर समझा कि “अब पिछली बातों के याद आनें सै अपनें जी मैं कुछ लज्जित हुए होंगे चलो सवेरे का भूला सांझ को घर आजाय तो भूला नहीं बाजता” यह बिचार कर हरकिशोर साठन इकट्ठी करनें लगा पर यहां इन्बातों की चर्चा भी न थी. यहां तो लाला मदनमोहन को लाला हरदयाल की लौ लगरही थी. निदान रोशनी हुए पीछे बड़ी देर बाट दिखाकर लाला हरदयाल आये. उन्को देखकर मदनमोहन की खुशी की कुछ हद न‍हीं रही. बग्गी के आनें की आवाज सुनते ही लाला मदनमोहन बाहर आकर उन्‍को लिवा लाए और दोनों कौंच पर बैठ कर बड़ी प्रीति सै बातैं करनें लगे.

 

“मित्र तुम बड़े निष्ठुर हो मैं इतनें दिनसै तुम्‍हारी मोहनी मुर्ति देखनें-के लिये तरस रहा हूँ पर तुम याद भी नहीं करते” लाला मदनमोहन नें सच्‍चे मन सै कहा.

 

“मुझको एक पल आपके बिना कल नहीं पड़ती पर क्‍या करूं ? चुगलखोरों के हाथसै तंग हूँ जब कोई बहाना निकालकर आनें का उपाय करता हूँ वे लोग तत्‍काल जाकर लालाजी (अर्थात् पिता) सै कह देते हैं और लालाजी खुलकर तो कुछ नहीं कहते पर बातों ही बातों मैं ऐसा झंझोड़ते हैं कि जी जलकर राख हो जाता है. आजतो मैंनें उन्‍सै भी साफ कह दिया कि आप राजी हों, या नाराज हों मुझसें लाला मदनमोहन की दोस्ती नहीं छूट सकती” लाला हरदयालनें यह बात ऐसी गर्मा गर्मी से कही कि लाला मदनमोहन के मनपर लकीर होगई. पर यह सब बनावट थी. उस्नें ऐसी बातें बना, बना कर लाला मदनमोहन सै “तोफा तहायफ़” मैं बहुत कुछ फायदा उठाया था इस लिये इस सोनें की चिड़िया को जाल मैं फसानें के लिये भीतर पेटे सबघर के शामिल थे और मदनमोहन के मनमैं मिलनें की चाह बढ़ानें के लिये उसनें अब की बार आनें मैं जान बूझ कर देर की थी.

 

“भाई ! लोग तो मुझे भी बहुत बहकाते हैं. कोई कहता है “ये रुपे के दोस्‍त हैं,” कोई कहता है “ये मतलब के दोस्‍त हैं” पर मैं उनको जरा भी मुंह नहीं लगाता क्‍योंकि मुझ को ओथेलो की बरबादी का हाल अच्‍छी तरह मालूम है” लाला मदनमोहन नें साफ मन सै कहा पर हरदयाल के पापी मन को इतनी ही बात सै खटका हो गया.

 

“दुनिया के लोगों का ढंग सदा अनोखा देखनें मैं आता है उन्‍मैं सै कोई अपना मतलब दृष्‍टांत और कहावतों के द्वारा कह जाता है, कोई अपना भाव दिल्लगी और हंसी की बातों मैं जता जाता है, कोई अपना प्रयोजन औरों पर रखकर सुना जाता है, कोई अपना आशय जताकर फ़िर पलट जानें का पहलू बनायें रखता है, पर मुझको ये बातें नहीं आतीं. मैं तो सच्‍चा आदमी हूँ जो मनमैं होती है वह ज़बान सै कहता हूँ जो जबान से कहता हूँ वह पूरी करता हूँ” लाला हरदयाल नें भरमा भरमी अपना संदेह प्रगट करके अन्त मैं अपनी सचाई जताई.

 

“तो क्‍या आपको इस्‍समय यह संदेह हुआ कि मैंनें बहकानें वालों पर रख कर अपनी तरफ़ सै आपको “रुपेका दोस्‍त” और “मतलब का दोस्‍त” ठैराया है ?” लाला मदनमोहन गिड़ गिड़ा कर कहनें लगे “हाय ! आपनें मुझको अबतक नहीं पहचाना. मैं अपनें प्राणसै अधिक आपको सदा समझता रहा हूँ. इस संसार मैं आपसै बढ़कर मेरा कोई मित्र नहीं है जिस्‍पर आपको मेरी तरफ़ सै अबतक इतना संदेह बन रहा है मुझको आप इतना नादान समझते हैं. क्‍या मैं अपनें मित्र और शत्रु को भी नहीं पहचान्‍ता ? क्‍या आप सै अधिक मुझको संसार मैं कोई मनुष्‍य प्‍यारा है ? मैं कलेजा चीरकर दिखाऊं तों आपको मालूम हो कि आपकी प्रीति मेरे हृदय मैं कैसी अंकित हो रही है !”

 

“आप वृथा खेद करते हैं. मैं आपकी सच्‍ची प्रीति को अच्‍छी तरह जान्ता हूँ और मुझको भी इस संसार मैं आप सै बढ़कर कोई प्यारा नहीं है. मैंनें दुनिया का यह ढङ्ग केवल चालाक आदमियों की चालाकी जतानें के लिये आपसै कहा था आप वृथा अपनें ऊपर ले दोड़े. मुझको तो आपकी प्रीति का यहां तक विश्‍वास है कि सूर्य चन्‍द्रमा की चाल बदल जायगी तो भी आप की प्रीति मैं क़भी अन्तर न आयगा” लाला हरदयालनें मदनमोहन के गले मैं हाथ डाल कर कहा.

 

“प्रीति के बराबर संसार मैं कौन्‍सा पदार्थ है ?” लाला मदनमोहन कहनें लगे “और सब तरह के सुख मनुष्‍य को द्रव्‍य सै मिल सक्ते हैं पर प्रीति का सुख सच्‍चे मित्र बिना किसी तरह नहीं मिल्‍ता जिस्‍नें संसार मैं जन्‍म लेकर प्रीति का रस नहीं लिया उसका जन्‍म लेना बृथा है इसी तरह जो लोग प्रीति करके उस्‍पर द्रढ़ नहीं वह उस्‍के रस सै नावाफिक है.”

 

“निस्सन्देह ! प्रीति का सुख ऐसा ही अलौकिक है. संसार मैं जिन लोगों को भोजन के लिये अन्‍न और पहन्ने के लिये वस्‍त्र तक नहीं मिल्‍ता उन्‍को भी अपनें दु:ख सुख के साथी प्राणोपम मित्र के आगे अपना दु:ख रोकर छाती का बोझ हल्‍का करनें पर, अपनें दुखों को सुन, सुन कर उस्‍के जी भर आनें पर, उस्‍के धैर्य देनें पर, उस्‍के हाथ सै अपनी डबडबाई हुई आंखों के आंसू पुछ जानें पर, जो संतोष होता है वह किसी बड़े राजा को लाखों रुपे खर्च करनें सै भी नहीं होसक्ता” लाला हरदयाल नें कहा.

 

“निस्सन्देह ! मित्रता ऐसीही चीज है पर जो लोग प्रीति का सुख नहीं जान्‍ते वह किसी तरह का इस्‍का भेद नहीं समझ सक्ते” लाला मदनमोहन कहनें लगें.

 

“दुनियां के लोग बहुत करके रुपे के नफे नुक्‍सान पर प्रीति का आधार समझते हैं. आज हरगोविंद नें लखनऊ की चार टोपियां मुझको अठारह रुपेमैं ला दी थीं इस्‍पर हरकिशोर जल गये और मेरी प्रीति बढ़ानें के लिये बारह रुपे में वैसी ही टोपियां देनें लगे. इन्‍के निकट प्रीति और मित्रता कोई ऐसी चीज है जो दस पांच रुपे की कसर खानें सै बातों मैं हाथ आसक्ती है !”

 

“हरकिशोरनें हरगोविंद की तरफ़सै आपका मन उछांटनें के लिये यह तद्वीर की हो तो भी कुछ आश्‍चर्य नहीं.” हरदयाल बोले “मैं जान्ता हूँ कि हरकिशोर एक बड़ा”-

 

इतनेंमैं एकाएक कमरे का दरवाजा खुला और हरकिशोर भीतर दाखल हुआ. उसको देखतेही हरदयाल की जबान बंद हो गई और दोनों नें लजाकर सिर झुका लिया.

 

“पहलै आप अपनें शुभ चिन्‍तकों के लिये सजा तजवीज कर लीजिये फ़िर मैं साठन मुलाहजें कराऊंगा. ऐसे वाहियात कामौं के वास्‍ते इस जरूरी काम मैं हर्ज करना मुनासिब नहीं. हां लाला हरदयाल साहब क्‍या फरमा रहे थे “हरकिशोर एक बड़ा-” क्‍या है ?” हरकिशोरनें कमरे मैं पांव रखते ही कहा.

 

“चलो दिल्‍लगी की बातैं रहनें दो लाओ, दिखलाओ तुम कैसी साठन लाए हो ? हम अपनी निज की सलाह के वास्‍ते औरों का काम हर्ज नहीं किया चाहते” लाला हरदयाल नें पहली बात उड़ाकर कहा.

 

“मैं और नहीं हूँ पर अब आप चाहे जो बना दैं मुझको अपना माल दिखानें मैं कुछ उज्र नहीं पर इतना बिचार है कि आजकल सच्‍चे माल की निस्‍बत नकली या झूंटे माल पर ज्‍याद: चम‍क दमक मालूम होती है. मोतियों को देखिये चाहै मणियों को देखिये, कपड़ों को देखिये, चाहै गोटे किनारी को देखिये, जो सफाई झूंटे पर होगी वो सच्‍चे पर हरगिज न होगी इस लिये मैं डरता हूँ कि शायद मेरा माल पसन्द न आय” हरकिशोरनें मुस्कराकर कहा.

 

“तुम कपड़ा दिखानें आए हो या बातोंकी दुकानदारी लगानें आए हो ? जो कपड़ा दिखाना हो तो झट पट दिखा दो नहीं तो अपना रस्‍ता लो. हमको थोथी बातों के लिए इस्‍समय अवकाश नहीं है” लाला मदनमोहननें भौं चढ़ा कर कहा.

 

“यह तो मैंनें पहले ही कहा था अच्‍छा ! अब मैं जाता हूँ फ़िर किसी वक्‍त हाजिर होऊंगा”

 

“तो तुम कल नो, दस बजे मकान पर आना” यह कह कर लाला मदनमोहन नें उसै रूख़सत किया.

 

“आपस मैं क्‍या मजे की बातैं हो रही थीं न जानें यह हत्‍या बीच मैं कहां सै आगई” लाला हरदयाल बोले.

 

“खैर अब कुछ दिल्‍लगी की बात छेडिये !” लाला मदनमोहन नें फरमायश की.

 

निदान बहुत देर तक अच्‍छी तरह मिल भेट कर लाला हरदयाल अपनें मकान को गए और लाला मदनमोहन अपनें मकान को गए.

 

 

 

प्रकरण-5

 

—–×—–

 

विषयासक्‍त

 

इच्‍छा फलके लाभसों कब हुं न पूरहि आश

 

जैसे पावक घृत मिले बहु विधि करत प्रकाश

 

हरिवंश .

 

लाला मदनमोहन बाग सै आए पीछे ब्‍यालू करके अपनें कमरे मैं आए उस्समय लाला ब्रजकिशोर, मुन्शी चुन्‍नीलाल, मास्‍टर शिंभूदयाल, बाबू बैजनाथ, पंडित पुरुषोत्तमदास, हकीम अहमदहुसैन वगैरे सब दरबारी लोग मौजूद थे. लाला साहब के आते ही ग्‍वालियर के गवैयों का गाना होनें लगा.

 

“मैं जान्ता हूँ कि आप इस निर्दोष दिल्‍लगी को तो अवश्‍य पसंद करते होंगे. देखिये इस्‍सै दिन भर की थकान उतर जाती है और चित्त प्रसन्‍न हो जाता है” लाला मदनमोहन नें थोडी देर पीछै ब्रजकिशोर सै कहा.

 

“सब बातें काम के पीछे अच्‍छी लगती हैं. जो सब तरह का प्रबंध बन्ध रहा हो, काम के उसूलों पर दृष्टि हो, भले बुरे काम और भले बुरे आदमियों की पहचान हो, तो अपना काम किये पीछै घड़ी, दो घड़ी की दिल्‍लगी मैं कुछ बिगाड़ नहीं है पर उस्‍समय भी इस्‍का व्‍यसन न होना चाहिये” लाला ब्रजकिशोर नें जवाब दिया.

 

“अमीरौं को ऐश के सिवाय और क्‍या काम है ?” मास्टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“राजनीति मैं कहा है “राजा सुख भोगहि सदा मंत्री करहि सम्‍हार ।। राजकाज बिगरे कछू तो मंत्री सिर भार ।।” पंडित पुरुषोत्तमदास बोले.

 

“हां यहां के अमीरों का ढंग तो यही है. पर यह ढंग दुनियां सै निराला है. जो बात सब संसार के लिये अनुचित गिनी जाती है वही उन्‍के लिये उचित समझी जाती है ! उन्‍की एक, बात पर सुननें वाले लोट पोट हो जाते हैं ! उन्की कोई बात हिकमत सै खाली नहीं ठैरती ! जिन बातों को सब लोग बुरी जान्‍ते हैं, जिन बातों को करनें मैं कमीनें भी लजाते हैं, जिन बातों के प्रगट होनें सै बदचलन भी शर्माते हैं, उन्‍का करना यहां के धनवानों के लिये कुछ अनुचित नहीं हैं ! इन् लोगों को न किसी काम के प्रारंभ की चिन्‍ता होती है ! न किसी काम के परिणाम का बिचार होता है ! यहां के धनपति तो अपनें को लक्ष्‍मी पति समझते हैं परन्तु ईश्‍वर के हां का यह नियम नहीं है. उस्‍ने अपनी सृष्टि मैं सब गरीब अमीरों को एकसा बनाया है” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “जो मनुष्‍य ईश्‍वर का नियम तोड़ेगा उस्‍को अपनें पाप का अवश्‍य दंड मिलैगा. जो लोग सुख भोग मैं पड़ कर अपनें शरीर या मन को कुछ परिश्रम नहीं देते प्रथम तो असावधान्‍ता के कारण उन्‍का वह बैभव ही नहीं रहता और रहा भी तो कुदरती कायदे के मूजिब उन्‍का शरीर और मन क्रम सै दुर्बल होकर किसी काम का नहीं रहता. पाचन शक्तिके घटनें सै तरह, तरह के रोग उत्‍पन्‍न होते हैं और मानसिक शक्तिके घटनें सै चित्त की बिकलता, बुद्धि की अस्थिरता, और काम करनें की अरुचि उत्‍पन्‍न हो जाती है जिस्‍सै थोड़े दिन मैं संसार दु:खरूप मालूम होनें लगता है.”

 

“परन्‍तु अत्‍यन्‍त महनत करनें सै भी तो शिथिलता हो जाती है” बाबू बैजनाथनें कहा.

 

“इस्‍सै वह बात नहीं निकलती कि बिल्कुल महनत न करो सब काम अंदाजसिर करनें चाहियें” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “लिडिया का बादशाह कारून साईरस सै हारा उस्‍समय साईरस उस्‍की प्रजा को दास बनानें लगा तब कारूननें कहा “हमको दास किस लिये बनाते हो ? हमारे नाश करनें का सीधा उपाय यह है कि हमारे शस्‍त्र लेलो, हम को उत्तमोत्तम वस्‍त्र भूषण पहननें दो, नाच रंग देखनें दो, श्रृंगार रसका अनुभव करनें दो, फ़िर थोड़े दिन मैं देखोगे कि हमारे शूरबीर अबला बन जायंगे और सर्वथा तुम सै युद्ध न कर सकेंगे” निदान ऐसाही हुआ. पृथ्‍वीराज का संयोगिता सै विवाह हुए पीछै वह इसी सुख मैं लिपट कर हिन्‍दुस्‍थान का राज खो बैठा और मुसल्मानों का राज भी अन्त मैं इसी भोग बिलास के कारण नष्‍ट हुआ”

 

“आप तो जिस्‍बात को कहते हैं हद्द के दरजे पर पहुँचा देते हैं भला ! पृथ्‍वीराज और मुसल्मानों की बादशाहत का लाला साहब के काम काज सै क्‍या सम्बन्ध है ? उन्‍का द्रव्‍य बहुत कर के अपनें भोग विलास मैं खर्च होता था परन्तु लाला साहब का तो परोपकार मैं होता है” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“देखिये लाला साहब का मन पहले नाच तमाशे मैं बिल्‍कुल नहीं लगता था पर इन्हों नें चार मित्रों का मेल मिलाप बढ़ानें के लिये अपना मन रोक कर उन्‍की प्रसन्‍नता की.” पंडित पुरुषोत्तमदास बोले.

 

“बुरे कामों के प्रसंग मात्र सै मनुष्‍य के मन मैं पाप की ग्‍लानि घटती जाती है. पहले लाला साहब को नाच रंग अच्‍छा नहीं लगता था पर अब देखते, देखते व्‍यसन हो गया. फ़िर जिन् लोगों की सोहबत सै यह व्‍यसन हुआ उन्‍को मैं लाला साहबका मित्र कैसे समझूं ? मित्रता का काम करे वह मित्र समझा जाता है अपनें मतलब के लिये लंबी, लंबी बातैं बनानें सै कोई मित्र नहीं हो सक्ता” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे” सादी नें कहा है “एक दिवस मैं मनुज की विद्या जानी जाय ! पै न भूल, मन को कपट बरसन लग न लखाय”।।

 

“तो क्‍या आप इन् सब को स्‍वार्थपर ठैराकर इन्‍का अपमान करते हैं ?” लाला मदनमोहन नें जरा तेज होकर कहा.

 

“नहीं, मैं सबको एकसा नहीं ठैराता परन्तु परीक्षा हुए बिना किसी को सच्‍चा मित्र भी नहीं कह सक्ता” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे. “केलीप्‍स नामी एक एथीनियन सै साइराक्‍यूस के बादशाह डिओन की बड़ी मित्रता थी. डिओन बहुधा केलीप्‍स के मकान पर जाकर महीनों रहा करता था एक बार डिओन को मालूम हुआ कि केलीप्‍स उस्‍का राज छीन्ने के लिये कुछ उद्योग कर रहा है. डिओन नें केलीप्‍स सै इस्‍का वृत्तान्त पूछा. तब वह डिओन के पांव पकड़कर रोनें लगा और देवमंदिर मैं जाकर अपनी सच्‍ची मित्रता के लिये कठिन सै कठिन सौगंध खा गया पर असल मैं यह बात झूंटी न थी. अन्त मैं केलीप्‍स नें साइराक्‍यूस पर चढ़ाई की और डिओन को महल ही मैं मरवा डाला ! इसलिये मैं कहता हूँ कि दूसरे की बातों मैं आकर अपना कर्तव्‍य भूलना बड़ी भूल की बात है”

 

“अच्‍छा ! फ़िर आप खुलकर क्‍यों नहीं कहते आपके निकट लाला साहब को बहकानें वाला कौन, कौन है ?” पंडितजी नें जुगत सै पूछा.

 

“मैं यह नहीं कह सक्‍ता जो बहकाते होंगे; अपनें जीमैं आप समझते होंगे मुझको लाला साहब के फ़ायदे सै काम है और लोगों के जी दुखानें सै कुछ काम नहीं है. मनुस्‍मृति मैं कहा है “सत्‍य कहहु अरु प्रिय कहहु अप्रिय सत्‍य न भाख ।। प्रियहु असत्‍य न बोलिये धर्म्म सनातन राख.”  “इस लिये मैं इस्‍समय इतना ही कहना उचित समझता हूँ” लाला ब्रजकिशोर नें जवाब दिया.

 

और इस्पर थोड़ी देर सब चुप रहे.

 

 

 

प्रकरण-6

 

—–×—–

 

भले बुरे की पहचान

 

धर्म्म, अर्थ शुभ कहत कोउ काम, अर्थ कहिं आन

 

कहत धर्म्म कोउ अर्थ कोउ तीनहुं मिल शुभ जान

 

मनुस्‍मृति.

 

“आप के कहनें मूजब किसी आदमी की बातों सै उस्‍का स्‍वभाव नहीं जाना जाता फ़िर उस्‍का स्‍वभाव पहचान्‍नें के लिये क्‍या उपाय करैं ?” लाला मदनमोहननें तर्क की.

 

“उपाय करनें की कुछ जरुरत नहीं है, समय पाकर सब अपनें आप खुल जाता है” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “मनुष्‍य के मन मैं ईश्‍वरनें अनेक प्रकार की वृत्ति उत्‍पन्‍न की हैं जिन्‍मैं परोपकारकी इच्‍छा, भक्ति और न्‍याय परता धर्म्‍मप्रवृत्ति मैं गिनी जाती हैं; दृष्‍टांत और अनुमानादि के द्वारा उचित अनुचित कामों की विवेचना, पदार्थज्ञान, और बिचारशक्ति का नाम बुद्धिबृत्ति है. बिना बिचारे अनेकबार के देखनें, सुन्‍नें आदि सै जिस काम मैं मन की प्रबृत्ति हो, उसै आनुसंगिक प्रवृत्ति कहते हैं. काम, सन्तानस्‍नेह, संग्रह करनें की लालसा, जिघांसा और आत्‍मसुख की अभिरुचि इत्‍यादि निकृष्‍ट प्रवृत्ति मैं शामिल हैं और इन् सब के अविरोध सै जो काम किया जाय वह ईश्वर के नियमानुसार समझा जाता है परन्तु किसी काम मैं दो बृत्तियों का विरोध किसी तरह न मिट सके तो वहां ज़रूरत के लायक आनुसंगिक प्रबृत्ति और निकृष्‍ट प्रबृत्ति को धर्मप्रबृत्ति और बुद्धि बृत्ति सै दबा देना चाहिये जैसे श्रीरामचन्‍द्रजी नें राज पाट छोड़ कर बन मैं जानें सै धर्म्म प्रबृत्ति को उत्तेजित किया था.”

 

“यह तो सवाल और जवाब और हुआ मैंनें आपसै मनुष्‍य का स्‍वभाव पहिचान्‍नें की राय पूछी थी आप बीच मैं मन की बृत्तियों का हाल कहनें लगे” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“इसी सै आगे चलकर मनुष्‍य के स्‍वभाव पहचान्‍नें की रीति मालूम होगी-”

 

“पर आप तो काम सन्‍तानस्‍नेह आदि के अविरोध सै भक्ति और परोपकारादि करनें के लिये कहते हैं और शास्‍त्रों मैं काम, क्रोध, लोभ, मोहादिक की बारम्बार निन्‍दा की है फ़िर आप का कहना ईश्‍वर के नियमानुसार कैसै हो सक्ता है ?” पंडित पुरूषोत्तमदास बीच मैं बोल उठे.

 

“मैं पहले कह चुका हूँ कि धर्म्मप्रबृत्ति और निकृष्‍टप्रबृत्ति मैं विरोध हो वहां ज़रूरत के लायक धर्म्मप्रबृत्ति को प्रबल मान्ना चाहिये परन्तु धर्म्मप्रबृत्ति और बुद्धिप्रबृत्ति का बचाव किए पीछै भी निकृष्‍टप्रबृत्ति का त्‍याग किया जायगा तो ईश्‍वर की यह रचना सर्वथा निरर्थक ठैरेगी पर ईश्‍वर का कोई काम निरर्थक नहीं है. मनुष्‍य निकृष्‍टप्रबृत्ति के बस होकर धर्म्मप्रबृत्ति और बुद्धिबृत्ति की रोक नहीं मान्‍ता इसी सै शास्‍त्र मैं बारम्‍बार उस्‍का निषेध किया है. परन्तु धर्म्मप्रबृत्ति और बुद्धि को मुख्‍य मानें पीछै उचित रीति सै निकृष्‍टप्रबृत्ति का आचरण किया जाये तो गृहस्‍थ के लिये दूषित नहीं हो सक्ता. हां उस्‍का नियम उल्‍लंघन कर किसी एक बृत्ति की प्रबलता सै और, और बृत्तियों के विपरीत आचरण कर कोई दु:ख पावै तो इस्‍मैं किसी बस नहीं. सबसै मुख्‍य धर्म्मप्रबृत्ति है परन्तु उस्‍मैं भी जबतक और बृत्तियों के हक़ की रक्षा न की जायगी अनेक तरह के बिगाड़ होनें की सम्‍भावना बनी रहैगी.”

 

“मुझको आपकी यह बात बिल्कुल अनोखी मालूम होती है भला परोपकारादि शुभ कामों का परिणाम कैसै बुरा हो सक्‍ता है ?” पंडित पुरुषोत्तमदास नें कहा.

 

“जैसे अन्‍न प्राणाधार है परन्तु अति भोजन सै रोग उत्‍पन्‍न होता है” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “देखिये परोपकार की इच्‍छा ही अत्‍यन्‍त उपकारी है परन्तु हद्द सै आगे बढ़नें पर वह भी फ़िजूलखर्ची समझी जायगी और अपनें कुटुंब परवारादि का सुख नष्‍ट हो जायगा जो आलसी अथवा अधर्म्मियों की सहायता की तो उस्‍सै संसार मैं आलस्‍य और पाप की बृद्धि होगी इसी तरह कुपात्र मैं भक्ति होनें सै लोक, परलोक दोनों नष्‍ट हो जायंगे. न्‍यायपरता यद्यपि सब बृत्तियों को समान रखनें वाली है परन्तु इस्‍की अधिकता सै भी मनुष्‍य के स्‍वभाव मैं मिलनसारी नहीं रहती, क्षमा नहीं रहती. जब बुद्धि बृत्ति के कारण किसी वस्‍तु के बिचार मैं मन अत्‍यन्‍त लग जायगा तो और जान्‍नें लायक पदार्थों की अज्ञानता बनी रहैगी मन को अत्‍यन्‍त परिश्रम होनें सै वह निर्बल हो जायगा और शरीर का परिश्रम बिल्कुल न होनें के कारण शरीर भी बलहीन हो जायगा. आनुसंगिक प्रबृत्ति के प्रबल होनें सै जैसा संग होगा वैसा रंग तुरत लग जाया करेगा. काम की प्रबलता सै समय असमय और स्‍वस्‍त्री परस्‍त्री आदि का कुछ बिचार न रहैगा. संतानस्‍नेह की बृत्ति बढ़ गई तो उस्‍के लिये आप अधर्म्म करनें लगेगा, उस्को लाड, प्‍यार मैं रखकर उस्‍के लिये जुदे कांटे बोयेगा. संग्रह करनें की लालसा प्रबल हुई तो जोरी सै, चोरी सै, छल सै, खुशामद सै, कमानें की डिढ्या पड़ैगी और खानें खर्चनें के नाम सै जान निकल जायगी. जिघांसा बृत्ति प्रबल हुई तो छोटी, छोटी सी बातों पर अथवा खाली संदेह पर ही दूसरों का सत्‍यानाश करनें की इच्‍छा होगी और दूसरों को दंड देती बार आप दंड योग्‍य बन जायगा. आत्‍म सुख की अभिरुचि हद्द सै आगे बढ़ गई तो मन को परिश्रम के कामों सै बचानें के लिये गानें बजानें की इच्‍छा होगी, अथवा तरह, तरह के खेल तमाशे हंसी चुहल की बातें, नशेबाजी, और खुशामद मैं मन लगैगा. द्रब्‍य के बल सै बिना धर्म्म किये धर्मात्मा बना चाहैंगे, दिन रात बनाव सिंगार मैं लगे रहैंगे. अपनी मानसिक उन्‍नति करनें के बदले उन्‍नति करनें वालों सै द्रोह करैंगे, अपनी झूंटी ज़िद निबाहनें मैं सब बढ़ाई समझैंगे, अपनें फ़ायदे की बातों मैं औरों के हक़ का कुछ बिचार न करेंगे. अपनें काम निकालनें के समय आप खुशामदी बन जायंगे, द्रब्य की चाहना हुई तो उचित उपायों सै पैदा करनें के बदले जुआ, बदनी धरोहड़, रसायन, या धरी ढकी दोलत ढूंडते फिरैंगे.”

 

“आप तो फ़िर वोही मन की बृत्तियों का झगड़ा ले बैठे. मेरे सवाल का जवाब दीजिये या हार मानिये” लाला मदनमोहन उखता कर कहनें लगे.

 

“जब आप पूरी बात ही न सुनें तो मैं क्‍या जवाब दूं ? मेरा मतलब इतनें बिस्‍तार सै यह था कि बृत्तियों का सम्बन्ध मिला कर अपना कर्तव्‍य कर्म निश्‍चय करना चाहिये. किसी एक बृत्ति की प्रबलता सै और बृत्तियों का बिचार किया जायगा तो उस्‍में बहुत नुक्‍सान होगा” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे:-

 

“वाल्‍मीकि रामायण मैं भरत सै रामचन्‍द्र नें और महाभारत मैं नारदमुनि नें राजायुधिष्ठिर सै ये प्रश्‍न किया है “धर्महि धन, अर्थहिधरम बाधक तो कहुं नाहिं ?।। काम न करत बिगार कछु पुन इन दोउन मांहिं ?।।”

 

“बिदुरप्रजागर मैं बिदुरजी राजाधृतराष्‍ट्र सै कहते हैं धर्म अर्थ अरु काम, यथा समय सेवत जु नर ।। मिल तीनहुँ अभिराम, ताहि देत दुहुंलोक सुख ।।”  “बिष्णु पुराण मैं कहा है “धर्म बिचारै प्रथम पुनि अर्थ, धर्म अविरोधि ।। धर्म, अर्थ बाधा रहित सेवै काम सुसोधि ।।”

 

“रघुबंश मैं अतिथि की प्रशंसा करतीबार महाकवि कालिदास नें कहा है “निरीनीति कायरपनो केवल बल पशुधर्म्म ।। तासों उभय मिलाय इन सिद्ध किये सब कर्म्म ।।”

 

“हीन निकम्‍मे होत हैं बली उपद्रववान ।। तासों कीन्‍हें मित्र तिन मध्‍यम बल अनुमान ।।”

 

“चाणक्‍य मैं लिखा है “बहुत दान ते बलि बँध्‍यो मान मरो कुरुराज ।। लंपट पन रावण हत्‍यो अति वर्जित सब काज ।।”

 

“फ्रीजिया के मशहूर हकीम एपिक्‍टेट्स की सब नीति इन दो बचनों मैं समाई हुई है कि “धैर्य सै सहना” और “मध्‍यम भाव सै रहना” चाहिये.

 

“कुरान मैं कहा है कि “अय (लोगों) ! खाओ, पीओ परन्तु फ़िजूलखर्ची न करो ।।”

 

“बृन्‍द कहता है “कारज सोई सुधर है जो करिये समभाय ।। अति बरसे बरसे बिना जों खेती कुम्‍हलाय ।।”

 

“अच्छा संसार मैं किसी मनुष्‍य का इसरीति पर पूरा बरताव भी आज तक हुआ है ?” बाबू बैजनाथ नें पूछा.

 

“क्‍यों नहीं देखिये पाईसिस्‍ट्रेट्रस नामी एथीनियन का नाम इसी कारण इतिहास मैं चमक रहा है. वह उदार होनें पर फ़िजूलखर्च न था और किसी के साथ उपकार कर के प्रत्‍युपकार नहीं चाहता था बल्कि अपनी मानवरी की भी चाह न रखता था. वह किसी दरिद्र के मरनें की खबर पाता तो उस्‍की क्रिया कर्म के लिये तत्‍काल अपनें पास सै खर्च भेज देता, किसी दरिद्र को बिपद ग्रस्थ देखता तो अपनें पास सै सहायता कर के उस्‍के दु:ख दूर करनें का उपाय करता, पर क़भी किसी मनुष्‍य को उस्‍की आवश्‍यकता सै अधिक देकर आलसी और निरूद्यमी नहीं होनें देता था. हां सब मनुष्‍यों की प्रकृति ऐसी नहीं हो सक्ती, बहुधा जिस मनुष्‍य के मन मैं जो वृत्ति प्रबल होती है वह उस्‍को खींच खांच कर अपनी ही राह पर ले जाती है जैसे एक मनुष्‍य को जंगल मैं रुपों की थैली पड़ी पावै और उस्‍समय उस्‍के आस पास कोई न हो तब संग्रह करनें की लालसा कहती है कि “इसै उठा लो” सन्‍तानस्‍नेह और आत्‍म सुख की अभिरुचि सम्‍मति देती है कि “इस काम सै हम को भी सहायता मिलेगी” न्‍याय परता कहती है कि “न अपनी प्रसन्‍नता सै यह किसी नें हमको दी न हमनें परिश्रम करके यह किसी सै पाई फ़िर इस पर हमारा क्‍या हक़ है ? और इस्‍का लेना चोरी सै क्‍या कम है ? इसै पर धन समझ कर छोड़ चलो” परोपकार की इच्‍छा कहती है कि “केवल इस्‍का छोंड़ जाना उचित नहीं, जहां तक हो सके उचित रीति सै इस्‍को इस्‍के मालिक के पास पहुँचानें का उपाय करो” अब इन् बृत्तियों सै जिस बृत्ति के अनुसार मनुष्‍य काम करे वह उसी मेल मैं गिना जाता है यदि धर्म्मप्रबृत्ति प्रबल रही तो वह मनुष्‍य अच्‍छा समझा जायगा, और इस रीति सै भले बुरे मनुष्‍यों की परीक्षा समय पाकर अपनें आप हो जायगी बल्कि अपनी बृत्तियों को पहचान कर मनुष्‍य अपनी परीक्षा भी आप कर सकेगा, राजपाट, धन दौलत, शिक्षा, स्‍वरूप, बंश मर्यादा सै भले बुरे मनुष्‍य की परीक्षा नहीं हो सक्ती. बिदुरजी नें कहा है, “उत्तमकुल आचार बिन करे प्रमाण न कोई ।। कुलहीनो आचारयुत लहे बड़ाई सोइ ।।”

 

प्रकरण-7

 

 

सावधानी (होशयारी)

 

सब भूतनको तत्‍व लख कर्म योग पहिचान ।।

 

मनुजनके यत्‍नहि लखहिं सो पंडित गुणवान ।।

 

बिदुर प्रजागरे

 

“यहां तो आप अपनें कहनें पर खुद ही पक्‍के न रहें, आपनें केलीप्‍स और डिओन का दृष्‍टांत देकर यह बात साबित की थी कि किसी की जाहिरी बातों सै उस्‍की परीक्षा नहीं हो सक्ती परन्‍तु अन्‍त मैं आप नें उसी के कामों सै उस्‍को पहचान्‍नें की राय बतलाई” बाबू बैजनाथ नें कहा.

 

“मैंनें केलीप्‍सके दृष्‍टांत मैं पिछले कामों सै पहली बातों का भेद खोल कर उस्‍का निज स्‍वभाव बता दिया था इसी तरह समय पाकर हर आदमी के कामों सै मन की बृत्तियों पर निगाह करकै उस्‍की भलाई बुराई पहचान्‍नें की राह बतलाई तो इस्‍सै पहली बातों सै क्‍या बिरोध हुआ ?” लाला ब्रजकिशोर पूछनें लगे.

 

“अच्‍छा ! जब आप के निकट मनुष्‍य की परीक्षा बहुत दिनों मैं उस्‍के कामों सै हो सक्ती है तो पहले कैसा बरताव रक्‍खैं ? क्या उस्‍की परीक्षा न हो जब तक उस्‍को अपनें पास न आनें दें ?” लाला मदनमोहन नें पूछा.

 

“नहीं, केवल संदेह सै किसी को बुरा समझना, अथवा किसी का अपमान करना सर्वथा अनुचित है परन्तु किसी की झूंटी बातों मैं आकर ठगा जाना भी मूर्खता सै खाली नहीं.” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “महाभारत मैं कहा है “मन न भरे पतियाहु जिन पतियायेहु अति नाही।। भेदी सों भय होत ही जर उखरे छिन माहिं ।।” इस्‍कारण जब तक मनुष्‍य की परीक्षा न हो साधारण बातों मैं उस्‍के जाहिरी बरताव पर दृष्टि रखनी चाहिये परन्तु जोखों के काम मैं उस्‍सै सावधान रहना चाहिये. उस्‍का दोष प्रगट होनें पर उस्‍को छोड़नें मैं संकोच न हो इस लिये अपना भेदी बना कर, उस्‍का अहसान उठाकर, अथवा किसी तरह की लिखावट और जबान सै उस्‍के बसवर्ती होकर अपनी स्‍वतन्त्रता न खोवै यद्यपि किसी, किसी के बिचार मैं छल, बल की प्रतिज्ञाओं का निबाहना आवश्‍यक नहीं है परन्तु प्रतिज्ञा भंग करनें की अपेक्षा पहले बिचार कर प्रतिज्ञा करना हर भांत अच्‍छा है”

 

“ऐसी सावधानी तो केवल आप लोगों ही सै हो सक्ती है जो दिन रात इन्‍हीं बातों के चारा बिचार मैं लगे रहैं” लाला मदनमोहन नें हँसकर कहा.

 

मैं ऐसा सावधान नहीं हूँ परन्तु हर काम के लिये सावधानी की बहुत जरुरत है” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “मैं अभी मन की बृत्तियों का हाल कहक़र अच्‍छे बुरे मनुष्‍यों की पहचान बता चुका हूँ परन्तु उन मैं सै धर्म्मप्रबृत्ति की प्रबलता रखनें वाले अच्छे आदमी भी सावधानी बिना किसी काम के नहीं हैं क्‍योंकि वे बुरी बातों को अच्‍छा समझ कर धोखा खा जाते हैं आपनें सुना होगा कि हीरा और कोयला दोनों मैं कार्बोन है और उन्‍के बन्नें की रसायनिक क्रिया भी एक सी है और दोनों मैं कार्बोन रहता है केवल इतना अन्तर है हीरे मैं निरा कार्बोन जमा रहता है और कोयले मैं उस्‍की कोई खास सूरत नहीं होती जो कार्बोन जमा हुआ, दृढ़ रहनें सै बहुत कठोर, स्‍वच्‍छ, स्‍वेत और चमकदार होकर हीरा कहलाता है वही कार्बोन परमाणुओं के फैल फुट और उलट पुलट होनें के कारण काला, झिर्झिरा, बोदा और एक सूरत मैं र‍हकर कोयला कहलाता है ! येही भेद अच्‍छे मनुष्‍यों मैं और अच्‍छी प्रकृतिवाले सावधान मनुष्यों मैं है कोयला बहुतसी जहरीली और दुर्गंधित हवाओं को सोख लेता है अपनें पास की चीजों को गलनें सड़नें की हानि सै बचाता है. और अमोनिया इत्‍यादि के द्वारा वनस्‍पति को फ़ायदा पहुँचाता है इसी तरह अच्‍छे आदमी दुष्‍कर्मों सै बचते हैं परन्तु सावधानी का योग मिले बिना हीरा की तरह कीमती नहीं हो सक्ते”

 

“मुझे तो यह बातें मन: कल्पित मालूम होती हैं क्‍योंकि संसार के बरताव सै इन्‍की कुछ बिध नहीं मिल्‍ती संसार मैं धनवान् कुपढ़, दरिद्री, पंडित, पापी सुखी, धर्मात्‍मा दुखी, असावधान अधिकारी, सावधान आज्ञाकारी, भी देखनें में आते हैं” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“इस्‍के कई कारण हैं” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “मैं पहले कह चुका हूँ कि ईश्‍वर के नियमानुसार मनुष्‍य जिस विषय मैं भूल करता है बहुधा उस्‍को उसी विषय मैं दंड मिलता है. जो बिद्वान दरिद्री मालूम होतें हैं वह अपनी विद्या मैं निपुण हैं परन्तु सांसारिक व्‍यवहार नहीं जान्‍ते अथवा जान बूझ कर उस्‍के अनुसार नही बरतते. इसी तरह जो कुपढ़ धनवान दिखाई देते हैं वह विद्या नहीं पढ़े परन्तु द्रव्‍योपार्जन करनें और उस्‍के रक्षा करनें की रीति जान्‍ते हैं. बहुदा धनवान रोगी होते हैं और गरीब नैरोग्‍य रहते हैं इस्‍का यह कारण है कि धनवान द्रव्‍योपार्जन करनें की रीति जान्‍ते हैं परन्तु शरीर की रक्षा उचित रीति सै नहीं करते और गरीबों की शरीर रक्षा उचित रीति सै बन् जाती है परन्तु वे धनवान होनें की रीति नहीं जान्‍ते. इसी तरह जहां जिस बात की कसर होती है वहां उसी चीज की कमी दिखाई देती है. परन्तु कहीं, कहीं प्रकृति के विपरीत पापी सुखी, धर्मात्‍मा दुखी, असावधान अधिकारी, सावधान आज्ञाकारी दिखाई देते हैं. इस्‍के दो कारण हैं. एक यह है कि संसार की बर्तमान दशा के साथ मनुष्‍य का बड़ा दृढ़ सम्बन्ध रहता है इस लिये क़भी, क़भी औरों के हेतु उस्‍का विपरीत भाव हो जाता है जैसे मा बाप कें विरसे सै द्रव्‍य, अधिकार या ऋण रोगादि मिल्‍ते हैं, अथवा किसी और की धरी हुई दौलत किसी और के हाथ लगजानें सै उस्‍का मालिक बन बैठता है, अथवा किसी अमीर की उदारता सै कोई नालायक धनवान बन जाता है, अथवा किसी पास पड़ौसी की गफ़लत सै अपना सामान जल जाता है, अथवा किसी दयालु बिद्वान के हितकारी उपदेशों सै कुपढ़ मनुष्‍य विद्या का लाभ ले सक्ते हैं, अथवा किसी बलवान लुटेरे की लूट मार सै कोई गृहस्‍थ बेसबव धन और तन्दुरस्‍ती खो बैठता है और ये सब बात लोगों के हक़ मैं अनायास होती रहती हैं इसलिये इनको सब लोग प्रारब्‍ध फल मान्‍ते हैं परन्तु ऐसे प्रारब्‍धी लोगों मैं जिस्को कोई वस्‍तु अनायास मिल गई पर उस्‍के स्थिर रखनें के लिये उस्‍के लायक कोई बृत्ति अथवा सब बृत्तियों की सहायता स्‍वरूप सावधानी ईश्‍वर नें नहीं दी तो वह उसचीज़ को अन्त मैं अपनी स्‍वाभाविक बृत्तियों की प्रबलता सै वह वस्तु अधिक हुई तो उस्मैं उन बृत्तियों का नुक्सान गुप्‍त रहक़र समय पर ऐसे प्रगट होता है जैसे बचपन की बेमालूम चोट बड़ी अवस्‍था मैं शरीर को निर्बल पाकर अचानक कसक उठे, या शतरंज मैं किसी चाल की भूल का असर दसबीस चाल पीछै मालूम हो. पर ईश्‍वर की कृपा सै किसी को कोई बस्‍तु मिलती है तो उस्‍के साथ ही उस्‍के लायक बुद्धि भी मिल जाती है या ईश्‍वर की कृपा सैकिसी कायम मुकाम (प्रतिनिधि) वगैरे की सहायता पाकर उस्‍के ठीक, ठीक‍ काम चलनें का बानक बन जाता है जिस्‍सै वह नियम निभे जाते हैं परन्तु ईश्‍वर के नियम मनुष्‍य सै किसी तरह नहीं टूट सक्ते.”

 

“मनुष्‍य क्‍या मैं तो जान्‍ता हूँ ईश्‍वरसे भी नहीं टूट सक्‍ते” बाबू बैजनाथनें कहा.

 

“ऐसा बिचारना अनुचित है ईश्‍वर को सब सामर्थ्‍य है देखो प्रकृतिका यह नियम सब जगह एकसा देखा जाता है कि गर्म होनें से हरेक चीज फैलती है और ठंडी होनें सै सिमट जाती है यही नियम 21 डिक्री तक जल के लिये भी है परन्तु जब जल बहुत ठंडा होकर 32 डिक्री पर बर्फ बन्‍ने लगता है तो वह ठंड सै सिमटनें केबदले फैलता जाता और हल्‍का होनें के कारण पानी के ऊपर तैरता रहता है इसमैं जल जंतुओंकी प्राणरक्षा के लिये यह साधारण नियम बदल दिया गया ऐसी बातों सै उस्‍की अपरिमित शक्ति का पूरा प्रमाण मिलता है उसनें मनुष्‍य के मानसिक भावादि सै संसार के बहुतसे कामोंका गुप्त सम्बन्ध इस तरह मिला रक्‍खा है कि जिस्के आभास मात्र सै अपना चित्त चकित होजाता है. यद्यपि ईश्‍वर के ऐसे बहुतसे कामोंकी पूरी थाह मनुष्‍य की तुच्‍छ बुद्धि को नहीं मिली तथापि उसनें मनुष्य को बुद्धि दी है. इस लिये यथाशक्ति उस्‍के नियमों का बिचार करना, उन्‍के अनुसार बरतना और बिपरीत भावका कारण ढूंढना उस्‍को उचित है, सो मैं अपनी तुच्‍छ बुद्धि के अनुसार एक कारण पहले कह चुकाहूँ. दूसरा यह मालूम होता है कि जैसे तारों की छांह चंद्रमा की चांदनी मैं और चंद्रमाकी चांदनी सूर्य्य की धूपमैं मिलकर अपनें आप उस्‍का तेज बढ़ानें लगती है इसी तरह बहुत उन्‍नति मैं साधारण उन्नति अपनें आप मिल जाती है. जबतक दो मनुष्‍यों का अथवा दो देशों का बल बराबर रहता है कोई किसी को नहीं हरा सक्ता, परन्तु जब एक उन्‍नतिशाली होता है, आकर्षणशक्ति के नियमानुसार दूसरे की समृद्धि अपनें आप उसकी तरफ़को खिचनें लगती है देखिये जबतक हिन्दुस्थान मैं और देशों सै बड़कर मनुष्‍य के लिये वस्‍त्र और सब तरह के सुख की सामग्री तैयार होती थी, रक्षाके उपाय ठीक, ठीक बनरहे थे, हिन्दुस्थान का वैभव प्रतिदिन बढ़ता जाता था परन्तु जबसै हिन्दुस्थान का एका टूटा और और देशोंमैं उन्‍नति हुई बाफ और बिजली आदि कलोंके द्वारा हिन्दुस्थान की अपेक्षा थोड़े खर्च थोड़ी महनत, और थोड़े समय मैं सब काम होनें लगा हिन्दुस्थान की घटती के दिन आगए; जब तक हिन्दुस्थान इन बातों मैं और देशों की बराबर उन्‍नति न करेगा यह घाटा क़भी पूरा न होगा. हिन्दुस्थान की भूमि मैं ईश्‍वर की कृपा सै उन्‍नति करनें के लायक सब सामान बहुतायतसे मौजूद हैं केवल नदियों के पानी ही सै बहुत तरह की कलैं चल सक्ती हैं परन्तु हाथ हिलाये बिना अपनें आप ग्रास मुख मैं नहीं जाता नई, नई युक्तियों का उपयोग किये बिना काम नहीं चलता. पर इन बातों सै मेरा यह मतलब हरगिज नहीं है कि पुरानी, पुरानी सब बातैं बुरी और नई, नई सब बातें एकदम अच्‍छी समझ ली जायं. मैंनें यह दृष्‍टांत केवल इस बिचार सै दिया है कि अधिकार और व्‍यापारादि के कामों मैं कोई, कोई युक्ति किसी समय कामकी होती है वह भी कालान्‍तर मैं पुरानी रीति भांत पलटजानें पर अथवा किसी और तरह की सूधी राह से निकल आनें पर अपनें आप निरर्थक हो जाती है और संसार के सब कामों का सम्बन्ध परस्‍पर ऐसा मिला रहता है कि एक की उन्‍नति अवनति का असर दूसरों पर तत्‍काल हो जाता है इस कारण एक सावधानी बिना मनकी बृत्तियों के ठीक होनें पर भी जमानें के पीछै रह जानें सै क़भी, क़भी अपनें आप अवनति हो जाती है और इन्हीं कारणों सै कहीं, कहीं प्रकृति के विपरीत भाव दिखाई देता है.”

 

“इस्‍सै तो यह बात निकली की हिन्दुस्थान मैं इस्‍समय कोई सावधान नहीं है” मुन्शी चुन्नीलाल नें कहा.

 

“नहीं यह बात हरगिज नहीं है, परन्तु सावधानी का फल प्रसंग के अनुसार अलग, अलग होता है” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “तुम अच्‍छी तरह बिचार कर देखोगे तो मालूम हो जायगा कि हरेक समाजका मुखिया कोई निरा विद्वान अथवा धनवान नहीं होता, बल्कि बहुधा सावधान मनुष्‍य होता है और जो खुशी बड़े राजाओंको अपनें बराबर वालों मैं प्रतिष्‍ठा लाभ सै होती है वही एक गरीब सै गरीब लकड़हारे को भी अपनें बराबर वालोंमैं इज्‍जत मिलनें सै होती है और उन्‍नति का प्रसंग हो तो वह धीरै, धीरै उन्‍नति भी करता जाता है परन्तु इन दोनों की उन्‍नतिका फल बराबर नहीं होता क्‍योंकि दोनोंको उन्‍नति करनें के साधन एकसे नहीं मिलते. मनुष्‍य जिन कामोंमैं सदैव लगा रहता है अथवा जिन बातों का बारबार अनुभव करता है बहुधा उन्‍हीं कामोंमैं उस्‍की बुद्धि दौड़ती है और किसी सावधान मनुष्‍यकी बुद्धि किसी अनूठे काममैं दौड़ी भी तो उसै काममैं लानें के लिये बहुत करकै मौका नहीं मिलता. देशकी उन्‍नति अवनतिका आधार वहां के निवासियों की प्रकृति पर है. सब देशोंमैं सावधान और असावधान मनुष्‍य र‍हते हैं परन्तु जिस देशके बहुत मनुष्‍य सावधान और उद्योगी होते हैं उस्‍की उन्‍नति होती जाती है और जिस देशमैं असावधान और कमकस विशेष होते हैं उस्‍की अवनति होती जाती है. हिन्दुस्थान मैं इस समय और देशों की अपेक्षा सच्‍चे सावधान बहुत कम हैं और जो हैं वे द्रव्‍य की असंगति सै, अथवा द्रव्यवानों की अज्ञानता सै, अथवा उपयोगी पदार्थों की अप्राप्तिसै, अथवा नई, नई युक्तियों के अनुभव करनें की कठिनाइयोंसै, निरर्थक से हो रहे हैं और उन्‍की सावधानता बनके फूलोंकी तरह कुछ उपयोग किये बिना बृथा नष्ट हो जाती है परन्तु हिन्दुस्थान मैं इस समय कोई सावधान न हो यह बात हर‍गिज नहीं है”

 

“मेरे जान तो आजकल हिन्दुस्थान मैं बराबर उन्‍नति होती जाती है, जगह, जगह पढ़नें लिखनें की चर्चा सुनाई देती है, और लोग अपना हक़ पहचान्नें लगे हैं” बाबू बैजनाथनें कहा.

 

“इन सब बातों मैं बहुत सी स्‍वार्थपरता और बहुत सी अज्ञानता मिली हुई है परन्तु हकीकत मैं देशोन्‍नति बहुत थोड़ी है” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “जो लोग पढ़ते हैं वे अपनें बाप दादोंका रोजगार छोड़कर केवल नौकरींके लिये पढ़ते हैं और जो देशोन्‍नतिके हेतु चर्चा करते हैं उनका लक्ष अच्‍छा नहीं है वे थोथी बातों पर बहुत हल्‍ला मचाते हैं परन्तु विद्याकी उन्‍नति, कलोंके प्रचार, पृथ्‍वीके पैदावार बढ़ानें की नई, नई युक्ति और लाभदायक व्‍यापारादि आवश्‍यक बातों पर जैसा चाहिये ध्‍यान नहीं देते जिस्‍सै अपनें यहांका घाटा पूरा हो. मैं पहले कह चुका हूँ कि जिन मनुष्‍यों की जो बृत्तियाँ प्रबल होती हैं वह उनको खींच खांचकर उसी तरफ़ ले जाती हैं सो देख लीजिए कि हिन्दुस्थान मैं इतनें दिन सै देशोन्‍नति चर्चा हो रही है परन्तु अबतक कुछ उन्‍नति नहीं हुई और फ्रांसवालों को जर्मनीवालों सै हारे अभी पूरे दस बर्ष नहीं हुए जिस्‍मैं फ्रांसवालों नें सच्ची सावधानी के कारण ऐसी उन्‍नति करली कि वे आज सब सुधरी हुई बलायतों सै आगै दिखाई देते हैं”

 

“अच्‍छा ! आपके निकट सावधानी की पहचान क्‍या है ?” लाला मदनमोहन नैं पूछा.

 

“सुनिये” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “जिस तरह पांच, सात गोलियें बराबर बराबर चुन्दी जायं और उन्‍मैं सै सिरे की एक गोली को हाथ सै धक्‍का देदिया जाय तो हाथ का बल, पृथ्वी की आकर्षणशक्ति, हवा आदि सब कार्य कारणों के ठीक, ठीक जान्‍नेसै आपस्‍मैं टकरा कर अन्त की गोली कितनी दूर लुढ़कैगी इस्‍का अन्दाज़ हो सक्ता है इसी तरह मनुष्यों की प्रकृति और पदार्थों की जुदी, जुदी शक्ति का परस्‍पर सम्बन्ध बिचार कर दूर और पास की हरेक बात का ठीक परिणाम समझ लेना पूरी सावधानी है परन्तु इन बातों को जान्‍नें के लिये अभी बहुत से साधनों की कसर है और किसी समय यह सब साधन पा कर एक मनुष्‍य बहुत दूर, दूर की बातों का परिणाम निकाल सकै यह बात असम्‍भव मालूम होती है तथापि अपनी सामर्थ्‍य के अनुसार जो मनुष्‍य इस राह पर चलै वह अपनें समाज मैं साधारण रीति सै सावधान समझा जाता है. एक मोमबत्ती एक तरफ़ सै जल्‍ती हो और दूसरी दोनों तरफ़ जलती हो तो उस्‍के बर्तमान प्रकाश पर न भूलना परिणाम पर दृष्टि करना सावधानी का साधारण काम है और इसी सै सावधानता पहचानी जाती है.”

 

“आपनें अपनी सावधानता जतानें के लिये इतना परिश्रम करके सावधानी का वर्णन किया इस लिये मैं आपका बहुत उपकार मान्ता हूँ” लाला मदनमोहन नें हंस कर कहा.

 

“वाजबी बात कहनें पर मुझको आप सै ये तो उम्‍मेद ही थी.” लाला ब्रजकिशोर नें जवाब दिया, और लाला मदनमोहन सै रुख़सत होकर अपनें मकान को रवानें हुए.

 

 

 

प्रकरण-8

 

 

 

सब मैं हां

 

एकै साधे सब सधै सब साधे सब जाहिं

 

जो गहि सीं चै मूलकों फूलैं फलैं अघाहिं

 

कबीर.

 

“लाला ब्रजकिशोर बातें बनानेंमैं बड़े होशियार हैं परन्तु आपनें भी इस्‍समय तो उन्‍को ऐसा मंत्र सुनाया कि वह बंद ही होगए” मुन्शी चुन्‍नीलालनें कहा.

 

“मुझको तो उन्‍की लंबी चोड़ी बातोंपर लुक्‍मानकी वह कहावत याद आती है जिस्‍मैं एक पहाड़के भीतरसै बड़ी गड़-गड़ाहट हुए पीछै छोटीसी मूसी निकली थी” मास्‍टर शिंभूदयालनें कहा.

 

“उन्‍की बातचीतमैं एक बड़ा ऐब यह था कि वह बीचमैं दूसरे को बोलनें का समय बहुत कम देते थे जिस्‍सै उन्‍की बात अपनें आप फीकी मालूम होनें लगती थी” बाबू बैजनाथनें कहा.

 

“क्‍या करें ? वह वकील हैं और उन्‍की जीविका इन्हीं बातों सै है” हकीम अहमदहुसेन बोले.

 

“उन् पर क्‍या है अपना, अपना काम बनानें मैं सब ही एकसे दिखाई देते हैं” पंडित पुरुषोत्तमदासनें कहा.

 

“देखिये सवेरे वह काचोंकी खरीदारी पर इतना झगड़ा करते थे परन्तु मन मैं कायल हो गए इस्‍सै इस्‍समय उन्‍का नाम भी न लिया” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें याद दिलाई.

 

“हां; अच्‍छी याद दिलाई, तुम तीसरे पहर मिस्‍टर ब्राइट के पास गये थे ? काचोंकी कीमत क्‍या ठैरी ?” लाला मदनमोहन नें शिंभूदयाल सै पूछा.

 

“आज मदरसे सै आनें मैं देर हो गई इस्सै नहीं जासका” मास्‍टर शिंभूदयाल नें जवाब दिया. परन्तु यह उस्‍की बनावट थी असल मैं मिस्‍टर ब्राइट नें लाला मदनमोहन का भेद जान्‍नें के लिये सौदा अटका रक्‍खा था.

 

“मिस्‍टर रसलको दस हजार रुपे भेजनें हैं उन्का बंदोबस्त हो गया.” मुन्शी चुननीलाल नें पूछा.

 

“हां लाला जवाहरलाल सै कह दिया है परन्तु मास्‍टर साहब भी तो बंदोबस्‍त करनें कहते थे इन्होंनें क्‍या किया ?” लाला मदनमोहन नें उलट कर पूछा.

 

“मैंनें एक, दो जगह चर्चा की है पर पर अब तक किसी सै पकावट नहीं हुई” मास्‍टर शिंभूदयाल नें जवाब दिया.

 

“खैर ! यह बातैं तो हुआ ही करैंगी मगर यह लखनऊ का तायफा शाम सै हाजिर है उस्‍के वास्‍तै क्‍या हुक्‍म होता है ?” हकीम अहमदहुसेन नें पूछा.

 

“अच्‍छा ! उस्‍को बुलवाओ पर उस्‍के गानें मैं समा न बँधा तो आपको वह शर्त पूरी करनी पड़ेगी” लाला मदनमोहन नें मुस्कराकर कहा.

 

इस्‍पर लखनऊ का तायफा मुजरे के लिये खड़ा हुआ और उस्‍नें मीठी आवाज़ सै तालसुर मिलाकर सोरठ गाना शुरू किया.

 

निस्सन्देह उस्‍का गाना अच्‍छा था परन्तु पंडितजी अपनी अभिज्ञता जतानें के लिये बे समझे बूझे लट्टू हुए जाते थे. समझनेंवालों का सिर मोके पर अपनें आप हिल जाता है परन्तु पंडितजी का सिर तो इस्‍समय मतवालों की तरह घूम रहा था. मास्‍टर शिंभूदयाल को दुपहर का बदला लेनें के लिये यह समय सब सै अच्‍छा मिला. उस्‍नें पंडितजी को आसामी बनानें के हेतु और लोगों सै इशारों मैं सलाह कर ली और पंडितजी का मन बढ़ानें के लिये पहलै सब मिलकर गानें की वाह, वाह करनें लगे अन्त मैं एकनें कहा “क्‍या स्‍यामकल्‍याण है” दूसरेनें कहा “नहीं, ईमन है” तीसरे नें कहा “वाह झंझौटी है” चौथा बोला “देस है” इस्‍पर सुनारी लड़ाई होनें लगी.

 

“पंडितजी को सब सै अधिक आनंद आरहा है इस लिये इन्‍सै पूछना चाहिये” लाला मदनमोहन नें झगड़ा मिटानें के मिस सै कहा.

 

“हां, हां पंडितजी नें दिन मैं अपनी विद्या के बल सै बेदेखे भाले करेला बता दिया था सो अब इस प्रत्‍यक्ष बात के बतानें मैं क्‍या संदेह है ?” मास्‍टर शिंभूदयाल नें शै दी और सब लोग पंडितजी के मुंहकी तरफ़ देखनें लगे.

 

“शास्‍त्र सै कोई बात बाहर नहीं है जब हम सूर्य चन्‍द्रमा का ग्रहण पहले सै बता देते हैं तो पृथ्वी पर की कोई बात बतानी हमको क्‍या कठिन है ?” पंडित पुरुषोत्तमदास नें बात उड़ानें के वास्‍तै कहा.

 

“तो आप रेल और तार का हाल भी अच्‍छी तरह जान्‍ते होंगे ?” बाबू बैजनाथ नें पूछा.

 

“मैं जान्‍ता हूँ कि इन सब का प्रचार पहले हो चुका है क्‍योंकि “रेल पेल” और “एकतार” होनें की कहावत अपनें यहां बहुत दिन सै चली आती है” पंडितजी नें जवाब दिया।

 

“अच्‍छा महाराज ! रेल शब्‍द का अर्थ क्‍या है ? और यह कैसे चल्‍ती है ?” मास्‍टर शिंभूदयाल नें पूछा.

 

“भला यह बात भी कुछ पूछनें के लायक है ! जिस तरह पानी की रेल सब चीजों को बहा ले जाती है उसी तरह यह रेल भी सब चीजों को घसीट ले जाती है इस वास्तै इस्‍को लोग रेल कहते हैं और रेल धुएँ के जोर सै चल्ती है यह बात तो छोटे, छोटे बच्‍चे भी जान्‍ते हैं” पंडित पुरुषोत्तमदास नें जवाब दिया, और इस्‍पर सब आपस मैं एक दूसरे की तरफ़ देखकर मुस्‍करानें लगे.

 

“और तार ?” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें रही सही कलई खोलनें के वास्‍ते पूछा.

 

“इस्‍मैं कुछ योग विद्या की कला मालूम होती है.” इतनी बात कह कर पंडित पुरुषोत्तमदास चुप होते थे परन्तु लोगों को मुस्‍कराते देखकर अपनी भूल सुधारनें के लिये झट पट बोल उठे कि “कदाचित् योगविद्या न होगी तो तार भीतर सै पोला होगा जिस्‍मैं होकर आवाज जाती होगी या उस्‍के भीतर चिट्ठी पहुँचानें के लिये डोर बंध रही होगी”

 

“क्‍यों दयालु ! बैलून कैसा होता है ?” बाबू बैजनाथ नें पूछा.

 

“हम सब बातें जान्‍ते हैं परन्तु तुम हमारी परीक्षा लेनें के वास्‍तै पूछते हो इस्‍सै हम कुछ नहीं बताते” पंडितजी नें अपना पीछा छुड़ानें के लिये कहा. परन्तु शिंभूदयाल नें सब को जता कर झूंठे छिपाव सै इशारे मैं पंडितजी को उड़नें की चीज बताई इस्‍पर पंडितजी तत्‍काल बोल उठे “हम को परीक्षा देनें की क्‍या जरुरत है ? परन्तु इस समय न बतावेंगे तो लोग बहाना समझैंगे. बैलून पतंग को कहते हैं.”

 

“वाह, वा, वाह ! पंडितजी नें तो हद कर दी इस कलि काल मैं ऐसी विद्या किसी को कहां आ सक्‍ती है !” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“हां पंडितजी महाराज ! हुलक किस जानवर को कहते हैं ?” हकीम अहमदहुसेन नें नया नाम बना कर पूछा.

 

“एक चौपाया है” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें बहुत धीरी आवज सै पंडितजी को सुना कर शिंभूदयाल के कान मैं कहा.

 

“और बिना परों के उड़ता भी तो है” मास्‍टर शिंभूदयाल नें उसी तरह चुन्‍नीलाल को जवाब दिया.

 

“चलो चुप रहो देखें पंडितजी क्‍या कहते हैं” चुन्‍नीलाल नें धीरे से कहा.

 

“जो तुम को हमारी परीक्षा ही लेनी है तो लो, सुनो हुलक एक चतुष्‍पद जंतु विशेष है और बिना पंखों के उड़ सक्‍ता है” पंडितजी नें सब को सुनाकर कहा.

 

“यह तो आपनें बहुत पहुँच कर कहा परन्तु उस्‍की शक्‍ल बताइये” हकीमजी हुज्‍जत करनें लगे.

 

“जो शक्‍ल ही देखनी हो तो यह रही” बाबू बैजनाथ नें मेजपर सै एक छोटासा कांच उठाकर पंडितजी के सामनें कर दिया.

 

इस्‍पर सब लोग खिल खिलाकर हँस पड़े.

 

“यह सब बातें तो आपनें बता दीं परन्तु इस रागका नाम न बताया” लाला मदनमोहन नें हँसी थमे पीछै कहा.

 

“इस्‍समय मेरा चित्त ठिकान नहीं है मुझको क्षमा करो” पंडित पुरुषोत्तमदास नें हार मान कर कहा.

 

“बस महाराज ! आपको तो करेला ही करेला बताना आता है और कुछ भी नहीं आता” मास्‍टर शिंभूदयाल बोले.

 

“नहीं साहब ! पंडितजी अपनी विद्यामैं एक ही हैं” रेल और तारकी हाल क्‍या ठीक, ठीक बताया है !” “और बैलूनमैं तो आप ही उड़ चले !” “हुलककी सूरत भी तो आप ही नें दिखाई थी !” “और सब सै बढ़कर राग का रस भी तो इनही नें लिया है” चारों तरफ़ लोग अपनी अपनी कहनें लगे.

 

पंडित जी इन लोगोंकी बातैं सुन, सुनकर लज्‍जाके मारे धरतीमैं गढ़े चले जाते थे पर कुछ बोल नहीं सक्ते थे.

 

आखिर यह दिल्‍लगी पूरी हुई तब बाबू बैजनाथ लाला मदनमोहनको अलग ले जाकर कहनें लगे “मैंनें सुना है कि लाला ब्रजकिशोर दो, चार आदमियों को पक्‍का कर कै यहां नए सिरे सै कालिज स्‍थापना करनें के लिये कुछ उद्योग कर रहे हैं यद्यपि सब लोगोंके निरुत्‍साह सै ब्रजकिशोर के कृतकार्य होनें की कुछ आशा नहीं है यद्यपि लोगों को देशोपकारी बातौं मैं अपनी रुचि दिखानें और अग्रसर बन्‍नें के लिये आप इस्‍मैं ज़रूर शामिल हो जायं अख़बारों मैं धूम मैं मचा दूंगा. यह समय कोरी बातोंमैं नाम निकालनें का आ गया है क्‍योंकि ब्रजकिशोर नामवरी नहीं चाहते इसी लिये मैं चलकर आपकौ चेतानें के लिये इस्‍समय आप के पास आया था”

 

“आप‍ की बड़ी महरबानी हुई. मैं आपके उपकारोंका बदला किसी तरह नहीं दे सक्‍ता. किसीनें सच कहा है “हितहि परायो आपनो अहित अपनपोजाय ।। बनकी ओषधि प्रिय लगत तनको दुख न सुहाय”।। ऐसा हितकारी उपदेश आपके बिना और कौन दे सक्‍ता है” लाला मदनमोहननें बड़ी प्रीति सै उन्‍का हाथ पकड़कर कहा.

 

और इसी तरह अनेक प्रकार की बातोंमैं बहुत रात चली गई, तब सब लोग रुख़सत होकर अपनें, अपनें घर गए.

 

 

 

प्रकरण-9

 

 

सभासद.

 

धर्मशास्‍त्र पढ़ , वेद पढ़ दुर्जन सुधरे नाहिं

 

गो पय मीठी प्रकृति ते, प्रकृति प्रबल सब माहिं

 

हितोपदेश.

 

इस्‍समय मदनमोहनके बृत्तान्‍त लिखनें सै अवकाश पाकर हम थोड़ा सा हाल लाला मदनमोहन के सभासदोंका पाठक गण को विदित करते हैं, इन्‍मैं सब सै पहले मुन्शी चुन्‍नीलाल स्‍मर्ण योग्य हैं,

 

मुन्शी चुन्नीलाल प्रथम ब्र‍जकिशोर के यहां दस रुपे महीनें का नौकर था. उन्‍होंनें इस्को कुछ, कुछ लिखना पढ़ना सिखाया था, उन्‍हींकी संगति मैं रहनें सै इसे कुछ सभाचातुरी आ गई थी, उन्‍हींके कारण मदनमोहन से इस्की जान पहचान हुई थी. परन्तु इस्‍के स्‍वभाव मैं चालाकी ठेठ सै थी इस्‍का मन लिखनें पढ़नें मैं कम लगता था पर इस्‍नें बड़ी, बड़ी पुस्‍तकों मैं सै कुछ, कुछ बातें ऐसी याद कर रक्‍खी थी कि नये आदमी के सामनें झड़ बांध देता था. स्‍वार्थ परता के सिवाय परोपकार की रुचि नाम को न थी पर जबानी जमा खर्च करनें और कागज के घोड़े दौड़ानें मैं यह बड़ा धुरंधर था. इस्‍की प्रीति अपना प्रयोजन निकालनें के लिये, और धर्म्म लोगों को ठगनें के लिये था. यह औरों सै बिवाद करनें मैं बड़ा चतुर था परन्तु इस्‍को अपना चाल चलन सुधारनें की इच्‍छा न थी. यह मनुष्‍यों का स्‍वभाव भली भांत पहचान्‍ता था, परन्तु दूर दृष्टि सै हरेक बात का परिणाम समझ लेनें की इस्‍को सामर्थ्‍य न थी. जोड़ तोड़ की बातों मैं यह इयागो (शेक्‍सपियर कृत ऑथेलो नाम का नाटक का खलनायक) का अवतार था. कणिक की नीति पर इस्‍का पूरा विश्‍वास था. किसी बड़े काम का प्रबंध करनें की इस्को शक्ति न थी परन्तु बातों मैं धरती और आकाश को एक कर देता था. इस्‍के काम निकालनें के ढंग दुनियासै निराले थे. यह अपनें मतलब की बात बहुधा ऐसे समय करता था जब दूसरा किसी और काम मैं लग रहा हो जिस्‍सै इसकी बात का अच्छी तरह बिचार न कर सके अथवा यह काम की बात करती बार कुछ, कुछ साधारण बातों की ऐसी चर्चा छेड़ देता था जिस्सै दूसरे का मन बटा रहै अथवा कोई बात रुचि के बिपरीत अंगीकार करानी होती थी तो यह अपनी बातों मैं हर तरह का बोझ इस ढबसै डाल देता था कि दूसरा इन्कार न कर सके क़भी, क़भी यह अपनी बातों को इस युक्ति सै पुष्‍ट कर जाता कि सुन्‍नें वाले तत्‍काल इस्‍का कहना मान लेते, जो काम यह अपनें स्‍वार्थ के लिये करता उस्‍का प्रयोजन सब लोगों के आगे और ही बताता था और अपनी स्‍वार्थ परता छिपानें के लिये बड़ी आना कानी सै वह बात मंजूर करता था यह अपनें बैरी की ब्याजस्‍तुति इस ढब सै करता था कि लोग इस्‍का कहना इसकी दयालुता और शुभचिन्‍तकता सै समझनें लगते थे. जिस्‍बात के सहसा प्रगट करनें मैं कुछ खटका समझता उस्‍का प्रथम इशारा कर देता था और सुन्‍नें वाले के आग्रह पर रुक, रुक कर वह बात कहता था. जोखों की बात लोगों पर ढाल कर कहता था वह अथवा शिंभूदयाल वगेरे के मुख सै कहवा दिया करता था और आप साधनें को तैयार रहता था. तुच्‍छ बातों को बढ़ा कर, बड़ी बातों को घटा कर, अपनी तरफ़ सै नोन मिर्च लगाकर, क़भी प्रसन्‍न, क़भी उदास, क़भी क्रोधित, क़भी शांत होकर यह इस रीति सै बात कहता था कि जो कहता था उस्‍की मूर्ति बन जाता था, इस्‍के मन मैं संग्रह करनें की बृत्ति सब सै प्रबल थी.

 

मुन्शी चुन्‍नीलाल ब्रजकिशोर के यहां नोकर था. जब अपनी चालाकी सै बहुधा मुकद्दमें वालों को उलट-पुलट समझा कर अपना हक़ ठैरा लिया करता था. स्‍टांप, तल्‍बानें वगैरे के हिसाब मैं उन लोगों को धोका दे दिया करता था बल्कि क़भी, क़भी प्रतिपक्षी सै मिल्‍कर किसी मुकद्दमेंवाले का सबूत वगैरे भी गुप चुप उस्‍को दिया करता था. ब्रजकिशोर नें ये भेद जान्‍ते ही पहले उसै समझाया फ़िर धमकाया जब इस्‍पर भी राह मैं न आया तो घर का मार्ग दिखाया. इस्‍नें पहले ही सै ब्रजकिशोर का मन देख कर लाला मदनमोहन के पास अपनी मिसल लगा ली थी. हरकिशोर को अपना सहायक बना लिया था. लाला ब्रजकिशोर के पास सै अलग होते ही लाला मदनमोहन के पास रहनें लगा.

 

मुन्शी चुन्‍नीलाल नें लाला मदनमोहन के स्‍वभाव को अच्‍छी तरह पहचान लिया था. लाला मदनमोहन को हाकमों की प्रसन्‍नता, लोगों की वाह, वाह, अपनें शरीर का सुख, और थोड़े ख़र्च मैं बहुत पैदा करनें के लालच के सिवाय किसी और काम मैं रुपया ख़र्च करना अच्छा नही लगता था पर रुपया पैदा करनें अथवा अपनें पास की दौलत को बचा रखनें के ठीक रस्‍ते नहीं मालूम थे इसलिये मुन्शी चुन्‍नीलाल उन्‍को उन्‍की इच्‍छानुसार बातें बनाकर खूब लूटता था.

 

मास्‍टर शिंभूदयाल प्रथम लाला मदनमोहन को अंग्रेजी पढ़ानें के लिए नोकर रक्खा गया था पर मदनमोहन का मन बचपन सै पढ़नें लिखनें की अपेक्षा खेल कूद मैं अधिक लगता था. शिंभूदयाल नें लिखनें पढ़नें की ताकीद की तो मदनमोहन का मन बिगड़नें लगा. मास्‍टर शिंभूदयाल खानें, पहन्‍नें, देखनें, सुन्‍नें का रसिक था और लाला मदनमोहन के पिता अंग्रेजी नहीं पढ़े थे इसलिये मदनमोहन सै मेल करनें मैं इस्‍नें हर भांत अपना लाभ समझा. पढ़ानें लिखानें के बदले मदनमोहन बालक रहा जितनें अलिफ़लैलामैं सै सोते जागते का किस्‍सा, शेक्सपियर के नाटकों मैं सै कोमडी आफ़ एर्रज़, ट्वेलफ्थनाइट, मचएडू एबाउट नथिंग, बेनजान्‍सन का एव्‍रीमैन इनहिज ह्यूमर; स्विफ्टके ड्रपीअर्सलेटर्स, गुलिबर्सट्रैवल्‍स, टेल आफ़ ए टब आदि सुनाकर हँसाया करता और इस युक्ति सै उस्‍को टोपी, रूमाल, घड़ी, छड़ी आदि का बहुधा फायदा हो जाता था. जब मदनमोहन तरुण हुआ तो अलिफ़लैला मैं सै अबुल हसन, और शम्सुल्निहार का किस्सा, शेक्सपियर के नाटकों मैं सै रोमियों ऐन्‍ड जुलियट आदि सुनाकर आदि रस का रसिक बनानें लगा और आप भी उस्‍के साथ फूलके कीड़े की तरह चैन करनें लगा, परन्तु यह सब बातें मदनमोहन के पिता के भय सै गुप्‍त होती थीं इसी सै शिंभूदयाल आदि का बहुत फायदा था वह पहाड़ी आदमियों की तरह टेढ़ी राह मैं अच्छी तरह चल सक्ता था परन्तु समभूमि पर चलनेंकी उस्‍को आदत न थी जब चुन्‍नीलाल मदनमोहन के पास आया कुछ दिन इन दोनों की बड़ी खटपट रही परन्तु अन्त मैं दोनों अपना हानि लाभ समझ कर गरम लोहे की तरह आपस मैं मिल गए. शिंभूदयाल को मदनमोहन नें सिफ़ारस करके मदरसे मैं नोकर रख दिया था इस्‍कारण वह मदनमोहन की अहसानमंदी के बहानें सै हर वक्‍त वहां रहता था.

 

पंडित पुरूषोत्तमदास भी बचपन सै लाला मदनमोहन के पास आते जाते थे. इन्कों लाला मदनमोहन के यहां सै इन्के स्‍वरूपानुरूप अच्‍छा लाभ हो जाता था परन्तु इन्कें मन मैं औरों की डाह बड़ी प्रबल थी. लोगों को धनवान, प्रतापवान, विद्वान, बुद्धिमान, सुन्‍दर, तरुण, सुखी और कृतिकार्य देखकर इन्‍हैं बड़ा खेद होता था. वह यशवान मनुष्‍यों सै सदा शत्रुता रखते थे औरों को अपनें सुख लाभ का उद्योग करते देखकर कुढ़ जाते थे अपनें दुखिया चित्त को धैर्य देनें के लिये अच्‍छे, अच्छे मनुष्यों के छोटे, छोटे दोष ढूंढा करते थे किसी के यश मैं किसी तरह का कलंक लग जानें सै यह बड़े प्रसन्‍न होते थे. पापी दुर्योधन की तरह संसार के बिनाश होनें मैं इन्‍की प्रसन्‍नता थी और अपनी सर्वज्ञता बतानें के लिये जानें बिना जानें हर काम मैं पांव अड़ाते थे. मदनमोहन को प्रसन्‍न करनें के लिये अपनी चिड़ करेले की कर रक्‍खी थी. चुन्‍नीलाल और शिंभूदयाल आदि की कटती कहनें मैं कसर न रखते थे परन्तु अकल मोटी थी इस लिये उन्‍होंनें इन्‍हें खिलोना बना रक्‍खा था. और परकैच कबूतर की तरह वह इन्‍हें अपना बसबर्ती रखते थे.

 

हकीम अहमदहुसेन बड़ा कम हिम्‍मत मनुष्य था. इस्‍को चुन्‍नीलाल और शिंभूदयाल सै कुछ प्रीति न थी परन्तु उन्‍को कर्ता समझ कर अपनें नुक्‍सान के डर सै यह सदा उन्‍की खुशामद किया करता था उन्‍हीं को अपना सहायक बना रक्‍खा था उन्‍के पीछै बहुधा मदनमोहन के पास नहीं जाता आताथा और मदनमोहन की बड़ाई तथा चुन्‍नीलाल और शिंभूदयाल की बातों को पुष्‍ट करनें के सिवाय और कोई बात मदनमोहन के आगे मुखसै नहीं निकालता था. मदनमोहन के लिये ओषधि तक मदनमोहन के इच्‍छानुसार बताई जाती थी. मदनमोहन का कहना उचित हो, अथवा अनुचित हो यह उस्‍की हांमैं हां मिलानें को तैयार था मदनमोहन की राय के साथ इस्‍को अपनी राय बदलनें मैं भी कुछ उज्र न था ! “यह लालाजी का नोकर था कुछ बैंगनों का नोकर नहीं था” परन्तु इन लोगों की प्रसन्‍न्नता मैं कुछ अन्तर न आता हो तो यह ब्रजकिशोर की कहन मैं भी सम्‍मति करनें को तैयार रहता था. इस्को बड़े, बड़े कामों के करनें की हिम्‍मत तो कहांसै आती छोटे, छोटे कामों सै इस्का जी दहल जाता था, अजीर्ण के डर सै भोजन न करनें और नुक्‍सान के डर सै व्‍यापार न करनें; की कहावत यहां प्रत्‍यक्ष दिखाई देती थी. इसको सब कामों मैं पुरानी चाल पसंद थी.

 

बाबू बैजनाथ ईस्‍ट इन्डियन रेलवे कम्‍पनी मैं नौकर था अंग्रेजी अच्‍छी पढ़ा था. यूरुप के सुधरे हुए विचारों को जान्‍ता था परन्तु स्वार्थपरतानें इस्‍के सब गुण ढक रक्खे थे. विद्या थी पर उसके अनुसार व्‍यवहार न था “हाथी के दांत खानें के और दिखानें के और थे” इस्के निर्वाह लायक इस्समय बहुत अच्छा प्रबंध हो रहा था परन्तु एक संतोष बिना इस्के जीको जरा भी सुख न था. लाभ सै लोभ बढ़ता जाता था और समुद्र की तरह इस्‍की तृष्‍णा अपार थी. लोभसै धर्म्म का कुछ बिचार न रहता था. बचपन मैं इस्को इल्‍ममुसल्लिम, तहरीरउक्‍लेकदस और जब्रमुकाबले वगैरे के सीखनें मैं परीक्षा के भयसै बहुत परिश्रम करना पड़ा था परन्तु इस्‍के मनमैं धर्म्म प्रवृत्तिके उत्तेजित करनें के लिये धर्म्‍म नीति आदि के असरकारक उपदेश अथवा देशोन्‍नति के हेतु बाफ, (भाप) और बिजली आदि की शक्ति, नई, नई कलोंका भेद, और पृथ्वी की पैदावार बढ़ानें के हेतु खेती बाड़ी की बिद्या, अथवा स्‍वछंदतासै अपना निर्वाह करनें के लिये देश-दशा के अनुसार जीविका करनें की रीति और अर्थ बिद्या, तंदुरुस्‍ती के लिये देह रक्षाके तत्‍व, द्रव्‍यादिकी रक्षा और राजाज्ञा भंग के अपराधसै बचनें को राजाज्ञा का तात्‍पर्य, अथवा बड़े और बराबर वालोंसै यथायोग्‍य व्‍यवहार करनें के लिये शिष्‍टाचार का उपदेश बहुत ही कम मिला था, बल्कि नहीं मिलनें के बराबर था. इसके कई वर्ष, तो केवल, अंग्रेजी भाषा सीखनें मैं बिद्या के द्वार पर खड़े, खड़े बीत गये जो अंग्रेजों की तरह ये शिक्षा अपनी देश भाषा मैं होती अथवा काम, कामकी पुस्तकों का अपनी भाषा मैं अनुवाद हो गया होता तो कितना समय व्‍यर्थ नष्‍ट होनेंसै बचता ? और कितनें अधिक लोग उस्‍सै लाभ उठाते ? परन्तु प्रचलित रीति के अनुसार इस्‍को सच्‍ची हितकारी शिक्षा नहीं हुई थी जिस्‍पर अभिमान इतना बढ़ गया था कि बड़े बूढ़े मूर्ख मालूम होनें लगे और उन्‍के कामसै ग्‍लानि हो गई. पर इस बिद्वत्ता मैं भी सिवाय नोकरी के और कहीं ठिकाना न था. भाग्‍यबल सै मदरसा छोड़ते ही रेलवे की नोकरी मिल गई पर बाबूसाहब को इतनें पर संतोष न हुआ वह और किसी बुर्दकी ताक झाँक मैं लगरहे थे, इतनें मैं लाला मदनमोहन सै मुलाकात हो गई. एक बार लाला मदनमोहन आगरे लखनऊकी सैर को गए. उस्समय इसनें उन्‍की स्‍टेशन पर बड़ी खातिर की थी. उसी समयसै इन्‍की जानपहचान हुई यह दूसरे तीसरे दिन लाला मदनमोहन के यहां जाता था और समा बाँध कर तरह, तरह की बातें सुनाया करता था. इस्‍की बातोंसै मदनमोहन के चित्त पर ऐसा असर हुआ कि वह इस्को सबसै अधिक चतुर और विश्‍वासी समझनें लगा, इस्‍नें अपनी युक्ति सै चुन्‍नीलाल वगैरे को भी अपना बना रक्‍खा था पर अपनें मतलब सै निश्चिन्‍त न था. यह सब बातें जानबूझ कर भी धृतराष्‍ट्रकी तरह लोभसै अपनें मन को नहीं रोक सक्ता था.

 

खेद है कि लाला ब्रजकिशोर और हरकिशोर आदि के वृत्तान्त लिखनें का अवकाश इस्‍समय नहीं रहा. अच्‍छा फ़िर किसी समय बिदित किया जाएगा. पाठकगण धैर्य रक्‍खें.

 

 

 

प्रकरण-10

 

 

प्रबन्‍ध (इन्‍तज़ाम)

 

कारजको अनुबंध लख अरु , उत्‍तरफल चाहि

 

पुन अपनी सामर्थ्‍य लख करै कि न करे ताहि

 

बिदुरप्रजागरे.

 

सवेरे ही लाला मदनमोहन हवा खोरी के लिये कपड़े पहन रहे थे. मुन्शी चुन्‍नीलाल और मास्‍टर शिंभूदयाल आ चुके थे.

 

“आजकल मैं हमको एक बार हाकिमों के पास जाना है” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“ठीक है, आपको म्‍यूनिसिपेलीटी के मेम्‍बर बनानें की रिपोर्ट हुई थी. उस्‍की मंजूरी भी आ गई होगी” मुन्शी चुन्‍नीलाल बोले.

 

“मंजूरी मैं क्‍या संदेह है ? ऐसे लायक आदमी सरकार को कहां मिलेंगे ?” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“अभी तो (खुशामदमैं) बहुत कसर है ! साइराक्‍यूस के सभासद डायोनिस्‍यसका थूक चाट जाते थे और अमृतसै अधिक मीठा बताते थे” लाला ब्रजकिशोर नें कमरे मैं आते, आते कहा.

 

“यों हर काम मैं दोष निकालनें की तो जुदी बात है पर आप ही बताइए इस्‍मैं मैंनें झूठ क्‍या कहा ?” मास्‍टर शिंभूदयाल पूछनें लगे.

 

“लाला साहब नें म्‍यूनिसिपेलीटी का सालानः आमद खर्च अच्‍छी तरह समझ लिया होगा ? आमदनी बढ़ानें के रस्‍ते अच्‍छी तरह बिचार लिये होंगे ? शहर की सफाई के लिये अच्‍छे, अच्‍छे उपाय सोच लिये होंगे ?” लाला ब्रजकिशोर नें पूछा.

 

“नहीं, इन बातों मैं सै अभी तो किसी बात पर दृष्टि नहीं पहुँचाई गई परन्तु इन बातों का क्‍या है ? ये सब बातें तो काम करते, करते अपनें आप मालूम हो जायेंगी” लाला मदनमोहन नें जवाब दिया.

 

“अच्‍छा आप अपनें घर का काम तो इतनें दिनसै करते हो उस्‍के नफे नुक्‍सान और राह बाट सै तो आप अच्‍छी तरह वाकिफ हो गए होंगे ?” लाला ब्रजकिशोर नें पूछा.

 

इस्‍समय लाला मदनमोहन नावाकिफ नहीं बनाना चाहते थे. परन्तु वाकिफकार भी नहीं बन सकते थे इसलिये कुछ जवाब न देसके.

 

“अब आप घर की तरह वहां भी औरों के भरोसे रहे तो काम कैसे चलेगा ? और अब बातौं सै वाकिफ होनें का बिचार किया तो वाकिफ होंगे जितनें आपके बदले काम कौन करैगा ?” लाला ब्रजकिशोर नें पूछा.

 

“अच्‍छा मंजूरी आवैगी जितनें मैं इन् बातों सै कुछ, कुछ वाकिफ हो लूंगा.” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“क्‍या इन बातों सै पहले आपको अपनें घर के कामों सै वाकिफ़ होनें की ज़रूरत नहीं है ? जब आप अपनें घर का प्रबन्ध उचित रीति सै कर लेंगे तो प्रबन्‍ध करनें की रीति आ जायेगी और हरेक काम का प्रबन्‍ध अच्‍छी तरह कर सकेंगे, परन्तु जब तक प्रबन्‍ध करनें की रीति न आवेगी कोई काम अच्‍छी तरह न हो सकेगा ?” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे. “हाकमों की प्रसन्‍नता पर आधार रख; अपनें मुख सै अधिकार मांगनें मैं क्‍या शोभा है ? और अधिकार लिये पीछै वह काम अच्‍छी तरह पूरा न हो सकै तो कैसी हँसी की बात है ? और अनुभव हुए बिना कोई काम किस तरह भली भांति हो सक्ता है ? महाभारत मैं कौरवों के गौ घेरनें पर बिराट का राजकुमार उत्‍तर बड़े अभिमान सै उन्‍को जीतनें की बातैं बनाता था, परन्तु कौरवों की सेना देखते ही रथ छोड़कर उघाड़े पांव भाग

 

निकला ! इसी तरह सादी अपनें अनुभव सै लिखते हैं कि “एकबार मैं बलख सै शामवालों के साथ सफ़र को चला मार्ग भयंकर था. इसलिये एक बलवान पुरुष को साथ ले लिया, वह शस्‍त्रों सै सजा रहता था और उस्‍की प्रत्‍यंचा को दस आदमी भी नहीं चढ़ा सकते थे वह बड़े, बड़े बृक्षों को हाथ सै उखाड़डाल्‍ता परन्तु उस्‍नें क़भी शत्रु सै युद्ध नहीं किया था एक दिन मैं और वो आपस मैं बातैं करते चले जाते थे. उस्‍समय दो साधारण मनुष्‍य एक टीले के पीछै सै निकल आए और हम को लूटनें लगे उस्मैं एक के पास लाठी थी और दूसरे के हाथ मैं एक पत्‍थर था. परन्तु उन्‍को देखते ही उस बलवान पुरुष के हाथ पांव फूल गए ! तीर कमान छूट पड़ी ! अन्त मैं हमको अपनें सब बस्‍त्र शस्‍त्र देकर उन्‍सै पीछा छुड़ाना पड़ा, बहुधा अब भी देखनें मैं आता है कि अच्छे प्रबन्‍ध बिना घर मैं माल होनें पर किसी, साहूकार का दिवाला निकल जाता है रुपे का माल दो, दो आनें को बिकता फ़िरता है”

 

“परन्तु काम किये बिना अनुभव कैसे हो सक्ता है ?” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें पूछा.

 

“सावधान मनुष्‍य काम करनें सै पहले औरों की दशा देखकर हरेक बात का अनुभव अच्‍छी तरह कर सक्ता है और अनायास कोई नया काम भी उस्‍को करना पड़े तो साधारण भाव सै प्रबन्‍ध करनें की रीति जानकर और और बातों के अनुभव का लाभ लेनें सै काम करते, करते वह मनुष्‍य उस बिषय मैं अपना अनुभव अच्‍छी तरह बढ़ा सक्ता है. सो मैं प्रथम कह चुका हूँ कि लाला साहब प्रबन्‍ध की रीति जान जायंगे तो हरेक काम का प्रबन्‍ध अच्‍छी तरह कर सकैंगे” लाला ब्रजकिशोर नें जवाब दिया.

 

“आप के निकट प्रबन्ध करनें की रीति क्या है ?” लाला मदनमोहन नें पूछा.

 

“हरेक काम के प्रबन्‍ध करनें की रीति जुदी, जुदी हैं परन्तु मैं साधारण रीति सै सब का तत्‍व आप को सुनाता हूँ” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे. “सावधानी की सहायता लेकर हरेक बात का परिणाम पहले सै सोच लेना, और उन सब पर एक बार दृष्टि कर के जितना अवकाश हो उतनें ही मैं सब बातों का ब्योंत बना लेना निरर्थक चीजों को काम मैं लानें की युक्ति सोचते रहना और जो, जो बातें आगै होनें वाली मालूम हों उन्‍का प्रबन्‍ध पहलै ही सै दूर दृष्टि पहुँचा कर धीरे, धीरे इस भांत करते जाना कि समय पर सब काम तैयार मिलें, किसी बात का समय न चूकनें पावै, कोई काम उलट पुलट न होनें पावै, अपनें आस पास बालों की उन्नति से आप पीछे न रहें, किसी नोकर का अधिकार स्‍वतन्त्रता की हद सै आगे न बढ़नें पावै, किसी पर जुल्‍म न होनें पावै, किसी हक़ मैं अन्तर न आनें पावैं, सब बातों की सम्‍हाल उचित समय पर होती रहे, परन्तु ये सब काम इन्‍की बारीकियों पर दृष्टि रखनै सै कोई नहीं कर सक्ता बल्कि इस रीति सै बहुत महनत करनें पर भी छोटे, छोटे कामौं मैं इतना समय जाता रहता है कि उस्‍के बदले बहुत सै जरूरी काम अधूरे रह जाते हैं और तत्‍काल प्रबन्‍ध बिगड़ जाता है इसलिये बुद्धिमान मनुष्‍य को चाहिये कि काम बांट कर उन्‍पर योग्‍य आदमी मुकर्रर कर दे और उन्‍की काररवाईपर आप दृष्टि रक्‍खे पहले अन्‍दाज सै पिछला परिणाम मिलाकर भूल सुधारता जाय एक साथ बहुत काम न छेड़े, काम करनें के समय बटे रहैं, आमद सै थोड़ा ख़र्च हो और कुपात्र को कुछ न दिया जाय। महाराज रामचन्‍द्रजी भरत सै पूछते हैं “आमद पूरी होत है ? खर्च अल्पदरसाय ।। देत न-कबहुँ कुपात्रकों कहहुँ भरत समुजाय।।”

 

इसी तरह इन्‍तज़ाम के कामौं मैं क-रिआयत सै बिगाड़ होता है, हज़रत सादी कहते हैं “जिस्सै तैनें दोस्‍ती की उस्‍सै नोंकरीकी आशा न रख”।

 

“लाला ब्रजकिशोर साहब आजकल की उन्‍नति के साथी हैं तथापि पुरानी चालके अनुसार रोचक और भयानक बातोंको अपनी कहन मैं इस तरह मिला देते हैं कि किसीको बिल्‍‍कुल खबर नहीं होनें पाती” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“नहीं मैं जो कुछ कहता हूँ अपनी तुच्‍छ बुद्धि के अनुसार यथार्थ कहता हूँ” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “चीनके शहनशाह होएन नें एकबार अपनें मंत्री टिचीसै पूछा कि “राज्‍य के वास्‍ते सब सै अधिक भयंकर पदार्थ क्‍या है ?” मंत्रीनें कहा “मूर्तिके भीतरका मूसा” शहनशाहनें कहा “समझाकर कह” मंत्री बोला “अपनें यहां काठकी पोली मूर्ति बनाई जाती है और ऊपर सै रंग दी जाती है अब दैवयोग सै कोई मूसा उस्‍के भीतर चला गया तो मूर्ति खंडित होनें के भयसै उस्‍का कुछ नहीं कर सक्ते. इसी तरह हरेक राज्‍य मैं बहुधा ऐसे मनुष्‍य होते हैं जो किसी तरह की योग्‍यता और गुण बिना केवल राजा की कृपा के सहारे सै सब कामों मैं दखल देकर सत्‍यानास किया करते हैं परन्तु राजा के डर सै लोग उन्‍का कुछ नहीं कर सक्ते” हां जो राजा आप प्रबन्‍ध करनेंकी रीति जान्‍ते हैं वह उनलोगों के चक्‍कर सै खूबसूरती के साथ बचे रहते हैं जैसे ईरान का बादशाह आरटाजरकसीस सै एक बार उस्‍के किसी कृपापात्रनें किसी अनुचित काम करनें के लिये सवाल किया. बादशाह नें पूछा कि “तुमको इस्‍सै क्‍या लाभ होगा ?” कृपा पात्रनें बता दिया तब बादशाहनें उतनी रकम उस्‍को अपनें ख़जानें सै दिवा दी और कहा कि “ये रुपे ले इनके देनें सै मेरा कुछ नहीं घटता परन्तु तैनें जो अनुचित सवाल किया था उस्‍के पूरा करनें सै मैं निस्सन्देह बहुत कुछ खो बैठता” उचित प्रबन्‍ध मैं जरासा अन्तर आनेंसै कैसा भयंकर परिणाम होता है इस्‍पर बिचार करिये कि इसी दिल्‍ली तख्‍त बाबत दाराशिकोह और औरंगजेब के बीच युद्ध हुआ. उस्‍समय औरंगजेब की पराजय मैं कुछ संदेह न था परन्तु दाराशिकोह हाथीसै उतरतेही मानों तख्‍त सै उतर गया मालिक का हाथी खाली देखते सब सेना तत्‍काल भाग निकली.”

 

“महाराज ! बग्‍गी तैयार है.” नोकरनें आकर रिपोर्ट की.

 

“अच्‍छा चलिये रस्‍ते मैं बतलाते चलेंगे” लाला ब्रजकिशोर नें कहा. निदान सब लोग बग्‍गी मैं बैठकर रवानें हुए.

 

 

 

 

 

प्रकरण-11

 

 

सज्जनता.

 

सज्‍जनता न मिलै किये जतन करो किन कोय

 

ज्‍यों कर फार निहारि ये लोचन बड़ो न होय

 

बृन्‍द

 

“आप भी कहां की बात कहां मिलानें लगे ! म्‍यूनिसिपेलीटी के मेम्‍बर होनें सै और इंतज़ाम की इन बातों सै क्‍या सम्बन्ध है ? म्‍यूनिसिपेलीटी के कार्य निर्बाह का बोझ एक आदमी के सिर न‍हीं है उसमैं बहुत सै मेम्‍बर होते हैं और उन्‍मैं कोई नया आदमी शामिल हो जाय तो कुछ दिन के अभ्‍यास सै अच्‍छी तरह वाकिफ़ हो सक्ता है, चार बराबरवालों सै बातचीत करनें मैं अपनें बिचार स्‍वत: सुधर जाते हैं और आज कल के सुधरे बिचार जान्‍नें का सीधी रास्‍ता तो इस्‍सै बढ़कर और कोई नहीं हैं” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“जिस तरह समुद्र मैं नोका चलानेंवाले केवल समुद्र की गहराई नहीं जान सक्‍ते इसी तरह संसार मैं साधारण रीति सै मिलनें भेटनेंवाले इधर-उधर की निरर्थक बातों सै कुछ फायदा नहीं उठा सक्‍ते बाहर की सज धज और जाहिर की बनावट सै सच्‍ची सज्‍जनताका कुछ सम्बन्ध नहीं है वह तो दरिद्री-धनवान ओर मूर्ख-विद्वान का भेद भाव छोड़ कर सदा मन की निर्मलता के साथ रहती है और जिस जगह रहती है उस्‍को सदा प्र‍काशित रखती है” लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

“तो क्‍या लोगों के साथ आदर सत्‍कार सै मिलना जुलना और उन्‍का यथोचित शिष्‍टाचार करना सज्‍जनता नहीं है ?” लाला मदनमोहन नें पूछा.

 

“सच्‍ची सज्‍जनता मन के संग है” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे. कुछ दिन हुए जब अपनें गवर्नर जरनल मारक्विस आफ रिपन साहब नें अजमेर के मेयो कालिज मैं बहुत सै राजकुमारों के आगे कहा था कि “**हम चाहे जितना प्रयत्‍न करैं परन्तु तुम्‍हारी भविष्‍यत अवस्‍था तुम्‍हारे हाथ है. अपनी योग्‍यता बढ़ानी, योग्‍यता की कदर करनी, सत्‍कर्मों मैं प्रवृत्त रहना, असत्‍कर्मों सै ग्‍लानि करना तुम यहां सीख जाओगे तो निस्सन्देह सरकार मैं प्रतिष्‍ठा, और प्रजा की प्रीति लाभ कर सकोगे. तुम मैं सै बहुत सै राजकुमारोंको बड़ी जोखोंके काम उठानें पड़ेंगे और तुम्‍हारी कर्तव्यता पर हजारों लाखों मनुष्‍योंके सुख दु:ख का बल्कि जीनें मरनें का आधार रहैगा. तुम बड़े कुलीन हो और बड़े विभववान हो. फ्रेंच भाषा मैं एक कहावत है कि जो अपनें सत्‍कुल का अभिमान रखता हो उस्‍को उचित है कि अपनें सत्‍कर्मों सै अपना बचन प्रमाणिक कर दे. तुम जान्‍ते हो कि अंग्रेज लोग बड़े, बड़े खिताबों के बदले सज्‍जन (Gentleman) जैसे साधारण शब्‍दोंको अधिक प्रिय समझते हैं इस शब्‍द का साधारण अर्थ ये है कि मर्यादाशील, नम्र और सुधरे बिचार का मनुष्‍य हो, निस्सन्देह ये गुण यहांके बहुत सै अमीरों मैं हैं परन्तु इस्‍के अर्थपर अच्‍छी तरह दृष्टि की जाय तो इस्‍का आशय बहुत गंभीर मालूम देता है. जिस मनुष्‍य की मर्यादा, नम्र और सुधरे बिचार केवल लोगों को दिखानें के लिये न हों बल्कि मन सै हो-अथवा जो सच्‍चा प्रतिष्ठित, सच्‍चा बीर और पक्षपात रहित न्‍याय-परायण हो, जो अपनें शरीर को सुख देनें के लिये नहीं बल्कि धर्म सै औरों के हक़ मैं अपना कर्तव्य सम्पादन करनें के लिये जीता हो; अथवा जिसका आशय अच्‍छा हो, जो दुष्‍कर्मों सै सदैव बचता हो वह सच्‍चा सज्‍जन है **”

 

“निस्सन्देह सज्‍जनता का यह कल्पित चित्र अति बिचित्र है परन्तु ऐसा मनुष्‍य पृथ्‍वी पर तो क़भी कोई काहेको उत्‍पन्‍न हुआ होगा” मास्‍टर शिंभूदयालनें कहा.

 

हम लोग जहां खड़े हों वहां सै चारों तरफ़ को थोड़ी-थोड़ी दूर पर पृथ्‍वी और आकाश मिले दिखाई देते हैं परन्तु हकीकत मैं वह नहीं मिले इसी तरह संसार के सब लोग अपनी, अपनी प्रकृतिके अनुसार और मनुष्‍यों के स्‍वभाव का अनुमान करते हैं परन्तु दर असल उन्मैं बड़ा अन्तर है” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “देखो:-

 

“एथेन्‍स का निवासी आरिस्‍टाईडीज एक बार दो मनुष्‍यों का इन्साफ़ करनें बैठा तब उन्‍मैं सै एकनें कहा, “प्रतिपक्षीनें आप को भी प्रथम बहुत दु:ख दिया है,” आरिस्‍टाईडीज नें जवाब दिया कि “मित्र ! इस्‍नें तुमको दुख दिया हो वह बताओ क्योंकि इस्‍समय मैं अपना नहीं; तुम्‍हारा इन्साफ़ करता हूँ”

 

“प्रीवरनमके लोगोंनें रूमके बिपरीत बलवा उठाया उस्‍समय रूमकी सेना नें वहांके मुखिया लोगोंको पकड़कर राज सभामैं हाजिर किया उस्‍समय प्‍लाटीनियस नामी सभासदनें एक बंधुए सै पूछा कि “तुम्‍हारे लिये कौन्सी सजा मुनासिब है ?” बंधुएनें जवाब दिया कि “जो अपनी स्‍वतन्त्रता चाहनें वालोंके वास्‍ते मुनासिब हो” इस उत्‍तरसै और सभासद अप्रसन्‍न हुए पर प्‍लाटीनियस प्रसन्‍न हुआ और बोला “अच्‍छा ! राजसभा तुम्‍हारा अपराध क्षमा कर दे तो तुम कैसा बरताव रक्‍खो ?” “जैसा हमारे साथ राजसभा ररक्खे” बंधुआ कहनें लगा “जो राजसभा हमसे मानपूर्वक मेल करेगी तो हम सदा ताबेदार बनें रहैंगे परन्तु हमारे साथ अन्‍याय और अपमान सै बरताव होगा तो हमारी वफादारी पर सर्वथा विश्‍वास न रखना” इस जवाब सै और सभासद अधिक चिड़ गए और कहनें लगे कि “इस्‍मैं राजसभा को धमकी दी गई है” प्‍लाटीनियसनें समझाया कि “इस्‍मैं धमकी कुछ नहीं दी गई. यह एक स्‍वतन्त्र मनुष्‍य का सच्‍चा जवाब है” निदान प्‍लाटीनियस के समझानें सै राजसभा का मन फ़िर गया और उस्‍नें उन्‍हें कैदसै छोड़ दिया.

 

“मेसीडोनके बादशाह पीरसनें कैदियोंको छोड़ा उस्‍समय फ्रेबीशियस नामी एक रूमी सरदारको एकांतमैं लेजा कर कहा “मैं जान्‍ता हूँ कि तुम जैसा बीर, गुणवान स्‍वतन्त्र, और सच्‍चा मनुष्‍य रूमके राजभरमैं दूसरा नहीं है जिस्‍पर तुम ऐसे दरीद्री बनरहे हो यह बड़े खेदकी बात है ! सच्‍ची येग्‍यताकी कदर करना राजाऔं का प्रथम कर्तव्‍य है इस लिये मैं तुमको तुम्‍हारी पदवी के लायक धनवान बनाया चाहता हूँ परन्तु मैं इस्मैं तुम्‍हारे ऊपर कुछ उपकार नहीं करता अथवा इसके बदले तुमसै कोई अनुचित काम नहीं लिया चाहता. मेरी केवल इतनी प्रार्थना है कि उचित रीति सै अपना कर्तव्‍य सम्पादन किये पीछे न्‍यायपूर्वक मेरी सहायता होसके सो करना.” फ्रेबीशियसनें उत्‍तर दिया कि “निस्सन्देहमैं धनवान नहीं हूँ. मैं एक छोटे से मकान मैं रहता हूँ और जमीन का एक छोटासा किता मेरे पास है परन्तु ये मेरी ज़रूरत के लिये बहुत है और ज़रूरत सै ज्‍यादा लेकर मुझको क्‍या करना है ? मेरे सुखमैं किसी तरह का अन्तर नहीं आता मेरी इज्‍जत और धनवानों सै बढ़कर है, मेरी नेकी मेरा धन है मैं चाहता तो अबतक बहुतसी दौलत इकट्ठी करलेता परन्तु दौलतकी अपेक्षा मुझको अपनी इज्‍जत प्‍यारी है इस लिये तुम अपनी दौलत अपनें पास रक्‍खो और मेरी इज्‍जत मेरे पास रहनें दो.”

 

“नोशेरवां अपनी सेना का सेनापति आप था. एकबार उस्‍की मंजूरी सै खजान्चीनें तन्‍ख्‍वाह बांटनें के वास्‍तै सब सेना को हथियार बंद होकर हाजिर होनें का हुक्‍म दिया पर नोशेरवां इस हुक्‍मसै हाजिर न हुआ इस लिये खजान्चीनें क्रोध करके सब सेनाको उलटा फेर दिया और दूसरी बार भी ऐसा ही हुआ तब तीसरी बार खजान्चीनें डोंड़ी पिटवाकर नोशेरवांको हाजिर होनें का हुक्म दिया. नोशेरवां उस हुक्म के अनुसार हाजिर हुआ परन्तु उस्की हथियार बंदी ठीक न थी. खजान्चीनें पूछा “तुम्‍हारे धनुषकी फाल्‍तू प्रत्‍यंचा कहां है ?” नोशेरवांनें कहा “महलोंमैं भूल आया” खजान्चीनें कहा “अच्‍छा ! अभी जा कर ले आओ” इस्‍पर नोशेरवां महलोंमैं जाकर प्रत्‍यंचा ले आया तब सब की तनख्‍वाह बटी परन्तु नोशेरवां खजान्चीके इस अपक्षपात काम सै ऐसा प्रसन्‍न हुआ कि उसे निहाल कर दिया. इस प्रकार सच्‍ची सज्‍जनता के इतिहासमैं सैकड़ों दृष्‍टांत मिल्ते हैं परन्तु समुद्रमैं गोता लगाए बिना मोती नहीं मिलता”

 

“आप बार, बार सच्‍ची सज्‍जनता कहते हैं सो क्‍या सज्‍जनता सज्‍जनतामैं भी कुछ भेदभाव है ?” लाला मदनमोहननें पूछा.

 

‘हां सज्‍जनता के दो भेद हैं एक स्‍वाभाविक होती है जिस का वर्णन मैं अब तक करता चला आया हूँ. दूसरी ऊपरसै दिखानें की होती है जो बहुधा बड़े आदमियों मैं उन्‍के पास रहनें वालों मैं पाई जाती है बड़े आदमियों के लिये वह सज्‍जनता सुंदर वस्‍त्रों के समान समझनी चाहिए जिस्‍को वह बाहर जाती बार पहन जाते हैं और घर मैं आते ही उतार देते हैं. स्‍वाभाविक सज्‍जनता स्‍वच्‍छ स्‍वर्ण के अनुसार है जिस्‍को चाहे जैसे तपाओ, गलाओ परन्तु उस्‍मैं कोई अन्तर नहीं आता. ऊपर सै दिखानें वालों की सज्‍जनता गिल्‍टी के समान है जो रगड़ लगते ही उतर जाती है ऊपर के दिखानें वाले लोग अपना निज स्‍वभाव छिपाकर सज्‍जन बन्‍नें के लिये सच्‍चे सज्‍जनों के स्‍वभाव की नकल करते हैं परन्तु परीक्षा के समय उन्‍की कलई तत्‍काल खुल जाती है, उन्‍के मन मैं बिकास के बदले संकुचित भाव, सादगी के बदले बनावट, धर्म्‍म प्रबृत्ति के बदले स्‍वार्थपरता और धैर्य के बदले घबराहट इत्‍यादि प्रगट दिखनें लगते हैं. उन्का सब सदभाव अपनें किसी गूढ़ प्रयोजन के लिये हुआ करता है परन्तु उन्‍के मन को सच्‍चा सुख इस्‍सै सर्वथा नहीं मिल सक्‍ता.

 

प्रकरण-12

 

सुख दुःख

 

आत्‍मा को आधार अरु साक्षी आत्‍मा जान

 

निज आ त्मा को भूलहू करि ये न हिं अपमान

 

मनुस्‍मृति.

 

“सुख दु:ख तो बहुधा आदमी की मानसिक बृत्तियों और शरीर की शक्ति के आधीन हैं.एक बात सै एक मनुष्‍य को अत्‍यन्त दु:ख और क्‍लेश होता है वही बात दूसरे को खेल तमाशे की सी लगती है इस लिये सुख दु:ख होनें का कोई नियम नहीं मालूम होता” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“मेरे जान तो मनुष्‍य जिस बात को मन सै चाहता है उस्‍का पूरा होना ही सुख का कारण है और उस्‍मैं हर्ज पड़नें ही सै दुःख होता है” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“तो अनेक बार आदमी अनुचित काम करके दुःख मैं फँस जाता है और अपनें किये पर पछताता है इस्‍का क्‍या कारण ? असल बात यह है कि जिस्‍समय मनुष्‍य के मन मैं जो बृत्ति प्रबल होती है वह उसी के अनुसार काम किया चाहता है और दूरअंदेशी की सब बातों को सहसा भूल जाता है परन्तु जब वो बेग घटता है तबियत ठिकानें आती है तो वो अपनी भूल का पछतावा करता है और न्‍याय बृत्ति प्रबल हुई तो सब के साम्‍हनें अपनी भूल अंगीकार करकै उस्‍के सुधारनें का उद्योग करता है पर निकृष्‍ट प्रबृत्ति प्रबल हुई तो छल करके उस्‍को छिपाया चाहता है अथवा अपनी भूल दूसरे के सिर रक्‍खा चाहता है और एक अपराध छिपानें के लिये दूसरा अपराध करता है परन्तु अनुचित कर्म्‍म सै आत्‍मग्‍लानि और उचित कर्म्‍म सै आत्‍मप्रसाद हुए बिना सर्बथा नहीं रहता” लाला ब्रजकिशोर बोले.

 

“अपना मन मारनें सै किसी को खुशी क्‍यों कर हो सक्ती है ?” लाला मदनमोहन आश्‍चर्य सै कहनें लगे.

 

“सब लोग चित्तका संतोष और सच्‍चा आनन्‍द प्राप्‍त करनें के लिये अनेक प्रकार के उपाय करते हैं परन्तु सब बृत्तियों के अबिरोध सै धर्म्‍मप्रबृत्ति के अनुसार चलनेंवालों को जो सुख मिल्‍ता है और किसी तरह नहीं मिल सक्ता” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे मनुस्‍मृति मैं लिखा है “जाको मन अरु बचन शुचि बिध सों रक्षित होय ।। अति दुर्लभ वेदान्‍त फल जगमैं पावत सोय” जो लोग ईश्‍वर के बांधे हुए नियमों के अनुसार सदा सत्कर्म्‍म करते रहते हैं उन्‍को आत्‍मप्रसाद का सच्‍चा सुख मिल्ता है उन्‍का मन वि‍कसित पुष्‍पों के समान सदा प्रफुल्लित रहता है जो लोग कह सक्‍ते हैं कि हम अपनी सामर्थ्‍य भर ईश्‍वर के नियमों का प्रतिपालन करते हैं, यथा शक्ति परोपकार करते हैं, सब लोगों के साथ अनीत छोड़कर नीति पूर्वक सुहृद्भाव रखते हैं, अतिशय भक्ति और विश्‍वासपूर्वक ईश्‍वर की शरणागति हो रहे हैं वही सच्‍चे सुखी हैं. वह अपनें निर्मल चरित्रों को बारम्‍बार याद करके परम संतोष पाते हैं. यद्यपि उन्‍का सत्‍कर्म्‍म मनुष्‍य मात्र न जान्‍ते हों इसी तरह किसी के मुख सै एक बार भी अपनें सुयश सुन्‍नें की संभावना न हो, तथापि वह अपनें कर्तव्‍य काम मैं अपनें को कृत कार्य देखकर अद्वितीय सुख पाते हैं उचित रीति सै निष्‍प्रयोजन होकर किसी दुखिया का दु:ख मिटानें की, किसी मूर्ख को ज्ञानोंपदेश करनें की एक बात याद आनें से उन्को जो सुख मिलता है वह किसी को बड़े सै बड़ा राज मिलनें पर भी नहीं मिल सक्ता. उन्‍का मन पक्षपात रहित होकर सबके हितसाधन मैं लगा रहता है, इस्‍कारण वह सबके प्‍यारे होनें चाहिए. परन्तु मूर्ख जलन सै, हटसै, स्‍वार्थपरता सै अथवा उन्‍का भाव जानें बिना उन्सै द्वेषकरै. उन्‍का बिगाड़ करना चाहें तो क्‍या कर सक्ते हैं ? उन्‍का सर्वस्‍व नष्‍ट होजाय तो भी वह नहीं घबराते; उन्‍के ह्रदय में जो धर्म्म का ख़ज़ाना इकट्ठा हो रहा है उस्‍के छूनें की किस को सामर्थ्‍य है. आपनें सुना होगा कि:-

 

“महाराज रामचन्‍द्रजी को जब राजतिलक के समय चौदह वर्ष का बनवास हुआ उस्‍समय उन्‍के मुखपर उदासी के बदले प्रसन्‍नता चमकनें लगी.

 

“इंगलेण्ड की गद्दी बाबत एलीज़ाबेथ और मेरी के बीच विवाद हो रहा था उस्‍समय लेडी जेनग्रेको उस्‍के पिता, पति और स्‍वसुरनें गद्दीपर बिठाना चाहा परन्तु उस्‍को राज का लोभ न था वह होशियार, बिद्वान और धर्मात्‍मा स्‍त्री थी. उस्‍नें उन्‍को समझाया कि मेरी “निस्बत मेरी और एलीज़ाबेथ का ज्‍याद: हक़ है और इस काम सै तरह, तरह के बखेड़े उठनें की संभावना है. मैं अपनी वर्तमान अवस्‍था मैं बहुत प्रसन्‍न हूँ इस लिये मुझको क्षमा करो” पर अन्त मैं उस्‍को अपनी मरज़ी के उपरांत बड़ों की आज्ञासै राजगद्दी पर बैठना पड़ा परन्तु दस दिन नहीं बीते इतनेंमैं मेरी नें पकड़ कर उसै कैद किया और उस के पति समेत फांसी का हुक्‍म दिया. वह फांसी के पास पहुँची उस्‍समय उस्‍नें अपनें पति को लटकते देखकर तत्‍काल अपनी याददाश्‍त मैं यह तीन बचन लाटिन, यूनानी और अंग्रैजी मैं क्रम सै लिखे कि “मनुष्‍य जाति के न्‍याय नें मेरी देह को सजा दी परन्तु ईश्‍वर मेरे ऊपर कृपा करेगा, और मुझको किसी पाप के बदले यह सजा मिली होगी तो अज्ञान अवस्‍था के कारण मेरे अपराध क्षमा किए जायेंगे. और मैं आशा रखती हूँ कि सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर और भविष्‍य काल के मनुष्‍य मुझ पर कृपा दृष्टि रक्‍खेंगे” उस्‍नें फांसी पर चढ़कर सब लोगों के आगे एक वक्‍तृता की जिस्‍मैं अपनें मरनें के लिये अपनें सिवाय किसी को दोष न दिया वह बोली कि “इंगलेण्ड की गद्दी पर बैठनें के वास्‍तै उद्योग करनें का दोष मुझ पर कोई नहीं लगावेगा परन्तु इतना दोष अवश्‍य लगावेगा कि “वह औरों के कहनें सै गद्दी पर क्‍यों बैठी ? उस्‍नें जो भूल की वह लोभ के कारण नहीं, केवल बड़ों के आज्ञावर्ती होकर की थी” सो यह करना मेरा फर्ज था परन्तु किसी तरह करो जिस्‍के साथ मैंनें अनुचित व्‍यवहार किया उस्के साथमैं प्रसन्‍नतासै अपनें प्राण देनें को तैयार हूँ” यह कहक़र उस्‍नें बड़े धैर्यसै अपनी जान दी”

 

“दुखिया अपनें मनको धैर्य देनेंके लिये चाहे जैसे समझा करैं परन्तु साधारण रीति तो यह है कि उचित उपायसै हो अथवा अनुचित उपायसै हो जो अपना काम निकाल लेता है वही सुखी समझा जाता है, आप बिचार कर देखेंगे तो मालूम हो जायगा कि आज भूमंडल मैं जितनें अमीर और रहीस दिखाई देते हैं उन्‍के बड़ोंमैं सै बहुतों नें अनुचित कर्म करकै यह वैभव पाया होगा” मुन्शी चुन्‍नीलालनें कहा.

 

“क़भी अनुचित कर्म करनेंसै सच्‍चा सुख नहीं मिलता-प्रथम तो मनु महाराज और लोमेश ऋषि एक स्‍वरसै कहते हैं कि “कर अधर्म पहले बढ़त सुख पावत बहुत भांत ।। शत्रु न जय कर आप पुन मूलसहित बिनसात।।” फ़िर जिस तरह सत्‍कर्म का फल आत्‍म-प्रसाद है इसी तरह दुष्‍कर्म का फल आत्‍मग्‍लानि, आंतरिक दुःख अथवा पछतावा हुए बिना सर्वथा नहीं रहता मनुस्‍मृति मैं लिखा है “पापी समुझत पाप कर काहू देख्‍यो नाहिं ।। पैसुर अरुनिज आतमा निस दिन देखत जाहिं।।” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “जिस्‍समय कोई निकृष्‍ट प्रबृत्ति अत्यन्त प्रबल होकर धर्म्‍मप्रबृत्ति की रोक नहीं मान्‍ती उस्‍समय हम उस्‍की इच्‍छा पूरी करनेंके लिये पाप करते हैं परन्तु उस काम सै निवृत्ति होते ही हमारे मनमैं अत्यन्त ग्‍लानि होती है हमारी आत्‍मा हमको धिक्‍कारती है और लोक परलोकके भय सै चित्त बिकल रहता है जिस्‍नें अपनें अधर्म्‍म सै किसी का सुख हर लिया है अथवा स्‍वार्थपरता के बसवर्ती होकर उपकार के बदले अपकार किया है, अथवा छल बलसै किसी का धर्म्‍म भ्रष्‍ट कर दिया है, जो अपनें मन मैं समझता है कि मुझसे फलानें का सत्‍यानाश हुआ, अथवा मेरे कारण फलानें के निर्मल कुल मैं कलंक लगा, अथवा संसार मैं दु:ख के सोते इतनें अधिक हुए मैं उत्‍पन्‍न न हुआ होता तो पृथ्‍वी पर इतना पाप कम होता, केवल इन बातों की याद उस्‍का हृदय विदीर्ण करनें के लिये बहुत है और जो मनुष्‍य ऐसी अवस्‍था मैं भी अपनै मनका समाधान रख सकै उस्‍को मैं बज्रहृदय समझता हूँ जिस्नें किसी निर्धन मनुष्‍य के साथ छल अथवा विश्‍वासघात करके उस्की अत्यन्त दुर्दशा की है उस्‍की आत्‍मग्‍लानि और आंतरिक दु:ख का बरणन् कोन कर सक्ता है ? अनेक प्रकार के भोगविलास करनेंवालों को भी समय पाकर अवश्‍य पछतावा होता है. जो लोग कुछ काल श्रद्धा और यत्‍नपूर्वक धर्म्मका आनन्‍द लेकर इस दलदल मैं फस्‍ते हैं उन्‍सै आत्‍मग्‍लानि और आंतरिक दाहका क्‍लेश पूछना चाहिये.”

 

“टरकी का खलीफ़ा मौन्‍तासर अपनें बापको मरवाकर उस्के महल का कीमती सामान देख रहा था उस्‍समय एक उम्‍दा तस्‍वीर पर उस्‍की दृष्टि पड़ी जिस्‍मैं एक सुशोभित तरुण पुरुष घोड़े पर सवार था और रत्‍नजटित “ताज” उस्‍के सिर पर शोभायमान था. उस्‍के आसपास फारसी मैं बहुतसी इबारत लिखी थी ख़लीफ़ा नें एक मुन्शी को बुलाकर वह इबारत पढ़वाई. उस्‍मैं लिखा था कि “मैं सीरोज़ खुसरोका बेटा हूँ मैंनें अपनें बापका ताज़ लेनेंके वास्‍तै उसे मरवाडाला पर उस्‍के पीछें वह ताज मैं सिर्फ छ: महीनें अपनें सिर पर रखसका” यह बात सुन्‍तेही ख़लीफ़ा मौन्‍तासर के दिल पर चोट लगी और अपनें आंतरिक दु:खसै वह केवल तीन दिन राज करकै मर गया.”

 

“यह आत्‍मग्‍लानि अथवा आंतरिक क्‍लेश किसी नए पंछी को जाल मैं फसनैसै भलेही होता हो पुरानें खिलाड़ियों को तो इस्‍की ख़बर भी नहीं होती. संसार मैं इस्‍समय ऐसे बहुत लोग मौजूद हैं जो दूसरे के प्राण लेकर हाथ भी नहीं धोते” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“यह बात आपनें दुरूस्‍त कही. नि:संदेह जो लोग लगातार दुष्‍कर्म करते चलेजाते हैं और एक अपराधी सै बदला लेनें के लिये आप अपराधी बनजाते हैं अथवा एक दोष छिपानें के लिये दूसरा दूषितकर्म करनें लगते हैं या जिन्‍को केवल अपनें मतलब सै ग़र्ज रहती है उन्‍के मन सै धीरे, धीरे अधर्म की अरुचि उठती जाती हैं” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे जैसे दुर्गन्‍ध मैं रहनें वाले मनुष्‍यों के मस्‍तक मैं दुर्गंध समा जाती है तब उन्‍को वह दुर्गंध नहीं मालूम होती अथवा बार, बार तरवार को पत्‍थर पर मारनें सै उस्‍की धार अपनें आप भोंटी हो जाती है इसी तरह ऐसे मनुष्‍यों के मन सै अभ्‍यास बस अधर्म की ग्‍लानि निकल कर उन्‍के मन पर निकृष्‍टप्रबृत्तियों का पूरा अधिकार हो जाता है. बिदुरजी कहते हैं “तासों पाप न करत बुध किये बुद्धि कौ नाश ।।बुद्धि नासते बहुरि नर पापै करत प्रकाश [33]।। यह अवस्‍था बड़ी भयंकर है सन्निपात के समान इस्‍सै आरोग्‍य होनें की आशा बहुत कम रहती हैं. ऐसी अवस्‍था मैं निस्सन्देह शिंभूदयाल के कहनें मूजब उन्को अनुचित रीति सै अपनी इच्‍छा पूरी करनें मैं सिवाय आनन्‍द के कुछ पछतावा नहीं होता परन्तु उन्कों पछतावा हो या न हो ईश्‍वर के नियमानुसार उन्‍हैं अपनें पापों का फल अवश्‍य भोगना पड़ता है. मनुस्‍मृति मैं लिखा है “बेद, यज्ञ, तप, नियम अरु बहुत भांति के दान ।। दुष्‍ट हृदय को जगत मैं करत न कुछ कल्‍यान।। [34]”. ऐसे मनुष्‍यों को समाज की तरफ़ सै, राज की तरफ़ सै अथवा ईश्‍वर की तरफ़ सै अवश्‍य दंडमिल्ता है और बहुधा वह अपना प्राण देकर उस्‍सै छुट्टी पाते हैं इसलिये सुख-दु:खका आधार इच्‍छा फल की प्राप्ति पर नहीं बल्कि सत्‍कर्म और दुष्‍कर्म पर है.

 

इस्तरह अनेक प्रकार की बातचीत करते हुए लाला मदनमोहन की बग्‍गी मकान पर लौटआई और लाला ब्रजकिशोर वहां सै रुख़सत होकर अपनें घर गए.

 

प्रकरण-13

 

—–×—–

 

बिगाड़ का मूल- विवाद

 

को पै बिन अपराध । रीझै बिन कारन जुनर ।।

 

ता को ज्ञी ल असाध । शरदकालके मेघ जों ।।

 

बिदुरप्रजागरे.

 

लाला मदनमोहन हवा खाकर आए उस्समय लाला हरकिशोर साठन की गठरी लाकर कमरे मैं बैठे थे.

 

“कल तुमनें लाला हरदयाल साहब के साम्ने बड़ी ढिठाई की परन्तु मैं पुरानी बातोंका बिचार करके उस्‍समय कुछ नहीं बोला” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“आपनें बड़ी दया की पर अब मुझको आपसै एकान्‍त मैं कुछ कहना है, अवकाश हो तो सुन लीजिये” लाला हरकिशोर बोले.

 

“यहां तो एकांत ही है तुमको जो कुछ कहना हो निस्सन्देह कहो” लाला मदनमोहन नें जवाब दिया.

 

“मुझको इतना ही कहना है कि मैंनें अब तक अपनी समझ मुजिब आपको अप्रसन्‍न करनें की कोई बात नहीं की परन्तु मेरी सब बातें आपको बुरी लगती हैं तो मैं भी ज्‍याद: आवा जाई रखनें मैं प्रसन्‍न नहीं हूँ. किसी नें सच कहा है “जब तो हम गुल थे मियां लगते हजारों के गले ।। अब तो हम खार हुए सब सै किनारे ही भले ।।” संसार मैं प्रीति स्‍वार्थ परता का दूसरा नाम है. समय निकले पीछै दूसरे सै मेल रखनें की किसी को क्‍या गरज़ पड़ी है ? अच्‍छा ! महरबानी करके मेरे माल की कीमत मुझको दिलवा दें” हरकिशोर नें रूखाई सै कहा.

 

“क्या तुम कीमत का तकाजा करके लाला साहब को दबाया चाहते हो ?” मुन्शी चुन्‍नीलाल बोले.

 

“हरगिज़ नहीं मेरी क्‍या मजाल ?” हरकिशोर कहनें लगे – “सब जान्‍ते हैं कि मेरे पास गांठ की पूंजी नहीं है, मैं जहां तहां सै माल लाकर साहब के हुक्‍म की तामील कर देता था परन्तु अबकी बार रुपे मिलनें मैं देर हुई. कई एकरार झूठै हो गए इसलिये लोगों का विश्‍वास जाता रहा अब आज कल मैं उन्‍के माल की कीमत उन्के पास न पहुँचेगी तो वे मेरे ऊपर नालिश कर देंगे और मेरी इज्‍जत धूल मैं मिल जायगी.”

 

“तुम कुछ दिन धैर्य धरो तुम्‍हारे रुपे का भुगतान हम बहुत जल्‍दी कर देंगे” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

जब मेरे ऊपर नालिश हो गई और मेरी साख जाती रही तो फ़िर रुपे मिलनें सै मेरा क्‍या काम निकला ? “देखो अवसर को भलो जासों सुधरे काम । खेती सूखे बरसवो धन कौ निपट निकाम ।।” मैं जानाता हूँ कि आप को अपनें कारण किसी गरीब की इज्‍जत मैं बट्टा लगाना हरगिज मंजूर न होगा” लाला हरकिशोर नें कुछ नरम पड़कर कहा.

 

“तुम्‍हारा रुपया कहां जाता है ? तुम जरा धैर्य रक्‍खो. तुमनें यहां सै बहुत कुछ फायदा उठाया है, फ़िर अबकी बार रुपे मिलनें मैं दो, चार दिनकी देर हो गई तो क्‍या अनर्थ हो गया ? तुमको ऐसा कड़ा तक़ाज़ा करनें मैं लाज नहीं आती ? क्‍या संसार सै मेल मुलाहजा बिल्‍कुल उठगया ?” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“मैंभी इसी चारा बिचार मैं हूँ” हरकिशोर नें जवाब दिया “मैं तो माल देकर मोल चाहता हूँ. ज़रुरत के सबब सै तक़ाज़ा करता हूँ पर न जानें और लोगों को क्‍या होगया जो बेसबब मेरे पीछै पड़ रहे हैं ? मुझसै उन्‍को बहुत कुछ लाभ हुआ होगा परन्तु इस्‍समय वे सब ‘तोता चश्‍म’ होगए. उन्‍हीं के कारण मुझको यह तक़ाजा करना पड़ता है. जो आजकल मैं मेरे लेनदारोंका रुपया न चुका, तो वे निस्सन्देह मुझपर नालिश कर देंगे और मैं ग़रीब, अमीरोंकी तरह दबाव डालकर उन्‍को किसी तरह न रोक सकूंगा ?

 

“तुम्‍हारी ठगविद्या हम अच्छी तरह जान्ते हैं, तुम्‍हारी जिद सै इस्‍समय तुमको फूटी कौड़ी न मिलेगी, तुम्‍हारे मन मैं आवे सो करो.” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“जनाब जबान सम्‍हाल कर बोलिये. माल देकर कीमत मांगना ठगविद्या है ?” गिरधर सच कहता है “साईं नदी समुद्रसों मिली बड़प्‍पन जानी ।। जात नास भयो आपनो मान महत की हानि ।। मान महत की हानि कहो अब कैसी कीजै ।। जलखारी ह्यै गयो ताहि कहो कैसैं पीजै ।। कह गिरधर कबिराय कच्‍छ मच्‍छ न सकुचाई ।। बड़ो फ़जीहत चार भयो नदियन को साईं ।।”

 

“बस अब तुम यहां सै चल दो. ऐसे बाजारू आदमियोंका यहां कुछ काम नहीं है” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“मैंनें किसी अमीर के लड़केको बहका कर बदचलनी सिखाई ? या किसी अमीर के लड़केको भोगबिलास मैं डाल कर उस्‍की दौलत ठग ली जो तुम मुझे बाजारू आदमी बताते हो ?”

 

“तुम कपड़ा बेचनें आएहो या झगड़ा करनें आएहो ?” मुन्शी चुन्‍नीलाल पूछनें लगे.

 

“न मैं कपड़ा बेचनें आया न मैं झगड़ा करनें आया. मैंतो अपना रुपया वसूल करनें आया हूँ. मेरा रुपया मेरी झोली मैं डालिये फ़िर मैं यहां क्षण भर न ठैरूंगा”

 

“नहीं जी, तुमको जबरदस्ती यहां ठैरनें का कुछ अखत्‍यार नहीं है, रुपे का दावा हो तो जाकर अदालत मैं नालिश करो.” मास्‍टर शिंभूदयाल बोले.

 

“तुम लोग अपनी गलीके शेरहो- यहां चाहे जो कहलो परन्तु अदालत मैं तुम्‍हारी गीदड़ भपकी नहीं चल सक्ती. तुम नहीं जान्‍ते कि ज्‍याद: घिस्‍नें पर चंदन सै भी आग निकलती है. अच्‍छे आदमी को ख़ातर शिष्‍टाचारी सै चाहे जितना दबालो परन्तु अभिमान और धमको सै वह क़भी नहीं दबता”

 

“तो क्‍या तुम हमको इन बातों सै दबा लोगे ?” लाला मदनमोहन नें त्‍योरी चढ़ाकर कहा.

 

“नहीं साहब, मेरा क्‍या मकदूर है ? मैं ग़रीब, आप अमीर. मुझको दिनभर रोज़गार धंधा करना पड़ता है, आपका सबदिन हँसी दिल्‍लगी की बातों मैं जाता है. मैं दिनभर पैदल भटकता हूँ, आप सवारी बिना एक कदम नहीं चल्‍ते. मेरे रहनें की ए‍क झोंपड़ी, आप के बड़े बड़े महल. मुल्‍क मैं अकालहो, ग़रीब बिचारे भूखों मरतेहों, आप के यहां दिन रात ये ही हाहा, हीहो, रहैगी. सच है आप पर उन्‍का क्‍या हक़ है ? उन्‍सै आपका क्‍या सम्बन्ध है ? परमेश्‍वर नें आपको मनमानी मोज करनें के लिये दौलत देदी फ़िर औरों के दु:ख दर्द मैं पड़नें की आपको क्‍या ज़रूरत रही ? आपके लिये नीति अनीति की कोई रोक नहीं है आप-”

 

“क्‍यों जी ! तुम अपनी बकवाद नहीं छोड़ते-अच्‍छा जमादार इन्‍को हाथ पकड़ कर यहां सै बाहर निकालदो और इन्‍की गठरी उठाकर गलीं में फेंकदो” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें हुक्‍म दिया.

 

“मुझको उठानें की क्‍या जरुरत है ? मैं आप जाता हूँ परन्तु तुमनें बेसबब मेरी इज्‍ज़त ली है इस्का परिणाम थोड़े दिन मैं देखोगे. जिस तरह राजा द्रुपद नें बचपन मैं द्रोणाचार्य सै मित्रता करके राज पानें पर उन्‍का अनादर किया तब द्रोणाचार्य नें कौरव पांडवों को चढ़ा ले जाकर उस्‍की मुश्‍कें बंधवा ली थीं और चाणक्‍यनें अपनें अपमान होनें पर नन्‍दबंश का नाश करके अपनी प्रतिज्ञा पूरी कर दिखाई थी. पृथ्‍वीराज नें संयोगता के बसवर्ती होकर चन्‍द और हाहुली राय को लोंडियों के हाथ पिटवाया तब हाहुली राय नें उस्‍का बदला पृथ्‍वीराज सै लिया था, इसी तरह परमेश्‍वर नें चाहा तो मैं भी इस्‍का बदला आपसै लेकर रहूँगा” यह कहक़र हरकिशोर नें तत्‍काल अपनी गठरी उठाली और गुस्‍सै मैं मूछोंपर ताव देता चला गया.

 

“ये बदला लेंगे ! ऐसे बदला लेनेंवाले सैकड़ों झकमारते फ़िरते हैं” हरकिशोर के जाते ही मुन्शी चुन्‍नीलाल नें मदनमोहन को दिलासा देनें के लिये कहा.

 

“जो यौं किसी के बैर भाव सै किसी का नुक्सान होजाया करै तो बस संसार के काम ही बन्द होजायं” मास्‍टर शिंभूदयाल बोले.

 

“सूर्य चंद्रमा की तरफ़ धूल फैंकनें वाले अपनेंही सिर पर धूल डालते हैं” पंडित पुरुषोत्तमदास नें कहा. पर इनबातों सै लाला मदनमोहन को संतोष न हुआ.

 

“मैं हरकिशोर को ऐसा नहीं जान्‍ता था, वह तो आज आपे सै बाहर होगए. अच्‍छा ! अब वह नालिश कर दैं तो उन्की जवाब दिही किस तरह करनी चाहिये ? मैं चाहता हूँ कि चाहे जितना रुपया खर्च होजाय परन्तु हरकिशोर के पल्‍लै फूटी कौड़ी न पड़े” लाला मदनमोहन नें अपनें स्‍वभावानुसार कहा.

 

मदनमोहन के निकटबर्ती जान्‍ते थे कि मदनमोहन जैसे हठीले हैं वैसे ही कमहिम्‍मत हैं, जिस्‍समय उन्‍को किसी तरह का घबराहट हो हरेक आदमी दिलजमई की झूंटी सच्‍ची बातैं बना कर उन्‍को अपनें काबू पर चढ़ा सक्‍ता है और मन चाहा फायदा उठासक्‍ता है इस लिये अब चुन्‍नीलाल नें वह चाल डाली.

 

“यह मुकद्दमा क्‍या चीज है ! ऐसे सैंकड़ों मुकद्दमें आपके पुन्‍य प्रताप सै चुटकियों मैं उड़ा सक्‍ता हूँ परन्तु इस्‍समय मेरे चित्त को जरा उद्वेग होरहा है इसी सै अकल काम नहीं देती” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“क्‍यों तुम्‍हारे चित्त के उद्वेग का क्‍या कारण है ? क्‍या हरकिशोर की धमकी सै डर गए ? ऐसा हो तो विश्‍वास रक्‍खो कि मेरी सब दौलत खर्च होजायगी तो भी तुम्‍हारे ऊपर आंच न आनें दूंगा” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“नहीं, महाराज ! ऐसी बातोंसै मैं कब डरता हूँ ? और आपके लिये जो तकलीफ मुझको उठानी पड़े उस्‍मैं तो और मेरी इज्‍जत है. आपके उपकारोंका बदला मैं किस तरह नहीं दे सक्ता, परन्तु लड़कीके ब्‍याहके दिन बहुत पास आ गये, तयारी अबतक कुछ नहीं हुई, ब्‍याह आपकी नामवरीके मूजिब करना पड़ेगा, इस्‍सै इन दिनों मेरी अकल कुछ गुमसी हो रही है” मुन्शी चुन्‍नीलालनें कहा.

 

“तुम धैर्य रक्‍खो तुम्‍हारी लड़कीके ब्‍याहका सब खर्च हम देंगे” लाला मदनमोहन नें एकदम हामी भर ली.

 

“ऐसी सहायता तो इस सरकार सै सब को मिलती ही है परन्तु मेरी जीविका का वृत्तान्त भी आप को अच्‍छी तरह मालूम है और घर का गृहस्‍थका खर्च भी आपसै छिपा नहीं है, भाई खाली बैठे हैं जब आपके यहांसै कुछ सहायता होगी तो ब्‍याहका काम छिड़ैगा कपड़े लत्ते वगैरे की तैयारी मैं महीनों लगते हैं” मुन्शी चुन्‍नीलालनें कहा.

 

“लो; ये दो सौ रुपेके नोट लेकर इस्समय तो काम चल्‍ता करो, और बातोंके लिये बंदोबस्‍त पीछेसै कर दिया जायगा” लाला मादनमोहननें नोट देकर कहा.

 

“जी नहीं हुजूर ! ऐसी क्‍या जल्‍दी थी” मुन्शी चुन्‍नीलाल नोट जेब मैं रखकर बोले,

 

“यह भी अच्‍छी बिद्या है” पंडितजीनें भरमा भरमी सुनाई.

 

“मैं जान्‍ता हूँ कि प्रथम तो हरकिशोर नालिश ही नहीं करेंगे और की भी तो दमभर मैं खारिज कर दी जायगी” मुन्शी चुन्‍नीलालनें कहा.

 

निदान लाला मदनमोहन बहुत देरतक इस प्रकारकी बातों सै अपनी छातीका बोझ हल्‍का करके भोजन करनें गए और गुपचुप बैजनाथके बुलानेंके लिये एक आदमी भेज दिया.

 

 

 

प्रकरण-14

 

 

पत्रव्यवहार

 

अपनें अपनें लाभकों बोलतबैन बनाय

 

वेस्‍या बरस घटावही, जोगी बरस बढ़ाय.   – वृंद

 

लाला मदनमोहन भोजन करके आए उस्‍समय डाकके चपरासीनें लाकर चिट्ठीयां दीं.

 

उन्‍मैं एक पोस्टकार्ड महरोलीसै मिस्‍टर बेलीनें भेजा था. उस्‍मैं लिखा था कि “मेरा बिचार क‍ल शामको दिल्‍ली आनेंका है आप महरबानी करके मेरे वास्‍तै डाकका बंदोबस्‍त कर दें और लोटती डाकमैं मुझको लिख भेजैं” लाला मदनमोहननें तत्‍काल उस्‍का प्रबंध कर दिया.

 

दूसरी चिट्ठी कलकत्ते सै हमल्‍टीन कंपनी जुएलर (जोहरी) की आई थी उस्‍मैं लिखा था “आपके आरडरके बमूजिब हीरोंकी पाकट चेन बनकर तैयार हो गई है, एक दो दिनमैं पालिश करके आपके पास भेजी जायगी और इस्‍पर लागत चार हजार अंदाज रहैगी. आपनें पन्‍नेकी अंगूठी और मोतियोंकी नेकलेसके रुपे अब तक नहीं भेजे सो महरबानी करके इन तीनों चीजोंके दाम बहुत जल्‍द भेज दीजिये”

 

तीसरा फारसी ख़त अल्‍लीपूरसे अब्‍दुर्रहमान मेटका आया था. उस्‍मैं लिखा था कि “रुपे जल्‍दी भेजिये नहीं तो मेरी आबरूमैं फर्क आ जायगा और आपका बड़ा हर्ज होगा. कंकरवाले का रुपया बहुत चढ़ गया इस लिये उस्‍नें खेप भेजनी बंद कर दी. मज्दूरोंका चिट्ठा एक महीनेंसै नहीं बंटा इस लिये वह मेरी इज्‍जत लिया चाहते हैं, इस ठेके बाबत पांच हजार रुपे सरकारसै आपको मिलनें वाले थे वह मिले होंगे, महरबानी करके वह कुल रुपे यहां भेज दीजिये जिस्सै मेरा पीछा छूटे. मुझको बड़ा अफसोस है कि इस ठेकेमैं आपको नुक्‍सान रहैगा परन्तु मैं क्‍या करूं ? मेरे बसकी बात न थी. जमीन बहुत ऊंची नीची निकली, मज्दूर दूर, दूरसै दूनी मज्दूरी देकर बुलानें पड़े, पानी का कोसों पता न था मुझसै हो सका जहांतक मैंनें अपनी जान लड़ाई, खैर इस्‍का इनाम तो हुजूर के हाथ है परन्तु रुपे जल्‍दी भेजिये, रुपयों के बिना यहांका काम घड़ी भर नहीं चल सक्‍ता”

 

लाला मदनमोहन नोकरोंको काम बतानें, और उन्‍की तन्‍ख्‍वाहका खर्च निकालनेंके लिये बहुधा ऐसे ठेके वगैरा ले लिया करते थे. नोकरोंके विषयमैं उन्‍का बरताव बड़ा बिलक्षण था, जो मनुष्‍य एक बार नोकर हो गया वह हो गया. फ़िर उस्‍सै कुछ काम लिया जाय या न लिया जाय. उस्‍के लायक कोई काम हो या न हो. वह अपना काम अच्‍छी तरह करे या बुरी तरह करे, उस्‍के प्रतिपालन करनेंका कोई हक़ अपनें ऊपर हो या न हो, वह अलग नहीं हो सक्‍ता और उस्पर क्या है ? कोई खर्च एक बार मुकर्रर हुए पीछै कम नहीं हो सक्ता, संसारके अपयश का ऐसा भय समा रहा है कि अपनी अवस्‍थाके अनुसार उचित प्रबंध सर्वथा नहीं होनें पाता. सब नोकर सब कामोंमैं दखल देते हैं परन्तु कोई किसी कामका जिम्‍मेवार नहीं है, और न कोई संभाल रखता है, मामूली तनख्‍वाह तो उन लोगों नें बादशाही पेन्‍शन समझ रक्‍खी है, दस पंदरह रुपे महीनेंकी तनख्‍वाहमैं हजार पांच सो रुपे पेशगी ले रखना, दो, चार हजार पैदा कर लेना कौन बड़ी बात है ? पांच रुपे महीनेंके नोकर हों, या तीन रुपे महीनेंके नोकर हो विवाह आदिका खर्च लाला साहब के जिस्में समझते हैं, और क्‍यों न समझें ? लाला साहब की नोकरी करें तब विवाह आदिका खर्च लेनें कहां जायं ? मदत का दारोगा मदत मैं, चीजबस्‍त लानें वाले चीजबस्‍त मैं, दुकान के गुमाश्‍ते दुकान मैं, मनमाना काम बनारहे हैं जिसनें जिसकाम के वास्‍तै जितना रुपया पहले ले लिया वह उस्‍के बाप दादे का होचुका, फ़िर हिसाब कोई नहीं पूछता. घाटे नफे और लेन देन की जांच परताल करनें के लिये कागज कोई नहीं देखता. हाल मैं लाला मदनमोहन नें अपनें नोकरों के प्रतिपालन के लिये अल्‍लीपुर रोड का ठेका ले रक्‍खा था जिस्‍मैं सरकार सै ठेका लिया उस्‍सै दूनें रुपे अब तक खर्च हो चुके थे पर काम आधा भी नहीं बना था और खर्च के वास्‍तै वहां सै ताकीद पर ताकीद चली आती थी परमेश्‍वर जानें अब्‍दुर्रहमान को अपनें घर खर्चके वास्‍तै रुपे की ज़रूरत थी या मदद के वास्‍तै रुपे की ज़रूरत थी.

 

चोथा खत एक अखबार के एडीटर का था. उस्‍मैं लिखा था कि “आपनें इस महीनें की तेरहवीं तारीख का पत्र देखा होगा, उस्‍मैं कुछ वृत्तान्त आपका भी लिखा गया है. इस्‍समय के लोगों को खुशामद बहुत प्‍यारी हैं और खुशामदी चैन करते हैं परन्तु मेरा यह काम नहीं. मैंनें जो कुछ लिखा वह सच, सच लिखा है, आप से बुद्धिमान, योग्‍य, सच्‍चे, अभिज्ञ, उदार और देशहितैषी हिन्दुस्थान मैं बहुत कम हैं इसी सै हिन्दुस्थान की उन्‍नति नहीं होती, विद्याभ्‍यास के गुण कोई नहीं जान्‍ता, अखबारों की कदर कोई न‍हीं करता, अखबार जारी करनें वालों को नफेके बदले नुक्‍सान उठाना पड़ता है. हम लोग अपना दिमाग खिपा कर देश की उन्‍नति के लिये आर्टिकल लिखते हैं. परन्तु अपनें देश के लोग उस्‍की तरफ़ आंख उठाकर भी नहीं देखते इस्‍सै जी टूटा जाता है. देखिये अखबार के कारण मुझ पर एक हजार रुपे का कर्ज होगया और आगे को छापे खानें का खर्च निकालना भी बहुत कठिन मालूम होता है. प्रथम तो अखबार के पढ़नेंवाले बहुत कम, और जो हैं उन्‍मैं भी बहुधा कारस्पोन्डेन्ट बनकर बिना दाम दिये पत्र लिया चाहते हैं और जो गाहक़ बनते हैं उन्‍मैं भी बहुधा दिवालिये निकल जाते हैं. छापेखानें का दो हजार रुपया इस्‍समय लोगों मैं बाकी है परन्तु फूटी कौड़ी पटनें का भरोसा नहीं. कोई आपसा साहसी पुरुष देश का हित बिचार कर इस डूबती नाव को सहारा लगावे तो बेड़ा पार होसक्ता है नहीं तो खैर जो इच्‍छा परमेश्‍वर की.”

 

एक अखबार के एडीटर की इस लिखावट सै क्‍या, क्‍या बातें मालूम होती हैं ? प्रथम तो यह है कि हिन्दुस्थान मैं बिद्या का, सर्व साधारण की अनुमति जान्‍नें का, देशान्तर के वृत्तान्त जान्नें का, और देशोन्‍नति के लिये देश हितकारी बातों पर चर्चा करनें का व्यसन अभी बहुत कम है. बलायत की आबादी हिन्दुस्थान की आबादी सै बहुत ही थोड़ी है तथापि वहां अखबारों की इतनी बृद्धि है कि बहुत से अखबारों की डेढ़, डेढ़ दो, दो लाख कापियां निकलती हैं. वहां के स्‍त्री, पुरुष, बूढ़े, बालक, गरीब, अमीर, सब अपनें देश का वृत्तान्त जान्‍ते हैं और उस्‍पर वाद-विवाद करते हैं. किसी अखबार मैं कोई बात नई छपती है तो तत्काल उस्‍की चर्चा सब देश मैं फैल जाती हैं और देशान्‍तर को तार दौड़ जाते हैं. परन्तु हिन्दुस्थान मैं ये बात कहां ? यहां बहुत से अखबारों की पूरी दो, दो सौ कापियां भी नहीं निकलतीं ! और जो निकलती हैं उन्‍मैं भी जान्‍नें के लायक बातैं बहुत ही कम रहती हैं क्‍योंकि बहुतसे एडीटर तो अपना कठिन काम सम्‍पादन करनें की योग्‍यता नहीं रखते और बलायत की तरह उन्को और बिद्वानों की सहायता नहीं मिल्‍ती, बहुतसे जान बूझकर अपना काम चलानें के लिये अजान बनजाते हैं इस लिये उचित रीति सै अपना कर्तव्य सम्‍पादन करनें वाले अखबारों की संख्‍या बहुत थोड़ी है पर जो है उस्‍को भी उत्तेजन देनें वाला और मन लगाकर पढ़नें वाला कोई नहीं मिल्ता. बड़े, बड़े अमीर, सौदागर, साहूकार, जमींदार, दस्तकार, जिन्की हानि लाभ का और देशों सै बड़ा सम्बन्ध है वह भी मन लगाकर अखबार नहीं देखते बल्कि कोई, कोई तो अखबार के एडीटरों को प्रसन्‍न रखनें के लिये अथवा गाहकों के सूचीपत्र मैं अपना नाम छपानें के लिये अथवा अपनी मेज को नए, नए अखबारों सै सुशोभित करनें के लिये अथवा किसी समय अपना काम निकाललेनें के लिये अखबार खरीदते हैं ! जिस्‍पर अखबार निकालनेंवालों की यह दशा है ! लाला मदनमोहन इस खत को पढ़ कर सहायता करनें के लिये बहुत ललचाये परन्तु रुपे की तंगी के कारण तत्‍काल कुछ न कर सके.

 

“हुजूर ! मिस्‍टर रसलके पास रुपे आज भेजनें चाहियें” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें डाक देख पीछै याद दिवाई.

 

“हां ! मुझको बहुत खयाल है परन्तु क्‍या करूं ? अबतक कोई बानक नहीं बना” लाला मदनमोहन बोले.

 

“थोड़ी बहुत रकमतो मिस्‍टर ब्राइट के यहां भी ज़रूर भेजनी पड़ेगी” मास्‍टर शिंभूदयाल नें अवसर पाकर कहा.

 

“हां और हरकिशोर नें नालिश करदी तो उस्सै जवाब दिही करनें के लिये भी रुपे चाहियेंगे” लाला मदनमोहन चिंता करनें लगे.

 

“आप चिन्ता न करें, जोतिष सै सब होनहार मालूम हो सक्ता है. चाणक्‍य नें कहा है “का ऐश्‍वर्य बिशाल मैं का मोटेदुख पाहिं । रस्‍सी बांध्‍यो होय जों पुरुष दैव बस माहिं ।।” इस लिये आपको कुछ आगे का बृतान्‍त जान्‍ना हो तो आप प्रश्‍न करिये, जोतिष सै बढ़कर होनहार जान्‍नें का कोई सुगम मार्ग नहीं है” पंडित पुरुषोत्तमदास नें लाला मदनमोहन को कुछ उदास देख कर अपना मतलब गांठनें के लिये कहा.वह जान्‍ता था कि निर्बल चित्त के मनुष्य सुखमैं किसी बात की गर्ज नहीं रखते परन्तु घबराहट के समय हर तरफ़ को सहारा तकते फ़िरते हैं.

 

“बिद्या का प्रकाश प्रतिदिन फैल्‍ता जाता है इसलिये अब आपकी बातों मैं कोई नहीं आवेगा” मास्‍टर शिंभूदयालनें कहा.

 

“यह तो आजकलके सुधरे हुओं की बात है परन्तु वे लोग जिस बिद्याका नाम नहीं जान्‍ते उस्‍मैं उन्‍की बात कैसे प्रमाण हो ?” पंडितजीनें जवाब दिया.

 

“अच्‍छा आप करेलेके सिवा और क्‍या जान्‍ते हैं ? आपको मालूम है कि नई तहकीकात करनें वालोंनें कैसी, कैसी दूरबीनें बनाकर ग्रहोंका हाल निश्‍चय किया है ?” मास्‍टर शिंभूदयाल बोले.

 

“किया होगा, परन्तु हमारे पुरुखोंनें भी इस विषयमैं कुछ कसर नहीं रक्‍खी” पंडित पुरुषोत्तमदास कहनें लगे. “इस समय के बिद्वानोंनें बड़ा खर्च करके जो कलें ग्रहों का बृतान्‍त निश्‍चय करनें के लिये बनाई हैं हमारे बड़ों नें छोटी, छोटी नालियों और बांसकी छड़ियों के द्वारा उन्सै बढ़कर काम निकाला था. संस्‍कृत की बहुतसी पुस्‍तकें अब नष्‍ट हो गईं, योगाभ्‍यास आदि बिद्याओं का खोज नहीं रहा परन्तु फ़िर भी जो पुस्‍तकें अब मौजूद हैं उन्‍मैं ढूंढ़नें वालों के लिये कुछ थोड़ा ख़जाना नहीं है. हां आप की तरह कोई कुछ ढूंढ़भाल करे बिना दूर ही सै “कुछ न‍हीं” “कुछ नहीं” कहक़र बात उड़ा दे तो यह जुदी बात है”

 

“संस्‍कृत बिद्या की तो आजकल के सब बिद्वान एक स्‍वर होकर प्रशंसा करते हैं परन्तु इस्‍समय जोतिष की चर्चा थी सो निस्सन्देह जोतिष मैं फलादेश की पूरी बिध नहीं मिल्‍ती शायद बतानेंवालों की भूल हो. तथापि मैं इस विषय मैं किसी समय तुमसै प्रश्‍न करूंगा और तुम्‍हारी बिध मिल जायगी तो तुम्‍हारा अच्‍छा सत्‍कार किया जायगा” लाला मदनमोहन नें कहा और यह बात सुनकर पंडितजी के हर्ष की कुछ हद न रही.

 

प्रकरण-15

 

 

 

प्रिय अथवा पिय् ?

 

दमयन्ति बिलपतहुती बनमैं अहि भ य पाइ

 

अहिबध बधिक अधिक भयो ताहूते दुखदाइ

 

नलोपाख्‍याने.

 

“ज्‍योतिष की बिध पूरी नहीं मिल्‍ती इसलिये उस्‍पर बिश्‍वास नहीं होता परन्तु प्रश्‍न का बुरा उत्‍तर आवे तो प्रथम हीसै चित्त ऐसा व्‍याकुल हो जाता है कि उस काम के अचानक होंनें पर भी वैसा नहीं होता, और चित्त का असर ऐसा प्रबल होता है कि जिस वस्‍तु की संसार मैं सृष्टि ही न हो वह भी वहम समाजानें सै तत्‍काल दिखाई देनें लगती है. जिस्‍पर जोतिषी ग्रहों को उलट पुलट नहीं कर सक्ते, अच्‍छे बुरे फल को बदल नहीं सक्ते, फ़िर प्रश्‍न करनें सै लाभ क्‍या ? कोई ऐसी बात करनी चाहिये जिस्‍सै कुछ लाभ हो” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“आप हुक्‍म दें तो मैं कुछ अर्ज करूं ?” बिहारी बाबू बहुत दिन सै अवसर देख रहे थे वह धीरे सै पूछनें लगे.

 

“अच्‍छा कहो” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें मदनमोहन के कहनें सै पहले ही कह दिया.

 

“भोजला पहाड़ी पर एक बड़े धनवान जागीरदार रहते हैं. उन्‍को ताश खेलनें का बड़ा व्‍यसन है. वह सदा बाजी बद कर खेल्‍ते हैं और मुझको इस खेल के पत्ते ऐसी राह सै लगानें आते हैं कि जब खेलैं तब अपनी ही जीत हो. मैंनें उन्‍को कितनी ही बार हरादिया इसलिये अब वह मुझको नहीं पतियाते परन्तु आप चाहैं तो मैं वह खेल आपको सिखा दूं फ़िर आप उन्‍सै निधड़क खेलैं. आप हार जायंगे तो वह रकम मैं दूंगा और जीतें तो उस्‍मैं सै मुझको आधी ही दें” बिहारी बाबू नें जुए का नाम छिपा कर मदनमोहन को आसामी बनानें के वास्ते कहा.

 

“जीतेंगे तो चौथाई देंगे, परन्तु हारनें केलिये रक़म पहले जमा करा दो” मुन्शी चुन्‍नीलाल मदनमोहन की तरफ़ सै मामला करनें लगें.

 

“हारनें के लिये पहले पांच सौ की थैली अपनें पास रख लीजिये परन्तु जीत मैं, आधा हिस्‍सा लूंगा” बिहारी बाबू हुज्‍जत करनें लगे.

 

“नहीं, जो चुन्‍नीलाल नें कह दिया वह हो चुका, उस्‍सै अधिक हम कुछ न देंगे” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

और बड़ी मुश्किल सै बिहारी बाबू उस्‍पर कुछ, कुछ राजी हुए परन्तु सौभाग्‍य बस उस्‍समय बाबू बैजनाथ आ गए इस्सै सब काम जहां का तहां अटक गया.

 

“बिहारी बाबू सै किस बात का मामला हो रहा है ?” बाबू बैजनाथ नें पहुँचते ही पूछा.

 

“कुछ नहीं, यह तो ताश के खेल का जिक्र था” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें साधारण रीति सै कहा.

 

बिहारी बाबू कहते हैं कि “मैं पत्ते लगानें सिखा दूं जिस्‍तरह पत्ते लगाकर आप एक धनवान जागीरदार सै ताश खेलैं, और बाजी बद लें. जो हारेंगे तो सब नुक्‍सान मैं दूंगा. और जीतेंगे तो उस्‍मैं सै चौथाई ही मैं लूंगा” लाला मदनमोहन नें भोले भाव सै सच्‍चा वृत्तान्त कह दिया.

 

“यह तो खुला जुआ है और बिहारी बाबू आपको चाट लगानें के लिये प्रथम यह सब्‍ज बाग दिखाते हैं” बाबू बैजनाथ कहनें लगे “जिस तरह सै पहलै एक मेवनें, आपको गड़ी दौलत का तांबेपत्र दिखाया था, और वह सब दौलत गुप चुप आपके यहां ला डालनें की हामी भरता था परन्तु आपसै खोदनें के बहानें सौ, पचास रुपे मार लेगया तब सै लौट कर सूरत तक न दिखाई ! आपको याद होगा कि आपके पास एक बदमाश स्‍याम का शाहजादा बनकर आया था, और उस्‍नें कहा था कि “मैं हिन्दुस्थान की सैर करनें आया हूँ मेरे जहाज़ नें कलकत्ते मैं लंगर कर रक्‍खा है मुझ को यहां खर्च की ज़रूरत है आप अपनें आढ़तिये का नाम मुझे बता दें मैं अपनें नोकरों को लिखकर उस्‍के पास रुपे जमा कर दूंगा जब उस्‍की इत्तला आप के पास आजाय तब आप रुपे मुझे देदें” निदान आप के आढ़तिये के नाम सै तार आप के पास आगया और आपनें रुपे उस्‍को दे दिये, परन्तु वह तार उन्हीं के किसी साथी नें आपके आढ़तिए के नाम सै आपको दे दिया था इसलिये यह भेद खुला उस्‍समय शाहज़ादे का पता न लगा ! एक बार एक मामला करानेंवाला एक मामला आपके पास लाया था जब उस्‍नें कहा था कि “सरकार मैं रसद के लिये लकड़ियों की खरीद है और तहसील मैं ढाई मन का भाव है. मैं सरकारी हुक्‍म आप को दिखा दूंगा आप चार मन के भाव मैं मेरी मारफ़त एक जंगलवाले की लकड़ी लेनी कर लें” यह कहक़र उस्‍नें तहसील सै निर्खनामे की दस्‍तख़ती नक़ल लाकर आपको दिखा दी पर उस भाव मैं सरकार की कुछ खरीददारी न थी ! इन्के सिवाय जिस्‍तरह बहुत से रसायनी तरह, तरह का धोखा देकर सीधे आदमियों को ठगते फ़िरते हैं इसी तरह यह भी जुआरी बनानें की एक चाल है, जिस काम मैं बे लागत और बे महनत बहुतसा फ़ायदा दिख़ाई दे उस्मैं बहुधा कुछ न कुछ धोकेबाज़ी होती है. ऐसे मामलेवाले ऊपर सै सब्‍जबाग दिखाकर भीतर कुछ न कुछ चोरी ज़रूर रखते हैं”

 

“बाबू साहब ! मैंनें जिस तरह राह सै ताश खेलनें के वास्ते कहा था वह हरगिज जुए मैं नहीं गिनी जा सकती परन्तु आप उस्‍को जुआ ही ठैराते हैं तो कहिये जुए मैं क्‍या दोष है ?” बिहारी बाबू मामला बिगड़ता देखकर बोले “दिवाली के दिनों मैं सब संसार जुआ खेल्‍ता है और असल मैं जुआ ए‍क तरह का व्यापार है जो नुकसान के डर सै जुआ बर्जित हो तो और सब तरहके व्यापार भी बर्जित होनें चाहियें. और व्‍यापार मैं घाटा देनें के समय मनुष्‍य की नीयत ठिकानें नहीं रहती परन्तु जुए के लेन देन बाबत अदालत की डिक्री का डर नहीं है तोभी जुआरी अपना सब माल अस्‍बाब बेचकर लेनदारों की कौड़ी, कौड़ी चुका देता है. उस्‍के पास रुपया हो तो वह उस्‍के लुटानें मैं हाथ नहीं रोकता और अपनें काम मैं ऐसा निमग्‍न हो जाता है कि उसै खानें पीनें तक की याद नहीं रहती, उस्‍के पास फूटी कौड़ी न रहै तोभी वह भूखों नहीं मरता फडपर जातें ही जीते जुआरी दो, चार गंडे देकर काम अच्‍छी तरह चला देते हैं.”

 

“राम ! राम ! दिवाली पर क्‍या ? समझवार तो स्‍वप्‍न मैं भी जुए के पास नहीं जाते जुए सै व्यापार का क्‍या सम्बन्ध ? उस्‍की कुछ सूरत मिल्‍ती है तो बदनी सै मिल्‍ती है पर उस्‍को जुए से अलग कौन समझता है ? उस्‍को प्रतिष्ठित साहूकार कब करते हैं ? सरकार मैं उस्‍की सुनाई कहां होती है ? निरी बातों का जमा खर्च व्‍यापार मैं सर्वथा नहीं गिना जाता. व्‍यापार के तत्‍व ही जुदे हैं. भविष्‍यत काल की अवस्‍था पर दृष्टि पहुँचाना, परता लगाना, माल का खरीदना, बेचना या दिसावरको बीजक भेजकर माल मंगाना और माल भेजकर बदला भुगताना, व्‍यापार है परन्तु जुए में यह बातें कहां ? जुआ तो सब अधर्मों की जड़ है. मनु और बिदुरजी एक स्‍वर सै कहते हैं “सुनो पुरातन बात, जुआ कलह को मूल है ।। हाँसीहूँ मैं तात, तासों नहीं खेलैं चतुर।। [36]” बाबू बैजनाथ नें कहा.

 

“आप वृथा तेज होते हैं. मैं खुद जुए का तरफ़दार नहीं हूँ परन्तु विवाद के समय अच्‍छी, अच्‍छी युक्तियों सै अपना पक्ष प्रबल करना चाहिये. क्रोध करके गाली देनें सै जय नहीं होती. आप की दृष्टि मैं मैं झूंठा हूँ परन्तु मेरी सदुक्तियों को आप झूंठा नहीं ठैरा सक्ते. मुझ पर किस तरह का दोषारोपण किया जाय तो उस्‍को युक्ति पूर्वक साबित करना चाहिये और और बातों मैं मेरी भूल निकालनें सै क्‍या वह दोष साबित हो जायगा ?”

 

“जुए का नुक्सान साबित करनें के लिये विशेष परिश्रम नहीं करना पड़ेगा. देखो नल और युधिष्ठिरादि की बरबादी इस्का प्रत्‍यक्ष प्रमाण है” बाबू बैजनाथ बोले.

 

“मैं आप सै कुछ अर्ज नहीं कर सक्‍ता परन्तु-”

 

“बस जी ! रहनें दो बाबू साहब कुछ तुम सै बहस करनें के लिये इस्‍समय यहां नहीं आए” यह कहक़र लाला मदनमोहन बाबू बैजनाथ को अलग लेगए और हरकिशोर की तकरार का सब वृतान्त थोड़े मैं उन्हैं सुना दिया.

 

“मैं पहले हरकिशोर को अच्‍छा आदमी समझता था. परन्तु कुछ दिन सै उस्‍की चाल बिल्‍कुल बिगड़ गई. उस्‍को आप की प्रतिष्‍ठा का बिल्‍कुल बिचार नहीं रहा और आज तो उस्‍नें ऐसी ढिठाई की कि उस्‍को अवश्‍य दंड होना चाहिये था सो अच्‍छा हुआ कि वह अपनें आप यहां सै चला गया, उस्के चले जानें सै उस्के सब हक़ जाते रहे. अब कुछ दिन धक्के खानें सै उस्‍की अकल अपनें आप ठिकानें आ जायगी”

 

“और उसनें नालिश कर दी तो ?” लाला मदनमोहन घबराकर बोले.

 

“क्‍या होगा ? उस्‍के पास सबूत क्‍या है ? उस्‍का गबाह कौन है ? वह नालिश करैगा तो हम क़ानूनी पाइन्‍ट सै उस्‍को पलट देंगे परन्तु हम जान्‍ते हैं कि यहांतक नोबत न पहुँचेगी अच्‍छा ! उस्‍के पास आप की कोई सनद है ?”

 

“कोई नहीं”

 

“तो फ़िर आप क्‍यों डरते हैं ? वह आप का क्‍या कर सक्ता है ?”

 

“सच है उस्‍को रुपे की गर्ज होगी तो वह नाक रगड़ता आप चला जायगा हम उस्‍के नीचे नहीं दबे वही कुछ हमारे नीचे दब रहा है”

 

“आप इस विषय मैं बिल्‍कुल निश्चिन्‍त रहैं”

 

“मुझको थोड़ासा खटका लाला ब्रजकिशोर की तरफ़ का है यह हरबात मैं मेरा गला घोटते हैं और मुझको तोतेकी तरह पिंजरे मैं बंद रक्खा चाहते हैं”

 

“वकीलों की चाल ऐसीही होती हैं. वह प्रथम धरती आकाशके कुल्‍लाबे मिलाकर अपनी योग्‍यता जताते हैं फ़िर दूसरे को तरह, तरह का डर दिखाकर अपना आधीन बनाते हैं और अन्त मैं आप उस्के घरबार के मालक बन बैठते हैं परन्तु चाहे जैसा फ़ायदा हो मैंतो ऐसी परतन्‍त्रता सै रहनें को अच्‍छा नहीं समझता”

 

“मेरा भी यही बिचार है मैं जोंजों दबता हूँ वह ज्‍याद: दबाते जाते हैं इसलिये अब मैं नहीं दबा चाहता”

 

“आपको दबनें की क्‍या ज़रूरत है ? जबतक आप इनको मुंहतोड़ जवाब न देंगे यह सीधे न होंगे, लाला ब्रजकिशोर आपके घर के टुकड़े खाखा कर बड़े हुए थे वह दिन भूल गए !”

 

लाला मदनमोहन नें बाबू बैजनाथ की नेकसलाहों का बहुत उपकार माना और वह लाला मदनमोहन सै रुख़सत होकर अपनें घर गए.

 

प्रकरण-16

 

 

 

सुरा (शराब)

 

जेनिंदितकर्मंनडरहिं करहिंकाज शुभजान ।।

 

रक्षैं मंत्र प्रमाद तज करहिं न ते मदपान ।।

 

बिदुरनीति.

 

“अब तो यहां बैठे, बैठे जी उखताता है चलो कहीं बाहर चलकर दस, पांच दिन सैर कर आवैं” लाला मदनमोहन नें कमरे मैं आकर कहा.

 

“मेरे मन मैं तो यह बात कई दिन सै फ़िर रही थी परन्तु कहनें का समय नहीं मिला” मास्‍टर शिंभूदयाल बोले.

 

“हुजूर ! आजकल कुतब मैं बड़ी बहार आ रही है, थोड़े दिन पहलै एक छींटा होगया था इस्सै चारों तरफ़ हरियाली छागई है. इस्‍समय झरनें की शोभा देखनें लायक है” मुन्शी चुन्‍नी लाल कहनें लगे.

 

“आहा ! वहां की शोभाका क्‍या पूछना है ? आमके मौर की सुगंधी सै सब अमरैयें महक़ रही हैं. उन्‍की लहलही लताओं पर बैठकर कोयल कुहुकती रहती है. घनघोर वृक्षों की घटासी छटा देखकर मोर नाचा करते हैं. नीचै झरनाझरता है ऊपर बेल और लताओं के मिलनें सै तरह, तरह की रमणीक कुंजै और लता मंडप बन गये है रंग, रंग के फूलों की बहार जुदी ही मनकों लुभाती है. फूलों पर मदमाते भौरों की गुंजार और भी आनंद बढ़ाती है. शीतल मंद सुगन्धित हवा सै मन अपनें आप खिला जाता है निर्मल सरोवरों के बीच बारहदरी मैं बैठकर चद्दर और फुआरों की शोभा देखनैं सै जी कैसा हरा हो जाता है ? बृक्षों की गहरी छाया मैं पत्‍थर के चटानों पर बैठकर यह बहार देखनें सै कैसा आनंद आता है ?” पंडित पुरुषोत्तमदास नें कहा.

 

“पहाड़ की ऊंची चोटियों पर जानें सै कुछ और विशेष चमत्‍कार दिखाई देता है जब वहां सै नीचे की तरफ़ देखते हैं कहीं बर्फ, कहीं पत्‍थर की चटानें, कहीं बड़ी बड़ी कंदराएँ, कहीं पानी बहनें के घाटों मैं कोसोंतक बृक्षों की लंगतार, कहीं सुअर, रीछ, और हिरनों के झुंड कहीं जोर सै पानी का टकराकर छींट, छींट हो जाना और उन्मैं सूर्य की किर्णों के पड़नें सै रंग, रंग के प्रतिबिंबों का दिखाई देना, कहीं बादलों का पहाड़ सै टकराकर अपनें आप बरस जाना, बरसा की झड़ अपनें आस पास बादलों का झूम झूम कर घिर आना अति मनोहर दिखाई देखा है” मास्टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“कुतब मैं ये बहार नहीं हो तोभी वो अपनी दिल्‍लगी के लिये बहुत अच्‍छी जगह है” मुन्शी चुन्‍नीलाल बोले.

 

“रात को चांद अपनी चांदनी सै सब जगत को रुपहरी बना देता है उस्‍समय दरिया किनारे हरियाली के बीच मीठी तान कैसी प्‍यारी लगती है ?” हकीम अहमदहुसैन नें कहा, “पानी के झरनें की झनझनाहट; पक्षियों की चहचहाहट, हवा की सन् सनाहट, बाजे के सुरों सै मिलकर गानेंवाले की लय को चौगुना बढ़ा देते हैं. आहा ! जिस्‍समय यह समा आंख के साम्नें हो स्‍वर्ग का सुख तुच्‍छ मालूम देता है”

 

“जिस्‍मैं यह बसंतऋतु तो इसके लिए सब सै बढ़कर है” पंडितजी कहनें लगे, “नई कोंपल, नयै पत्ते, नई कली, नए फूलों सै सज सजाकर वृक्ष ऐसे तैयार हो जाते हैं जैसे बुड्ढ़ों मैं नए सिर सै जवानी आजाय”

 

“निस्सन्देह वहां कुछ दिन रहना हो, सुख भोग की सब सामग्री मौजूद हो, और भीनी-भीनी रात मैं तालसुर के साथ किसी पिकबयनी की आवाज आकर कान मैं पड़े तो पूरा आनंद मिले” मास्‍टर शिंभूदयालनें कहा.

 

“शराब की चसबिना यह सब मज़ा फ़ीका है” मुन्शी चुन्‍नीलाल बोले.

 

“इसमैं कुछ संदेह नहीं” मास्टर शिंभूदयाल नें सहारा लगाया. “मन की चिन्‍ता मिटानें के लिये तो ये अक्‍सीर का गुण रखती है. इस्की लहरों के चढ़ाव उतार मैं स्‍वर्ग का सुख तुच्‍छ मालूम होता है. इस्‍के जोश मैं बहादुरी बढ़ती है बनावट और छिपाव दूर हो जाता है हरेक काम मैं मन खूब लगता है.”

 

“बस; विशेष कुछ न कहो ऐसी बुरी चीज की तुम इतनी तारीफ करते हो इस्सै मालूम होता है कि तुम इस्‍समय भी उसी के बसवर्ती हो रहे हो” बाबू बैजनाथ कहनें लगे. “मनुष्‍य बुद्धि के कारण और जीवों सै उत्तम है फ़िर भी जिस्के पान सै बुद्धि मैं विकार हो, किसी काम के परिणाम की खबर न रहैं हरेक पदार्थ का रूप और सै और जाना जाय. स्‍वेच्‍छाचार की हिम्‍मत हो, काम-क्रोधादि रिपु प्रबल हों, शरीर जर्जर हो, यह कैसे अच्‍छी समझी जाय ?”

 

“यों तो गुणदोष सै खाली कोई चीज नहीं है परन्‍तु थोड़ी शराब लेनें सै शरीर मैं बल और फुर्ती तो ज़रूर मालूम होती है” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“पहले थोड़ी शराब पीनें सै नि:संदेह रुधिर की गति तेज होती है, नाड़ी बलवान होती है और शरीर मैं फुर्ती पायी जाती है परन्‍तु पीछै उतनी शराब का कुछ असर नहीं मालूम होता इसलिये वह धीरे, धीरे बढ़ानी पड़ती है. उस्‍के पान किये बिना शरीर शिथिल हो जाता है, अन्‍न हजम नहीं होता. हाथ-पांव काम नहीं देते. पर बढ़ानें सै बढ़ते, बढ़ते वोही शराब प्राण घातक हो जाती है. डाक्‍टर पेरेरा लिखते हैं कि शराब सै दिमाग और उदर आदि के अनेक रोग उत्‍पन्‍न होते हैं डाक्‍टर कार्पेन्‍टर नें इस बाबत एक पुस्‍तक रची है जिस्‍मैं बहुत सै प्रसिद्ध डाक्‍टरों की राय सै साबित किया कि शराब सै लक़वा, मंदाग्नि, बात, मूत्ररोग, चर्मरोग, फोड़ाफुन्सी, और कंपवायु आदि अनेक रोग उत्‍पन्‍न होते हैं, शराबियों की दुर्दशा प्रतिदिन देखी जाती है, क़भी, क़भी उनका शरीर सूखे काठ की तरह अपनें आप भभक उठता है, दिमाग मैं गर्मी बढ़नें सै बहुधा लोग बावले हो जाते हैं.”

 

“शराब मैं इतनें दोष होते तो अंग्रेजों मैं शराब का इतना रिवाज़ हरगिज न पाया जाता” मास्टर शिंभूदयाल बोले.

 

“तुम को मालूम नहीं है. वलायत के सैकड़ों डाक्‍टरों नें इस्‍के बिपरीत राय दी है और वहां सुरापान निवारणी सभा के द्वारा बहुत लोग इसे छोड़ते जाते हैं परन्‍तु वह छोड़ें तो क्‍या और न छोड़ें तो क्‍या ? इन्‍द्र के परस्‍त्री (अहिल्‍या) गमन सै क्‍या वह काम अच्‍छा समझ लिया जायगा ? अफसोस ! हिन्‍दुस्‍थान मैं यह दुराचार दिन दिन बढ़ता जाता है यहां के बहुत सै कुलीन युवा छिप छिपकर इस्‍मैं शामिल होनें लगे हैं पर जब इङ्गलैंड जैसे ठंडे मुल्‍क मैं शराब पीनें सै लोगों की यह गत होती हैं तो न जानें हिन्‍दुस्‍थानियों का क्‍या परिणाम होगा और देश की इस दुर्दशा पर कौन्‍सै देश हितैषी की आंखों सै आंसू न टपकैंगे.”

 

“अब तो आप ह्यदसै आगे बढ़ चले” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“नहीं, हरगिज नहीं मैं जो कुछ कहता हूँ यथार्थ कहता हूँ देखो इसी मदिरा के कारण छप्‍पन कोटि यादवों का नाश घड़ी भर मैं हो गया, इसी मदिरा के कारण सिकंदर नें भर जवानी मैं अपनें प्राण खो दिये. मनुस्‍मृति मैं लिखा है “द्विजघाती, मद्यप बहुरि चोर, गुरु, स्‍त्री, मीत ।। महापातकी है सोउ जाकी इनसों प्रीति ।। × इसी तरह कुरान मैं शराब के स्‍पर्शतक का महा दोष लिखा है.”

 

“आज तो बाबू साहब नें लाला ब्रजकिशोर की गद्दी दबा ली” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें मुस्‍करा कर कहा.

 

“राम, राम उन्‍का ढंग दुनिया सै निराला है. वह क्‍या अपनी बात चीत मैं किसी को एक अक्षर बोलनें देते हैं” मास्‍टर शिंभूदयाल बोले.

 

“उन्‍की कहन क्‍या है अर्गन बाजा है. एक बार चाबी दे दी घन्‍टों बजता रहा,” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“मैंनें तो कल ही कह दिया था कि ऐसे फ़िलासफर विद्या सम्‍बन्‍धी बातों मैं भलेही उपकारी हों संसारी बातों मैं तो किसी काम के नहीं होते” मास्‍टर शिंभूदयाल बोले.

 

“मुझ को तो उन्का मन भी अच्‍छा नहीं मालूम देता” लाला मदनमोहन आप ही बोल उठे.

 

“आप उन्सै जरा हरकिशोर की बाबत बातचीत करैंगे तो रहासहा भेद और खुल जायगा देखैं इस विषय मैं वह अपनें भाई की तरफ़दारी करते हैं या इन्‍साफ़ पर रहते हैं” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें पेच सै कहा.

 

“क्‍या कहैं ? हमारी आदत निन्‍दा करनें की नहीं है. परसों शाम को लाला साहब मुझ सै चांदनीचौक मैं मिले थे आंख की सैन मारकर कहनें लगे “आजकल तो बड़े गहरों मैं हो, हम पर भी थोड़ी कृपादृष्टि रक्‍खा करो” मास्‍टर शिंभूदयाल नें मदनमोहन का आशय जान्‍ते ही जड़ दी.

 

“हैं ! तुम सै ये बात कही ?” लाला मदनमोहन आश्‍चर्य सै बोले.

 

“मुझ सै तो सैंकड़ों बार ऐसी नोंक झोंक हो चुकी है परन्‍तु मैं क़भी इन्‍बातो का बिचार नहीं करता” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें मिल्‍ती मैं मिलाई.

 

“जब वह मेरे पीछे मेरा ठट्टा उड़ाते हैं तो मेरे मित्र कहां रहे ? जब तक वह मेरे कामों के लिये केवल मुझ सै झगड़ते थे मुझ को कुछ बिचार न था परन्तु जब वह मेरे पासवालों को छेड़नें लगे तो मैं उन्को अपना मित्र क़भी नहीं समझ सकता” लाला मदनमोहन बोल उठे.

 

“सच तो ये है कि सब लोग आप की इस बरदास्त पर बड़ा आश्चर्य करते हैं” मुन्शी चुन्‍नीलालनें अवसर पाकर बात आगै बढ़ाई.

 

“आपको लाला ब्रजकिशोर का इतना क्‍या दबाव है ? उन्सै आप इतनें क्यों दबते हैं ?” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“सच है मैं अपनी दौलत खर्च करता हूँ इस्‍मैं उन्‍की गांठ का क्‍या जाता है ? और वह बीच, बीच मैं बोलनेंवाले कौन हैं ?” लाला मदनमोहन तेज होकर कहनें लगे.

 

“इस्‍तरह पर हर बात मैं रोक टोक होनें सै बात का गुमर नहीं रहता; नोकरों को मुक़ाबला करनें का होसला बढ़ता जाता है और आगै चलकर कामकाज मैं फ़र्क आनें की सूरत हो चली है” मुन्शी चुन्नीलाल लै बढ़ानें लगे.

 

“मैं अब उन्‍सै हरगिज नहीं दबूंगा. मैंनें अब तक दब, दब कर वृथा उन्‍को सिर चढ़ा लिया” लाला मदनमोहन नें प्रतिज्ञा की.

 

“जो वह झरनें के सरोवरों मैं अपना तैरना और तिवारी के ऊपर सै कलामुंडी खा खाकर कूदना देखेंगे तो फ़िर घंटों तक उन्‍का राग काहेको बन्‍द होगा ?” पंडित पुरुषोत्तमदास बड़ी देर सै बोलनें के लिये उमाह रहै थे, वह झट पट बोल उठे.

 

“उन्का वहां चलनें का क्‍या काम है ? उन्कों चार दोस्‍तों मैं बैठ कर हंसनें बोलनें की आदतही नहीं है. वह तो शाम सबेर हवा खा लेते हैं और दिन भर अपनें काम मैं लगे रहते हैं या पुस्‍तकों के पन्‍ने उलट पुलट किया करते हैं ! वह संसारका सुख भोगनें के लिये पैदा नहीं हुए. फ़िर उन्‍हें लेजाकर हम क्‍या अपना मज़ा मट्टी करैं ?” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“बरसात में तो वहां झूलों की बड़ी बहार रहती है” हकीम अहमदहुसैन बोले.

 

“परन्‍तु यह ऋतु झूलों की नहीं है आज कल तो होली की बहार है” पंडित पुरुषोत्तमदास नें जवाब दिया.

 

“अच्‍छा फ़िर कब चलनें की ठैरी और मैं कितनें दिन की रुख़सत ले आऊं” मास्‍टर शिंभूदयाल नें पूछा.

 

“बृथा देर करनें सै क्‍या फ़ायदा है ? चलनाही ठैरा तो कल सबेरे यहां सै चलदैंगे और कम सै कम दस बारह दिन वहां रहैंगे” लाला मदनमोहन नें जवाब दिया.

 

लाला मदनमोहन केवल सैर के लिये कुतब नहीं जाते. ऊपर सै यह केवल सैर का बहाना करते हैं परन्‍तु इन्‍के जीमैं अब तक हरकिशोर की धमकी का खटका बनरहा है. मुन्शी चुन्‍नीलाल और बाबू बैजनाथ वगैरै इन्‍को हिम्‍मत बंधानें मैं कसर नहीं रक्‍खी परन्‍तु इन्‍का मन कमजोर है इस्‍सै इन्‍की छाती अब तक नहीं ठुकती, यह इस अवसर पर दस पांच दिन के लिये यहां सै टलजाना अच्‍छा समझते हैं इन्‍का मन आज दिन भर बेचैन रहा है इसलिये और कुछ फायदा हो या न हो यह अपना मन बहला नें के लिये, अपनें मनसै यह डरावनें बिचार दूर करनें के लिये दस पांच दिन यहां सै बाहर चले जाना अच्‍छा समझते हैं और इसी बास्‍तै ये झट पट दिल्‍ली सै बाहर जानें की तैयारी कर रहे हैं.

 

प्रकरण-17

 

—–×—–

 

स्‍वतन्‍त्रता और स्‍वेच्‍छाचार.

 

जो कं हु सब प्राणीन सों होय सरलता भाव .

 

सब तीरथ अभिषेक ते ताको अधिक प्रभाव

 

बिदुरप्रजागरे.

 

लाला मदनमोहन कुतब जानें की तैयारी कर रहे थे इतनें मैं लाला ब्रजकिशोर भी आ पहुँचे.

 

“आपनें लाला हरकिशोर का कुछ हाल सुना ?” ब्रजकिशोर के आते ही मदनमोहन नें पूछा.

 

“नहीं ! मैं तो कचहरी सै सीधा चला आया हूँ”

 

“फ़िर आप नित्‍य तो घर होकर आते थे आज सीधे कैसे चले आए ?” मास्‍टर शिंभूदयाल नें संदेह प्रगट करके कहा.

 

“इस्‍मैं कुछ दोष हुआ ? मुझको कचहरी मैं देर होगई थी इस्‍वास्‍तै सीधा चला आया तुम अपना मतलब कहो”

 

“मतलब तो आपका और मेरा लाला साहब खुद समझते होंगे परन्तु मुझको यह बात कुछ नई, नईसी मालूम होती है” मास्‍टर शिंभूदयाल नें संदेह बढ़ानें के वास्‍तै कहा.

 

“सीधी बात को बे मतलब पहेली बनाना क्‍या ज़रूर है ? जो कुछ कहना हो साफ़ कहो.”

 

“अच्‍छा ! सुनिये” लाला मदनमोहन कहनै लगे “लाला हरकिशोर के स्‍वभाव को तो आप जान्‍तेही हैं आपके और उन्के बीच बचपन सै झगड़ा चला आता है-”

 

“वह झगड़ा भी आपही की बदौलत है परन्‍तु खैर ! इस्‍समय आप उस्‍का कुछ बिचार न करें अपना बृतान्त सुनाएँ और औरों के काम मैं अपनी निजकी बातोंका सम्‍बन्‍ध मिलाना बड़ी अनुचित बात है ?” लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

“अच्‍छा ! आप हमारा बृतान्‍त सुनिये” लाला मदनमोहन कहनें लगे. “कई दिन सै लाला हरकिशोर रूठे रूठेसे रहते थे. कल बेसबब हरगोविंद सै लड़ पड़े. उस्‍की जिदपर आप पांच, पांच रुपये घाटेसै टोपियें देनें लगे. शामको बाग मैं गए तो लाला हरदयाल साहब सै वृथा झगड़ पड़े, आज यहां आए तो मुझको और चुन्‍नीलाल को सैकड़ों कहनी न कहनी सुनागए !”

 

“बेसबब तो कोई बात नहीं होती आप इस्‍का अस्‍ली सबब बताइये ? और लाला हरकिशोर पांच, पांच रुपेके घाटेपर प्रसन्‍नता सै आपको टोपियां देते थे तो आपनें उन्‍मैं सै दस पांच क्‍यों नहीं लेलीं ? इन्‍मैं आप सै आप हरकिशोर पर बीस-पच्‍चीस रुपे का जुर्माना हो जाता” लाला ब्रजकिशोर नें मुस्करा कर कहा.

 

“तो क्‍या मैं हरकिशोर की जिदपर उस्‍की टोपियें लेलेता और दसबीस रुपेके वास्‍तै हरगोविंद को नीचा देखनें देता ? मैं हरगोविंद की भूल अपनें ऊपर लेनेंको तैयार हूँ परन्‍तु अपनें आश्रितुओं की ऐसी बेइज्‍जती नहीं किया चाहता” लाला मदनमोहन नें जोर देकर कहा.

 

“यह आपका झूंठा पक्षपात है” लाला ब्रजकिशोर स्‍वतन्त्रता सै कहनें लगे “पापी आप पाप करनें सै ही नहीं होता. पापियों की सहायता करनें वाले, पापियों को उत्तेजन देनेंवाले, बहुत प्रकार के पापी होते हैं; कोई अपनें स्‍वार्थ सै, कोई अपराधी की मित्रता सै, कोई औरोंकी शत्रुता सै, कोई अपराधी के संबंधियों की दया सै, कोई अपनें निजके सम्बन्ध सै, कोई खुशामद सै महान् अपराधियों का पक्ष करनेंवाले बन जाते हैं, परन्तु वह सब पापी समझे जाते हैं और वह प्रगट मैं चाहे जैसा धर्मात्‍मा, दयालु, कोमल चित्त हों, भीतर सै वह भी बहुधा वैसे ही पापी और कुटिल होते हैं”

 

“तो क्‍या आपकी राय मैं किसी की सहायता नहीं करनी चाहिये ?” लाला मदनमोहन नें तेज होकर पूछा.

 

“नहीं, बुरे कामोंके लिये बुरे आदमियों की सहायता क़भी नहीं करनी चाहिये” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे. “रशिया का शहन्शाह पीटर एक बार भरजवानी मैं ज्‍वर सै मरनें लायक हो गया था. उस्‍समय उस्‍के वजीर नें पूछा कि “नो अपराधियों को अभी लूट, मार के कारण कठोरदंड दिया गया है क्‍या वह भी ईश्‍वर प्रार्थना के लिये छोड़ दिये जायँ ?” पीटर नें निर्बल आवाज सै कहा “क्‍या तुम यह समझते हो कि इन अभागों को क्षमा करनें और इन्साफ़ की राह मैं कांटे बोनें सै मैं कोई अच्‍छा काम करूंगा ? और जो अभागे माया जाल मैं फंसकर उस सर्व शक्तिमान ईश्‍वर कोही भूल गए हैं मेरे फ़ायदे के लिये ईश्‍वर उन्‍की प्रार्थना अंगीकार करैगा ? नहीं हरगिज नहीं; जो कोई काम मुझ सै ईश्‍वर की प्रसन्‍नता लायक बन पड़े तो वह यही इन्साफ़ का शुभ काम है”

 

“मैं तो आप के कहनें सै इन्साफ़ के लिये परमार्थ करना क़भी नहीं छोड़ सक्‍ता” लाला मदनमोहन तमक कर कहनें लगे.

 

“जो जिस्के लिये करना चाहिये सो करना इन्साफ़ मैं आ गया परन्तु स्‍वार्थ का काम परमार्थ कैसे हो सक्‍ता है ? एक के लाभ के लिये दूसरों की अनुचित हानि परमार्थ मैं कैसे समझी जा सक्ती है ? किसी तरह के स्‍वार्थ बिना केवल अपनें ऊपर परिश्रम उठाकर, आप दु:ख सहक़र, अपना मन मारकर औरों को सुखी करना सच्‍चा धर्म समझा जाता है जैसे यूनान मैं कोडर्स नामी बादशाह राज करता था उस्‍समय यूनानियों पर हेरेकडिली लोगों नें चढ़ाई की. उस्‍समय के लोग ऐसे अवसर पर मंदिर मैं जाकर हार जीत का प्रश्‍न किया करते थे. इसी तरह कोडर्सनें प्रश्‍न किया तब उसै यह उत्‍तर मिला कि “तू शत्रु के हाथ सै मारा जायेगा तो तेरा राज स्‍वदेशियोंके हाथ बना रहेगा और तू जीता रहैगा तो शत्रु प्रबल होता जायगा” कोडर्स देशोपकार के लिये प्रसन्‍नता सै अपनें प्राण देनेंको तैयार था परन्तु कोडर्स के शत्रु को भी यह बात मालूम हो गई इसलिये उसनें अपनी सेनामैं हुक्‍म दे दिया कि कोडर्स को कोई न मारे. तथापि कोडर्स नें य‍ह बात लोग दिखाईके लिये नहीं की थी इससै वह साधारण सिपाही का भेष बनाकर लड़ाई में लड़ मरा परन्‍तु अपनें देशियों की स्‍वतन्‍त्रता शत्रु के हाथ न जानें दी.”

 

“जब आप स्‍वतन्‍त्रता को ऐसा अच्‍छा पदार्थ समझते हैं तो आप लाला साहब को इच्‍छानुसार काम करनें सै रोककर क्‍यों पिंजरेका पंछी बनाया चाहते हैं ?” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“यह स्‍वतन्‍त्रता नहीं स्‍वेच्‍छाचार है; और इन्‍कों एक समझनें सै लोग बारम्‍बार धोखा खाते हैं” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे ‘ईश्‍वर नें मनुष्‍यों को स्‍वतन्त्र बनाया है पर स्‍वेच्‍छाचारी नहीं बनाया क्‍योंकि उस्‍को प्रकृति के नियमों मैं अदलबदल करनें की कुछ शक्ति नहीं दी गई वह किसी पदार्थ की स्‍वाभाविक शक्ति मैं तिलभर घटा बढ़ी नहीं करसक्‍ता जिन पदार्थो मैं अलग, अलग रहनें अथवा रसायनिक संयोग होनें सै जो, जो शक्ति उत्‍पन्‍न होनें का नियम ईश्‍वर नें बना दिया है बुद्धि द्वारा उन पदार्थों की शक्ति पहचानकर केवल उन्‍सै लाभ लेनें के लिये मनुष्‍य को स्‍वतन्‍त्रता मिली है इसलिये जो काम ईश्‍वर के नियमानुसार स्‍वाधीन भाव सै किया जाय वह स्वतन्त्रता मैं समझा जाता है और जो काम उस्के नियमों के विपरीत स्वाधीन भाव सै किया जाय वह स्वेच्छाचार और उस्‍का स्‍पष्ट दृष्‍टांत यह है कि शतरंज के खेल मैं दोनों खिलाडि़यों को अपनी मर्जी मूजब चाल चलनें की स्‍वतन्‍त्रता दी गई है परन्तु वह लोग घोड़े को हाथी की चाल या हाथी को घोड़े की चाल नहीं चल सक्‍ते और जौ वे इस्‍तरह चलैं तो उन्‍का चलना शतरंज के खेल सै अलग होकर स्‍वेच्‍छाचार समझा जायगा यह स्‍वेच्‍छाचार अत्यन्त दूषित है और इस्‍का परिणाम महा भयंकर होता है इसलिये वर्तमान समय के अनुसार सब के फ़ायदे की बातों पर सत् शास्‍त्र और शिष्‍टाचार की एकता सै बरताव करना सच्‍ची स्‍वतन्‍त्रता है और बड़े लोगों नें स्‍वतन्‍त्रताकी

 

 

[1] पेराग्राफ के प्रारम्भमैं हर जगह नएसिरसै जरासी लकीर छोड़कर लिखा जाता है और वह पूरा होता है वहां बाकी लकीर खाली छोड़दी जातीहै. जैसे यह पैराग्राफ “अलबता” से प्रारम्भ होकर “होतेहैं’. पर समाप्ति हुआ है.

 

[2] आज्ञा भङ्गकरान राजा न क्षमेत सुतानपि । विशेष: कौन राज्ञय राज्ञ श्चित्नगतस्य च ।।

 

[3] The quality of mercy is not strained.

 

It droppeth. as the gentle rain from heaven

 

Upon the place beneath, it is twice. Blessed

 

It blesseth him that gives, and him that takes.

 

‘Tis mightiest. it becomes

 

The throned monarch better than his crown

 

William Shakespeare

 

[4] दरवेशजईफ़े हालरा दरखुशकी तङ्गेसाल मपुर्सके चुनी इल्ला बशर्त आंकि मरहमे बरेंशनिही

 

[5] आसन्नमेव नृपतिर्भजते मनुष्य विद्याविहीन मकुलीन मसङ्गतं वा

 

प्रायेण भूमिपतय:प्रमदा लता श्च, या: पार्श्व तो वसति तं परिवेष्टयन्ति ।।

 

[6] दूरा दुछ्रितपाणिं रार्द्रनयन: प्रात्सारिताङ्घसिनो

 

गाढ़लिङ्गनतत्पर: प्रिवक्ककथाद्रत्रेषु दत्तादर: ।।

 

अन्तर्भूतविषी वहिर्मघुमयश्चातीव मायापटु ।

 

कोनामायमपूर्वनाटकविधिर्य: शिक्षितोदुर्जन: ।। 1 ।।

 

[7] नजातु काम: कामानामुपभोगेन शाम्यति ।। हविषा कृष्णवर्त्मैव भूय एवावभिर्द्धते ।।

 

[8] भोगस्य भाजनं राजा मन्त्री कार्य्यस्य भाजनम् ।। राजकार्य्यपरिध्वंसी मन्त्री दोषेण लिप्यते ।।

 

[9] तवां शनाख्त बयकरोज दर शमायल मरद । किता कुजाश रसीदस्त पायगाह उलूम । वले ज बातिनश एमन मवाशो गर्रा मशो । के खुब्स नफ़्स नगदर्द बसालहा मालूम ।

 

[10] सत्यं ब्रूयात् प्रियं ब्रूयात् न ब्रूयात् सत्यमप्रियम् ।।

 

प्रियं च नानृतं ब्रूया देशधर्मस्सनातन: ।।

 

[11] धर्म्मार्थाकुच्येते श्रेय: कामर्थों धर्म एव च ।।

 

अर्थ एवेह वा श्रेय स्विवर्ग इति तू स्थिति: ।।

 

[12] कच्चिदर्थेन वा धर्म धर्मेणार्थे मथा पिवा ।।

 

उभी वा प्रीतिसारेण न कामेन प्रबाधसे ।।

 

[13] योधर्म मर्थ कामं च यथा कालं निषेवते ।।

 

धर्मार्थ काम संयोगं सोमुत्नेहच विन्‍दति ।।

 

[14] विबुद्धश्चिन्तयेद्धर्मं मर्थं चास्या विरोधीनम् ।।

 

अपीडया तयो: काम मुभयोरपि चिन्तयेत् ।।

 

[15] कातर्यं केवलानीति: शौर्यंश्वापदचेष्टितम् ।।

 

[16] हीनान्यनुपकर्तृणि प्रवृद्धानि विकुर्वते ।।

 

तेन मध्यमशक्तिनी मित्राणि स्थापितान्यत:

 

[17] अतिदानाद् वलिर्बद्धो नष्टो मानात् सुयोधन ।।

 

विनष्टो रावणो लौल्या अतिसर्वत्र वजयेत्

 

[18] कुलू वश्रबू न ला तुस्त्रिफू

 

[19] न कुलं वृत्तहीनस्य प्रमाण मिति मे मति: ।।

 

अन्तेष्वपि हि जातानां वृत्तमेव विशिष्यते ।।

 

[20] तत्वज्ञ: सर्वभूतानां योगज्ञ: सर्वकर्मणाम् ।।

 

उपायज्ञो मनुष्याणां नर: पंडित उच्यते ।।

 

[21] न विश्वसेदविश्वस्ते विश्वस्ते नाति विश्वसेत् ।।

 

विश्वासाद् भयमुत्पन्न सूलान्यपी निकृन्तति ।।

 

[22] देशभाषा मैं बाफ और बिजली की शक्ति के वृत्तान्त न प्रकाशित होनें का यह फल है कि अब तक सर्व -साधारण रेल और तार का भेद कुछ नहीं जान्ते.

 

[23] गैस से भरा हुआ उड़नें का गुबारा

 

[24] परोपि हितवान् बन्धुर्बन्धु रप्यहित: पर: ।

 

अहितो देहजो व्याधि हिमारण्यमोषधम् ।।

 

[25] न धर्म्मशास्त्रं पठतीति कारणं न चापि वेदाध्ययनं दुरात्मन: ।

 

स्वभाव एवात्र तथातिरिच्यते यथा प्रकृत्या मधुरं गवां पयः ।।

 

[26] अनुबंध छ संप्रेक्ष्य विपाकं चैंवकर्म्मणाम् ।।

 

उत्थान मात्मन श्चैव धीर: कुर्वीत वा नवा ।।

 

[27] आयस्ते विपुल: कच्चित्कच्चिदल्पतरो व्यय: ।।

 

अपात्नेपुनते कच्चित्कोषो गच्छतिराघव ।।

 

[28] चूं इकरारे दोस्ती कर दी तबक्के खिदमत मदार ।

 

[29] आत्मैव ह्यात्मन: साक्षी गति रात्मा तथात्मन:

 

भाव संस्था: स्वमात्मानं नृणां साक्षिण मुत्तमम् ।।

 

[30] यस्य वाङ्मनसी शुद्धे सम्यग्गुपते च सर्वदा ।

 

सनै सर्व मवाप्नोति वेदान्तोपगतम्फलम् ।।

 

[31] अधर्मेणैधते तावत्ततो भद्राणि पश्यति ।।

 

तत: सपत्नाम् जयतिस मुलस्तूविनस्यति ।।

 

वर्द्धत्य धर्मेण नरस्ततोभद्राणि पश्यति ।।

 

तत: मपत्नान् जयति समूलस्तू विनश्यति ।।

 

[32] मन्यन्ते वै पापकृतो न कश्चित्पश् यतीतिन: ।।

 

तांस्तु देवा: पप्रश्यन्ति स्वस्यै वान्तर पूरुष: ।।

 

[33] तस्मात् पापं न कुर्वीत पुरुष: शसितव्रत ।।

 

पापं प्रज्ञां नाशयति क्रियमार्ण पुन: पुन: ।।

 

वेदात्यागश्चयज्ञाथ नियमाश्च तपांसिच ।।

 

नविप्रभावदुष्टस्य सिद्धि गच्छन्ति कर्हिचित् ।।

 

[34] अकस्मा देव कुप्यंति प्रसीदंत्यंनिमित्तज्ञ: ।।

 

शीलमेतदसाधूनामभ्रं पारिप्लवं यथा ।।

 

[35] ऐश्वर्यें वासुविरतीर्णे व्यसनें वापि दारुणे ।।

 

रज्जेव पुरुषो बद्ध: क्वतांतेनोपनीयते ।।

 

[36] द्यूतमेत्तपुराकल्पे दृश्टं बैरकरम् महत ।।

 

तस्मात् द्यूतन्नसेवेत हास्यार्थमपि बुद्धिमान ।।

 

[37] अकार्य कारणा द्वौतः कार्याणांच विवर्जनात् ।।

 

अकाले मंत्र भेदाच्च येनमाद्येन्नतत्पिबेत् ।।

 

[38] सर्वतीर्थेषु वा स्नानं सर्व भूतेषू चार्जवम् ।।

 

उभे त्वेते सने स्याता मार्जवं वा विशिष्यते ।।

 

यह हद बांध दी है. मनुमहाराज कहते हैं “बिना सताए काहु के धीरे धर्म्‍म बटोर।। जों मृत्तिका दीमक हरत क्रम क्रमसों चहुं ओर।।”

 

महाभारत कर्णपर्व मैं युधिष्ठर और अर्जुन का बिगाड़ हुआ उस्‍समय श्रीकृष्‍णनें अर्जुन सै कहा कि “धर्म ज्ञान अनुमानते अतिशय कठिन लखाय ।। एक धर्म्म है बेद यह भाषत जनसमुदाय ।। कोमैं कछु संशय नहीं पर लख धर्म्म अपार ।। स्‍पष्‍टकरन हित कहुँ, कहूँ पंडित करत बिचार ।।

 

जहां न पीडि़त होय कोउ सोसुधर्म्‍म निरधार ।। हिंसक हिंसा हरनहित भयो सुधर्म्‍म प्रचार ।। प्राणिनकों धारण करे ताते कहियत धर्म्म ।। जासो जन रक्षित रहैं सो निश्‍चय शुभकर्म ।। जे जन परसंतोष हित करैं पाप शुभजान ।। तिनसो कबहुं न बोलिये श्रुति विरुद्ध पहिचान ।।” इसलिये दूसरेकी प्रसन्‍नता के हेतु अधर्म्‍म करनें का किसी को अधिकार नहीं है इसी तरह अपनें या औरों के लाभ के लिये दूसरे के वाजबी हकों मैं अन्‍तर डालनें का भी किसी को अधिकार नहीं है जिस्‍समय महाराज रामचन्‍द्रजी नें निर्दोष जनकनंदनी का परित्‍याग किया जानकीजी को कुछ थोड़ा दु:ख था ? परन्तु वह गर्भनाश के भय सै अपना शरीर न छोड़ सकीं. हां जिस्‍तरह उन्‍नें अकारण अत्यन्त दु:ख पानें पर भी क़भी रघुनाथजी के दोष नहीं विचारे थे, इस तरह सब प्राणियों को अपनें विषय मैं अपराधी के अपराध क्षमा करनें का पूरा अधिकार है और इस तरह अपनें निज के अपराधों का क्षमा करना मनुष्‍यमात्र के लिये अच्‍छे सै अच्‍छा गुण समझा जाता है परन्‍तु औरों को किसी तरह की अनुचित हानि हो वहां यह रीति काम मैं नहीं लाई जा सक्‍ती”

 

“मैं तो यह समझता हूँ कि मुझसै एक मनुष्‍य का भी कुछ उपकार हो सके तो मेरा जन्‍म सफल है” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“जिस्‍मैं नामवरी आदि स्‍वार्थका कुछ अंश हो वह परोपकार नहीं और परोपकार करनें मैं भी किसी खास मनुष्‍य का पक्ष किया जाय तो बहुधा उस्‍के पक्षपात सै औरों की हानि होनें का डर रहता है इसलिये अशक्‍त अपाहजों का पालन पोषण करना, इन्साफ़ का साथ देना और हर तरह का स्‍वार्थ छोड़कर सर्व साधारण के हित मैं तत्‍पर रहना मेरे जान सच्‍चा परोपकार है” लाला ब्रजकिशोर नें जवाब दिया.

 

प्रकरण-18.

 

 

क्षमा नर को भूषण रूप है रूपहु को गुणजान।

 

गुणको भूषण ज्ञान है क्षमा ज्ञान को मान ।। 1 ।।

 

सुभाषितरत्‍नाकरे.

 

“आप चाहे स्‍वार्थ समझैं चाहे पक्षपात समझैं हरकिशोर नें तो मुझे ऐसा चिढ़ाया है कि मैं उस्‍सै बदला लिये बिना क़भी नहीं रहूँगा” लाला मदनमोहन नें गुस्से सै कहा.

 

“उस्‍का कसूर क्‍या है ? हरेक मनुष्‍य सै तीन तरह की हानि हो सक्ती है. एक अपवाद करके दूसरे के यश मैं धब्‍बा लगाना, दूसरे शरीर की चोट, तीसरे माल का नुकसान करना. इन्मैं हरकिशोर नें आप की कौनसी हानि की ?” लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

लाला मदनमोहन के मन मैं यह बात निश्‍चय समा रही थी कि हरकिशोर नें कोई बड़ा भारी अपराध किया है परन्‍तु ब्रजकिशोर नें तीन तरह के अपराध बताकर हरकिशोर का अपराध पूछा तब वह कुछ न बता सके क्‍योंकि मदनमोहन की वाकफ़ियत मैं ऐसा कोई अपराध हरकिशोर का न था. मदनमोहन को लोगों नें आस्‍मान पर चढ़ा रक्‍खा था इसलिये केवल हरकिशोर के जवाब देनें सै उस्‍के मन मैं इतना गुस्‍सा भर रहा था.

 

“उस्‍नें बड़ी ढिटाई की. वह अपनें रुपे तत्‍काल मांगनें लगा और रुपया लिये बिना जानें सै साफ इन्‍कार किया” लाला मदनमोहन नें बड़ी देर सोच बिचार कर कहा.

 

“बस उस्‍का यही अपराध है ? इस्‍मैं तो उस्‍नें आप की कुछ हानि नहीं की. मनुष्‍य को अपना सा जी सबका समझना चाहिये. आपका किसी पर रुपया लेना हो और आप को रुपे की ज़रूरत हो अथवा उस्‍की तरफ़ सै आप के जीमैं किसी तरहका शक आजाय अथवा आप के और उस्‍के दिल मैं किसी तरह का अन्‍तर आजाय तो क्‍या आप उस्‍सै ब्यवहार बन्‍द करनें के लिये अपनें रुपेका तकाजा न करेंगे ? जब ऐसी हालातों मैं आप को अपनें रुपे के लिये औरों पर तकाजा करनें का अधिकार है तो औरों को आप पर तकाजा करनें का अधिकार क्‍यों न होगा ? आप बेसबब जरा, जरासी बातों पर मुंह बनायं, वाजबी राह सै जरासी बात दुलख देनें पर उस्‍को अपना शत्रु समझनें लगें और दूसरे को वाजबी बात कहनें का भी अधिकार न हो !” लाला ब्रजकिशोर नें जोर देकर कहा.

 

“लाला साहब को उस्‍का स्‍वभाव पहचान्‍कर उस्‍सै व्‍यवहार डालना चाहिये था अथवा उस्‍का रुपया बाकी न रखना चाहिए था. जब उस्‍का रुपया बाकी है तो उस्‍को तकाज़ा करनें का निस्सन्देह अधिकार है और उस्‍नें कड़ा तकाज़ा करनें मैं कुछ अपराध भी किया हो तो उस्‍के पहले कामोंका सम्बन्ध मिलाना चाहिये” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे. प्रल्‍हादजीनें राजा बलिसै कहा है “पहलो उपकारी करै जो कहुँ अतिशय हान।। तोहू ताकों छोडि़ये पहले गुण अनुमान।।1।। “बिना समझे आश्रित करै सोऊ क्षमिये तात।। सब पुरुषनमैं सहज नहिं चतुराई की बात ।।2।।

 

×यह सब सच है कि छोटे आदमी पहले उपकार करकै पीछे उस्‍का बदला बहुधा अनुचित रीतिसै लिया चाहतें हैं परन्तु यहां तो कुछ ऐसा भी नहीं हुआ.”

 

“उपकार हो या न हो ऐसे आदमियोंको उन्‍की करनी का दंड तो अवश्‍य मिलना चाहिये” मास्‍टर शिंभूदयाल कहनें लगे. जो उन्‍को उन्‍की करनी का दंड न मिलेगा तो उन्‍की देखा देखी और लोग बिगड़ते चले जायंगे और भय बिना किसी बात का प्रबन्‍ध न रह सकेगा. सुधरे हुए लोगों का यह नियम है कि किसीको कोई नाहक़ न सतावै और सतावै तो दंड पावै. दंडका प्रयोजन किसी अपराधी सै बदला लेनें का नहीं है बल्कि आगेके लिये और अपराधों सै लोगों को बचानें का है”

 

“इस वास्‍तै मैं चाहता हूँ कि मेरा चाहै जितना नुकसान हो जाय परन्‍तु हरकिशोर के पल्‍ले फूटी कौड़ी न पड़नें पावै” लाला मदनमोहन दांत पीसकर कहनें लगे.

 

“अच्‍छा ! लाला साहबनें कहा, इस रीति सै क्‍या मास्‍टर साहब के कहनें का मतलब निकल आवैगा ?” लाला ब्रजकिशोर पूछनें लगे. आप जान्‍ते हैं कि दंड दो तरह का है एक तो उचित रीति सै अपराधी को दंड दिवाकर औरों के मनमैं अपराधकी अरुचि अथवा भय पैदा करना, दूसरे अपराधी सै अपना बैर लेना और अपनें जी का गुस्‍सा निकालना. जिस्‍नें झूठी निंदा करके मेरी इज्‍जत ली उस्‍को उचित रीति सै दंड करानेंमैं अपनें देशकी सेवा करता हूँ परन्‍तु मैं यह मार्ग छोड़कर केवल उस्की बरबादी का बिचार करूं अथवा उस्का बैर उस्‍के निर्दोष सम्‍बन्धियों सै लिया चाहूँ, आधीरात के समय चुपके सै उस्‍के घर मैं आग लगा दूं और लोगों को दिखानें के लिये हाथ मैं पानी लेकर आग बुझानें जाऊं तो मेरी बराबर नीच कौन होगा ? बिदुरजी नें कहा है “सिद्ध होत बिनहू जतन मिथ्‍या मिश्रित काज। अकर्तव्‍यते स्‍वप्‍नहू मन न धरो महाराज।।” ऐसी कारवाई करनेंवाला अपनें मनमैं प्रसन्‍न होता है कि मैंनें अपनें बैरीको दुखी किया परन्‍तु वह आप महापापी बन्‍ता है और देश का पूरा नुकसान करता है. मनु महाराज नें कहा है “दुखित होय भाखै न तौ मर्म बिभेदक बैन।। द्रोह भाव राखै न चित करै न परहि अचैन।।”

 

“जो अपराध केवल मन को सतानें वाले हों और प्रगट मैं साबित न हों सकैं तो उन्‍का बदला दूसरे सै कैसे लिया जाय ?” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“प्रथम तो ऐसा अपराध हो हीं नहीं सक्ता और थोड़ा बहुत हो भी तो वह ख़याल करनें लायक नहीं है क्‍योंकि संदेह का लाभ सदा अपराधी को मिल्‍ता है इस्के सिवाय जब कोई अपराधी सच्‍चे मन सै अपनें अपराध का पछताव कर ले तो वह भी क्षमा करनें योग्‍य हो जाता है और उस्‍सै भी दंड देनें के बराबर ही नतीजा निकल आता है:”

 

“पर एक अपराधी पर इतनी दया करनी क्‍या जरूरी है ?” लाला मदनमोहन नें ताज्‍जुब सै पूछा.

 

“जब हम लोग सर्व शक्तिमान परमेश्‍वर के अत्यन्त अपराधी होकर उस्‍सै क्षमा करनें की आशा रखते हैं तो क्‍या हम को अपनें निज के कामों के लिये, अपनें अधिकार के कामों के लिये, आगे की राह दुरुस्‍त हुए पीछै, अपराधी के मन मैं शिक्षा के बराबर पछतावा हुए पीछै क्षमा करना अनुचित है ? यदि मनुष्‍य के मन मैं क्षमा और दया का लेश भी न हो तो उस्‍मैं और एक हिंसक जन्‍तु मैं क्‍या अन्‍तर है ? पोप कहता है “भूल करना मनुष्‍य का स्‍वभाव है परन्‍तु उस्‍को क्षमा करना ईश्‍वर का गुण है”× एक अपराधी अपना कर्तव्य भूल जाय तो क्‍या उस्‍की देखा देखी हमको भी अपना कर्तव्य भूल जाना चाहिये. सादीनें कहा है “होत हुमे या‍ही लिये सब पक्षिन को राय।।अस्थिभक्ष रक्षे तनहि काहू कों न सताय।।” दूसरे का उपकार याद रखना वाजबी बात है परन्‍तु अपकार याद रखनें मैं या यों कहो कि अपनें कलेजे का घाव हरा रखनें मैं कौन-सी तारीफ है ? जो दैव योग सै किसी अपराधी को औरों के फ़ायदे के लिये दंड दिवानें की ज़रूरत हो तो भी अपनें मन मैं उस्की तरफ़ दया और करुणा ही रखनी चाहिये”

 

“ये सब बातें हँसी खुशी मैं याद आती हैं. क्रोध मैं बदला लिये बिना किसी तरह चित्त को सन्‍तोष नहीं होता” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“बदला लेनें का तो इस्‍सै अच्‍छा दूसरा रास्‍ता ही नहीं है कि वह अपकार करे और उस्‍के बदले आप उपकार करो” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “जब वह अपनें अपराधों के बदले आप की महेरबानी देखेगा तो आप लज्जित होगा और उस्‍का मन ही उस्‍को धि:कारनें लगेगा. बैरी के लिये इस्‍सै कठोर दंड दूसरा नहीं है परन्‍तु यह बात हर किसी सै नहीं हो सक्ती. तरह, तरह का दु:ख नुक्‍सान और निन्‍दा सहनें के लिये जितनें साहस, धैर्य और गम्‍भीरता की जरुरत है बैरी सै बैर लेनें के लिये उन्‍की कुछ भी जरुरत नहीं होती. यह काम बहुत थोड़े आदमियों सै बन पड़ता है पर जिनसै बन पड़ता है वही सच्‍चे धर्मात्‍मा हैं:-

 

“जिस्‍समय साइराक्‍यूजवालों नें एथेन्‍स को जीत लिया साइराक्‍यूज की कौन्सिल मैं एथीनियन्‍स को सजा देनें की बावत बिबाद होनें लगा. इतनें मैं निकोलास नामी एक प्रसिद्ध गृहस्‍थ बुढ़ापे के कारण नौकरों के कंधेपर बैठकर वहां आया और कौन्सिल को समझाकर कहनें लगा “भाइयों ! मेरी ओर दृष्टि करो मैं वह अभागा बाप हूँ जिस्की निस्‍बत ज्‍याद: नुक्‍सान इस लड़ाई मैं शायद ही किसी को हुआ होगा. मेरे दो जवान बेटे इस लड़ाई मैं देशोपकार के लिये मारे गए. उन्सै मानो मेरे सहारे की लकड़ी छिन गई मेरे हाथपांव टूट गए, जिन एथेन्‍सवालों नें यह लड़ाई की उन्‍को मैं अपनें पुत्रों के प्राणघातक समझ कर थोड़ा नहीं धिक्‍कारता तथापि मुझको अपनें निज के हानि लाभ के बदले अपनें देश की प्रतिष्‍ठा अधिक प्‍यारी है, बैरियों सै बदला लेनें के लिये जो कठोर सलाह इस्‍समय हुई है वह अपनें देश के यश को सदा सर्वदा के लिये कलंकित कर देगी, क्‍या अपनें बैरियों को परमेश्‍वर की ओर सै कठिन दण्ड नहीं मिला ? क्‍या उन्‍के युद्ध मैं इस तरह हारनैं सै अपना बदला नहीं भुगता ? क्‍या शत्रुओं नें अपनी प्राणरक्षा के भरोसे पर तुमको हथियार नहीं सोंपें ? और अब तुम उन्‍सै अपना वचन तोड़ोगे तो क्‍या तुम विश्बासघाती न होगे ? जीतनें से अविनाशी यश नहीं मिल सक्ता परन्‍तु जीते हुए शत्रुओं पर दया करनें सै सदा सर्वदा के लिये यश मिलता है” साइराक्‍यूज की कौन्सिल के चित्त पर निकोलास के कहनें का ऐसा असर हुआ कि सब एथीनियन्‍स तत्‍काल छोड़ दिये गए”

 

“आप जान्‍ते हैं कि शरीर के घाव औषधि सै रुज जाते हैं परन्‍तु दुखती बातों का घाव कलेजे पर सै किसी तरह नहीं मिटता” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“क्षमाशील के कलेजे पर ऐसा घाव क्‍यों होनें लगा है ? वह अपनें मन मैं समझता है कि जो किसी नें मेरा सच्‍चा दोष कहा तो बुरे मान्‍नें की कौन्‍सी बात हुई ? और मेरे मतलब को बिना पहुँचे कहा तो नादान के कहनें सै बुरा मान्‍नें कि कौन्‍सी बात रही ? और जानबूझ कर मेरा जी दुखानें के वास्तै मेरी झूंटी निन्‍दा की तो मैं उचित रीति सै उस्‍को झूंटा डाल सक्ता हूँ ? सजा दिवा सक्ता हूँ फ़िर मन मैं द्वेष और प्रगट मैं गाली गलौज लड़नें की क्‍या ज़रूरत है ? आप बुरा हो और लोग अच्‍छा कहैं इस्‍की निस्‍बत आप अच्‍छा हो और लोग बुरा कहैं यह बहुत अच्‍छा है” लाला ब्रजकिशोर नें जवाब दिया.

 

प्रकरण-19

 

—–×—–

 

स्‍वतन्त्रता

 

“स्‍तुति निन्‍दा कोऊ करहि लक्ष्‍मी रहहि की जाय

 

मरै कि जियै न धीरजन ध रै कू मारग पाय ।।

 

प्रसंगरत्‍नावली.

 

“सच तो यह है कि आज लाला ब्रजकिशोर साहब नें बहुत अच्‍छी तरह भाईचारा निभाया. इन्‍की बातचीत मैं यह बड़ी तारीफ है कि जैसा काम किया चाहते हैं वैसा ही असर सब के चित्त पर पैदा कर देते हैं” मास्‍टर शिंभूदयाल नें मुस्‍करा कर कहा.

 

“हरगिज नहीं, हरगिज नहीं, मैं इन्साफ़ के मामले मैं भाई चारे को पास नहीं आनें देता जिस रीति सै बरतनें के लिये मैं और लोगों को सलाह देता हूँ उस रीति बरतना मैं अपनें ऊपर फर्ज समझता हूँ. कहना कुछ और, करना कुछ और नालायकों का काम है और सचाई की अमिट दलीलों को दलील करनेंवाले पर झूंटा दोषारोपण करके उड़ा देनें वाले और होते हैं” लाला ब्रजकिशोर नें शेर की तरह गरज कर कहा और क्रोध के मारे उन्‍की आंखें लाल होगईं.

 

लाला ब्रजकिशोर अभी मदनमोहन को क्षमा करनें के लिये सलाह देरहे थे इतनें मैं एका एक शिंभूदयाल की ज़रासी बात पर गुस्‍से मैं कैसे भर गए ? शिंभूदयाल नें तो कोई बात प्रगट मैं ब्रजकिशोर के अप्रसन्‍न होनें लायक नहीं कही थी ? निस्सन्देह प्रगट मैं नहीं कही परन्‍तु भीतर सै ब्रजकिशोर का ह्रदय विदीर्ण करनें के लिये यह साधारण बचन सबसै अधिक कठोर था. ब्रजकिशोर और सब बातों में निरभिमानी परन्‍तु अपनी ईमानदारी का अभिमान रखते थे इस लिये जब शिंभूदयाल नें उन्‍की ईमानदारी मैं बट्टा लगाया तब उन्को क्रोध आये बिना न रहा. ईमानदार मनुष्‍य को इतना खेद और किसी बात सै नहीं होता जितना उस्‍को बेईमान बतानें सै होता है.

 

“आप क्रोध न करें. आपको यहां की बातों मैं अपना कुछ स्‍वार्थ नहीं है तो आप हरेक बात पर इतना जोर क्‍यों देते हैं ? क्‍या आप की ये सब बातें किसी को याद रह सक्ती हैं ? और शुभचिन्‍तकी के बिचार सै हानि लाभ जतानें के लिये क्‍या एक इशारा काफ़ी नहीं है ?” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल नें मास्‍टर शिंभूदयाल की तरफ़दारी करके कहा.

 

“मैंनें अबतक लाला साहब सै जो स्‍वार्थ की बात की होगी वह लाला साहब और तुम लोग जान्‍ते होगे. जो इशारे मैं काम होसक्ता तो मुझको इतनें बढ़ा कर कहनें सै क्‍या लाभ था ? मैंनें कहीं हैं वह सब बातें निस्‍सन्‍देह याद नहीं रह सक्तीं परन्‍तु मन लगा कर सुन्‍नें सै बहुधा उन्का मतलब याद रह सक्ता है और उस्‍समय याद न भी रहै तो समय पर याद आ जाता है. मनुष्‍य के जन्‍म सै लेकर वर्तमान समय तक जिस, जिस हालत मैं वह रहता है उस सब का असर बिना जानें उस्‍की तबियत मैं बना रहता है इस वास्‍ते मैंनें ये बातें जुदे, जुदे अवसर पर यह समझ कर कह दीं थीं कि अब कुछ फायदा न होगा तो आगे चल कर किसी समय काम आवेंगी” लाला ब्रजकिशोरनें जवाब दिया.

 

“अपनी बातोंको आप अपनें पास ही रहनें दीजिये क्‍योंकि यहां इन्‍का कोई ग्राहक़ नहीं है” लाला मदनमोहन कहनें लगे आपके कहनेंका आशय यह मालूम होता है कि आपके सिवाय सब लोग अनसमझ और स्‍वार्थपर हैं.”

 

“मैं सबके लिये कुछ नहीं कहता परन्‍तु आपके पास रहनें वालों मैं तो निस्‍सन्‍देह बहुत लोग नालायक और स्‍वार्थपर हैं” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “ये लोग दिनरात आपके पास बैठे रहते हैं, हरबात मैं आपकी बड़ाई किया करते हैं, हर काम मैं अपनी जान हथेली पर लिये फ़िरते हैं पर यह आपके नहीं; आप के रुपे के दोस्‍त हैं. परमेश्‍वर न करे जिस दिन आपके रुपे जाते रहेंगे इन्‍का कोसों पता न लगेगा. जो इज्‍जत, दौलत और अधिकार के कारण मिल्‍ती है वह उस मनुष्‍य की नहीं होती. जो लोग रुपेके कारण आपको झुक, झुक कर सलाम करते हैं वही अपनें घर बैठकर आपकी बुद्धिमानीका ठट्टा उड़ाते हैं ! कोई काम पूरा नहीं होता जबतक उस्‍मैं अनेक प्रकारके नुक्‍सान होनें की सम्‍भावना रहती है पूरे होनें की उम्‍मेद पर दस काम उठाये जाते हैं जिस्मैं मुश्किल सै दो पूरे पड़ते हैं परन्‍तु आपके पास वाले खाली उम्‍मेद पर बल्कि भीतरकी नाउम्मेदी पर भी आपको नफेका सब्ज बाग़ दिखा कर बहुतसा रुपया खर्च करा देते हैं ! मैं पहले कह चुका हूँ कि आदमी की पहचान जाहिरी बातों सै नहीं होती उस्के बरतावसै होती है. इस्‍मैं आपका सच्‍चा शुभचिंतक कौन है ? आपके हानि लाभका दर्सानें वाला कौन है ? आपके हानिलाभ का बिचार करनें वाला कौन है ? क्‍या आपकी हांमैं हां मिलानै सै सब होगया ? मुझको तो आपके मुसाहिबों मैं सिवाय मसख़रापनके और किसी बातकी लियाक़त नहीं मालूम होती. कोई फबतियां कहक़र इनाम पाता है, कोई छेड़ छाड़कर गालियें खाता है, कोई गानें बजानें का रंग जमाता है, कोई धोलधप्‍पे लड़ाकर हंसता हंसाता है पर ऐसे अदमियोंसै किसी तरह की उम्‍मेद नहीं हो सक्ती.”

 

“मेरी दिल्‍लगी की आदत है. मुझसै तो हंसी दिल्‍लगी बिना रोनी सूरत बनाकर दिनभर नहीं रहा जाता परन्‍तु इन बातोंसै काम की बातों मैं कुछ अन्‍तर आया हो बताईये” लाला मदनमोहननें पूछा.

 

“आपके पिताका परलोक हुआ जबसै आपकी पूंजीमैं क्‍या घटा-बढ़ी हुई ? कितनी रकम पैदा हुई ? कितनी अहंड (बर्बाद) हुई कितनी ग़लत हुई, कितनी खर्च हुई इन बातोंका किसीनें बिचार किया है ? आमदनीसै अधिक खर्च करनें का क्‍या परिणाम है ? कौन्‍सा ख़र्च वाजबी है, कौन्‍सा गैरवाजबी है, मामूली खर्चके बराबर बंधी आमदनी कैसे हो सक्‍ती है ? इन बातों पर कोई दृष्टि पहुँचाता है ? मामूली आमदनी पर किसीकी निगाह है ? आमदनी देखकर मामूली खर्चके वास्‍ते हरेक सीगेका अन्‍दाजा पहलेसै क़भी किया गया है, गैर मामूली खर्चोंके वास्‍ते मामूली तौरपर सीगेवार कुछ रक़म हरसाल अलग रक्‍खी जाती है ? बिनाजानें नुक्‍सान, खर्च और आमदनी कमहोनें के लिये कुछ रकम हरसाल बचाकर अलग रक्‍खी जाती है ? पैदावार बढ़ानें के लिये वर्तमान समयके अनुसार अपनें बराबर वालों की कारवाई देशदेशान्‍तर का बृतान्‍त और होनहार बातों पर निगाह पहुँचाकर अपनें रोज़गार धंदेकी बातोंमैं कुछ उन्‍नति की जाती है ? व्‍यापारके तत्‍व क्‍या हैं. थोड़े खर्च, थोड़ी महनत और थोड़े समयमैं चीज़ तैयार होनेंसै कितना फायदा होता है, इन बातोंपर किसीनें मन लगाया है ? उगाहीमैं कितनें रुपे लेनें हैं, पटनें की क्‍या सूरत है, देनदारों की कैसी दशा है. मियादके कितनें दिन बाकी हैं इन बातों पर कोई ध्‍यान देता है ? व्‍योपार सिगा के मालपर कितनी रकम लगती है, माल कितना मोजूद है किस्‍समय बेचनेंमें फायदा होगा इन बातों पर कोई निगाह दौड़ाता है ? ख़र्च सीगाके मालकी क़भी बिध मिलाई जाती है ? उस्‍की कमी बेशीके लिये कोई जिम्‍मेदार है ? नौकर कितनें हैं, तनख्‍वाह क्‍या पाते हैं, काम क्‍या करते हैं, उन्‍की लियाक़त कैसी है, नीयत कैसी है, कारवाई कैसी है, उन्‍की सेवाका आप पर क्‍या हक़ है, उन्‍के रखनें न रखनेंमैं आपका क्‍या नफ़ा नुक्‍सान है इनबातों को क़भी आपनें मन लगा कर सोचा है ?”

 

“मैं पहले ही जान्‍ता था कि आप हिर फ़िरकर मेरे पासके आदमियों पर चोट करेंगे परन्‍तु अब मुझको यह बात असह्य है. मैं अपना नफ़ा नुक्‍सान समझता हूँ आप इस विषय मैं अधिक परिश्रम न करै” लाला मदनमोहननें रोककर कहा.

 

“मैं क्‍या कहूँगा पहलेसै बुद्धिमान कहते चले आये हैं” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “विलियम कूपर कहता है :-

 

जिन नृपनको शिशुकालसै सेवहिं छली तनमन दिये।।

 

तिनकी दशा अबिलोक करुणाहोत अति मेरे हिये।।

 

आजन्मों अभिषेकलों मिथ्‍या प्रशंसा जानकरैं।।

 

बहु भांत अस्‍तुति गाय, गाय सराहि सिर स्‍हेरा धरैं।।

 

शिशुकालते सीखत सदा सजधज दिखावन लोक मैं।।

 

तिनको जगावत मृत्‍यु बहुतिक दिनगए इहलोक मैं।।

 

मिथ्‍या प्रशंसी बैठ घुटनन, जोड़ कर, मुस्‍कावहीं।।

 

छलकी सुहानी बातकहि पापहि परम दरसावहीं।।

 

छबिशालिनी, मृदुहासिनी अरु धनिक नितघेरैं रहैं।।

 

झूंटी झलक दरसाय मनहि लुभाय कुछ दिनमैं लहैं।।

 

जे हेम चित्रित रथन चढ़, चंचल तुरंग भजावहीं।।

 

सेना निरख अभिमानकर, यों ब्यर्थ दिवस गमावहीं।।

 

तिनकी दशा अबिलोक भाखत फरेहूँ मनदुख लिये।।

 

नृपकी अधमगति देख करुणा होत अति मेरे हिये।।[15]

 

“लाला साहब अपनें सरल स्वभाव सै कुछ नहीं कहते इस वास्ते आप चाहे जो कहते चले जांय परन्तु कोई तेज़ स्वभाव का मनुष्य होता तो आप इस तरह हरगिज न कहनें पाते” मास्टर शिंभूदयाल नें अपनी जात दिखाई.

 

सच है ! बिदुरजी कहते हैं “दयावन्त लज्जा सहित मृदु अरु सरल सुभाई।। ता नर को असमर्थ गिन लेत कुबुद्धि दबाइ।। [16]” इस लिये इन गुणों के साथ सावधानी की बहुत ज़रूरत है. सादगी और सीधेपन सै रहनें में मनुष्य की सच्ची अशराफत मालूम होती है. मनुष्य की उन्नति का यह सीधा मार्ग है परन्तु चालाक आदमियोंकी चालाकी सै बचनें के लिये हर तरह की वाकंफ़ियत भी ज़रूर होनी चाहिये” लाला ब्रजकिशोर नें जवाब दिया.

 

“दोषदर्शी मनुष्यों के लिये सब बातों मैं दोष मिल सक्ते हैं क्योंकि लाला साहबके सरल स्वभाव की बड़ाई सब संसार मैं हो रही है परन्तु लाला ब्रजकिशोर को उस्मैं भी दोष ही दिखाई दिया !” पंडित पुरुषोत्तमदास बोले.

 

“द्रब्य के लालचियों की बड़ाई पर मैं क्या विश्वास करूं ? बिदुरजी कहते हैं कि “जाहि सराहत हैं सब ज्वारी। जाहि सराहत चंचल नारी।। जाहि सराहत भाट बृथा ही। मानहु सो नर जीवत नाही।।[17]” लाला ब्रजकिशोर नें जवाब दिया.

 

“मैं अच्छा हूँ या बुरा हूँ आपका क्या लेता हूँ ? आप क्यों हात धोकर मेरे पीछे पड़े हैं ? आपको मेरी रीति भांति अच्छी नहीं लगती तो आप मेरे पास न आय” लाला मदनमोहन नें बिगड़ कर कहा.

 

“मैं आपका शत्रु नहीं; मित्र हूँ परन्तु आपको ऐसा ही जचता है तो अब मैं भी आपको अधिक परिश्रम नहीं दिया चाहता. मेरी इतनी ही लालसा है कि आपके बड़ों की बदौलत मैंनें जो कुछ पाया है वह मैं आपकी भेंट करता जाऊं” लाला ब्रजकिशोर लायकी सै कहनें लगे “मैंनें आपके बड़ों की कृपा सै विद्या धन पाया है जिस्का बड़ा हिस्सा मैं आपके सन्मुख रख चुका तथापि जो कुछ बाकी रहा है उस्को आप कृपा करके और अंगीकार कर लें. मैं चाहता हूँ कि मुझसै आप भले ही असप्रन्न रहें, मुझको हरगिज़ अपनें पास न रक्खें परन्तु आपका मंगल हो. यदि इस बिगाड़ सै आपका कुछ मंगल हो तो मैं इसै ईश्वर की कृपा समझूंगा. आप मेरे दोषोंकी ओर दृष्टि न दें. मेरी थोथी बातों मैं जो कुछ गुण निकलता हो उसे ग्रहण करें. हज़रत सादी कहते हैं “भींत लिख्यो तिख्यो उपदेशजू कोऊ ।। सादर ग्रहण कीजिये सोऊ।। [18]” इस लिये आप स्वपक्ष और विपक्ष का बिचार छोड़कर गुण संग्रह करनें पर दृष्टि रक्खैं. आपका बरताव अच्छा होगा तो मैं क्या हूँ ? बड़े-बड़े लायक आदमी आपको सहज मैं मिल जायंगे. परन्तु आपका बरताव अच्छा न हुआ तो जो होंगे वह भी जाते रहेंगे. एक छोटेसे पखेरू की क्या है ? जहां रात हो जाय वहीं उस्का रैन बसेरा हो सक्ता है परन्तु वह फलदार वृक्ष सदा हरा भरा रहना चाहिये जिस्के आश्रय से पक्षी जीते हों.”

 

बहुत कहनें सै क्या है ?आपको हमसै सम्बन्ध रखना हो तो हमारी मर्जी के मूजिब बरताब रक्खो, नहीं तो अपना रस्ता लो. हमसै अब आपके तानें नहीं सहे जाते” लाला मदनमोहन नें ब्रजकिशोर को नरम देख कर ज्याद: दबानें की तजबीज़ की.

 

“बहुत अच्छा ! मैं जाता हूँ. बहुत लोग जाहरी इज्जत बनानें के लिये भीतरी इज्जत खो बैठते हैं परन्तु मैं उन्मैं का नहीं हूँ. तुलसीकृतरामायण मैं रघुनाथजीनें कहा है “जो हम निदरहि बिप्रवद्ध सत्यसुनहु भृगुनाथ ।। तो अस को जग सुभटतिहिं भाय बस नावहिं मांथ ।।” सोई प्रसंग इस्समय मेरे लिये वर्तमान है. एथेन्समैं जिन दिनों तीस अन्याइयोंकी कौन्सिल का अधिकार था, एकबार कौन्सिलनें सेक्रिटीज़ को बुलाकर हुक्म दिया कि तुम लिओ नामी धनवान को पकड़ लाओ जिस्सै उस्का माल जब्त किया जाय.” सेक्रिटीज़ नें जवाब दिया कि “एक अनुचित काममैं मैं अपनी प्रसन्नतासै क़भी सहायता न करूंगा” कौन्सिल के प्रेसिन्डेन्टनें धमकी दी कि “तुम को आज्ञा उल्लंघन करनें के कारण कठोर दंड मिलेगा” सेक्रिटीज़नें कहा कि “यह तो मैं पहले हीसै जान्ता हूँ परन्तु मेरे निकट अनुचित काम करनें के बराबर कोई कठोर दंड नहीं है” लाला ब्रजकिशोर बोले.

 

“जब आप हमको छोड़नें का ही पक्‍का बिचार कर चुके तो फ़िर इतना बादबिवाद करनेंसै क्‍या लाभ ? हमारे प्रारब्धमैं होगा वह हम भुगतलेंगे, आप अधिक परिश्रम न करैं” लाला मदनमोहननें त्‍योरीं बदलकर कहा.

 

“अब मैं जाता हूँ. ईश्‍वर आपका मंगल करे. बहुत दिन पास रहनें के कारण जानें बिना जानें अबतक जो अपराध हुए हों वह क्षमा करना” यह कह कर लाला ब्रजकिशोर तत्‍काल अपनें मकानको चले गए.

 

“लाला ब्रजकिशोर के गए पीछै मदनमोहनके जीमैं कुछ, कुछ पछतावा सा हुआ. वह समझे कि “मैं अपनें हठसै आज एक लायक आदमीको खो बैठा परन्‍तु अब क्‍या ? अब तो जो होना था हो चुका. इस्‍समय हार माननें सै सबके आगे लज़्जित होना पड़ेगा और इस्‍समय ब्रजकिशोरके बिना कुछ हर्ज भी नहीं, हां ब्रजकिशोरनें हरकिशोरको सहायता दी तो कैसी होगी ? क्‍या करैं ? हमको लज़्जित होना न पड़े और सफाई की कोई राह निकल आवे तो अच्‍छा हो” लाला मदनमोहन इसी सोच बिचार मैं बड़ी देर बैठे रहे मन की निर्बलता सै कोई बात निश्‍चय न कर सके.

 

 

 

प्रकरण–20

 

 

कृतज्ञता.

 

तृणहु उतारे जनगनत कोटि मुहर उपकार

 

प्राण दियेहू दुष्‍टजन करत बै र व्‍यवहार।।

 

भोजप्रबंधसार.

 

लाला ब्रजकिशोर मदनमोहन के पास सै उठकर घर को जानें लगे उस्‍समय उन्‍का मन मदनमोहन की दशा देखकर दु:ख सै बिबस हुआ जाता था. वह बारम्बार सोचते थे कि मदनमोहन नें केवल अपना ही नुक्सान नहीं किया अपनें बाल बच्‍चों का हक़ भी डबो दिया. मदनमोहन नें केवल अपनी पूंजी ही नहीं खोई अपनें ऊपर क़र्ज भी कर लिया.

 

भला ! लाला मदनमोहनको क़र्ज करनें की क्‍या ज़रूरत थी ? जो यह पहलै ही सै प्रबंध करनें की रीति जान्‍कर तत्‍काल अपनें आमद खर्च का बंदोबस्‍त कर लेते तो इन्‍को क्‍या, इन्‍के बेटे पोतों को भी तंगी उठानें की कुछ ज़रूरत न थी. मैं आप तकलीफ़ सै रहनें को, निर्लज्जता सै रहनें को, बदइन्तज़ामी सै रहनें को, अथवा किसी हक़दार के हक़ मैं कमी करनें को पसंद नहीं करता, परन्‍तु इन्‍को तो इन्‍बातों के लिये उद्योग करनें की भी कुछ ज़रूरत न थी. यह तो अपनी आमदनी का बंदोबस्त करके असल पूंजी के हाथ लगाए बिना अमीरी ठाठ सै उमरभर चैन कर सक्ते थे. बिदुरजी नें कहा है “फल अपक्क जो बृक्ष ते तोर लेत नर कोय।। फल को रस पावै नहीं नास बीजको होय।। नासबीज को होय यहै निज चित्‍त विचारै।। पके, पके फललेई समय परिपाक निहारै।।पके, पके फललेई स्‍वाद रस लहै बुद्धिबल।। फलते पावै बीज, बीजते होइ बहुरिफल।।” यह उपदेश सब नीतिका सार है परन्‍तु जहां मालिक को अनुभव न हो, निकटवर्ती स्‍वार्थपर हों वहां यह बात कैसे हो सक्ती है ? “जैसे माली बाग को राखत हितचित चाहि।। तैसै जो कोला करत कहा दरद है ताहि?”

 

लाला मदनमोहन अबतक क़र्जदारी की दुर्दशा का बृतान्‍त नहीं जान्‍ते.

 

जिस्‍समय क़र्जदार वादे पर रुपया नहीं दे सक्ता उसी समय सै लेनदार को अपनें कर्ज के अनुसार क़र्जदार की जायदाद और स्‍वतन्‍त्रता पर अधिकार हो जाता है. वह क़र्जदार को कठोर से कठोर वाक्य “बेईमान” कह सक्ता है, रस्‍ता चलते मैं उस्‍का हाथ पकड़ सक्ता है. यह कैसी लज्जा की बात है कि एक मनुष्य को देखते ही डर के मारे छाती धड़कनें लगे और शर्म के मारे आंखें नीची हो जायें, सब लोग लाला मदनमोहन की तरह फ़िजूल खर्ची और झूंठी ठसक दिखानें मैं बरबाद नहीं होते सौ मैं दो, एक समझवार भी किसीका काम बिगड़ जानें सै, या किसी की जामनी कर देनें सै या किसी और उचित कारण सै इस आफ़त मैं फंस जाते हैं परन्‍तु बहुधा लोग अमीरों की सी ठसक दिखानेंमैं और अपनें बूते सै बढ़कर चलनें मैं क़र्जदार होते हैं.

 

क़र्जदारी मैं सबसै बड़ा दोष यह है कि जो मनुष्‍य, धर्मात्‍मा होता है वह भी क़र्जमैं फंसकर लाचारी सै अधर्म की राह चलनें लगता है. जब सै कर्ज़ लेनें की इच्‍छा होती है तब ही सै कर्ज़ लेनेंवाले को ललचानें, ओर अपनी साहूकारी दिखानें के लिये तरह, तरह की बनावट की जाती हैं. एकबार कर्ज़ लिये पीछै कर्ज़ लेनें का चस्‍का पड़ जाता है और समय पर कर्ज़ नहीं चुका सक्ता तब लेनदार को धीर्य देनें और उस्‍की दृष्टि मैं साहूकार दीखनें के लिये ज्‍यादा: ज्‍यादा: कर्ज़ मैं जकड़ता जाता है और लेनदार का कड़ा तकाज़ा हुआ तो उस्का कर्ज चुकानें के लिये अधर्म करनें की रुचि हो जाती है. कर्ज़दार झूठ बोलनें सै नहीं डरता और झूठ बोले पीछै उस्‍की साख नहीं रहती. वह अपनें बाल बच्‍चों के हक़ मैं दुश्‍मन सै अधिक बुराई करता है. मित्रों को तरह, तरह की जोखों मैं फंसाता है अपनी घड़ी भर की मौज के लिये आप जन्‍मभर के बंधन मैं पड़ता है और अपनी अनुचित इच्‍छा को सजीवन करनें के लिये आप मर मिटता है.

 

बहुत सै अबिचारी लोग कर्ज़ चुकानें की अपेक्षा उदारता को अधिक समझते हैं. इस्‍का कारण यह है कि उदारता सै यश मिल्‍ता है, लोग जगह, जगह उदार मनुष्य की बड़ाई करते फ़िरते हैं परन्‍तु कर्ज़ चुकाना केवल इन्साफ़ है इसलिये उस्‍की तारीफ़ कोई नहीं करता. इन्साफ़ को लोग साधारण नेंकी समझते हैं, इस कारण उस्‍की निस्‍बत उदारता की ज्‍याद: कदर करते हैं जो बहुधा स्‍वभाव की तेजी और अभिमान सै प्रगट होती है परन्‍तु बुद्धिमानी सै कुछ सम्‍बन्‍ध नहीं रखती. किसी उदार मनुष्‍य सै उस्‍का नौकर जाकर कहैकि फलाना लेनदार अपनें रुपेका तकाजा करनें आया है और आप के फलानें गरीब मित्र अपनें निर्बाह के लिये आप की सहायता चाहते हैं तो वह उदार मनुष्‍य तत्‍काल कह देगा कि लेनदार को टाल दो और उस गरीब को रुपे देदो क्‍योंकि लेनदार का क्‍या ? वह तो अपनें लेनें लेता इस्‍के देनें सै वाह वाह होगी.

 

परन्‍तु इन्साफ़ का अर्थ लोग अच्‍छी तरह नहीं समझते क्‍योंकि जिस्‍के लिये जो करना चाहिए वह करना इन्साफ़ है इसलिये इन्साफ़ मैं सब नेंकियें आगईं. इन्साफ़ का काम वह है जिस्‍मैं ईश्‍वर की तरफ़ का कर्तव्य, संसार की तरफ़ का कर्तव्य, और अपनी आत्‍मा की तरफ़ का कर्तव्य अच्‍छी तरह सम्‍पन्‍न होता हो. इन्साफ़ सब नेंकियों की जड़ है और सब नेंकियां उस्‍की शाखा-प्रशाखा हैं इन्साफ़ की सहायता बिना कोई बात मध्‍यम भाव सै न होगी तो सरलता अविवेक, बहादुरी, दुराग्रह, परोपकार, अन्समझी और उदारता फिजूलखर्ची हो जायँगी.

 

कोई स्‍वार्थ रहित काम इन्साफ़ के साथ न किया जाय तो उस्‍की सूरत ही बदल जाती है और उसका परिणाम बहुधा भयंकर होता है. सिवाय की रकम मैं सै अच्‍छे कामों मैं लगाए पीछै कुछ रुपया बचै और वो निर्दोष दिल्‍लगी की बातों मैं खर्च किया जाय तो उस्‍को कोई अनुचित नहीं बता सक्ता परन्‍तु कर्तव्य कामों को अटका कर दिल्‍लगी की बातों मैं रुपया या समय खर्च करना अभी अच्‍छा नहीं हो सक्ता. अपनें बूते मूजब उचित रीति सै औरों की सहायता करनी मनुष्‍य का फर्ज है परन्‍तु इस्‍का यह अर्थ नहीं है कि अपनें मन की अनुचित इच्‍छाओं को पूरा करनें का उपाय करै अथवा ऐसी उदारता पर कमर बांधे कि आगै को अपना कर्तव्य सम्‍पादन करनें के लिये और किसी अच्‍छे काम मैं खर्च करनें के लिये अपनें पास फूटी कौड़ी न बचे बल्कि सिवाय मैं कर्ज़ होजाय.

 

अफसोस ! लाला मदनमोहन की इस्‍समय ऐसी ही दशा हो रही है. इन्पर चारों तरफ़ सै आफत के बादल उमड़े चले आते हैं परन्‍तु इन्‍हैं कुछ खबर नहीं है

 

विदुर जी नें सच कहा है :-

 

“बुद्धिभ्रंशते लहत बिनासहि।।ताहि अनीति नीतिसी भासहि।।”

 

इस तरह सै अनेक प्रकार के सोच बिचार में डूबे हुए लाला ब्रजकिशोर अपनें मकान पर पहुंचे परन्‍तु उन्‍के चित्त को किसी बात सै जरा भी धैर्य न हुआ.

 

लाला ब्रजकिशोर कठिन सै कठिन समय मैं अपनें मन को स्थिर रख सक्ते थे परन्तु इस्‍समय उन्का चित्त ठिकानें न था. उन्‍नें यह काम अच्‍छा किया कि बुरा किया ? इस बात का निश्‍चय वह आप नही कर सक्ते थे. वह कहते थे कि इस दशा मैं मदनमोहन का काम बहुत दिन नहीं चलेगा और उस्‍समय ये सब रुपे के मित्र मदनमोहन को छोड़कर अपनें, अपनें रस्‍ते लेगेंगे परन्‍तु मैं क्‍या करूँ ? मुझको कोई रास्‍ता नहीं दिखाई देता और इस्‍समय मुझ सै मदनमोहन की कुछ सहायता न हो सकी तो मैंनें संसार मैं जन्‍म लेकर क्‍या किया ?

 

फ्रांस के चौथे हेन्‍री नें डी ला ट्रेमाइल को देशनिकाला दिया था और काउन्‍ट डी आविग्‍नी उस्‍सै मेल रखता था. इस्‍पर एक दिन चौथे हेन्‍री नें डी आविग्‍नी सै कहा कि “तुम अबतक डी ला ट्रेमाइल की मित्रता कैसे नहीं छोड़ते ?” डी आविग्‍नी नें जवाब दिया कि मैं ऐसी हालत मैं उस्‍की मित्रता नहीं छोड़ सक्ता क्‍योंकि मेरी मित्रता के उपयोग करनें का काम तो उस्को अभी पड़ा है.”

 

पृथ्‍वीराज महोबेकी लड़ाई मैं बहुत घायल होकर मुर्दों के शामिल पड़े थे और संजमराय भी उन्‍के बराबर उसी दशा मैं पड़ा था. उस्‍समय एक गिद्ध आके पृथ्‍वीराज की आंख निकालनें लगा. पृथ्‍वीराज को उस्के रोकनें की सामर्थ्‍य न थी इसपर संजमराय पृथ्‍वीराजको बचानें के लिये अपनें शरीर का माँस काट, काट कर गिद्धके आगे फैकनें लगा जिस्‍सै पृथ्‍वीराजकी आंखैं बच गईं और थोड़ी देर मैं चन्‍द वगैर आ पहुंचें.

 

हेन्‍री रिचमन्‍ड, पीटरके भय सै ब्रीटनी छोड़ कर फ्रान्सको भागनें लगा उस्‍समय उस्के सेवक सीमारनें उस्‍के वस्‍त्र पहन कर उस्‍की जोखों अपनें सिर ली और उस्‍को साफ निकाल दिया.

 

क्‍या इस्सतरहसै मैं मदनमोहन की कुछ सहायता इस्‍समय नहीं कर सक्ता ! यदि हम इस काम मैं मेरी जान भी जाती रहै तो कुछ चिन्ता नहीं. जब मैं उन्‍को अनसमझ जान कर उन्‍के कहनें सै उन्‍हैं छोड़ आया तो मैंनें कौन्‍सी बुद्धिमानी की ? पर मैं रह कर क्‍या करता ? हां मैं हां मिला कर रहना रोगी को कुपथ्‍य देनें सै कम न था और ऐसे अवसर पर उन्‍का नुक्‍सान देख कर चुप हो रहना भी स्‍वार्थपरता सै क्‍या कम था ? मेरा बिचार सदेव सै यह रहता है कि काम रहता तो विधि पूर्वक करना. न होसके तो चुप हो रहना, बेगार तक को बेगार न समझना परन्‍तु वहां तो मेरे वाजबी कहनें सै उल्‍टा असर होता था और दिनपर दिन जिद बढ़ती जाती थी. मैंनें बहुत धैर्य सै उन्‍को राह पर लानें के उपाय किये पर उन्‍नें किसी हालत मैं अपनी हद्द सै आगै बढ़ना मंजूर न किया.

 

असल तो ये है कि अब मदनमोहन बच्‍चे नहीं रहे. उन्‍की उम्रपक गई. किसी का दबाब उन्‍पर नहीं रहा, लोगोंनें हां मैं हां मिला कर उन्‍की भूलों को और दृढ़ कर दिया. रुपे के कारण उन्‍को अपनी भूलों का फल मिला और संसारके दु:ख सुखका अनुभव न होनें पाया बस रंग पक्‍का हो गया. बिदुरजी कहते हैं कि “सन्‍त असन्‍त तपस्‍वी चोर। पापी सुकृति ह्रदय कठोर।। तैसो होय बसे जिहि संग। जैसो होत बसन मिल रंग।।”

 

यदि सावधान हों तो अंगद हनुमान की तरह उन्‍की आज्ञा पालन करनें मैं सब कर्तव्‍य संपादन हो जाते हैं परन्‍तु जहां ऐसा होता वहीं बड़ी कठिनाई पड़ती है. सकड़ी गली मैं हाथी नहीं चल्‍ता तब महावत कूढ़ बाजता है. वृन्‍द कहता है कि “ताकों त्‍यों समझाइये जो समझे जिहिं बानि।। बैन कहत मग अन्‍धकों अरु बहरेको पानि।।” जिस तरह सुग्रीव भोग विलास मैं फंस गया तब रघुनाथ जी केवल उस्‍को धमकी देकर राह पर ले आए थे इस तरह लाला मदनमोहन के लिये क्‍या कोई उपाय नहीं होसक्ता ? हे जगदीश ! इस कठिन काम मैं तू मेरी सहायता कर.

 

लाला ब्रजकिशोर इन्‍बातों के बिचार मैं ऐसे डूबे हुए थे कि उन्‍को अपना देहानुसन्‍धान न था. एक बार वह सहसा कलम उठा कर कुछ लिखनें लगे और किसी जगह को पूरा महसूल देकर एक जरूरी तार तत्‍काल भेज दिया. परन्‍तु फ़िर उन्‍हीं बातों के सोच बिचार मैं मग्‍न होगए. इस्‍समय उन्के मुखसै अनायास कोई, कोई शब्‍द बेजोड़ निकल जाते थे जिन्‍का अर्थ कुछ समझ मैं नहीं आता था. एक बार उन्‍नें कहा “तुलसीदासजी सच कहते हैं ” षटरस बहु प्रकार ब्यंजन कोउ दिन अरु रैन बखानें।। बिन बोले सन्‍तोष जनित सुख खाय सोई पै जानें।।” थोड़ी देर पीछै कहा “मुझको इस्‍समय इस बचन पर बरताव रखना पड़ेगा (वृन्‍द) झूंटहु ऐसो बोलिये सांच बराबर होय।। जो अंगुरी सों भीत पर चन्द्र दिखावे कोए।।” परन्‍तु पानी जैसा दूध सै मिल जाता है तेल सै नहीं मिल्‍ता. विक्रमोर्बशी नाटक मैं उर्वशी के मुख सै सच्‍ची प्रीति के कारण पुरुषोत्‍तम की जगह पुरूरवा का नाम निकल गया था इसी तरह मेरे मुख सै कुछका कुछ निकल गया तो क्‍या होगा ? थोड़ी देर पीछै कहा “लोक निन्‍दा सै डरना तो वृथा है जब वह लोग जगत जननी जनक नन्दिनी की झूंटी निन्‍दा किये बिना नहीं रहे ! श्रीकृष्‍णचन्‍द्र को जाति वालों के अपवाद का उपाय नारदजी सै पूछना पड़ा ! तो हम जैसे तुच्‍छ मनुष्‍यों की क्‍या गिन्‍ती है ? सादीनें लिखा है “एक विद्वान सै पूछा गया था कि कोई मनुष्‍य ऐसा होगा जो किसी रूपवान सुन्‍दरी के साथ एकांत मैं बैठा हो दरवाजा बन्‍द हो, पहरे वाला सोता हो मन ललचा रहा हो काम प्रबल हो++ और वह अपनें शम दम के बल सै निर्दोष बच सकै ?” उसनें कहा कि “हां वह रूपवान सुन्‍दरी सै बच सक्ता है परन्‍तु निन्‍दकों की निन्दा सै नहीं बच सक्ता” फ़िर लोक निन्‍दा के भय सै अपना कर्तव्‍य न करना बड़ी भूल है धर्म्म औरों के लिये नहीं अपनें लिये और अपनें लिये भी फल की इच्‍छा सै नहीं, अपना कर्तव्‍य पूरा करनें के लिये करना चाहिये परन्‍तु धर्म्म अधर्म होजाय, नेंकी करते बुराई पल्‍ले पड़े, औरों को निकालती बार आप गोता खानें लगें तो कैसा हो ? रूपेका लालच बड़ा प्रबल है और निर्धनोंको तो उन्‍के काम निकालनें की चाबी होनें के कारण बहुत ही ललचाता है” थोड़ी देर पीछै कहा “हलधरदास नें कहा है “बिन काले मुख नहिं पलाश को अरुणाई है।। बिन बूड़े न समुद्र काहु मुक्‍ता पाई है।।” इसी तरह गोल्‍ड स्मिथ कहता है कि “साहस किये बिना अलभ्‍य वस्‍तु हाथ नहीं लग सक्ती” इसलिये ऐसे साहसी कामों मैं अपनी नीयत अच्‍छी रखनी चाहिये यदि अपनी नीयत अच्‍छी होगी तो ईश्‍वर अवश्‍य सहायता करैगा और डूब भी जायंगे तो अपनी स्‍वरूप हानि न होगी.”

 

प्रकरण-21

 

 

पतिव्रता

 

पतिके संग जीवन मरण पति हर्षे हर्षाय

 

स्‍नेहम ई कुलनारि की उपमा लखी न जाय

 

शारंगधरे.

 

लाला ब्रजकिशोर न जानें कब तक इसी भँवर जाल मैं फंसे रहते परन्तु मदनमोहन की पतिब्रता स्‍त्री के पास सै उस्‍के दो नन्‍हें, बच्‍चों को लेकर एक बुढि़या आ पहुँची इस्‍सै ब्रजकिशोर का ध्‍यान बट गया.

 

उन बालकों की आंखों मैं नींद घुलरही थी उन्‍को आतेही ब्रजकिशोर नें बड़े प्‍यार सै अपनी गोद मैं बिठा लिया और बुढि़या सै कहा “इन्को इस्‍समय क्‍यों हैरान किया ? देख इन्‍की आंखों मैं नींद घुल रही है जिस्‍सै ऐसा मालूम होता है कि मानो यह भी अपनें बाप के काम काज की निर्बल अवस्‍था देखकर उदास हो रहे हैं” उन्‍को छाती सै लगाकर कहा “शाबास ! बेटे शाबास ! तुम अपनें बाप की भूल नहीं समझते तोभी उदास मालूम होते हो परन्‍तु वह सब कुछ समझता है तोभी तुम्‍हारी हानि लाभ का कुछ बिचार नहीं करता. झूंटी जिद अथवा हठधर्मी सै तुम्‍हारा वाजबी हक़ खोए देता है. तुम्‍हारे बाप को लोग बड़ा उदार और दयालु बताते हैं परन्‍तु वह कैसा कठोर चित्‍त है कि अपनें गुलाब जैसे कोमल, और गंगाजल जैसे निर्मल बालकों के साथ विश्‍वासघात करके उन्‍को जन्‍म भर के लिये दरिद्री बनाए देता है वह नहीं जान्‍ता कि एक हक़दार का हक़ छीनकर मुफ्तखोरों को लुटा देनेंमैं कितना पाप है ! कहो अब तुम्‍हारे बास्‍तै क्‍या मंगवायें ?”

 

“खिनोंनें” (खिलौनें) छोटे नें कहा “बप्‍फी” (बर्फी) बड़े बोले और दोनों ब्रजकिशोर की मूंछें पकड़ कर खेलनें लगे. ब्रजकिशोर नें बड़े प्‍यार सै उन्‍के गुलाबी गालों पर एक, एक मीठी चूमी लेली और नौकरों को आवाज देकर खिलौनें और बरफी लानें का हुक्‍म दिया.

 

“जी ! इन्की माँ नें ये बच्‍चे आप के पास भेजे हैं” बुढि़या बोली “और कह दिया है कि इन्कौ आप के पांओं मैं डालकर कह देना कि मुझ को आप के क्रोधित होकर चले जानें का हाल सुन्‍कर बड़ी चिन्ता हो रही है, मुझ को अपनें दु:ख सुख का कुछ बिचार नहीं मैं तो उन्‍के साथ रहनें मैं सब तरह प्रसन्‍न हूँ परन्‍तु इन छोटे, छोटे बच्‍चों की क्‍या दशा होगी ? इन्‍को विद्या कौन पढ़ायगा ? नीति कौन सिखायगा ? इन्‍की उमर कैसे कटेगी ? मैं नहीं जान्‍ती कि आपको इस कठिन समय मैं अपना मन मार कर उन्‍की बुद्धि सुधारनी चाहिये थी अथवा उन्‍को अधर धार मैं लटका कर चले जाना चाहिये था ? खैर ? आप उन्‍पर नहीं तो अपनें कर्तव्‍य पर दृष्टि करें, अपनें कर्तव्‍य पर नहीं तो इन छोटे, बच्‍चों पर दया करें ये अपनी रक्षा आप नहीं कर सक्‍ते. इन्‍का बोझ आपके सिर है आप इन्‍की खबर न लेंगे तो संसार मैं इन्‍का कहीं पता न लगेगा और ये बिचारे योंही झुर कर मर जायेंगे ?”

 

यह बात सुनकर ब्रजकिशोर की आंखें भर आईं. थोड़ी देर कुछ नहीं बोला गया फ़िर चित्‍त स्थिर कर के कहनें लगे “तुम बहन सै कह देना कि मुझको अपना कर्तव्‍य अच्‍छी तरह याद है परन्‍तु क्‍या करूं ? मैं बिबस हूँ. काल की कुटिल गति सै मुझको अपनें मनोर्थ के विपरीत आचरण (बरताव) करना पड़ता है तथापि वह चिन्‍ता न करे. ईश्‍वर का कोई काम भलाई सै खाली नहीं होता. उस्‍नें इस्‍मैं भी अपना कुछ न कुछ हित ही सोचा होगा” लड़कों की तरफ़ देखकर कहा “बेटे ! तुम कुछ उदास मत हो जिस तरह सूर्य चन्‍द्रमा को ग्रहण लग जाता है इसी तरह निर्दोष मनुष्‍यों पर भी क़भी, क़भी अनायास विपत्ति आ पड़ती है परन्‍तु उस समय उन्‍हें अपनी निर्दोषता का बिचार करके मनमैं धैर्य रखना चाहिये.”

 

उन अनसमझ बच्‍चों को इन बातों की कुछ परवा न थी बरफी और खिलोनों के लालच सै उन्‍की नींद उड़ गई थी इस वास्‍तै वह तो हरेक चीज की उठाया धरी मैं लग रहे थे और ब्रजकिशोर पर तकाजा जारी था.

 

थोड़ी देर में बरफी और खिलोनें भी आ पहुंचे. इस्‍समय उन्‍की खुशी की हद न रही. ब्रजकिशोर दोनों को बरफी बांटा चाहते थे इतनें मैं छोटा हाथ मार कर सब ले भागा और बड़ा उस्‍सै छीन्‍नें लगा तो सब की सब एक बार मुंह मैं रख गया. मुंह छोटा था इसलिये वह मुंह मैं नहीं समाती थी परन्‍तु यह खुशी भी कुछ थोड़ी न थी कनअंखियों से बड़े की तरफ़ देखकर मुस्‍कराता जाता था और नाचता जाता था वह. भोलीभोली सूरत ठुमक, ठुमक कर नाचना, छिप-छिप कर बड़े की तरफ़ देखना, सैन मारना उस्‍के मुस्‍करानें मैं दूध के छोटे, छोटे दांतों की मोती की सी झलक देखकर थोड़ी देर के लिये ब्रजकिशोर अपनें सब चारा बिचार भूल गए. परन्‍तु इस्‍को नाचता कूदता देखकर अब बड़ा मचल पड़ा. उस्‍नें सब खिलोनें अपनें कब्‍जे मैं कर लिये और ठिनक, ठिनक कर रोनें लगा. ब्रजकिशोर उस्‍को बहुत समझाते थे कि “वह तुम्‍हारा छोटा भाई है तुम्‍हारे हिस्‍से की बरफी खाली तो क्‍या हुआ ? तुम ही जानें दो” परन्‍तु यहां इन्‍बातों की कुछ सुनाई न थी. इधर छोटे खिलोनों की छीना झपटी मैं लग रहे थे ! निदान ब्रजकिशोर को बड़े के वास्‍तै बरफी छोटे के वास्‍तै खिलोनें फ़िर मंगानें पड़े. जब दोनों की रजामन्‍दी हो गई तो ब्रजकिशोर नें बड़े प्‍यार से दोनों की एक मिठ्ठी (मीठी चूमी) लेकर उन्‍हें बिदा किया और जाती बार बुढि़या को समझा दिया कि “बहन को अच्‍छी तरह समझा देना वह कुछ चिन्‍ता न करे.”

 

परन्‍तु बुढि़या मकान पर पहुंची जितनें वहां की तो रंगत ही बदल गई थी. मदनमोहन के साले जगजीवनदास अपनी बहन को लिवा लेजानें के लिये मेरठ सै आए थे. वह अपनी मां (अर्थात् मदनमोहन की सास) की तबियत अच्‍छी नहीं बताते थे और आज ही रात की रेल मैं अपनी बहन को मेरठ लिवा ले जानें की तैयारी करा रहे थे. मदनमोहन की स्‍त्री के मनमैं इस्‍समय मदनमोहन को अकेले छोड़ कर जानें की बिल्‍कुल न थी परन्‍तु एक तो वह अपनें भाई सै लज्‍जा के मारे कुछ नहीं कह सक्ती थी दूसरे मां की मांदगीका मामला था तीसरे मदनमोहन हुक्‍म दे चुके थे इसलिये लाचार होकर उस्‍नें दो, एक दिन के वास्‍तै जानें की तैयारी की थी.

 

मदनमो‍हन की स्‍त्री अपनें पतिकी सच्‍ची प्रीतिमान, शुभचिंतक दु:ख सुखकी साथन, और आज्ञा मैं रहनेंवाली थी और मदनमोहन भी प्रारंभ मैं उस्‍सै बहुत ही प्रीति रखता था परन्‍तु जब सै वह चुन्‍नीलाल और शिंभूदयाल आदि नए मित्रोंकी संगति मैं बैठनें लगा, नाचरंग की धुनलगी, बेश्‍याओंके झूंठे हावभाव देखकर लोट पोट होगया ? “अय ! सुभानअल्‍लाह ! क्‍या जोबन खिल रहा है !” “वल्‍लाह ! क्‍या बहार आ रही है ?” “चश्‍म बद्ददूर क्‍या भोली, भोली सूरत है !” “अय ! परे हटो !” “मैं सदकै ! मैं कुर्बान ! मुझे न छेड़ो !” “खुदाकी कसम ! मेरी तरफ़ तिरछी नजर सै न देखो !” बस यह चोचलेकी बातें चित्‍तमैं चुभ गईं. किसी बात का अनुभव तो था ही नहीं. तरुणाई की तरंग, शिंभूदयाल और चुन्‍नीलाल आदिकी संगति, द्रव्‍य और अधिकार के नशे मैं ऐसा चकचूर हुआ कि लोक- परलोक की कुछ खबर न रही.

 

यह बिचारी सीधी सादी सुयोग्‍य स्‍त्री अब गंवारी मालूम होनैं लगी. पहले-पहले कुछ दिन यह बात छिपी रही परन्‍तु प्रीति के फूलमैं कीड़ा लगे पीछै वह रस कहां रहसक्ता है ? उस्‍समय परस्‍पर के मिलाप सै किसी का जी नहीं भरताथा, बातों की गुलझटी क़भी सुलझनें नहीं पातीथी, आधी बात मुख मैं और आधी बात होठोंही मैं हो जाती थी, आँख सै आँख मिल्तेही दोनोंको अपनें आप हँसी आ जाती थी केवल हँसी नहीं उस हँसी मैं धूप छाया की तरह आधी प्रीति और आधी लज्‍जा की झलक दिखाई देती थी और सही प्रीति के कारण संसार की कोई वस्‍तु सुन्‍दरता मैं उस्‍सै अधिक नहीं मालूम होती थी. एक की गुप्‍त दृष्टि सदा दूसरे की ताक झाँक में लगी रहती थी. क्‍या चित्रपट देखनें मैं, क्‍या रमणीक स्‍थानों की सैर करनें मैं, क्‍या हँसी दिल्‍लगी की बातों मैं कोई मौका नोक झोंक सै खाली नहीं जाता था और संसार के सब सुख अपनें प्राण जीवन बिना उन्‍को फीके लगते थे परन्‍तु अब वह बातें कहां हैं ? उस्‍की स्‍त्री अबतक सब बातों मैं वैसी ही दृढ़ है बल्कि अज्ञान अवस्‍था की अपेक्षा अब अधिक प्रीति रखती है परन्‍तु मदनमोहन का चित्त वह न रहा. वह उस बिचारी सै कोसों भागता है उस्‍को आफत समझता है क्‍या इन बातों सै अनसमझ तरुणों की प्रीति केवल आंखों मैं नहीं मालूम होती ? क्‍या यह उस्‍की बेकदरी और झूंठी हिर्सका सबसै अधिक प्रमाण नहीं है ? क्‍या यह जानें पीछै कोई बु‍द्धिमान ऐसे अनसमझ आदमियों की प्रतिज्ञाओं का विश्‍वास कर सक्ता है ? क्‍या ऐसी पवित्र प्रीति के जोड़े मैं अन्‍तर डालनें वालों को बाल्‍मीकि ऋषि का शाप भस्‍म न करेगा ? क्‍या एक हक़दार की सच्‍ची प्रीति के ऐसे चोरों को परमेश्‍वर के यहां सै कठिन दंड न होगा ?

 

मदनमोहन की पतिब्रता स्‍त्री अपनें पति पर क्रोध करना तो सीखी ही नहीं है. मदनमोहन उस्की दृष्टि मैं एक देवता है. वह अपनें ऊपर के सब दु:खों को मदनमोहन की सूरत देखते ही भूल जाती है और मदनमोहन के बड़े सै बड़े अपराधों को सदा जाना न जाना करती रहती है. मदनमोहन महीनों उस्‍की याद नहीं करता परन्‍तु वह केवल मदनमोहन को देखकर जीती है. वह अपना जीवन अपनें लिये नहीं; अपनें प्राणपति के लिये समझती है. जब वह मदनमोहन को कुछ उदास देखती है तो उस्‍के शरीर का रुधिर सूख जाता है. जब उस्‍को मदनमोहन के शरीर मैं कुछ पीड़ा मालूम होती है तो वह उस्‍की चिन्‍ता मैं बावली बन जाती है. मदनमोहन की चिन्‍ता सै उस्‍का शरीर सूखकर कांटा हो गया है. उस्‍को अपनें खानें पीनें की बिल्‍कुल लालसा नहीं है परन्‍तु वह मदनमोहन के खानें पीनें की सब सै अधिक चिन्‍ता रखती है. वह सदा मदनमोहन की बड़ाई करती रहती है और जो लोग मदनमोहन की ज़रा भी निन्‍दा करते हैं वह उन्‍की शत्रु बन जाती है. वह सदा मदनमोहन को प्रसन्‍न रखनें के लिये उपाय करती है उस्‍के सम्‍मुख प्रसन्‍न रहती है अपना दु:ख उस्‍को नहीं जताती और सच्‍ची प्रीति सै बड़प्‍पन का बिचार रखकर भय और सावधानी के साथ उस्की आज्ञा प्रतिपालन करती रहती है.

 

थोड़े खर्च मैं घर का प्रबन्‍ध ऐसी अच्‍छी तरह कर रक्‍खा है कि मदनमोहन को घर के कामों मैं ज़रा परिश्रम नहीं करना पड़ता. जिस्‍पर फुर्सत के समय खाली बैठकर और लोगों की पंचायत और स्त्रियों के गहनें गांठे की थोथी बातों के बदले कुछ कुछ लिखनें पढ़नें, कसीदा काढ़नें और चित्रादि बनानें का अभ्‍यास रखती है. बच्‍चे बहुत छोटे हैं परन्‍तु उन्को खेल ही खेल मैं अभी से नीति के तत्‍व समझाए जाते हैं और बेमालूम रीति सै धीरे, धीरे हरेक बस्‍तु का ज्ञान बढ़ाकर ज्ञान बढ़ानें की उन्‍की स्‍वाभाविक रुचि को उत्तेजत दिया जाता है परन्‍तु उन्‍के मन पर किसी तरह का बोझ नहीं डाला जाता उन्के निर्दोष खेलकूद और हंसनें बोलनें की स्‍वतन्‍त्रता मैं किसी तरह की बाधा नहीं होनें पाती.

 

मदनमोहन की स्‍त्री अपनें पतिको किसी समय मौकेसै नेंक सलाह भी देती है परन्‍तु बड़ोंकी तरह दबाकर नहीं: बराबर वालों की तरह झगड़ कर नहीं. छोटों की तरह अपनें प‍तिकी पदवीका बिचार करके, उन्‍के चित दु:खित होनें का बिचार करके, अपनी अज्ञानता प्रगट करके, स्त्रियोंकी ओछी समझ जता कर धीरजसै अपना भाव प्रगट करती है परन्‍तु क़भी लोटकर जवाब नहीं देती, बिवाद नहीं करती. वह बुद्धिमती चुन्‍नीलाल और शिंभूदयाल इत्‍यादि की स्‍वार्थपरतासै अच्‍छी तरह भेदी है परन्‍तु पति की ताबेदारी करना अपना कर्तव्‍य समझ कर समयकी बाट देख रही है और ब्रजकिशोर को मदनमोहनका सच्‍चा शुभचिंतक जान्‍कर केवल उसीसै मदनमोहनकी भलाईकी आशा रखती है. वह क़भी ब्रजकिशोर सै सन्मुख होकर नहीं मिली परन्‍तु उसको धर्म्मका भाई मान्‍ती हैं और केवल अपनें पतिकी भलाईके लिये जो कुछ नया वृत्तान्त कहलानें के लायक मालूम होता है वह गुपचुप उस्‍सै कहला भेजती है. ब्रजकिशोर भी उस्‍को धर्म्म की बहन समझता है इस कारण आज ब्रजकिशोरके अनायास क्रोध करके चले जानें पर उस्‍नें मदनमोहनके हक़मैं ब्रजकिशोर की दया उत्‍पन्‍न करनें के लिये इस्‍समय अपनें नन्हें बच्‍चों को टहलनीके साथ ब्रजकिशोरके पास भेज दिया था परन्‍तु वह लोटकर आए इतनें में अपनी ही मेरठ जानें की तैयारी होगई और रातों रात वहां जाना पड़ा.

 

 

 

प्रकरण-22

 

संशय

 

अज्ञपुरुष श्रद्धा रहित संशय युत बिनशाय।।

 

बिना श्रद्धा दुहुं लोकमैं ताकों सुख न लखाय।।

 

श्रीमद्भगवद्गीता।।

 

लाला ब्रजकिशोर उठकर कपड़े नहीं उतारनें पाएथे इतनें मैं हरकिशोर आ पहुँचा.

 

“क्यों ! भाई ! आज तुम अपनें पुरानें मित्रसै कैसै लड़ आए ?” ब्रजकिशोर नें पूछा.

 

“इस्‍सै आपको क्‍या ? आपके हां तो घीके दिए जल गए होंगे” हरकिशोरनें जवाब दिया.

 

“मेरे हां घीके दिये जलनें की इस्‍मैं कौन्‍सी बात थी ?” ब्रजकिशोर नें पूछा.

 

“आप हमारी मित्रता देखकर सदैव जला करते थे आज वह जलन मिट गई”

 

“क्‍या तुम्‍हारे मनमैं अब तक यह झूंटा बहम समा रहा है ?” ब्रजकिशोरनें पूछा.

 

“इस्‍मैं कुछ संदेह नहीं” हरकिशोर हुज्‍जत करनें लगा. मैं ठेठसै देखता आता हूँ कि आप मुझको देखकर जल्‍ते हैं. मेरी और मदनमोहन की मित्रता देखकर आपकी छाती पर सांप लोटता है. आपनें हमारा परस्‍पर बिगाड़ करनेंके लिये कुछ थोड़े उपाय किये ? मदनमोहनके पिताको थोड़ा भड़काया ? जिस दिन मेरे लड़के की बारातमैं शहरके सब प्रतिष्ठित मनुष्‍य आये थे उन्‍को देखकर आपके जीमैं कुछ थोड़ा दु:ख हुआ ? शहरके सब प्रतिष्ठित मनुष्‍योंसै मेरा मेल देखकर आप नहीं कुढ़ते ? आप मेरी तारीफ सुनकर क़भी अपनें मनमैं प्रसन्‍न हुए ? आपनें किसी काममैं मुझको सहायता दी. जब मैंनै अपनें लड़के के बिबाहमैं मजलिस की थी आपनें मजलिस करनेंसै मुझे नहीं रोका ? लोगोंके आगे मुझको बावला नहीं बताया ? बहुत कहनें सै क्‍या है ? आज ही मदनमोहन का मेरा बिगाड़ सुन्‍कर कचहरीसै वहां झटपट दोड़गए और दो घण्‍टे एकांतमैं बैठकर उस्‍को अपनी इच्‍छानुसार पट्टी पढ़ा दी परन्‍तु मुझको इन बातोंकी क्‍या परवा है ? आप और वह दोनों मिल्‍कर मेरा क्‍या करसक्ते हो ? मैं सब समझलूंगा.”

 

लाला ब्रजकिशोर ये बातें सुन, सुनकर मुस्‍कराते जाते थे. अब वह धीरज सै बोले “भाई ! तुम बृथा बहम का भूत बनाकर इतना डरते हो. इस बहमका ठिकाना है ? तुम तत्‍काल इन बातोंकी सफाई करते चलेजाते तो मनमैं इतना बहम सर्वथा नहीं रहता. क्‍या स्‍वच्‍छ अन्त:करण का यही अर्थ है ? मुझको जलन किस बात पर होती ? तुम अपना सब काम छोड़कर दिन भर लोगोंकी हाज़री साधते फ़िरोगे, उन्‍की चाकरी करोगे, उन्‍को तोहफा तहायफ दोगे ? दस, दस बार मसाल लेकर उन्‍के घर बुलानें जाओगे तो वह क्‍या न आवेंगे ? अपनें गांठ की दौलत खर्च करके उन्‍को नाच दिखाओगे तो वह क्‍यों न तारीफ़ करेंगे ? परन्‍तु यह तारीफ़ कितनी देरकी, वाह वाह कितनी देर की ? क़भी तुम पर आफत आ पड़ेगी तो इन्‍मैंसै कोई तुम्‍हारी सहायता को आवेगा ? इस खर्चसै देशका कुछ भला हुआ ? तुम्‍हारा कुछ भला हुआ ? तुम्‍हारी संतान का कुछ भला हुआ ? यदि इस फ़िज़ूल ख़र्ची के बदले लड़के के पढ़ानें लिखानें मैं यह रुपया लगाया जाता, अथवा किसी देश हितकारी काममैं ख़र्च होता तो निस्सन्देह बड़ाई की बात थी परन्‍तु मैं इस्‍मैं क्‍या तारीफ करता, क्‍या प्रसन्‍न होता, क्‍या सहायता करता. मुझको तुम्‍हारी भोली -भोली बातोंपर बड़ा आश्चर्य था, इसी वास्तै मैंनें तुमको फ़िज़ूल ख़र्ची सै रोका था, तुमको बावला बताया था परन्‍तु तुम्‍हारी तरफ़की मेरी मनकी प्रीतिमैं कुछ अन्‍तर क़भी नहीं आया, क्‍या तुम यह बिचारते हो कि जिस्‍सै सम्बंध हो उस्‍की उचित अनुचित हरेक बातका पक्षपात करना चाहिये ? इन्साफ़ अपनें वास्‍ते नहीं केवल औरोंके वास्‍ते है ? क्‍या हाथ मैं डिम-डिम लेकर सब जगह डोंडी पीटे बिना सच्‍ची प्रीति नहीं मालूम होती ? इन सब बातों मैं कोई बात तुम्‍हारी बड़ाईके लायक न हो तो भी तुम को प्रसन्‍न देखकर प्रसन्‍न होना तो घर फूंक तमाशा देखना है. मैं यह नहीं कहता कि मनुष्‍य ऐसे कुछ काम न करे. समय, समय पर अपनें बूते मूजिब सबकाम करनें योग्‍य हैं परन्‍तु यह मामूली कारवाई है. जितना वैभव अधिक होता है उतनी ही धूमधाम बढ़ जाती है इस लिये इस्‍मैं कोई खास बात नहीं पाई जाती है. मैं चाहता हूँ कि तुम सै कोई देश ‍हितैषी ऐसा काम बनें जिस्मैं मैं अपनें मनकी उमंग निकाल सकूं. मनुष्‍य को जलन उस मौकेपर हुआ करती है जब वह आप उस लायक न हो परन्‍तु तुम को जो बड़ाई बड़े परिश्रम से मिली है वह ईश्‍वर की कृपा सै मुझ को बेमहनत मिल रही हैं. फ़िर मुझको जलन क्‍यों हो ? तुम्‍हारी तरह खुशामद कर के मदनमोहन सै मेल किया चाहता तो मैं सहज मैं करलेता. परन्‍तु मैंनें आप यह चाल पसन्‍द न की तो अपनी इच्‍छा सै छोड़ी हुई बातों के लिये मुझ को जलन क्‍यों हो ? जलन की वृत्ति परमेश्‍वर नें मनुष्‍य को इस लिये दी है कि वह अपनें सै ऊंची पदवी के लोगों को देखकर उचित रीति सै अपनी उन्‍नति का उद्योग करे परन्‍तु जो लोग जलन के मारे औरों का नुक्‍सान करके उन्‍हें अपनी बराबर का बनाया चाहते हैं, वह मनुष्‍य के नाम को धब्‍बा लगाते हैं, मुझ को तुम सै केवल यह शिकायत थी और इसी विषय मैं तुम्हारे विपरीत चर्चा करनी पड़ी थी कि तुमनें मदनमोहन सै मित्रता करके मित्र के करनें का काम न किया. तुमको मदनमोहन के सुधारनें का उपाय करना चाहिये था, परन्‍तु मैंनें तुम्‍हारे बिगाड़ की कोई बात नहीं की. हां इस बहम का क्‍या ठिकाना है ? खाते, पीते, बैठते, उठते, बिना जानें ऐसी सैंकड़ों बातें बन जाती हैं कि जिन्का बिचार किया करें तो एक दिन मैं बावले बन जायं. आए तो आए क्‍यों, बैठे तो बैठे क्‍यों, हँसे तो हँसे क्‍यों, फलानें सै क्‍या बात की. फलानें सै क्‍यों मिले ? ऐसी निरर्थक बातों का बिचार किया करें तो एक दिन काम न चले. छुटभैये सैंकड़ों बातें बीच की बीच मैं बनाकर नित्य लड़ाई करा दिया करें. पर नहीं अपनें मन को सदैव दृढ़ रखना चाहिये. निर्बल मन के मनुष्‍य जिस तरह की जरा जरासी बातों मैं बिगड़ खड़े होते हैं दृढ़ मन के मनुष्‍य को वैसी बातों की खबर भी नहीं होती इसलिये छोटी, छोटी बातों पर बिशेष बिचार करना कुछ तारीफ की बात नहीं है और निश्‍चय किए बिना किसी की निंदित बातों पर विश्‍वास न करना चाहिये. किसी बात मैं संदेह पड़ जाय तो स्‍वच्‍छ मन सै कह सुनकर उस्‍की तत्‍काल सफाई कर लेनी अच्छी है क्‍योंकि ऐसे झूंटे, झूंटे वहम संदेह और मन:कल्पित बातों सै अबतक हज़ारों घर बिगड़ चुके हैं.”

 

“खैर ! और बातों मैं आप चाहैं जो कहें परन्‍तु इतनी बात तो आप भी अंगीकार करते हैं कि मदनमोहन की और मेरी मित्रता के विषय मैं आपनें मेरे बिपरीत चर्चा की. बस इतना प्रमाण मेरे कहनें की सचाई प्रगट करनें के लिये बहुत है” हरकिशोर कहनें लगा “आप का यह बरताव केवल मेरे संग नहीं बल्कि सब संसार के संग है. आप सबकी नुक्तेचीनी किया करते हैं”

 

“अब तो तुम अपनी बात को सब संसारके साथ मिलानें लगे. परन्‍तु तुम्‍हारे कहनें सै यह बात अंगीकार नहीं हो सक्ती. जो मनुष्‍य आप जैसा होता है वैसाही संसार को समझता है. मैंनें अपना कर्तव्‍य समझकर अपनें मन के सच्‍चे, सच्‍चे बिचार तुम सै कह दिए. अब उन्‍को मानों या न मानों तुम्‍हैं अधिकार है” लाला ब्रजकिशोर नें स्‍वतन्‍त्रता सै कहा.

 

“आप सच्‍ची बात के प्रगट होनें सै कुछ संकोच न करैं. सम्‍बन्‍धी हो अथवा बिगाना हो जिस्‍सै अपनी स्‍वार्थ हानि होती है उस्‍सै मनमैं अन्‍तर तो पड़ही जाता है” हरकिशोर कहनें लगा “स्‍यमन्‍तक मणि के संदेह पर श्रीकृष्‍ण-बलदेव जैसे भाईयों मैं भी मन चाल पड़ गई. ब्रह्मसभा मैं अपमान होनें पर दक्ष और महादेव (ससुर-जंवाई) के बीच भी बिरोध हुए बिना न रहा.”

 

“तो यों साफ क्‍यों नहीं कहते कि मेरी तरफ़ सै अब तक तुम्‍हारे मन मैं वही बिचार बन रहे हैं. मुझको कहना था वह कह चुका अब तुम्‍हारे मन मैं आवे जैसे समझते रहो” लाला ब्रजकिशोर नें बेपरवाई सै कहा.

 

“चालाक आदमियों की यह तो रीति ही होती है कि वह जैसी हवा देखते हैं वैसी बात करते हैं. अबतक मदनमोहन सै आपकी अनबन रहती थी अब मुकदमों का समय आते ही मेल हो गया ! अबतक आप मदनमोहन सै मेरी मित्रता छुड़ानें का उपाय करते थे अब मुझको मित्रता रखनें के लिये समझानें लगे ! सच है. बुद्धिमान मनुष्‍य जो करना होता है वही करता है परन्‍तु ओरों का ओलंभा मिटानें के लिये उन्‍के सिर मुफ्त का छप्‍पर ज़रूर धर देता है. अच्‍छा आपको लाला मदनमोहन की नई मित्रता के लिये बधाई है और आपके मनोर्थ सफल करनें का उपाय बहुत लोग कर रहे हैं” हरकिशोर नें भरमा भरमी कहा.

 

“यह तुम क्‍या बक्‍ते हो मेरा मनोर्थ क्‍या है ? और मैंनें हवा देखकर कौन्‍सी चाल बदली ?” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “जैसे नावमैं बैठनें वाले को किनारे के बृक्ष चल्‍ते दिखाई देते हैं इसी तरह तुम्‍हारी चाल बदल जानें सै तुमको मेरी चाल मैं अन्‍तर मालूम पड़ता है. तुम्‍हारी तबियत को जाचनें के लिये तुमनें पहले सै कुछ नियम स्थिर कर रक्‍खे होते तो तुमको ऐसी भ्रांति क़भी न होती. मैं ठेठ सै जिस्‍तरह मदनमोहन को चाहता था, जिस तरह तुमको चाहता था, जिस्‍तरह तुम दोनों की परस्‍पर प्रीति चाहता था उसी तरह अब भी चाहता हूँ परन्‍तु तुम्‍हारी तबियत ठिकानें नहीं है इस्‍सै तुम को बारबार मेरी चाल पर संदेह होता है सौ खैर ! मुझै तो चाहै जैसा समझते रहो परन्‍तु मदनमोहन के साथ बैर भाव मत रक्‍खो. तुच्‍छ बातों पर कलह करना अनुचित है और बैरी सै भी बैर बढ़ानें के बदले उस्‍के अपराध क्षमा करनें मैं बड़ाई मिलती है.”

 

“जी हां ! पृथ्‍वीराज नें शहाबुद्दीन गोरीको क्षमा करके जैसी बड़ाई पाई थी वह सब को प्रगट है” हरकिशोर नें कहा.

 

“आगे को हानि का संदेह मिटे पीछे पहले के अपराध क्षमा करनें चाहियें परन्‍तु पृथ्‍वीराज नें ऐसा नहीं किया था इसी सै धोखा खाया और………”

 

“बस, बस यहीं रहनें दीजिये. मेरा मतलब निकल आया. आप अपनें मुख से ऐसी दशा मैं क्षमा करना अनुचित बता चुके उस्‍सै आगै सुन्‍कर मैं क्‍या करूंगा ?” यह कह कर हरकिशोर, ब्रजकिशोर के बुलाते, बुलाते उठ कर चला गया.

 

और ब्रजकिशोर भी इनहीं बातों के सोच बिचार मैं वहां सै उठ कर पलंगपर जा लेटे.

 

प्रकरण-23

 

प्रामाणिकता

 

“एक प्रामाणिक मनुष्‍य परमेश्‍वर की सर्वोत्‍कृष्‍ट रचना है”

 

पोप.

 

ब्रजकिशोर कौन् हैं ? मदनमोहन की क्‍यों इतनी सहानुभूति (हमदर्दी) करते हैं ?

 

अच्‍छा ! अब थोड़ी देर और कुछ काम नहीं है जितनें थोड़ा सा हाल इन्‍का सुनिये.

 

लाला ब्रजकिशोर गरीब माँ बाप के पुत्र हैं परन्‍तु प्रामाणिक, सावधान, विद्वान और सरल स्‍वभाव हैं. इन्‍की अवस्‍था छोटी है तथापि अनुभव बहुत है. यह जो कहते हैं उसी के अनुसार चलते हैं. इन्‍की बहुत सी बातें अब तक इस पुस्‍तक मैं आचुकी हैं इसलिये कुछ विशेष लिखनें की ज़रूरत नहीं है तथापि इतना कहे बिना नहीं रहा जाता कि यह परमेश्‍वर की सृष्टि का एक उत्तम पदार्थ है. यह वकील हैं परन्तु अपनी तरफ़ के मुकद्दमेवालों का झूंटा पक्षपात नहीं करते. झूंटे मुकद्दमे नहीं लेते. बूते सै ज्‍याद: काम नहीं उठाते, परन्‍तु जो मुकद्दमे लेते हैं उन्‍की पैरवी वाजबी तौर पर बहुत अच्‍छी तरह करते हैं और बहुधा अन्‍याय सै सताए हुए गरीबों के मुकद्दमों मैं बे महन्‍ताना लिये पैरवी किया करते हैं. हाकिम और नगरनिवासियों को इन्‍की बात पर बहुत विश्वास है. यह स्‍वतन्त्र मनुष्‍य हैं परन्‍तु स्‍वेच्‍छाचारी और अहंकारी नहीं हैं. अपनी स्‍वतन्त्रता को उचित मर्यादा सै आगे नहीं बढ़नें देते. परमेश्‍वर और स्‍वधर्म पर दृढ़ विश्‍वास रखते हैं. बात सच कहते हैं परन्‍तु ऐसी चतुराई सै कहते हैं कि इन्‍का कहना किसी को बुरा नहीं लगता और किसी की हक़तल्‍फी भी नहीं होनें पाती. यह थोथी बातों पर विवाद नहीं करते और इन्‍के कर्तव्‍य मैं अन्‍तर न आता हो तो ये दूसरे की प्रसन्‍नता के लिये अकारण भी चुप हो रहते हैं अथवा केवल संकेत सा कर देते हैं. जहां तक औरों के हक़मैं अन्‍तर न आया ये अपनें ऊपर दु:ख उठा कर भी परोपकार करते हैं; बैरी सै सावधान रहते हैं परन्तु अपनें मन मैं उन्की तरफ़ का बैर भाव नहीं रखते. अपनी ठसक किसी को नहीं दिखलाया चाहते, यह मध्‍यम भाव सै रहनें को पसन्‍द करते हैं और इन्‍की भलमनसात सै सब लोग प्रसन्‍न हैं. परन्‍तु मदनमोहन को इन्‍की बातें अच्‍छी नहीं लगतीं. और लोगों सै यह केवल इतनी बात करते हैं जिस्‍मैं वह प्रसन्‍न रहैं और इन्‍हें झूंट न बोलनी पड़े परन्‍तु मदनमोहन सै ऐसा सम्‍बन्‍ध नहीं है. उस्‍की हानि लाभ को यह अपनी हानि लाभ सै अधिक समझते हैं इसी वास्‍तै इन्‍की उस्सै नहीं बन्‍ती. यह कहते हैं कि “जब तक कुछ काम न हो; अपनें पल्‍ले मैं किसी तरह का दाग लगाए बिना हर हरह के आदमी सै अच्‍छी तरह मित्रता निभ सक्‍ती है परन्तु काम पड़े पर उचित रीति बिना काम नहीं चलता”

 

“यह अपनी भूल जान्‍ते ही प्रसन्‍नता सै उस्‍को अंगीकार करके उस्‍के सुधारनें का उद्योग करते हैं इसी तरह जो बात नहीं जान्‍ते उस्मैं अपनी झूंटी निपुणता दिखानें पर काम पड़नें पर उस्‍का अभ्‍यास करके जेम्‍सवाट की तरह अपनी सच्ची सावधानी सै लोगों को आश्‍चर्य मैं डालते हैं.

 

(बहुधा लोग जान्‍ते होंगे कि जेम्सवाट कलों के काम मैं एक प्रसिद्ध मनुष्‍य हो गया है उस्‍के समान काल मैं उस्‍की अपेक्षा बहुत लोग अधिक विद्वान थे परन्‍तु अपनें ज्ञान को काम मैं लानें के वास्‍ते जेम्‍सवाट नें जितनी महनत की उतनी और किसी नें नहीं की. उस्नें हरेक पदार्थ की बारीकियों पर दृष्टि पहुँचानें के लिये खूब अभ्‍यास बढ़ाया. वह बढई का पुत्र था जब वह बालक था तब ही अपनें खिालोनों मैं सै बिद्या विषय ढूंढ निकालता था. उस्के बाप की दुकान मैं ग्रहोंके देखनें की कलें रक्‍खी थीं जिस्‍सै उस्‍को प्रकाश और ज्‍योतिष बिद्या का ब्यसन हुआ. उस्‍के शरीर मैं रोग उत्‍पन्‍न होनें सै उस्‍को बैद्यक सीखनें की रुचि हुई. और बाहर गांव मैं एकांत फ़िरनें की आदत सै उस्‍नें बनस्‍पति बिद्या और इतिहास का अभ्‍यास किया. गणित शास्‍त्र के औज़ार बनाते बनाते उस्‍को एक आर्गन बाजा बनानें की फर्मायश हुई. परन्तु उस्‍को उस्‍समय तक गाना नहीं आता था इसलिये उस्‍नें प्रथम संगीत बिद्या का अभ्‍यास करके पीछे सै एक आर्गन बाजा बहुत अच्‍छा बना दिया. इसी तरह एक बाफ की कल उस्‍की दुकान पर सुधरनें आई तब उस्‍नें गर्मी और बाफ बिषयक बृतान्त् सीखनें पर मन लगाया और किसी तरह की आशा अथवा किसी के उत्तेजन बिना इस काम मैं दस बरस परिश्रम करके बाफ की एक नई कल ढूंढ निकाली जिस्‍सै उस्‍का नाम सदा के लिये अमर हो गया।)

 

लाला ब्रजकिशोर को संसारी सुख भोगनें की तृष्‍णा नहीं है और द्रव्‍य की आवश्‍यकता यह केवल सांसारिक कार्य निर्वाह के लिये समझते हैं. इस्‍वास्‍तै संसारी कामों की ज़रूरत के लायक परिश्रम और धर्म्म सै रुपया पैदा किये पीछै बाकी का समय यह विद्याभ्‍यास और देशोपकारी बातों मैं लगाते हैं.

 

इन्‍के निकट उन गरीबों की सहायता करनें मैं सच्‍चा पुन्‍य है. जो सचमुच अपना निर्वाह आप नहीं कर सक्‍ते, या जिन रोगियोंके पास इलाज करानें के लिये रुपया अथवा सेवा करनें के लिये कोई आदमी नहीं होता, ये उन अन्समझ बच्‍चों को पढ़ानें लिखानें मैं अथवा कारीगरी इत्‍यादि सिखा कर कमानें खानें के लायक बना देनें मैं सच्‍चा धर्म समझते हैं जिन्‍के मां बाप दरिद्रता अथवा मूर्खता सै कुछ नहीं कर सक्‍ते. ये अपनें देश मैं उपयोगी विद्याओं की चर्चा फैलनें, अच्‍छी, पुस्‍तकों का और भाषाओं सै अनुवाद करवा कर अथवा नई बनवा कर अपनें देश मैं प्रचार करनें, और देश के सच्‍चे शुभचिन्‍तक और योग्‍य पुरुषों को उत्तेजन देनें, और कलों की अथवा खेती आदि की सच्‍ची देश हितकारी बातों के प्रचलित करनें मैं सच्‍चा धर्म्म समझते हैं. परन्‍तु शर्त यह है कि इन सब बातों मैं अपना कुछ स्‍वार्थ न हो, अपनी नामवरी का लालच न हो, किसी पर उपकार करनें का बोझ न डाला जाय बल्कि किसी को खबर ही न होनें पाय.

 

इन्‍नें थोड़ी आमद मैं अपनें घरका प्रबन्‍घ बहुत अच्‍छा बांध रक्‍खा है. इन्‍की आमदनी मामूली नहीं है तथापि जितनी आमदनी आती है उस्‍सै खर्च कम किया जाता है और उसी खर्च मैं भावी विवाह आदि का खर्च समझ कर उनके वास्‍तै क्रम सै सीगेवार रकम जमा होती जाती है. बिवाहादि के खर्चों का मामूल बन्ध रहा है उन्‍मैं फिजूल खर्ची सर्वथा नहीं होनें पाती परन्‍तु वाजबी बातोंमैं कसर भी नहीं रहती, इन्‍के सिवाय जो कुछ थोड़ा बहुत बचता है वह बिना बिचारे खर्च और नुक्‍सानादि के लिये अमानत रक्‍खा जाता है और विश्‍वास योग्‍य फ़ायदे के कामों मैं लगानें सै उस्‍की वृद्धि भी की जाती है.

 

इन्‍के दो छोटे भाइयों के पढ़ानें-लिखानें का बोझ इन्‍के सिर है, इसलिये ये उन्‍को प्रचलित बिद्याभ्‍यास की रूढ़ी के सिबाय उन्‍के मानसिक बिचारोंके सुधारनें पर सब सै अधिक दृष्टि रखते हैं. ये कहते हैं कि “मनुष्‍य के मनके बिचार न सुधरे तो पढ़नें-लिखनें सै क्‍या लाभ हुआ ?” इन्‍नें इतिहास और वर्तमान काल की दशा दिखा, दिखा कर भले बुरे कामों के परिणाम और उन्‍की बारीकी उन्‍के मन पर अच्‍छी तरह बैठा दी तथापि ये अपनी दूर दृष्टि सै अपनी सम्‍हाल मैं गफलत नहीं करते उन्हैं कुसंगति मैं नहीं बैठनें देते. यह उन्‍के संग ऐसी युक्ति सै बरतते हैं जिस्‍मैं न वो उद्धत होकर ढिठाई करनें योग्‍य होनें पावैं न भय सै उचित बात करनें मैं संकोच करें. ये जान्‍ते हैं कि बच्‍चों के मनमैं गुरु के उपदेश सै इतना असर नहीं होता जितना अपनें बड़ों का आचरण देखनें सै होता है इस लिये उन्को मुखसैं उपदेश देकर उतनी बात नहीं सिखाते जितनी अपनी चालचलन सै उनके मन पर बैठाते हैं.

 

ब्रजकिशोर को सच्‍ची सावधानी सै हरेक काममैं सहायता मिल्‍ती है. सच्‍ची सावधानी मानों परमेश्वरकी तरफ़सै इन्‍को हरेक काम की राह बतानें वाली उपदेष्‍टा है परन्‍तु लोग सच्‍ची सावधानी और चालाकीका का भेद नहीं समझते. क्‍या सच्‍ची सावधानी और चालाकी एक है ?

 

मनुष्‍यकी प्रकृतिमैं बहुतसी उत्तमोत्तम वृत्ति मोजूद हैं परन्‍तु सावधानीके बराबर कोई हितकारी नहीं है. सावधान मनुष्‍य केवल अपनी तबियत पर ही नहीं औरोंकी तबियत पर भी अधिकार रखसक्ता है. वह दूसरेसै बात करते ही उसका स्‍वभाव पहचान जाता है और उस्‍सै काम निकालनें का ढंग जान्‍ता है यदि मनुष्‍यमैं और गुण साधारण हों और सावधानी अधिक हो तो वह अच्‍छी तरह काम चला सक्‍ता है परन्‍तु सावधानी बिना और गुणोंसे काम निकालना बहुत कठिन है.

 

जिस्‍तरह सावधानी उत्तम पुरुषोंके स्‍वभावमैं होती है इसी तरह चालाकी तुच्‍छ और कमीनें आदमियोंकी तबियतमैं पाई जाती है. सावधानी हमको उत्तमोत्तम बातें बताती है और उन्‍के प्राप्‍त करनेंके लिये उचित मार्ग दिखाती है. वह हर कामके परिणाम पर दृष्टि पहुंचाती है और आगे कुछ बिगाड़की सूरत मालूम हो तो झूंटे लालचके कामों को प्रारंभ सैं पहले ही अटका देती है परन्तु चालाकी अपनें आसपास की छोटी, छोटी चीजों को देख सक्‍ती है और केवल वर्तमान समय के फायदोंका बिचार रखती है, यह सदा अपनें स्वार्थ की तरफ़ झुकती है और जिस तरह हो सके, अपनें काम निकाल लेनें पर दृष्टि रखती है. सावधानी, आदमी की दृढ़ बुद्धिको कहते हैं और वह जों, लोगोंमैं प्रगट होती जाती है, सावधान मनुष्‍यकी प्रतिष्‍ठा बढ़ती जाती है परन्‍तु चालाकी प्रगट हुए पीछै उसकी बातका असर नहीं रहता. चालाकी होशियारीकी नकल है और वह बहुधा जान्‍वरों की सी-प्रकृतिके मनुष्योंमैं पाई जाती है इस लिये उस्‍मैं मनुष्‍य जन्‍मको भूषित करनें के लायक कोई बात नहीं है. वह अज्ञानियोंके निकट ऐसी समझी जाती है जैसे ठट्टेबाजी, चतुराई और भारी भरकमपना बुद्धिमानी समझे जायं.

 

लाला ब्रजकिशोर सच्‍ची सावधानी के कारण किसी के उपकार का बोझ अपनें ऊपर नहीं उठाया चाहते, किसी सै सिफारश आदि की सहायता नहीं लिया चाहते, कोई काम अपनें आग्रह सै नहीं कराया चाहते, किसी को कच्‍ची सलाह नहीं देते, ईश्‍वर के सिवाय किसी भरोसे पर काम नहीं उठाते, अपनें अधिकार सै बढ़कर किसी काम मैं दस्तंदाजी नहीं करते. औरों की मारफत मामला करनें के बदले रोबरू बातचीत करनें को अधिक पसंद करते हैं. वह लेनदेन मैं बड़े खरे हैं परन्‍तु ईश्‍वर के नियमानुसार कोई मनुष्‍य सबके उपकारों सै उऋण नहीं हो सक्ता. ईश्वर, गुरु और माता पितादि के उपकारों का बदला किसी तरह नहीं दिया जा सकता परन्‍तु ब्रजकिशोर पर केवल इन्‍हीं के उपकार का बोझ नहीं है वह इस्सै सिवाय एक और मनुष्‍य के उपकार मैं भी बँध रहे हैं.

 

ब्रजकिशोर का पिता अत्यन्त दरिद्री था. अपनें पास सै फीस देकर ब्रजकिशोर की मदरसे मैं पढ़ानें की उस्‍की सामर्थ्‍य न थी और न वह इतनें दिन खाली रखकर ब्रजकिशोर को विद्या मैं निपुण किया चाहता था. परन्‍तु मदनमोहन के पिता नें ब्रजकिशोर की बु‍द्धि और आचरण देखकर उसै अपनी तरफ़ सै ऊंचे दर्जे तक विद्या पढ़ाई थी, उस्‍की फीस अपनें पास सै दी थी. उस्की पुस्‍तकैं अपनें पास सै ले दी थीं बल्कि उस्‍के घर का खर्च तक अपनें पास सै दिया था और यह सब बातैं ऐसी गुप्‍त रीति सै हुईं कि इन्‍का हाल स्‍पष्‍ट रीति सै मदनमोहन को भी मालूम न होनें पाया था. ब्रजकिशोर उसी उपकार के बन्‍धन सै इस्‍समय मदनमोहन के लिये इतनी कोशिश करते हैं.

 

प्रकरण–24

 

 

( हाथसै पैदा करनें वाले )

 

( और पोतड़ों के अमीर )

 

अमिल द्रव्‍यहू यत्‍नते मिलै सु अवसर पाय ।

 

संचित हू रक्षाबिना स्‍वत: नष्‍ट होजाय ।।

 

हितोपदेशे

 

मदनमोहन का पिता पुरानी चाल का आदमी था. वह अपना बूतादेखकर काम करता था और जो करता था वह कहता नहीं फ़िरता था. उस्नें केवल हिन्‍दी पढ़ी थी. वह बहुत सीधा सादा मनुष्‍य था परन्‍तु व्‍यापार मैं बड़ा निपुण था, साहूकारे मैं उस्‍की बड़ी साख थी. वह लोगों की देखा-देखी नहीं अपनी बुद्धि सै व्‍यापार करता था. उस्नें थोड़े व्‍यापार मैं अपनी सावधानी सै बहुत दौलत पैदा की थी. इस्‍समय जिस्‍तरह बहुधा मनुष्‍य तरह, तरह की बनावट और अन्‍याय सै औरों की जमा मारकर साहूकार बन बैठते हैं, सोनें चान्दी के जगमगाहट के नीचे अपनें घोर पापों को छिपाकर सज्‍जन बन्नें का दावा करते हैं, धनको अपनी पाप वासना पूरी करनें का एक साधन समझते हैं ऐसा उस्‍नें नहीं किया था. वह व्‍यापार मैं किसी को कसर नहीं देता था पर आप भी किसी सै कसर नहीं खाता था. उन दिनों कुछ तो मार्ग की कठिनाई आदि के कारण हरेक धुनें जुलाहे को व्‍यापार करनें का साहस न होता था इसलिये व्‍यापार मैं अच्‍छा नफा था दूसरे वह वर्तमान दशा और होनहार बातों का प्रसंग समझकर अपनी सामर्थ्य मूजिब हरबार नए रोजगार पर दृष्टि पहुँचाया करता था इसलिये मक्‍खन उस्‍के हाथ लग जाता था, छाछ मैं और रह जाते थे. कहते हैं कि एकबार नई खानके पन्‍नेंकी खड़ बाजार मैं बिकनें आई परन्‍तु लोग उस्‍की असलियत को न पहचान सके और उस्‍सै खरीद कर नगीना बनवानें का किसी को हौसला न हुआ परन्‍तु उस्की निपुणाई सै उस्‍की ष्टि मैं यह माल जच गया था इसलिये उस्‍नें बहुत थोड़े दामों मैं खरीद लिया और उस्‍के नगीनें बनवाकर भली भांत लाभ उठाया. उसी समय सै उस्‍की जड़जमी और पीछै वह उसै और, और व्‍यापार मैं बढ़ाता गया. परन्‍तु वह आप क़भी बढ़कर न चला. वह कुछ तकलीफ सै नहीं रहता था परन्‍तु लोगों को झूंटी भड़क दिखानें लिये फिजूलखर्ची भी नहीं करता था उस्‍की सवारीमैं नागोरी बैलोंका एक सुशोभित तांगा था. और वह खासे मलमल सै बढ़कर क़भी वस्‍‍त्र नहीं पहनता था. वह अपनें स्‍थान को झाड़ पोंछकर स्‍वच्‍छ रखता था परन्तु झाड़फानूस आदि को फिज़ूलखर्ची मैं समझता था. उस्‍के हां मकान और दुकानपर बहुत थोड़े आदमी नोकर थे परन्तु हरेक मनुष्य का काम बटा रहता था इसलिये बड़ी सुगमता सै सब काम अपनें, अपनें समय होता चला जाता था, वह अपनें धर्म्म पर दृढ़ था. ईश्‍वर मैं बड़ी भक्ति रखता था. प्रतिदिन प्रात:- काल घन्टा डेढ़ घन्टा कथा सुन्‍ता था और दरिद्री, दुखिया, अपहाजों की सहायता करनें मैं बड़ी अभिरुचि रखता था परन्‍तु वह अपनी उदारता किसी को प्रगट नहीं होनें देता था. वह अपनें काम धंधे मैं लगा रहता था इसलिये हाकिमों और रहीसों सै मिलनें का उसे समय नहीं मिल सक्ता था परन्तु वह वाजबी राह सै चल्‍ता था इसलिये उसै बहुधा उन्सै मिलनें की कुछ अवश्‍यकता भी न थी क्‍योंकि देशोन्‍नतिका भार पुरानी रूढि़ के अनुसार केवल राजपुरुषों पर समझा जाता था. वह महनती था इसलिये तन्दुरुस्‍त था वह अपनें काम का बोझ हरगिज औरों के सिर नहीं डालता था; हां यथाशक्ति वाजबी बातों मैं औरों की सहायता करनें को तैयार रहता था.

 

परन्‍तु अब समय बदल गया इस्‍समय मदनमोहन के बिचार और ही होरहे हैं, जहां देखो; अमीरी ठाठ, अमीरी कारखानें, बाग की सजावट का कुछ हाल हम पहले लिख चुके हैं मकान मैं कुछ उस्‍सै अधिक चमत्‍कार दिखाई देता है, बैठक का मकान अंग्रेजी चाल का बनवाया गया है उस्‍मैं बहुमूल्‍य शीशे बरतन के सिवाय तरह, तरह का उम्‍दा सै उम्‍दा सामान मिसल सै लगा हुआ है. सहन इत्‍यादि मैं चीनी की ईंटों का सुशोभित फर्श कश्‍मीर के गलीचों को मात करता है. तबेलेमैं अच्‍छी सै अच्‍छी विलायती गाड़ियें और अरबी, केप, बेलर, आदिकी उम्‍दा उम्दा जोड़ियें अथवा जीनसवारी के घोड़े बहुतायत सै मौजूद हैं. साहब लोगों की चिट्ठियें नित्‍य आती जाती हैं. अंग्रेज़ी तथा देसी अखबार और मासिकपत्र बहुतसे लिये जाते हैं और उन्‍मैं सै खबरें अथवा आर्टिकलों को कोई देखे ना न देखे परन्‍तु सौदागरों के इश्‍तहार अवश्‍य देखे जाते हैं, नई फैशन की चीज़ें अवश्‍य मंगाई जाती हैं, मित्रोंका जलूसा सदैव बना रहता है और क़भी क़भी तो अंग्रेजों को भी बाल दिया जाता है, मित्रोंके सत्‍कार करनें मैं यहां किसी तरह की कसर नहीं रहती और जो लोग अधिक दुनियादार होते हैं उन्‍की तो पूजा बहुतही विश्‍वासपूर्वक की जाती है ! मदनमोहन की अवस्था पच्‍चीस, तीस बरस सै अधि‍क न होगी. वह प्रगट मैं बड़ा विवेकी और बिचारवान मालूम होता है. नए आदमियों सै बड़ी अच्‍छी तरह मिल्‍ता उस्‍के मुखपर अमीरी झलकती है. वह वस्त्र सादे परन्तु बहुमूल्य पहनता है. उस्के पिता को व्‍यापारी लोगों के सिवाय कोई नहीं जान्‍ता था परन्‍तु उस्‍की प्रशंसा अखबारों मैं बहुधा किसी न किसी बहानें छपती रहती है और वह लोग अपनी योग्‍यता सै प्रतिष्ठित होनें का मान उसे देते हैं.

 

अच्‍छा ! मदनमोहन नें उन्‍नति की अथवा अवनति की इस विषय मैं हम इस्‍समय विशेष कुछ नहीं कहा चाहते परन्‍तु मदनमोहन नें यह पदवी कैसे पाई ? पिता पुत्र के स्‍वभाव मैं इतना अन्‍तर कैसे होगया ? इसका कारण इस्समय दिखाया चाहते हैं.

 

मदनमोहन का पिता आप तो हरेक बात को बहुत अच्‍छी तरह समझता था परन्‍तु अपनें विचारों को दूसरे के मन मैं (उस्‍का स्वभाव पहिचान कर) बैठादेनें की सामर्थ्‍य उसे न थी. उस्‍नें मदनमोहन को बचपन मैं हिन्‍दी, फारसी और अंग्रेजी भाषा सिखानें के लिये अच्‍छे, अच्‍छे उस्‍ताद नौकर रख दिये थे परन्‍तु वह क्‍या जान्‍ता था कि भाषा ज्ञान विद्या नहीं, विद्या का दरवाजा है. विद्या का लाभ तो साधारण रीति सै बु्द्धि के तीक्ष्‍ण होनें पर और मुख्‍य करके विचारों के सुधरनें पर मिल्‍ता है. जब उस्‍को यह भेद प्रगट हुआ उस्‍नें मदनमोहन को धमका कर राह पर लानें की युक्ति विचारी परन्‍तु वह नहीं जान्‍ता था कि आदमी धमकानें सै आंख और मुख बन्‍द कर सक्ता है, हाथ जोड़ सक्ता है, पैरों मैं पड़ सक्ता है, कहो जैसे कह सक्ता है, परन्‍तु चित्त पर असर हुए बिना चित्त नहीं बदलता और सत्‍संग बिना चित्त पर असर नहीं होता जब तक अपनें चित्त मैं अपनी हालत सुधारनें की अभिलाषा न हो औरों के उपदेश सै क्‍या लाभ हो सक्ता है ? मदनमोहन का पिता मदनमोहन को धमका कर उस्‍के चित्तका असर देखनें के लिये कुछ दिन चुप हो जाता था परन्तु मदनमोहन के मन दुखनें के बिचार सै आप प्रबन्ध न करता था और इस देरदार का असर उल्‍टा होना था. हरकिशोर, शिंभूदयाल, चुन्‍नीलाल, वगैरे मदनमोहन की बाल्‍यावस्‍था को इसी झमेले मैं निकाला चाहते थे क्‍योंकि एक तो इस अवकाश मैं उन लोगों के संग का असर मदनमोहन के चित्त पर दृढ़ होता जाता था दूसरे मदनमोहन की अवस्‍था के संग उस्‍की स्‍वतन्त्रता बढ़ती जाती थी इसलिये मदनमोहन के सुधरनें का यह रस्‍ता न था. मदनमोहन के बिचार प्रतिदिन दृढ़ होते जाते थे परन्‍तु वह अपनें पिता के भय सै उन्‍हैं प्रगट न करता था. खुलासा यह है कि मदनमोहन के पितानें अपनी प्रीति अथवा मदनमोहन की प्रसन्‍नता के बिचार सै मदनमोहन के बचपन मैं अपनें रक्षक भाव पर अच्‍छी तरह बरताव नहीं किया अथवा यों कहो कि अपना कुछरती हक़ छोड़ दिया इस‍लिये इन्‍के स्‍वभाव मैं अन्‍तर पड़नें का मुख्‍य ये ही कारण हुआ.

 

ब्रजकिशोर ठेठ सै मदनमोहन के विरुद्ध समझा जाता था. ब्रजकिशोर को वह लोग कपटी, चुगलखोर, द्वेषी और अभिमानी बताते थे. उन्‍के निकट मदनमोहन के पिता का मन बिगाड़नें वाला वह था. चुन्‍नीलाल और शिंभूदयाल उस्‍की सावधानी सै डर कर मदनमोहन का मन उस्‍की तरफ़ सै बिगाड़ते रहते थे और मदनमोहन भी उस्‍पर पिता की कृपा देख कर भीतर सै जल्‍ता था. हरकिशोर जैसे मुंह फट तो कुछ, कुछ भरमा भरमी उस्‍को सुना भी दिया करते थे परन्‍तु वह उचित जवाब देकर चुप हो जाता था. और अपनी निर्दोष चाल के भरोसे निश्चिन्‍त रहता था. हां उस्‍को इन्‍की चाल अच्‍छी नहीं लगती थी और इन्‍के मन का पाप भी मालूम था इसलिये वह इन्‍सै अलग रहता था इन्‍का बृतान्‍त जान्‍नें सै जान बूझकर बेपरवाई करता था उस्‍नें मदनमोहन के पिता सै इस विषय मैं बात -चीत करना बिल्‍कुल बन्‍द कर दिया था मदनमोहन के पिता का परलोक हुए पीछै निस्‍सन्‍देह उस्‍को मदनमोहन के सुधारनें की चटपटी लगी. उस्‍नें मदनमोहन को राह पर लानें के लिये समझानें मैं कोई बात बाकी नहीं छोड़ी परन्‍तु उस्‍का सब श्रम व्‍यर्थ गया उस्‍के समझानें सै कुछ काम न निकला.

 

अब आज हरकिशोर और ब्रजकिशोर दोनों इज्‍जत खोकर मदनमोहन के पास सै दूर हुए हैं. इन्‍मैं सै आगे चलकर देखैं कोन् कैसा बरताव करता है ?

 

प्रकरण-25

 

साहसी पुरुष

 

सानु बन्‍ध कारज करे सब अनुबन्‍ध निहार

 

करै न साहस, बुद्धि बल पंडित करै बिचार

 

विदुरप्रजागरे.

 

हम प्रथम लिख चुके हैं कि हरकिशोर साहसी पुरुष था और दूर के सम्बन्ध मैं ब्रजकिशोर का भाई लगता था. अब तक उस्के काम उस्की इच्छानुसार हुए जाते थे वह सब कामों मैं बड़ा उद्योगी और दृढ़ दिखाई देता था. उस्का मन बढ़ता जाता था और व‍ह लड़ाई झगड़े वगैरे के भयंकर और साहसिक कामों मैं बड़ी कारगुजारी दिखलाया करता था. वह हरेक काम के अंग प्रत्यंग पर दृष्टि डालनें या सोच बिचार के कामों मैं माथा खाली करनें और परिणाम सोचनें या कागजी और हिसाबी मामलों मैं मन लगनें के बदले ऊपर, ऊपर सै इन्को देख भाल कर केवल बड़े, बड़े कामों मैं अपनें तांई लगाये रखनें और बड़े आदमियों सैं प्रतिष्ठा पानें की विशेष रुचि रखता था. उस्नें हरेक अमीर के हां अपनी आवा-जाई कर ली थी और वह सबसै मेल रखता था. उस्के स्वभाव मैं जल्दी होनें के कारण वह निर्मूल बातों पर सहसा बिश्वास कर लेता था और झट पट उन्का उपाय करनें लगता था. उस्के बिना बिचारे कामों सै जिस्तरह बिना विचारा नुक्सान हो जाता था इसी तरह बिना बिचारे फ़ायदे भी इतनें हो जाते थे जो बिचार कर करनें सै किस प्रकार सम्भव न थे. जब तक उस्के काम अच्छी तरह सम्पन्न हुए जाते थे, उस्को प्रति दिन अपनी उन्नति दिखाई देती थी, सब लोग उसकी बात मान्ते थे. उस्का मन बढ़ता जाता था और वो अपना काम सम्पन्न करनें के लिये अधिक, अधिक परिश्रम करता था. परन्तु जहां किसी बात मैं उस्का मन रुका उसकी इच्छानुसार काम न हुआ. किसीनें उस्‍की बात दुलख दी अथवा उस्‍को शाबासी न मिली वहां वह तत्‍काल आग हो जाता था. हरेक काम को बुरी निगाह सै देखनें लगता था. उस्‍की कारगुजारी मैं फर्क आ जाता था और वह नुकसान सै खुश होनें लगता था इसलिये उस्‍की मित्रता भय सै खाली न थी.

 

कोई साहसी पुरुष स्‍वार्थ छोड़ कर संसार के हितकारी कामों मैं प्रबृत्त हो तो कोलम्‍बसकी तरह बहुत उपयोगी हो सक्ता है और अब तक संसार की बहुत कुछ उन्‍नति ऐसे ही लोगों सै हुई है इस लिये साहसी पुरुष परित्‍याग करनें के लायक नहीं हैं परन्‍तु युक्ति सै काम लेनें के लायक हैं हां ! ऐसे मनुष्‍यों सै काम लेनें मैं उन्‍का मन बराबर बढ़ाते जांय तो आगै चल कर काबू सै बाहर हो जानें का भय रहता है इसलिये कोई बुद्धिमान तो उन्‍का मन ऐसी रीति सै घटाते-बढ़ाते रहते हैं कि उन्‍का मन बिगड़नें पावै न हद्दसै आगै बढ़नें पावै कोई अनुभवी मध्‍यम प्रकृति के मनुष्‍य को बीच मैं रखते हैं कि वह उन्‍को वाजबी राह बताते रहैं. परन्‍तु लाला मदनमोहन के यहां ऐसा कुछ प्रबन्‍ध न था. दूसरे उस्‍के बिचार मूजिब मदनमोहननें अपनें झूंटे अभिमान सै भलाई के बदले जान-बूझकर उस्‍की इज्‍जत ली थी इस्‍कारण हरकिशोर इस्‍समय क्रोध के आवेश मैं लाल हो रहा था और बदला लेनें के लिये उस्‍के मनमैं तरंगैं उठतीं थीं उस्नें मदनमोहन के मकान सै निकलते ही अपनें जी का गुबार निकालना आरंभ किया.

 

पहलै उस्‍को निहालचंद मोदी मिला. उस्नें पूछा “आज कितनें की बिक्री की ?”

 

“खरीदारी की तो यहां कुछ हद ही नहीं है परन्‍तु माल बेच कर दाम किस्‍सै लें ? जिस्‍को बहुत नफे का लालच हो वह भले ही बेचे मुझको तो अपनी रकम डबोनी मंजूर नहीं” हरकिशोरनें जवाब दिया.

 

“हैं ! यह क्‍या कहते हो ? लाला साहब की रकम मैं कुछ धोका है ?”

 

“धोके का हाल थोड़े दिन मैं खुल जायगा मेरे जान तो होना था वह हो चुका.”

 

“तुम यह बात क्‍या समझ कर कहते हो ?” मोदीनें घबरा कर पूछा “कम सै कम लाख, पचास हजार का तो शीशा बर्तन इस्‍समय इन्‍के मकान मैं होगा.”

 

“समय पर शीशे बर्तन को कोई नहीं पूछता. उस्‍की लागत मैं रुपे के दो आनें नहीं उठते. इन्‍हीं चीजों की खरीदारी मैं तो सब दौलत जाती रही. मैंनें निश्‍चय सुना है कि इन चीजों की कीमत बाबत पचास हजार रुपे तो ब्राइट साहबके देनें हैं और कल एक अंग्रेज दस हजार रुपे मागनें आया था न जानें उस्‍के लेनें थे कि कर्ज मांगता था परन्‍तु लाला साहब नें किसी सै उधार मांग कर देनें का करार किया है ? फ़िर जहां उधार के भरोसे सब काम भुगतनें लगा वहां बाकी क्‍या रहा ? मैंनें अपनी रकम के लिये अभी बहुत तकाजा किया पर वे फूटी कौड़ी नहीं देते इसलिये मैं तो अपनें रुपों की नालिश अभी दायर करता हूं तुम्‍हारी तुम जानों”

 

यह बात सुन्‍ते ही मोदी के होश उड़ गये. वह बोला “मेरे भी पांच हजार लेनें हैं मैंनें कई बार तगादा किया पर कुछ सुनाई न हुई मैं अभी जाकर अपनी रकम मांगता हूं जो सूधी तरह देदेंगे तो ठीक है नहीं तो मैं भी नालिश कर दूंगा. ब्योहार मैं मुलाहिजा क्‍या ?”

 

इस्‍तरह बतला कर दोनों अपनें, अपनें रस्‍ते लगै. आगै चल कर हरकिशोर को मिस्‍टर ब्राइट का मुन्‍शी मिला. वह अपनें घर भोजन करनें जाता था उसै देखकर हरकिशोर अपनें आप कहनें लगा “मुझै क्‍या है ? मेरे तो थोड़ेसे रुपे हैं मैं तो अभी नालिश करके पटा लूंगा. मुश्किल तो पचास, पचास हजार वालों की है देखैं वह क्‍या करते हैं ?”

 

“लाला हरकिशोर किस्‍पर नालिश की तैयारी कर रहे हैं ?” मुन्‍शी नें पूछा.

 

“कुछ नहीं साहब ! मैं आप सै कुछ नहीं कहता. मैं तो बिचारे मदनमोहन का बिचार कर रहा हूँ. हां ! उस्‍की सब दौलत थोड़े दिन में लुट गई अब उस्‍के काम मैं हलचल हो रही है, लोग नालिश करनें को तैयार हैं. मैंनें भी कम्‍बख्‍ती के मारे हजार दो एक का कपड़ा दे दिया था इसलिये मैं भी अपनें रुपे पटानें की राह सोच रहा हूँ. बिचारा मदनमोहन कैसा सीधा आदमी था ?”

 

“क्‍या सचमुच उस्‍पर तकाजा हो गया ? उस्‍पर तो हमारे साहब के भी पचास हजार रुपये लेनें हैं. आज सबेरे तो लाला मदनमोहन की तरफ़ सै बड़े काचों की एक जोड़ी खरीदनें के लिये मास्‍टर शिंभूदयाल हमारे साहब के पास गए थे फ़िर इतनी देर मैं क्‍या हो गया ? तुमनें यह बात किस्‍सै सुनी ?”

 

“मैं आप वहां सै आता हूँ. कल सै गड़बड़ हो रही है कल एक साहब दस हजार रुपे मांगनें आए थे. इस्‍पर मदनमोहननें स्‍पष्‍ट कह दिया कि मेरे पास कुछ नहीं हैं मैं कहीं सै उधार लेकर दो एक दिन मैं आपका बंदोबस्‍त कर दूंगा. मैंनें अपनें रुपे के लिये बहुत ताकीद की पर मुझको भी कोरा जवाब ही मिला. अब मैं नालिश करनें जाता हूँ और निहालचंद मोदी अभी पांच हजार के लिये पेट पकड़े गया है वह कहता था कि मेरे रुपे इस्समय न देंगे तो मैं भी अभी नालिश कर दूंगा जिस्‍की नालिश पहलै होगी उस्‍को पूरे रुपे मिलैंगे.”

 

“तो मैं भी जाकर साहब सै यह हाल कह दूं तुम्‍हारी रकम तो खेरीज है परन्‍तु साहब का कर्जा बहुत बड़ा है. जो साहब की इस रकम मैं कुछ धोका हुआ तो साहब का काम चलना कठिन हो जायगा.” ये कहक़र मिस्‍टर ब्राइट का मुन्‍शी घर जानें के बदले साहब के पास दौड़ गया.

 

लाला हरकिशोर आगे बढ़े तो मार्ग मैं लाला मदनमोहन की पचपनसो की खरीद के तीन घोड़े लिये हुए आगाहसनजान लाला मदनमोहन के मकान की तरफ़ जाता मिला. उस्‍को देखकर हरकिशोर कहनें लगे “ये ही घोड़े लाला मदनमोहन नें कल खरीदे थे. माल तो बड़े फ़ायदे सै बिका पर दाम पट जायं तब जानिये.”

 

“दामों की क्‍या है ? हमारा हजारों रुपे का काम पहलै पड़ चुका है” आगाहसनजान नें जवाब दिया और मन मैं कहा “हमारी रकम तो अपनें लालच सै चुन्‍नीलाल और शिंभूदयाल घर बैठे पहुँचा जायंगे”

 

“वह दिन गए. आज लाला मदनमोहन का काम डिगमिगा रहा है. उस्‍के ऊपर लोगों का तगादा जारी है जो तुम किसी के भरोसे रहोगे तो धोका खाऔगे जो काम करो : अच्‍छी तरह सोच समझकर करना.”

 

“कल शाम को तो लाला साहब नें हमारे यहां आकर ये घोड़े पसंद किये थे फ़िर इतनी देर मैं क्‍या होगया ?”

 

“जब तेल चुक जाता है तो दिये बुझनें मैं क्‍या देर लगती है ? चुन्‍नीलाल, शिंभूदयाल सब तेल चाट गए. ऐसे चूहों की घात लगे पीछै भला क्‍या बाकी रह सक्‍ता था ?”

 

“मैं जान्‍ता हूँ कि लाला साहब का बहुतसा रुपया लोग खागए परन्तु उन्‍के काम बिगड़नें की बात मेरे मन मैं अबतक नहीं बैठती. तुमनें यह हाल किस्से सुना है ?”

 

“मैं आप वहां सै आया हूँ. मुझको झूंट बोलनें सै क्‍या फायदा है ? मैं तो अभी जाकर नालिश करता हूँ. निहालचंद मोदी नालिश करनें को तैयार है ? ब्राइट साहब का मुन्‍शी अभी सब हकीकत निश्‍चय करके साहब के पास दौड़ा गया है. तुमको भरोसा न हो, निस्सन्देह न मानो. तुम न मानोगे इस्‍सै मेरी क्‍या हानि होगी” यह कहक़र हरकिशोर वहां सै चल दिया.”

 

पर अब मदनमोहन की तरफ़ सै आगाहसनजान को धैर्य न रहा. असल रुपे का लालच उस्‍को पीछे हटाता था और नफै का लालच आगे बढ़ाता था. पहले रुपे के बिचार से तबियत और भी घबराई जाती थी निदान यह राह ठैरी कि इस्‍समय घोड़ों को फेर ले चलो. मदनमोहन का काम बना रहैगा तो पहले रुपे वसूल हुए पीछे ये घोड़े पहुंचा देंगे, नहीं तो कुछ काम नहीं.”

 

इधर हरकिशोर को मार्ग मैं जो मिल्ता था उस्‍सै वह मदनमोहन के दिवाले का हाल बराबर कहता चला जाता था और यह सब बातैं बाजार मैं होती थीं इसलिये एक सै कहनें मैं पांच और सुन लेते थे और उन पांच के मुख से पचासों को यह हाल तत्‍काल मालूम हो जाता था फ़िर पचास से पांच सौ मैं और पांच सौ से पांच हजार मैं फैलते क्‍या देर लगती थी ? और अधिक आश्‍चर्य की बात यह थी कि हरेक आदमी अपनी तरफ़ से भी कुछ, न कुछ नोंन मिर्च लगा ही देता था. जिस्‍को एक के कहनें से भरोसा न आया दो के कहनें से आगया. दो कहनेंसे न आया चार के कहनें से आगया मदनमोहन के चाल चलन से अनुभवी मनुष्‍य तो यह परिणाम पहले ही से समझ रहे थे जिस्‍पर मास्‍टर शिंभूदयाल नें मदनमोहन की तरफ़ से एक दो जगह उधार लेनें की बात चीत की थी इसलिये इस चर्चा मैं किसी को संदेह न रहा. बारूद बिछ रही थी बत्ती दिखाते ही तत्‍काल भभक उठी.

 

परन्‍तु लाला मदनमोहन या ब्रजकिशोर वगैरे को अबतक इस्‍का कुछ हाल मालूम न था.

 

 

 

प्रकरण-26

 

दिवाला.

 

कीजै समझ, न कीजिए बिना बिचार व्‍यवहार।।

 

आय रहत जानत नहीं ? सिरको पायन भार ।।

 

बृन्‍द.

 

लाला मदनमोहन प्रात:काल उठते ही कुतब जानें की तैयारी कर रहे थे. साथ जानेंवाले अपनें, अपनें कपड़े लेकर आते जाते थे, इतनें मैं निहालचंद मोदी कई तकाजगीरों को साथ लेकर आ पहुँचा.

 

इस्‍नें हरकिशोर से मदनमोहन के दिवाले का हाल सुना था. उसी समय से इस्को तलामली लग रही थी. कल कई बार यह मदनमोहन के मकान पर आया, किसी नें इस्‍को मदनमोहन के पास तक न जानें दिया और न इस्‍के आनें इत्तला की. संध्‍या समय मदनमोहन के सवार होनें के भरोसे वह दरवाजे पर बैठा रहा परन्‍तु मदनमोहन सवार न हुए इस्‍से इस्‍का संदेह और भी दृढ़ होगया. शहर मैं तरह-तरह की हजारों बातें सुनाई देती थी इस्‍से वह आज सवेरे ही कई लेनदारों को साथ लेकर एकदम मदनमोहन के मकान मैं घुस आया और पहुंचते ही कहनें लगा “साहब ! अपना हिसाब करके जितनें रुपे हमारे बाकी निकलें हमको इसी समय दे दीजिये. हमें आप का लेन-देन रखना मंजूर नहीं है. कल सै हम कई बार यहां आए परन्‍तु पहरे वालों नें आप के पास तक नहीं पहुँचनें दिया.”

 

“हमारा रुपया खर्च करके हमारे तकाजे से बचनें के लिये यह तो अच्‍छी युक्ति निकाली !” एक दूसरे लेनदार नें कहा “परन्‍तु इस्‍तरह रकम नहीं पच सक्‍ती. नालिश करके दमभर मैं रुपया धरा लिया जायगा.”

 

“बाहर पहरे चौकी का बंदोबस्‍त करके भीतर आप अस्‍बाब बांध रहे हैं !” तीसरे मनुष्‍य नें कहा “जो दो, चार घड़ी हम लोग और न आते तो दरवाजे पर पहरा ही पहरा रह जाता लाला साहब का पता भी न लगता.”

 

“इस्‍मैं क्‍या संदेह है ? कल रात ही को लाला साहब अपनें बाल बच्‍चों को तो मेरठ भेज चुके हैं” चोथे नें कहा “इन्‍सालवन्‍सी के सहारे से लोगों को जमा मारनें का इन दिनों बहुत होसला होगया है”

 

“क्‍या इस जमानें मैं रुपया पैदा करनें का लोगों नें यही ढंग समझ रक्‍खा है” एक और मनुष्‍य कहनें लगा “पहले अपनी साहूकारी, मातबरी, और रसाई दिखाकर लोगों के चित्त मैं बिश्‍वास बैठाना, अन्‍त मैं उन्की रकम मारकर एक किनारे हो बैठना”

 

“मेरी तो जन्‍म भर की कमाई यही है. मैंनें समझा था कि थोड़ीसी उमर बाकी रही है सो इस्मैं आराम सै कट जायगी परन्‍तु अब क्‍या करूं ?” एक बुड्ढा आंखों मैं आंसू भरकर कहनें लगा “न मेरी उमर मेहनत करनें की है न मुझको किसी का सहारा दिखाई देता है जो तुम से मेरी रकम न पटेगी तो मेरा कहां पता लगेगा ?”

 

“हमारे तो पांच हजार रुपे लेनें हैं परन्‍तु लाओ इस्‍समय हम चार हजार मैं फैसला करते हैं” एक लेनदार नें कहा.

 

“औरों की जमा मारकर सुख भेगनें मैं क्‍या आनन्‍द आता होगा ?” एक और मनुष्‍य बोल उठा.

 

इतनें में और बहुतसे लोगों की भीड़ आगई. वह चारों तरफ़ मदनमोहन को घेरकर अपनी, अपनी कहनें लगे. मदनमोहन की ऐसी दशा क़भी काहे को हुई थी ? उस्‍के होश उड़ गए. चुन्‍नीलाल, शिंभूदयाल वगैरे लोगों को धैर्य देनें की कोशिश करते थे परन्‍तु उन्‍को कोई बोलनें ही नहीं देता था. जब कुछ देर खूब गड़बड़ हो चुकी लोगों का जोश कुछ नरम हुआ तब चुन्‍नीलाल पूछनें लगा “आज क्‍या है ? सब के सब एका एक ऐसी तेजी मैं कैसे आ गए ? ऐसी गड़बड़ सै कुछ भी लाभ न होगा. जो कुछ कहना हो धीरे सै समझा कर कहो”

 

“हम को और कुछ नहीं कहना हम तो अपनी रकम चाहते हैं” निहालचंद नें जवाब दिया.

 

“हमारी रकम हमारे पल्‍ले डालो फ़िर हम कुछ गड़बड़ न करेंगे” दूसरे नें कहा.

 

“तुम पहले अपनें लेनें का चिट्ठा बनाओ. अपनी, अपनी दस्‍तावेज दिखाओ, हिसाब करो, उस्‍समय तुम्‍हारा रुपया तत्‍काल चुका दिया जायगा” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें जवाब दिया.

 

“यह लो हमारे पास तो यह रुक्‍का है” हमारा हिसाब यह रहा” “इस रसीद को देखिये” हमनें तो अभी रकम भुगताई है” यह तरह पर चारों तरफ़ सै लोग कहनें लगे.

 

“देखो जी ! तुम बहुत हल्‍ला करोगे तो अभी पकड़ कर कोतवाली मैं भेज दिए जाओगे और तुम पर हतक इज़्जत की नालिश की जायगी नहीं तो जो कुछ कहना हो धीरज से कहो” मास्‍टर शिंभूदयाल नें अवसर पाकर दबानें की तजवीज की.

 

“हमको लड़नें झगड़नें की ज़रूरत है ? हम तो केवल जवाब चाहते हैं. जवाब मिले पीछे आप सै पहले हम नालिश कर देंगे” निहालचंद नें सबकी तरफ़ सै कहा.

 

“तुम बृथा घबराते हो. हमारा सब माल मता तुम्हारे साम्हनें मौजूद है. हमारे घर मैं घाटा नहीं है ब्याज समेत सबको कौड़ी, कौड़ी चुका दी जायगी” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“कोरी बातों से जी नहीं भरता” निहालचंद कहनें लगा “आप अपना बही खाता दिखादें, क्‍या लेना है ? क्या देना है ? कितना माल मौजूद है ? जो अच्‍छी तरह हमारा मन भर जायगा तो हम नालिश नहीं करेंगे”

 

“कागज तो इस्‍समय तैयार नहीं है” लाला मदनमोहन नें लजा कर कहा.

 

“तो खातरी कैसे हो ? ऐसी अँधेरी कोठरी मैं कौन रहै ? (ब्रंद) जो पहल करिये जतन तो पीछे फल होय । आग लगे खोदे कुआ कैसे पावे तोय ।। इस काठ कबाड़ के तो समय पर रुपे मैं दो आनें भी नहीं उठते” एक लेनदार नें कहा.

 

“ऐसे ही अनसमझ आदमी जल्‍दी करके बेसबब दूसरों का काम बिगाड़ दिया करते हैं” मास्‍टर शिंभूदयाल कहनें लगे.

 

इतनें मैं हरकिशोर अदालत के एक चपरासी को लेकर मदनमोहन के घर पर आ पहुँचे और चपरासी नें सम्‍मन पर मदनमोहन सै कायदे मूजिब इत्तला लिखा ली. उस्‍को गए थोड़ी देर न बीतनें पाई थी कि आगाहसनजान के वकील की नोटिस आ पहुँची. उस्‍मैं लिखा था कि “आगाहसनजान की तरफ़ सै मुझको आपके जतानें के लिये यह फ़र्मायश हुई है कि आप उस्‍के पहले की ख़रीद के घोड़ों की कीमत का रुपया तत्‍काल चुका दैं और कल की खरीद के तीन घोड़ों की कीमत चौबीस घन्टे के भीतर भेजकर अपनें घोड़े मंगवालें जो इस मयाद के भीतर कुल रुपया न चुका दिया जायगा तो ये घोड़े नीलाम कर दिये जायंगे और इन्‍की क़ीमत मैं जो कमी रहैगी पहले की बाकी समेत नालिश करके आप सै वसूल की जायगी”

 

थोड़ी देर पीछे मिस्‍टर ब्राइट का सम्‍मन और कच्‍ची कुरकी एक साथ आ पहुँची इस्‍सै लोगों के घरबराहट की कुछ हद न रही. घर मैं मामला हल होनें की आशा जाती रही. सबको अपनी, अपनी रक़म ग़लत मालूम होनें लगी और सब नालिश करनें के लिये कचहरी को दौड़ गए.

 

“यह क्‍या है ? किस दुष्ट की दुष्‍टता सै हम पर यह ग़जब का गोला एक साथ आ पड़ा ?” लाला मदनमोहन आंखों मैं आंसू भर कर बड़ी कठिनाई से इतनी बात कह सके.

 

“क्‍या कहूँ ? कोई बात समझ मैं नहीं आती” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल कहनें लगे “कल लाला ब्रजकिशोर यहां से ऐसे बिगड़ कर गए थे कि मेरे मन मैं उसी समय खटका हो गया था शायद उन्‍हीं नें यह बखेड़ा उठाया हो. बाजे आदमियों को अपनी बात का ऐसा पक्ष होता कि वह औरों की तो क्‍या ? अपनी बरबादी का भी कुछ बिचार नहीं करते. परमेश्‍वर ऐसे हठीलों से बचाय. हरकिशोर का ऐसा होसला नहीं मालूम होता और वह कुछ बखेड़ा करता तो उस्‍का असर कल मालूम होना चा‍हिये था अब तक क्‍यों न हुआ ?”

 

प्र‍थम तो निहालचंद कल से अपनें मन मैं घबराट होनें का हाल आप कह चुका था, दूसरे हरकिशोर की तरफ़ से नालिश दायर होकर सम्‍मन आगया, तीसरे चुन्‍नीलाल ब्रजकिशोर के स्‍वभाव को अच्‍छी तरह जान्‍ता था इस्लिये उस्‍के मन मैं ब्रजकिशोर की तरफ़ से जरा भी संदेह न था परन्‍तु वह हरकिशोर की अपेक्षा ब्रजकिशोर से अधिक डरता था इसलिये उस्‍नें ब्रजकिशोर ही को अपराधी ठैरानें का बिचार किया. अफ़सोस ! जो दुराचारी अपनें किसी तरह के स्‍वार्थ से निर्दोष और धर्मात्‍मा मनुष्‍यों पर झूंटा दोष लगाते हैं अथवा अपना कसूर उन्‍पर बरसाते हैं उन्‍के बराबर पापी संसार मैं और कौन होगा ?

 

लाला मदनमोहन के मन मैं चुन्‍नीलाल के कहनें का पूरा विश्‍वास होगया. उस्‍नें कहा “मैं अपनें मित्रों को रुपे की सहायता के लिये चिट्ठी लिखता हूँ. मुझको विश्‍वास है कि उन्‍की तरफ़ से पूरी सहायता मिलेगी परन्‍तु सबसे पहले ब्रजकिशोर के नाम चिट्ठी लिखूंगा कि वह मुझको अपना काला मुंह जन्‍म भर न दिखलाय” यह कह कर लाला मदनमोहन चिट्ठियां लिखनें लगे.

 

प्रकरण-27

 

 

लोक चर्चा (अफ़वाह).

 

निन्‍दा, चुगली, झूंठ अरु पर दुखदायक बात ।

जे न कर हिं तिन पर द्रवहिं स र्बे श्‍वर बहुभांत ।।

विष्‍णुपुराणों.

 

उस तरफ़ लाला ब्रजकिशोर नें प्रात:काल उठ कर नित्‍य नियम से निश्चिन्‍त होते ही मुन्‍शी हीरालाल को बुलानें के लिये आदमी भेजा.

हीरालाल मुन्‍शी चुन्‍नीलाल का भाई है. यह पहले बंदोबस्‍त के महक़मे मैं नौकर था. जब से वह काम पूरा हुआ इस्‍की नौकरी कहीं नहीं लगी थी.

“तुमनें इतनें दिन से आकर सूरत तक नहीं दिखाई. घर बैठे क्‍या किया करते हो ?” हीरालाल के आते ही ब्रजकिशोर कहनें लगे “दफ्तर मैं जाते थे जब तक खैर अवकाश ही न था परन्‍तु अब क्यों नहीं आते ?”

“हुज़ूर ! मैं तो हरवक्त हाजिर हूँ परन्तु बेकाम आनें मैं शर्म आती थी. आज आपनें याद किया तो हाजिर हुआ. फरमाइये क्या हुक्म है ?” हीरालाल नें कहा.

 

“तुम ख़ाली बैठे हो इस्‍की मुझे बड़ी चिन्‍ता है. तुम्‍हारे बिचार सुधरे हुए हैं इस्‍सै तुमको पुरानें हक़ का कुछ ख़याल हो या न हो (!) परन्‍तु मैं तो नहीं भूल सक्‍ता. तुम्‍हारा भाई जवानी की तरंग में आकर नौकरी छोड़ गया परन्‍तु मैं तो तुम्हैं नहीं छोड़ सक्ता. मेरे यहां इन दिनों एक मुहर्रिर की चाह थी. सब से पहले मुझको तुम्‍‍हारी याद आई. (मुस्‍करा कर) तुम्‍हारे भाई को दस रुपे महीना मिल्‍ता था परन्‍तु तुम उस्सै बड़े हो इसलिये तुम को उस्से दूनी तनख्‍वाह मिलेगी”

 

“जी हां ! फ़िर आप को चिन्‍ता न होगी तो और किस्‍को होगी ? आपके सिवाय हमारा सहायक कौन है ? चुन्‍नीलाल नें निस्सन्देह मूर्खता की परन्‍तु फ़िर भी तो जो कुछ हुआ आप ही के प्रताप ही से हुआ.”

 

“नहीं मुझको चुन्‍नीलाल की मूर्खता का कुछ बिचार नहीं है मैं तो यही चाहता हूँ कि वह जहां रहै प्रसन्‍न रहै. हां मेरी उपदेश की कोई, कोई बात उस्को बुरी लगती होगी. परन्‍तु मैं क्‍या करूं ? जो अपना होता है उस्‍का दर्द आता ही है.”

 

“इस्मैं क्‍या संदेह है ? जो आपको हमारा दर्द न होता तो आप इस समय मुझको घर सै बुलाकर क्या इतनी कृपा करते ? आपका उपकार मान्‍नें के लिये मुझ को कोई शब्‍द नहीं मिल्‍ते. परन्तु मुझको चुन्‍नीलाल की समझ पर बड़ा अफसोस आता है कि उस्‍नें आप जैसे प्रतिपालक के छोड़ जानें की ढिठाई की. अब वह अपनें किये का फल पावेगा तब उस्की आंखें खुलेंगी.”

 

“मैं उस्‍के किसी-किसी काम को निस्‍सन्‍देह नापसन्‍द करता हूँ परन्‍तु यह सर्बथा नहीं चाहता कि उस्‍को किसी तरह का दु:ख हो.”

 

“यह आपकी दयालुता है परन्‍तु कार्य कारण के सम्‍बन्‍ध को आप कैसे रोक सक्‍ते हैं ? आज लाला मदनमोहन पर तकाज़ा हो गया. जो ये लोग आपका उपदेश मान्‍ते तो ऐसा क्‍यों होता ?”

 

“हाय ! हाय ! तुम यह क्‍या कहते हो ? मदनमोहन पर तकाज़ा होगया ! तुमनें यह बात किस्‍सै सुनी ? मैं चाहता हूँ कि परमेश्‍वर करे यह बात झूंट निकले” लाला ब्रजकिशोर इतनी बात कह कर दु:ख सागर मैं डूब गये. उन्‍के शरीर मैं बिजली का सा एक झटका लगा, आंसू भर आए, हाथ पांव शिथिल हो गये. मदनमोहन के आचरण से बड़े दु:ख के साथ वह यह परिणाम पहले ही समझ रहे थे इसलिये उन्‍को उस्‍का जितना दु:ख होना चाहिए पहले होचुका था. तथापि उन्‍को ऐसी जल्‍दी इस दुखदाई ख़बर के सुन्‍नें की सर्बथा आशा न थी इस लिये यह ख़बर सुन्‍ते ही उन्‍का जी एक साथ उमड़ आया परन्‍तु वह थेड़ी देर में अपनें चित्त का समाधान करके कहनें लगे :-

 

“हा ! कल क्‍या था ! आज क्‍या हो गया ! ! ! श्रृंगाररसका सुहावनां समां एका एक करुणा से बदल गया ! बेलजिअम की राजधानी ब्रसेलस पर नैपोलियन नें चढ़ाई की थी उस्‍समय की दुर्दशा इस्‍समय याद आती है, लार्डबायरन लिखता है:-

 

“निशि मैं बरसेलस गाजि रह्यो ।।

 

बल, रूप बढ़ाय बिराजि रह्यो

 

अति रूपवती युवती दरसैं ।।

 

बलवान सुजान जवान लसैं

 

सब के मुख दीपनसों दमकैं ।।

 

सब के हिय आनन्‍द सों धमकैं

 

बहुभांति बिनोद प्रमोद करैं ।।

 

मधुर सुर गाय उमंग भरैं

 

जब रागन की मृदु तान उड़ैं ।।

 

प्रियप्रीतम नैनन सैन जुडै

 

चहुँओर सुखी सुख छायरह्यो ।।

 

जनु ब्‍यहान घंट निनाद भयो

 

पर मौनगहो ! अबिलोक इतै ।।

 

यह होत भयानक शब्‍द कितै ?

 

डरपौ जिन चंचल बायु बहै ।।

 

अथवा रथ दौरत आवत है

 

प्रिय ! नाचहु, नाचहु ना ठहरो ।।

 

अपनें सुख की अवधी न करो

 

जब जोबन और उमंग मिलैं ।।

 

सुख लुटन को दुहु दोर चलै

 

तब नींद कहूँ निशआवत है ? ।।

 

कुछ औरहु बात सुहावत है ?

 

पर कान लगा; अब फेर सुनो ।।

 

वह शब्‍द भयानक है दुगुनो !

 

घनघोरघटा गरजी अब ही ।।

 

तिहँ गूंज मनो दुहराय रही

 

यह तोप दनादन आवत हैं ।।

 

ढिंग आवत भूमि कँपावत हैं

 

“सब शस्‍त्रसजो, सबशस्‍त्रसजो” ।।

 

घबराहट बढ़ो सुख दूर भजो

 

दुखसों बिलपै कलपैं सबही ।।

 

तिनकी करूणा नहिं जाय कही

 

निज कोमलता सुनि लाज गए ।।

 

सुकपोल ततक्षण पीत भए

 

दुखपाय कराहि बियोग लहैं ।।

 

जनु प्राण बियोग शरीर सहैं

 

किहिं भाति करों अनुमान यहू ।।

 

प्रिय प्रीतम नैन मिलैं कबहू ?

 

जब वा सुख चैनहि रात गई ।।

 

इहिं भांत भयंकर प्रात भई !!!”

 

हां यह खबर तुमनें किस्सै सुनी ?”

 

“चुन्‍नीलाल अभी घर भोजन करनें आया था वह, कहता था”

 

“वह अबतक घर हो तो उसे एक बार मेरे पास भेज देना. हम लोग खुशी प्रसन्‍नता मैं चाहें जितनें लड़ते झगड़ते रहें परन्‍तु दु:ख दर्द सब मैं एक हैं. तुम चुन्‍नीलाल सै कह देना कि मेरे पास आनेंमैं कुछ संकोच न करे मैं उस्‍सै जरा भी अप्रसन्‍न नहीं हूँ”

 

“राम, राम ! यह हजूर क्‍या फरमाते हैं ? आपकी अप्रसन्नता का बिचार कैसे हो सक्ता है ? आप तो हमारे प्रतिपालक हैं. मैं जाकर अभी चुन्‍नीलाल को भेजता हूँ. वह आकर अपना अपराध क्षमा करायगा और चला गया हो तो शाम को हाजिर होगा” हीरालाल नें उठते उठते कहा.

 

अच्‍छा ! तुम कितनी देर मैं आओगे ?”

 

“मैं अभी भोजन करके हाजिर होता हूँ” यह कह कर हीरालाल रुख़सत हुआ.

 

लाला ब्रजकिशोर अपनें मन मैं बिचारनें लगे कि “अब चुन्‍नीलाल सै सहज मैं मेल हो जायगा परन्‍तु यह तकाजा कैसे हुआ ? कल हरकिशोर क्रोध मैं भर रहा था. इस्से शायद उसी नें यह अफ़वाह फैलाई हो. उस्‍नें ऐसा किया तो उस्‍के क्रोधनें बड़ा अनुचित मार्ग लिया और लोगों नें उस्‍के कहनें मैं आकर बड़ा धोका खाया.

 

“अफ़वाह वह भयंकर वस्‍तु है जिस्‍से बहुत से निर्दोष दूषित बन जाते हैं. बहुत लोगों के जीमैं रंज पड़ जाते हैं, बहुत लोगों के घर बिगड़ जाते हैं. हिन्‍दुस्‍थानियों मैं अबतक बिद्याका ब्यसन नहीं है, समय की कदर नहीं है, भले बुरे कामों की पूरी पहचान नहीं है इसी सै यहां के निवासी अपना बहुत समय ओरों के निज की बातों पर हासिया लगानें मैं और इधर उधरकी जटल्‍ल हांकनेंमैं खो देतेहैं जिस्‍से तरह, तरह की अफ़वाएं पैदा होती हैं और भलेमानसोंकी झूंटी निंदा अफ़वाहकी ज़हरी पवन मैं मिल्‍कर उनके सुयश को धुंधला करती है. इन अफवाह फैलानें मालोंमैं कोई, कोई दुर्जन खानें कमानें वाले हैं कोई कोई दुष्‍ट बैर और जलन सै औरों की निंदा करनें वाले हैं और कोई पापी ऐसे भी हैं जो आप किसी तरह की योग्‍यता नहीं रखते इस लिये अपना भरम बढ़ानें को बड़े बड़े योग्‍य मनुष्‍यों की साधारण भूलों पर टीका करकै आप उन्‍के बराबर के बना चाहते हैं अथवा अपना दोष छिपानें के लिये दूसरे के दोष ढूंढ़ते फ़िरते हैं या किसी की निंदित चर्चा सुन्कर आप उस्‍सै जुदे बन्नें के लिये उस्‍की चर्चा फैलानें मैं शामिल होजाते हैं या किसी लाभदायक वस्तु सै केवल अपना लाभ स्थिर रखनें के लिये औरों के आगे उस्‍की निंदा किया करते हैं पर बहुतसै ठिलुए अपना मन बहलानें के लिये औरों की पंचायत ले बैठते हैं. बहुतसै अन्‍समझ भोले भावसै बात का मर्म जानें बिना लोगों की बनावट मैं आकर धोका खाते हैं. जो लोग औरों की निंदा सुन्‍कर कांपते हैं वह आप भी अपनें अजानपनें मैं औरोंकी निंदा करते हैं ! जो लोग निर्दोष मनुष्‍यों की निंदा सुन्‍कर उन्‍पर दया करते हैं वह आप भी थीरे सै, कान मैं झुककर, औरों सै कहनें के वास्‍ते मनै करकर औरोंकी निंदा करते हैं ! जिन लोगोंके मुख सै यह वाक्‍य सुनाई देते हैं कि “बड़े खेद की बात है” “बड़ी बुरी बात है” “बड़ी लज्‍जा की बात है” “यह बात मान्‍नें योग्‍य नहीं” “इस्मैं बहुत संदेह है” “इन्‍बातों सै हाथ उठाओ” वह आप भी औरों की निंदा करते हैं ! वह आप भी अफवाह फैलानें वालोंकी बात पर थोड़ा बहुत विश्वास रखते है ! झूंटी अफ़वासै केवल भोले आदमियों के चित्त पर ही बुरा असर नहीं होता वह सावधान सै सावधान मनुष्‍यों को भी ठगती है. उस्‍का एक, एक शब्‍द भले मानसों की इज्‍जत लूटता है. कल्‍पद्रुम मैं कहा है “होत चुगल संसर्ग ते सज्‍जन मनहुं विकार ।। कमल गंध वाही गलिन धूल उड़ावत ब्‍यार।।” जो लोग असली बात निश्‍चय किये बिना केवल अफ़वाके भरोसे किसी के लिये मत बांध लेते हैं वह उस्‍के हक़ में बड़ी बेइन्‍साफी करते हैं. अफ़वाह के कारण अबतक हमारे देशको बहुत कुछ नुकसान हो चुका है. नादिरशाह सै हारमानकर मुहम्‍मदशाह उसै दिल्‍ली मैं लिवा लाया नगर निवासियोंनें यह झूंटी अफ़वाह उड़ा दी की नादिरशाह मरगया. नादिरशाह नें इस झूंटी अफ़वाह को रोकनें के लिये बहुत उपाय किये परन्‍तु अफ़वाह फैले पीछै कब रुक सक्‍ती थी ! लाचार होकर नादिरशाह नें विजन बोल दिया. दोपहरके भीतर लाख मनुष्‍यों सै अधिक मारे गए ! तथापि हिन्‍दुस्‍थानियों की आंख न खुली.”

 

“हिन्‍दुस्थानियों को आज कल हर बात मैं अंग्रेजों की नक़ल करनें का चस्‍का पड़ ही रहा है तो वह भोजन वस्‍त्रादि निरर्थक बातौं की नक़ल करनें के बदले उन्‍के सच्‍चे सद्गुणों की नकल क्‍यों नहीं करते ? देशोपकार, कारीगरी और व्‍यापारादि मैं उन्‍की सी उन्‍नति क्‍यों नहीं करते ? अपना स्वभाव स्थिर रखनें मैं उन्‍का दृष्‍टांत क्‍यों नहीं लेते ? अंग्रेजों की बात चीत मैं किसी की निजकी बातों का चर्चा करना अत्यन्त दूषित समझा जाता है. किसी की तन्‍ख्‍वाह या किसी की आमदनी, किसी का अधिकार या किसी का रोजगार, किसी की सन्‍तान या किसी के घर का वृत्तान्त पूछनें मैं, पूछा होय तो कहनें मैं, कहा होय तो सुन्‍नें मैं वह लोग आनाकानी करते हैं और किसी समय तो किसी का नाम, पता और उम्र पूछना भी ढिटाई समझा जाता है. अपनें निज के सम्‍बन्धियों की बातों सै भी अज्ञान रहना वह लोग बहुधा पसंद करते हैं. रेल मैं, जहाज मैं खानें पीनें के जलसों मैं, पास बैठनें मैं और बातचीत करनें मैं जान पहचान नहीं समझी जाती. वह लोग किराए के मकान मैं बहुत दिन पास रहनें पर बल्कि दुख दर्द मैं साधारण रीति सै सहायता करनें पर भी दूसरे की निज की बातों सै अजान रहते हैं. जब तक पहचान स्थिर रखनें के लिये दूसरे की तरफ़ सै सवाल न हो, अथवा किसी तीसरे मनुष्‍य नें जान पहचान न कराई हो, नित्‍य की मिला भेटी और साधारण रीति सै बात चीत होनें पर भी जान पहचान नहीं समझी जाती और जान पहचान हुए पीछै भी मित्रता नहीं करते पर मित्रता हुए पीछै भी दूसरे की निजकी बातों सै अजान रहना अधिक पसन्‍द करते हैं. उन्‍के यहां निज की बातों के पूछनें की रीति नहीं है. उन्‍को देश सम्‍बन्‍धी बातैं करनें का इतना अभ्‍यास होता है कि निज के वृत्तान्त पूछनें का अवकाश ही नहीं मिल्‍ता परन्‍तु निजकी बातों सै अजान रहनें के कारण उन्की प्रीति मैं कुछ अन्‍तर नहीं आता. मनुष्‍य का दुराचार साबित होनें पर वह उसै तत्‍काल छोड़ देते हैं परन्‍तु केवल अफ़वाह पर वह कुछ ख्‍याल नहीं करते बल्कि उस्‍का अपराध साबित न हो जबतक वह उसको अपना बचाव करनें के लिये पूरा अवकाश देते हैं और उचित रीति सै उस्‍का पक्ष करते हैं”

 

प्रकरण-28

 

—–×—–

 

फूट का काला मुंह

 

फूट गए हीरा की बिकानी कनी हाट, हाट ।।

काहू घाट मोल काहू बाढ़ मोल कों लयो ।।

टूट गई लंका फूट मिल्‍यो जो विभीषण है ।।

रावण समेत बंस आसमान को गयो ।।

कहे कविगंग दुर्योधन सो छत्रधारी ।।

तनक के फूटेते गुमान वाको नै गयो ।।

फूटेते नर्द उठ जात बाजी चौपर की ।।

आपस के फूटे कहु कौन को भलो भयो ।।?।।

 

गंग.

 

थोड़ी देर पीछै मुन्शी चुन्‍नीलाल आ पहुँचा परन्‍तु उस्‍के चेहरे का रंग उड़ रहा था. लाला सै उस्‍की आंख ऊँची नहीं होती थी. प्रथम तो उस्‍की सलाह सै मदनमोहन का काम बिगड़ा दूसरे उस्‍की कृतघ्नता पर ब्रजकिशोर नें उस्‍के साथ ऐसा उपकार किया इसलिये वह संकोच के मारे धरती मैं समाया जाता था.

 

“तुम इतनें क्‍यों लजाते हो ? मैं तुम सै जरा भी अप्रसन्‍न नहीं हूँ बल्कि किसी, किसी बात मैं तो मुझको अपनी ही भूल मालूम होती है. मैं लाला मदनमोहनकी हरेक बात पर हदसै ज्‍यादा: जिद करनें लगता था. परन्‍तु मेरी वह जिद अनुचित थी. हरेक मनुष्‍य अपनें बिचार का आप धनी है. मैं चाहता हूँ कि आगे को ऐसी सूरत न हो और हम सब एक चित्‍त होकर रहैं. परन्‍तु मैंनें तुमको इस्समय इस सलाह के लिये नहीं बुलाया था. इस बिषय मैं तो जब तुम्‍हारी तरफ़ सै चाहना मालूम होगी देखा जायगा” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “इस्समय तो मुझको तुम सै हीरालाल की नौकरी बाबत सलाह करनी है. यह बहुत दिन सै खाली है. और मुझको अपनें यहां इस्‍समय एक मुहर्रिर की ज़रूरत मालूम होती है. तुम कहो तो इन्हैं रख लूं ?”

 

“इस्‍मैं मुझ सै क्‍या पूछते हैं ? इसके आप मालिक हैं” मुन्शी चुन्‍नीलाल कहनें लगा “मेरी तो इतनी ही प्रार्थना है कि आप मेरी मूर्खता पर दृष्टि न करैं अपनें बड़प्‍पन का बिचार रक्‍खें पहली बातों के याद करनें सै मुझको अत्‍यन्‍त लज्‍जा आती है. आपनें इस्‍समय लाला हीरालाल को नौकर रखकर मुझे मौत कर दिया.”

 

“मैं तुमको लज्जित करनें के लिये यह बात नहीं कहता. मैंनें अपनें मन का निज भाव तुमको इसलिये समझा दिया है कि तुम मुझे अपना शत्रु न समझो” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे. “हिन्‍दुस्तान के सत्‍यानाश की जड़ प्रारम्‍भ सै यही फूट है. इसी के कारण कौरव पांडवों का घोर युद्ध हुआ, इसी के कारण नन्‍द वंश की जड़ उखड़ी, पृथ्‍वीराज और जयचन्‍द की फूट सै हिन्‍दुस्‍थान मैं मुसल्‍मानों का राज आया और मुसल्‍मानों का राज भी अन्त मैं इसी फूट के कारण गया. सौ सवा सौ बरस सै लेकर अबतक हिन्‍दुस्‍थानमैं कुछ ऐसे अप्रबन्‍ध, फूट और स्‍वेच्‍छाचारकी हवा चली कि बहुधा लोग आपस मैं कट मरे. साहूजी नें ईस्‍ट इंडियन कम्‍पनी को देवी कोटे का किला और जिला देकर उस्‍के द्वारा अपनें भाई प्रताप सिंह सै तंजोर का राज छीन लिया. बंगाल के सूबेदार सिराजुद्दौला सै अधिकार छीन्‍नें के लिये उस्‍के बखशी मीर जाफर और दिवान राय दुल्‍लभ आदि नें कंपनी को दक्षिण काल्‍पी तक की जमीदारी, एक करोड़ रुपया नक़द और कलकत्ते के अंग्रेजों को पचास लाख, फौज को पचास लाख और और लोगों को चालीस लाख अनुमान देनें किये. जब मीर जाफर सूबेदार हुआ तब उस्‍सै अधिकार छीन्नें के लिये उस्‍के जँवाई कासम अलीखां नें कंपनी को बर्दवान, मेदनीपुर, चट गांव के जिले, पांच लाख रुपे नक़द और कौन्सिल वालों को बीस लाख रुपे देनें किये. जब कासम अलीखां सूबेदार हो गया और महसूल बाबत उसका कंपनी सै बिगाड़ हुआ तब मीर जाफर नें कंपनी को तीस लाख रुपे नक्‍द और बारह हजार सवार और बारह हजार पैदलों का खर्च देकर फ़िर अपना अधिकार जमा लिया. उधर अवध का सूबेदार शुजाउद्दौला कंपनी को चालीस लाख रुपे नक्‍द और लड़ाई का खर्च देना करके उस्‍की फौज रुहेलों पर चढ़ा ले गया. दखन मैं बालाजी राव पेशवा के मरते ही पेशवाओं के घरानें मैं फूट पड़ी. दो थोक हो गए. अब तक पंजाब बच रहा था. रणजीतसिंह की उन्‍नति होती जाती थी परन्‍तु रणजीतसिंह के मरते ही वहां फूट नें ऐसे पांव फैलाए कि पहले सब झगड़ों को मात कर दिया. राजा ध्‍यानसिंह मन्त्री और उसके बेटे हीरा सिंह आदि की स्‍वार्थपरता, लहनासिंह और अजीतसिंह सिंधां वालों का छल अर्थात् कुंवर शेरसिंह और राजा ध्‍यानसिंह के जी मैं एक दूसरे की तरफ़ सै संदेह डालकर विरोध बढाना, और अन्‍त मैं दोनों के प्राण लेना, राजकुमार खड़गसिंह उसका बेटा नोनिहालसिंह, राजकुमार शेरसिंह उस्‍का बेटा प्रतापसिंह आदि की अन्‍समझी सै आपस मैं यह कटमकटा हुई कि पांच बरस के भीतर भीतर उस्‍के बंश मैं सिवाय दिलीपसिंह नामी एक बालक के कोई न रहा और उस्‍का राज भी कंपनी के राज मैं मिल गया. किसी नें सच कहा है, “अल्‍पसार हू बहुत मिल करैं बड़ो सो जोर ।। जों गज को बंधन करे तृणकी निर्मित डोर ।। [4] इसलिये मैं आपस की फूट को सर्वथा अच्‍छा नहीं समझता. तुम मेरे पास सै गए थे इसलिये मुझको तुम्‍हारे कामों पर विशेष दृष्टि रखनी पड़ती थी परन्‍तु तुम अपनें जीमैं कुछ और ही समझते रहे. खैर ! अब इन बातों की चर्चा करनें सै क्‍या लाभ है.”

 

“आप यह क्‍या कहते हैं ? आप मेरे बड़े हैं. मैं आपका बरताव और तरह कैसे समझ सक्‍ता था ?” चुन्‍नी लाल कहनें लगा “आप नें बचपन मैं मेरा पालन किया, मुझको पढ़ा लिखा कर आदमी बनाया इस्‍सै बढ़ कर कोई क्‍या उपकार करेगा ? मैं अच्‍छी तरह जान्‍ता हूँ कि आप नें मुझ से जो कुछ भला बुरा कहा मेरी भलाई के लिये कहा. क्‍या मैं इतना भी नहीं जान्‍ता कि दंगा करनें से मां अपनें बालक को मारती है दूसरे से कुछ नहीं कहती यदि आपको हमारे प्रतिपालन की चिन्ता मन से न होती तो ऐसे कठिन समय मैं लाला हीरालाल को घर से बुलाकर क्‍यों नौकर रखते ?”

 

“भाई ! अब तो तुमनें वही खुशामद की लच्‍छेदार बातैं छेड़ दीं” लाला ब्रजकिशोर नें हँस कर कहा.

 

“आपके जी मैं मेरी तरफ़ का संदेह हो रहा है इस्सै आप को ऐसा ही भ्‍यास्‍ता होगा. परन्‍तु इस्‍मैं सै कौन्‍सी बात आप को खुशामद की मालूम हुई ?”

 

मनुस्‍मृति मैं कहा है “आकृति, चेष्‍टा, भाव, गति, बचन, रीति, अनुमान ।।

 

नैन सैंन, मुखकांति लख मन की रुचि पहिचान ।।” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “तुम कहते हो कि आप नें जो कुछ भला बुरा कहा मेरी भलाई के लिये कहा” परन्‍तु उस्‍समय तुम यह सर्वथा नहीं समझते थे. तुम्‍हारे कामों सै यह स्‍पष्‍ट जाना जा‍ता था कि तुम मेरी बातों सै अप्रसन्‍न हो और तुम्‍हारा अप्रसन्‍न होना अनुचित न था क्‍योंकि मेरी बातों सै तुम्‍हारा नुक्सान होता था. मुझको इस्बात का पीछै बिचार आया. मुझको इस्समय इन बातों के जतानें की ज़रूरत न थी परन्‍तु मैंनें इसलिये जतादी कि मैं भी सच झूँट को पहचान्ता हूँ. सच्‍चाई बिना मुझ सै सफाई न होगी”

 

“आप की मेरी सफाई क्‍या ? सफाई और बिगाड़ बराबर वालों में हुआ करता है, आप तो मेरे प्रतिपालक हैं. आप की बराबरी मैं कैसे कर सकता हूँ ?” मुन्‍शी चुन्‍नी लाल नें गम्‍भीरता सै कहा.

 

“यह तो बहानें बाजी की बात हैं. सफ़ाई के ढंग और ही हुआ करते हैं. मुझको तुम्‍हारा सब भेद मालूम है परन्‍तु तुमनें अबतक कौन्‍सी बात खुल के कही ?” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “मैं पूछता हूँ कि तुमनें मदनमोहन के यहां सै सिवाय तनख्‍वाह के और कुछ नहीं लिया तो तुम्‍हारे पास आठ दस हजार रुपे कहां सै आगए ? मिस्‍टर ब्राइट इत्‍यादि सै तुम जो कमीशन लेते हो उस्‍का हाल मैं उन्‍के मुख सै सुन चुका हूँ तुम्‍हारी और शिंभूदयाल की हिस्‍सा पत्ती का हाल मुझे अच्‍छी तरह मालूम है. हरकिशोर और निहालचंद गली, गली तुम्‍हारी धूल उड़ाते फ़िरते हैं. मैं नहीं जान्‍ता कि जब इस्‍की चर्चा अदालत तक पहुँचेगी तो तुम्‍हारे लिये क्‍या परिणाम होगा ? मैंनें केवल तुम सै सलाह करनें के लिये यह चर्चा छेड़ी थी परन्‍तु तुम इस्‍के छिपानें मैं अपनी सब अकलमन्‍दी खर्च करनें लगे तो मुझको पूछनें सै क्‍या प्रयोजन है ? जो कुछ होना होगा समय पर अपनें आप हो रहैगा”

 

“आप क्रोध न करैं मैंनें हर काम मैं आप को अपना मालिक और प्रतिपालक समझ रक्‍खा है. मेरी भूल क्षमा करैं और मुझको इस्‍समय सै अपना सच्‍चा सेवक समझते रहैं” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल नें कुछ, कुछ डरकर कहा “आप जान्‍ते हैं कि कुन्बे का बड़ा खर्च है इस्‍के वास्तै मनुष्‍य को हजार तरह के झूंट सच बोलनें पड़ते हैं (वृन्द) “उदर भरन के कारनें प्राणी करत इलाज ।। नाचे, बांचे, रणभिरे, राचे काज अकाज ।।”

 

”संसार की यही रीति है. प्रसंग रत्‍नावली मैं लिखा है “ज्ञान बृद्ध तपबृद्ध अरु बयके बृद्ध सुजान । धनवान के द्वार कों सेवैं भृत्‍य समान।।” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “तुमको मेरी एकाएक राय पलटनें का आश्‍चर्य होगा. परन्‍तु आश्‍चर्य न करो. जिस तरह शतरंज मैं एक चाल चलनें सै बाजी का नक्‍शा पलटता जाता है इसी तरह संसार मैं हरेक बात मैं काम काज की रीति भांति बदलती रहती है. अबतक यह समझता था कि मुझको मदनमोहन सै अवश्‍य इन्‍साफ़ मिलेगा परन्तु वह समय निकल गया. अब मैं फायदा उठाऊँ या न उठाऊँ मदनमोहन को फायदा पहुँचाना सहज नहीं. मेरा हाल तु‍म अच्‍छी तरह जान्‍ते हो. मैं केवल अपनी हिम्‍मत के सहारे सब तरह का दु:ख झेल रहा हूँ परन्‍तु मेरे कर्तव्य काम मुझको जरा भी नहीं उभरनें देते. कहते हैं कि अत्यन्त विपत्ति काल मैं महर्षि विश्‍वामित्र नें भी चंडाल के घर सै कुत्ते का मांस चुराया था ! फ़िर मैं क्‍या करूं ? क्‍या न करूं कुछ बुद्धि काम नहीं करती”

 

“समय बीते पीछै आप इन सब बातों की याद करते हैं अब तो जो होना था हो चुका यदि आप पहले इन बातों को बिचार करते तो केवल आप को ही नहीं आप के कारण हम लोगों को भी बहुत कुछ फ़ायदा हो जाता”

 

“तुम अपनें फ़ायदे के लिये तो बृथा खेद करते हो !” लाला ब्रजकिशोर नें हंस; कर जवाब दिया “अलबत्‍ता मैं मदनमोहन सै साफ जवाब पाए बिना कुछ नहीं कर सक्‍ता था क्‍योंकि मुझको प्रतिज्ञा भंग करना मंजूर न था. क्‍या तुम को मेरी तरफ़ सै अब तक कुछ संदेह है ?”

 

“जी नहीं, आप की तरफ़ का तो मुझ को कुछ संदेह नहीं है परन्तु इतना ही बिचार है कि खल मैं सै तेल आप किस तरह निकालैंगे !” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल नें जीमैं संदेह करके कहा.

 

“इस्‍की चिन्‍ता नहीं, ऐसे काम के लिये लोग यह समय बहुत अच्‍छा समझते हैं”

 

“बहुत अच्‍छा ? अब मैं जाता हूँ परन्‍तु——” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल कहते, कहते रुक गया.

 

“परन्‍तु क्‍या ? स्‍पष्‍ट कहो, मैं जान्‍ता हूँ कि तुम्‍हारे मन का संदेह अब तक नहीं गया. तुम्‍हारी हजार बार राजी हो तो तुम सफ़ाई करो, नहीं तो न करो. अभी कुछ नहीं बिगड़ा. मेरा कौन्‍सा काम अटक रहा है ? तुम अपना नफा नुक्‍सान आप समझ सक्ते हो”

 

“आप अप्रसन्‍न न हों, मुझको आपपर पूरा भरोसा है. मैं इस कठिन समय मैं केवल आप पर अपनें निस्‍तार का आधार समझता हूँ. मेरी लायकी-नालायकी मेरे कामों सै आप को मालूम हो जायगी. परन्‍तु मेरी इतनीही विनती है कि आप भी जरा नरम ही रहैं इन्की बातों मैं बढ़ावा देकर इन्‍सै सब तरह का काम ले सक्‍ते हैं परन्‍तु इन पर एतराज करनें सै यह चिढ़ जाते हैं. कल के झगड़े के कारण आजके तक़ाजे का संदेह इन्‍को आप पर हुआ है परन्‍तु अब मैं जाते ही मिटा दूंगा” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल नें बात पलटकर कहा और उठकर जानें लगा.

 

“तुम किया चाहोगे तो सफाई होनी कौन कठिन है? (बृन्द) प्रेरक ही ते होत है कारज सिद्ध निदान ।। चढ़े धनुष हू ना चले बिना चलाए बान ।।1 सुजन बीच पर दुहुनको हरत कलह रस पूर ।। करत देहरी दीप जों घर आंगन तम दूर ।।” यह कहक़र लाला ब्रजकिशोर नें चुन्‍नीलाल को रुख़सत किया.

 

चुन्‍नीलाल के चित्त पर ब्रजकिशोर की कहन और हीरालाल की नौकरी सै बड़ा असर हुआ था परन्तु अबतक ब्रजकिशोर की तरफ़ सै उस्का मन पूरा साफ न था. यह बातें ब्रजकिशोर के स्‍वभाव सै इतनी उल्‍टी थीं कि ब्रजकिशोर के इतनें समझानें पर भी चुन्‍नीलाल का मन न भरा. वह संदेह के झूले मैं झोटे खा रहा था और बड़ा बिचार करके उस्‍नें यह युक्ति सोची थी कि “कुछ दिन दोनों को दम मैं रक्‍खूं, ब्रजकिशोर को मदनमोहन की सफाई की उम्‍मेद पर ललचाता रहूँ और इस काम की कठिनाई दिखा, दिखाकर अपना उपकार जताता रहूँ. मदनमोहन को अदालत के मुकदमों मैं ब्रजकिशोर सै मदद लेनें की पट्टी पढ़ाऊँ पर बेपरवाई जतानें के बहानें सै दोनों मैं परस्‍पर काम की बात खुल कर न होनें दूं जिस्‍मैं दोनों का मिलाप होता रहै. उन्‍के चित्त को धैर्य मिलनें के लिये सफाई के आसार, शिष्‍टाचार की बातें दिन, दिन बढ़ती जायं परन्‍तु चित्त की सफाई न होनें पाए, और दोनों की कुंजी मेरे हाथ रहै.”

 

ब्रजकिशोर चुन्‍नीलाल की मुखचर्या से उस्‍के मन की धुकड़ धुकड़ पहचान्‍ता था इसलिये उस्‍नें जाती बार हीरालाल के भेजनें की ताकीद कर दी थी. वह जान्ता था कि हीरालाल बेरोजगारी सै तंग है वह अपनें स्‍वार्थ सै चुन्‍नीलाल को सच्‍ची सफाई के लिये बिवस करेगा और उस्‍की जिद के आगे चुन्‍नीलाल की कुछ न चलेगी. निदान ऐसाही हुआ. हीरालाल नें ब्रजकिशोर की सावधानी दिखाकर चुन्‍नीलाल को बनावट के बिचार सै अलग रक्‍खा, ब्रजकिशोर की प्रामाणिकता दिखाकर उसै ब्रजकिशोर सै सफाई रखनें के वास्‍तै पक्‍का किया, मदनमोहन के काम बिगड़नें की सूरत बताकर आगे को ब्रजकिशोर का ठिकाना बनानें की सलाह दी और समझाकर कहा कि “एक ठिकानें पर बैठे हुए दस ठिकानें हाथ आ सक्‍ते हैं जैसे एक दिया जल्‍ता हो तो उस्से दस दिये जल सक्ते हैं परन्‍तु जब यह ठिकाना जाता रहैगा तो कहीं ठिकाना न लगेगा.” अदालत मैं मदनमोहन पर नालिश होनें से चुन्‍नीलालके भेद खुलनें का भय दिखाया और अन्‍त मैं ब्रजकिशोर से चुन्‍नीलाल नें सच्‍ची सफाई न की तो हीरालाल की चोरी साबित करनें की धमकी दी और इन बातौं से परवस होकर चुन्‍नीलाल को ब्रजकिशोर से मन की सफाई करनें के लिये दृढ़ प्रतिज्ञा करनी पड़ी.

 

परन्‍तु आज ब्रजकिशोर की वह सफाई और सचाई कहां है ? हरकिशोर का कहना इस्‍समय क्‍या झूंट है ? इस्‍के आचरण सै इस्‍को धर्मात्‍मा कौन बता सक्ता है ? और जब ऐसे खर्तल मनुष्‍य का अन्‍तमैं यह भेद खुला तो संसार मैं धर्मात्‍मा किस्‍को कह सक्ते हैं ? काम, क्रोध, लोभ, मोह का बेग कौन रोक सक्ता है ? परन्‍तु ठैरो ! जिस मनुष्‍य के जाहिरी बरताब पर हम इतना धोखा खा गए कि सवेरे तक उस्‍को मदनमोहन का सच्‍चा मित्र समझते रहे हर जगह उस्‍की सावधानी, योग्‍यता, चित्त की सफाई और धर्मप्रवृति की बड़ाई करते रहे उस्के चित्त मैं और कितनी बातें गुप्‍त होगी यह बात सिवाय परमेश्‍वर के और कौन जान सक्ता है ? और निश्‍चय जानें बिना हमलोगों को पक्‍की राय लगानें का क्‍या अधिकार है ?

 

प्रकरण-29

 

बातचीत

 

सीख्‍यो धन धाम सब कामके सुधारि वे को

 

सीख्‍यो अभिराम बाम राखत हजूरमैं ।।

 

सीख्‍यो सराजाम गढ़कोटके गिराइबेको

 

सीख्‍यो समसेर बां धि काटि अरि ऊरमैं ।।

 

सीख्‍यो कुल जंत्र मंत्र तन्त्र हू की बात

 

सीख्‍यो पिंगल पुरान सीख वो बह्यौ जात कूरमैं ।।

 

कहै कृपाराम सब सीखबो गयो निकाम

 

एक बोल वो न सीख्‍यो गयो धूरमैं ।।

 

श्रृंगार संग्रह.

 

“आज तो मुझ से एक बड़ी भूल हुई” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल नें लाला मदनमोहन के पास पहुँचते ही कहा “मैं समझा था कि यह सब बखेड़ा लाला ब्रजकिशोर नें उठाया है परन्‍तु वह तो इस्‍सै बिल्‍कुल अलग निकले. यह सब करतूत तो हरकिशोर की थी. क्‍या आपनें लाला ब्रजकिशोर के नाम चिट्ठी भेज दी ?”

 

“हां चिट्ठी तो मैं भेज चुका” मदनमोहन नें जवाब दिया.

 

“यह बड़ी बुरी बात हुई. जब एक निरपराधी को अपराधी समझ कर दण्ड दिया जायगा तो उस्‍के चित्त को कितना दु:ख होगा” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें दया करके कहा (!)

 

“फ़िर क्‍या करें ? जो तीर हाथ सै छुट चुका वह लौटकर नहीं आसक्ता” लाला मदनमोहन नें जवाब दिया.

 

“निस्‍सन्‍देह नहीं आ सक्ता परन्‍तु जहां तक हो सके उस्‍का बदला देना चाहिये” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल कहनें लगा “कहते हैं कि महाराज दशरथ नें धोके सै श्रवण के तीर मारा परन्‍तु अपनी भूल जान्‍ते ही बड़े पछतावे के साथ उस्‍सै अपना अपराध क्षमा कराया. उसै उठाकर उस्‍के माता पिता के पास पहुँचाया उन्‍को सब तरह धैर्य दिया और उन्‍का शाप प्रसन्‍नता सै अपनें सिर चढ़ा लिया.”

 

“ब्रजकिशोर की यह भूल हो या न हो परन्‍तु उस्‍नें पहले जो ढिटाई की है वह कुछ कम नहीं है. गई बला को फ़िर घर मैं बुलाना अच्‍छा नहीं मालूम होता. जो कुछ हुआ सो हुआ चलो अब चुप हो रहो” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“इस्‍समय ब्रजकिशोर सै मेल करना केवल उन्‍की प्रसन्‍नताके लिये नहीं है बल्कि उस्सै अदालत मैं बहुत काम निकलनें की उम्‍मेद की जाती है” मुन्शी चुन्‍नीलालनें मदनमोहन को स्‍वार्थ दिखाकर कहा.

 

“कल तो तुमनें मुझसै कहा था कि उन्की विकालत अपनें लिये कुछ उपकारी नहीं हो सक्ती” मदनमोहन नें याद दिवाई.

 

यह बात सुन्‍कर चुन्‍नीलाल एकबार ठिठका परन्‍तु फ़िर तत्‍काल सम्‍हल कर बोला “वह समय और था यह समय और है. मामूली मुकद्दमौं का काम हम हरेक वकील सै ले सक्ते थे परन्‍तु इस्‍समय तो ब्रजकिशोर के सिवाय हम किसी को अपना विश्‍वासी नहीं बना सक्ते.”

 

“यह तुम्‍हारी लायकी है. परन्‍तु ब्रजकिशोर का दाव लगे तो वह तुम को घड़ी भर जीता न रहनें दे” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“मैं अपनें निज के सम्‍बन्‍ध का बिचार करके लाला साहब को कच्‍ची सलाह नहीं दे सक्ता” चुन्‍नीलाल खरे बनें.

 

“अच्‍छा तो अब क्‍या करें ? ब्रजकिशोर को दूसरी चिट्ठी लिख भेजें या यहां बुलाकर उन्‍की खातिर कर दें ?” निदान लाला मदनमोहन नें चुन्‍नीलाल की राह सै राह मिलाकर कहा.

 

“मेरे निकट तो आप को उन्‍के मकान पर चलना चाहिये और कोई कीमती चीज तोहफ़ा मैं देखकर ऐसे प्रीति बढ़ानी चाहिये जिस्‍सै उन्‍के मनमैं पहली गांठ बिल्‍कुल रहै न और आप के मुकद्दमों मैं सच्‍चे मन सै पैरवी करें. ऐसे अवसर पर उदारता से बड़ा काम निकलता है. सादी नें कहा है “द्रब्य दीजिये बीर कों तासों दे वह सीस ।। प्राण बचावेगा सदा बिनपाये बखशीस।।” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“लाला सा‍हब को ऐसी क्‍या गरज पड़ी है जो ब्रजकिशोर के घर जायं और कल जिसै बेइज्‍जत करके निकाल दिया था आज उस्‍की खुशामद करते फिरें ?” मास्‍टर शिंभूदयाल बोले.

 

“असल मैं अपनी भूल है और अपनी भूलपर दूसरे को सताना बहुत अनुचित है” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल संकेत सै मास्‍टर शिंभूदयाल को धमकाकर कहनें लगा “बैठनें उठनें, और आनें जानें की साधारण बातोंपर अपनी प्रतिष्‍ठा, अप्रतिष्‍ठा का आधार समझना संसार मैं अपनी बराबर किसी को न गिन्‍ना, एक तरह का जंगली बिचार है. इस्‍की निस्बत सादगी और मिलनसारी सै रहनें को लोग अधिक पसन्‍द करते हैं. लाला ब्रजकिशोर कुछ ऐसे अप्रतिष्ठित नहीं हैं कि उन्‍के हां जानें सै लाला साहब की स्‍वरूप हानि हो”

 

“यह तो सच है परन्‍तु मैंमैं उनका दुष्‍ट स्‍वभाव समझ कर इतनी बात कही थी” मास्‍टर शिंभूदयाल चुन्‍नीलाल का संकेत समझ कर बोले.

 

“ब्रजकिशोरके मकान पर जानें मैं मेरी कुछ हानि नहीं है परन्‍तु इतना ही बिचार है कि मेल के बदले कहीं अधिक बिगाड़ न हो जाय” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“जी नहीं, लाला ब्रजकिशोर ऐसे अनसमझ नहीं हैं. मैं जानता हूँ कि वह क्रोधसै आग हो रहे होंगे तो भी आपके पहुँचते ही पानी हो जायंगे क्‍योंकि गरमीमैं धूप के सताए मनुष्‍य को छाया अधिक प्‍यारी होती है” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

निदान सबकी सलाहसै मदनमोहन का ब्रजकिशोर के हां जाना ठैर गया. चुन्‍नीलाल नैं पहलेसै खबर भेजदी, ब्रजकिशोर वह खबर सुन्‍कर आप आनें को तैयार होते थे इतनें मैं चुन्‍नीलाल के साथ लाला मदनमोहन वहां जा पहुँचे. ब्रजकिशोर नें बड़ी उमंगसै इन्‍का आदर सत्‍कार किया.

 

इस छोटीसी बात सै मालूम हो सक्ता है कि लाला मदनमोहन की तबियत पर चुन्नीलाल का कितना अधिकार था.

 

“आपनें क्‍यों तकलीफ की ? मैं तो आप आनें को था” लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

“हरकिशोर के धोखे मैं आज आप के नाम एक चिट्ठी भूल सै भेज दी गई थी इसलिये लाला साहब चल कर यह बात कहनें आए हैं कि आप उस्‍का कुछ खयाल न करें” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“जो बात भूल सै हो और वह भूल अंगीकार कर ली जाय तो फ़िर उस्में खयाल करनें की क्‍या बात है ? और इस छोटे से काम के वास्‍तै लाला साहब को परिश्रम उठाकर यहां आनें की क्‍या ज़रूरत थी ?” लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

“केवल इतना ही काम न था. मुझ सै कल भी कुछ भूल हो गई थी और मैं उस्‍का भी एवज दिया चाहता था” यह कहक़र लाला मदनमोहन नें एक बहुमूल्‍य पाकेटचेन (जो थोड़े दिन पहले हैमिल्‍टन कम्‍पनी के हां सै फ़र्मायशी बनकर आई थी) अपनें हा‍थ सै ब्रजकिशोर की घड़ी मैं लगा दी.

 

“जी ! यह तो आप मुझको लज्जित करते हैं. मेरा एवज़ तो मुझ को आप के मुख सै यह बात सुन्‍ते ही मिल चुका. मुझ को आपके कहनें का क़भी कुछ रंज नहीं होता इस्‍के सिवाय मुझे इस अवसर पर आप की कुछ सेवा करनी चाहिये थी सो मैं उल्‍टा आप सै कैसे लूं ? जिस मामले मैं आप अपनी भूल बताते हैं केवल आपही की भूल नहीं है आप सै बढ़कर मेरी भूल है और मैं उस्‍के लिये अन्त:करण सै क्षमा चाहता हूँ” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “मैं हर बात मैं आप सै अपनी मर्जी मूजिब काम करानेंके लिये आग्रह करता था परन्‍तु वह मेरी बड़ी भूल थी. बृन्‍दनैं सच कहा है “सबको रसमैं राखिये अन्त लीजिये नाहिं ।। बिष निकस्‍यो अति मथनते रत्‍नाकरहू मांहिं ।।” मुझको विकालत के कारण बढ़ाकर बात करनें की आदत पड़ गई है और मैं क़भी क़भी अपना मतलब समझानें के लिये हरेक बात इतनी बढ़ाकर कहता चला जाता हूँ कि सुन्‍नें वाले उखता जाते हैं मुझको उस अवसर पर जितनी बातें याद आती हैं मैं सब कह डालता हूँ परन्‍तु मैं जान्‍ता हूँ कि यह रीति बात चीतके नियमों सै बिपरीत है और इन्‍का छोड़ना मुझ पर फ़र्ज है. बल्कि इन्‍हें छोड़नें के लिये मैं कुछ कुछ उद्योग भी कर रहा हूँ”

 

“क्‍या बातचीत के भी कुछ नियम हैं ?” लाला मदनमोहन नें आश्‍चर्य से पूछा-

 

“हां ! इस्‍को बुद्धिमानों नें बहुत अच्‍छी तरह बरणन किया है” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “सुलभा नाम तपस्विनी नें राजा जनक सै बचन के यह लक्षण कहे हैं – “अर्थ सहित, संशय रहित, पूर्वापर अविरोध ।। उचित, सरल, संक्षिप्‍त पुनि कहो वचन परिशोध ।।1।। प्राय: कठिन अक्षर रहित, घृणा अमंगल हीन ।। सत्‍य, काम, धर्मार्थयुत शुद्धनियम आधीन ।।2।। संभव कूट न अरुचिकर, सरस, युक्ति दरसाय ।। निष्‍कारण अक्षर रहित खंडितहू न लखाय ।।3।।” संसार मैं देखा जाता है कि कितनें ही मनुष्‍यों को थोड़ीसी मामूली बातें याद होती हैं जिन्हैं वह अदल बदलकर सदा सुनाया करते हैं जिस्से सुन्‍नेवाला थोड़ी देरमैं उखता जाता है. बातचीत करनें की उत्तम रीति यह है कि मनुष्‍य अपनी बातको मौकेसै पूरी करके उस्‍पर अपना अपना, बिचार प्रगट करनें के लिये औरों को अवकाश दे और पीछैसै कोई नई चर्चा छेड़ें और किसी विषय मैं अपना बिचार प्रगट करे तो उस्‍का कारण भी साथही समझाता जाय, कोई बात सुनी सुनाई हो तो वह भी स्‍पष्‍ट कहदे. हँसीकी बातों मैं भी सच्‍चाई और गम्‍भीरता को न छोड़े, कोई बात इतनी दूर तक खेंचकर न ले जाय जिस्सै सुन्‍नें वालों को थकान मालूम हो. धर्म, दया, और प्रबन्‍ध की बातों मैं दिल्‍लगी न करे. दूसरेके मर्म की बातों को दिल्‍लगी मैं जबान पर न लाय. उचित अवसर पर वाजबी राह सै पूछ पूछकर साधारण बातों का जान लेना कुछ दूषित नहीं है परन्‍तु टेढ़े और निरर्थक प्रश्‍न कर‍के लोगों को तंग करना अथवा बकवाद करके औरोंके प्राण खा जाना, बहुत बुरी आदत है. बातचीत करनें की तारीफ यह है कि सबका स्‍वभाव पहिचान कर इस ढबसै बात कहै जिस्मैं सब सुन्‍नें वाले प्रसन्‍न रहैं. जची हुई बात कहना मधुर भाषण सै बहुत बढ़कर है खासकर जहां मामलेकी बात करनी हो. शब्‍द विन्‍यास के बदले सोच बिचार कर बातचीत करना सदैव अच्‍छा समझा जाता है और सवाल जवाब बिना मेरी तरह लगातार बात कहते चले जाना कहनें वाले की सुस्‍ती और अयोग्‍यता प्रगट करता है. इसी तरह असल मतलब पर आनें के लिये बहुतसी भूमिकाओं सै सुन्नें वालेका जी घबरा जाता है परन्तु थोड़ी सी भूमिका बिना भी बातका रंग नहीं जमता इसलिये अब मैं बहुतसी भूमिकाओं के बदले आपसै प्रयोजन मात्र कहता हूँ कि आप गई बीती बातों का कुछ खयाल न करें ?”

 

“जो कुछ भी खयाल होता तो लाला साहब इस तरह उठकर क्‍या चले आते ? अब तो सब का आधार आप की कारगुजारी (अर्थात् कार्य कुशलता) पर है” मुन्‍शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“मेरे ऐसे भाग्‍य कहां ?” लाला ब्रजकिशोर प्रेम बिबस होकर बोले.

 

“देखो हरकिशोर नें कैसा नीचपन किया है !” लाला मदनमोहन नें आंसू भरकर कहा.

 

“इस्‍सै बढ़कर और क्‍या नीचपन होगा ?” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “मैनें कल उस्‍के लिये आप को समझाया था इस्सै मैं बहुत लज्जित हूँ. मुझको उस्समय तक उस्के यह गुन मालूम न थे. अब अफवाह किसी तरह झूठ हो जाय तो मैं उसे मजा दिखाऊं”

 

“निस्सन्देह आप की तरफ़ सै ऐसेही उम्‍मेद है. ऐसे समय मैं आप साथ न दोगे तो और कौन् देगा ?” लाला मदनमोहन नें करुणा सै कहा.

 

“इस्‍समय सब सै पहले अदालत की जवाब दिहीका बंदोबस्‍त होना चाहिये क्‍योंकि मुकद्दमों की तारीखें बहुत पास-पास लगी हैं” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

“अच्‍छा ! आप अपना कागज तैयार करानें के वास्‍तै तीन चार गुमाश्‍ते तत्‍काल बढ़ा दें और अदालत की कार्रवाई के वास्‍ते मेरे नाम एक मुख्‍त्‍यार नामा लिखते जायं बस फ़िर मैं समझ लूंगा” लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

निदान लाला मदनमोहन ब्रजकिशोर के नाम मुख्‍त्‍यार नामा लिखकर अपनें मकान को रवानें हुए.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

प्रकरण-30

 

नैराश्‍य (नाउम्‍मेदी).

 

फलहीन मही रूह कों खगवृन्‍द तजै बन कों मृग भस्‍म भए ।

 

मकरन्‍द पिए अरविन्‍द मिलिन्‍द तजै सर सारस सूख गए ।।

 

धन हीन मनुष्‍य तजैं गणिका नृपकों सठ सेवक राज हुए ।

 

बिन स्‍वारथ कौन सखा जग मैं ? सब कारज के हित मीत भए ।।

 

भर्तृहरि.

 

सन्‍ध्‍या समय लाला मदनमोहन भोजन करनें गए तब मुन्शी चुन्‍नीलाल और मास्‍टर शिंभूदयाल को खुलकर बात करनें का अवकाश मिला. वह दोनों धीरे, धीरे बतलानें लगे.

 

“मेरे निकट तुमनें ब्रजकिशोरसै मेल करनें मैं कुछ बुद्धिमानी नहीं की. बैरी के हाथ मैं अधिकार देकर कोई अपनी रक्षा कर सक्ता है ?” मास्‍टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“क्‍या करूं ? इस्‍समय इस युक्ति के सिवाय अपनें बचाव को कोई रास्‍ता न था. लोगों की नालिशें हो चुकीं, अपनें भेद खुलनें का समय आ गया. ब्रजकिशोर सब बातों सै भेदी थे इसलिये मैंनें उन्‍हीं के जिम्‍मे इन बातों के छिपानें का बोझ डाल दिया कि वह अपनें विपरीत कुछ न करनें पायं !” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें हीरालाल की बात उड़ाकर कहा,

 

“परन्तु अब ब्रजकिशोर तुम्हारा भेद खोल दें तो तुम कैसे अपना बचाव करो ? हर काम मैं आदमी को पहले अपनें निकास का पूरा रस्ता सोचना चाहिये. अभिमन्यु की तरह धुन बांध कर चकाबू (चक्रव्यूह) मैं घुसे चले जाओगे तो फ़िर निकलना बहुत कठिन होगा, पतंग उड़ाकर डोर अपनें हाथ मैं न रक्खोगे तो उस्के हाथ लगनें की क्या उम्मेद रहेगी ?” मास्टर शिंभूदयाल नें कहा.

 

“मैंनें अपनें निकास की उम्मेद केवल ब्रजकिशोर के विश्वास पर बांधी है परन्तु उन्की दो एक बातों सै मुझको अभी संदेह होनें लगा. प्रथम तो उन्होंनें इस गए बीते समय में मदनमोहन सै मेल करनें मैं क्या फायदा बिचारा है ? और महन्तानें के लालच सै मेल किया भी था तो ऐसी जलदी कागज तैयार करानें की क्या ज़रूरत थी ? मैं जान्ता हूँ कि वह नालिश करनेंवालों सै जवाबदिहि करनें के वास्तै यह उपाय करते होंगे परन्तु जब वह जवाबदिहि करेंगे तो नालिश करनेंवालों की तरफ़ सै हमारा भेद अपनें आप खुल जायगा और जिस बात को हम दूर फेंका चाहते हैं वही पास आजावेगी” मुन्शी चुन्नीलाल नें कहा.

 

“वकीलों के यही तो पेच होते हैं. जिस बात को वह अपनी तरफ़ सै नहीं कहा चाहते उल्टे सीधे सवाल करके दूसरे के मुख सै कहा लेते हैं और आप भलेके भले बनें रहते हैं. बिचारो तो सही हमनें ब्रजकिशोर के साथ कौन्सी भलाई की है जो वह हमारे साथ भलाई करेंगे ? वकीलों के ढंग बड़े पेचीदा होते हैं. वह एक मुक़द्दमे मैं तुम्हारे वकील बनते हैं तो दूसरे मैं तुम्हारे बैरी के वकील बन जाते हैं परन्तु अपना मतलब किसी तरह नहीं जानें देते.”

 

“सच है इस काम मैं लाला ब्रजकिशोर की चाल पर अवश्य संदेह होता है परन्तु क्या करें ? अपनें वकील न करेंगे तो वह प्रतिपक्षी के वकील हो जायंगे और अपना भेद खोलनें मैं किसी तरह की कसर न रक्खेंगे” मुन्शी चुन्नीलाल कहनें लगा “असल तो यह है कि अब यहां रहनें मैं कुछ मजा नहीं रहा. प्रथम तो आगे को कोई बुर्द नहीं दिखाई देती फ़िर जिन लोगों सै हजारों रुपे खाए पीए हैं उन्हीं के सामनें होकर बिवाद करना पड़ेगा और जब हम उन्सै बिवाद करेंगे तो वह हमसै मुलाहजा क्यों रक्खेंगे. हमारा भेद क्यों छिपावेंगे ? क़भी, क़भी हम उन्सै लाला साहब के हिसाब मैं लिखवाकर बहुतसी चीजें घर लेगए हैं इसी तरह उन्के यहां जमा करानें के वास्तें लाला साहब जो रुपे लेगए थे वह उन्के यहां जमा नहीं कराए ऐसी रकमों की बाबत पहले, पहले तो यह बिचार था कि इस्समय अपना काम चला लें फ़िर जहांकी तहां पहुँचा देंगे परन्तु पीछे सै न तो अपनें पास रुपे की समाई हुई न कोई देखनें भालनें वाला मिला, बस सब रकमें जहां की तहां रह गईं अब अदालत मैं यह भेद खुलेगा तो कैसी आफत आवेगी ? और हम लाला साहब की तरफ़ सै बिवाद करेंगे तो यह भेद कैसे छिप सकेगा ? क्या करें ? कोई सीधा रस्ता नहीं दिखाई देता.”

 

यदि ऐसै ही पाप करके लोग बच जाया करते तो संसार मैं पाप पुण्यका बिचार काहेको रहता ?

 

“मुझको तो अब सीधा रास्ता यही दिखाई देता है कि जो हाथ लगे सो ले लिवाकर यहां सै रफूचक्कर हो. ब्रजकिशोर तुम्हारे भाग्य सै इस्समय आफंसा है. इस्के सिर मुफ्त का छप्पर रख कर अलग हो बैठो” मास्टर शिंभूदयाल कहनें लगा “जिस तरह अलिफलैला मैं अबुलहसन और शम्सुल्निहार के परस्पर प्रेम बिवस हुए पीछे बखेड़ा उठनें की सूरत मालूम हुई तब उन्का मध्यस्थ इब्नतायर उन्को छिटकाकर अलग हो बैठा आउट एक जौहरी नें मुफ्त मैं वह आफत अपनें सिर लेकर अपनें आपको जंजाल मैं फंसा दिया. इसी तरह इस्समय तुम्हारी और ब्रजकिशोर की दशा है ब्रजकिशोर को काम सोंप कर तुम इस्समय अलग हो जाओ तो सब बदनामी का ठीकरा ब्रजकिशोर के सिर फूटेगा और दूध मलाई चखन वाले तुम रहोगे !”

 

“यह तो बड़े मजे की बात है. ब्रजकिशोर पर तो हम यह बोझ डालेंगे कि तुम्हारे लिये हम अलग होते हैं पीछे से हमारा भेद न खुलनें पाय. लेनदारों सै यह कहेंगे कि तुम्हारे वास्ते लाला साहब सै हमारी तकरार हो गई उन्होंनें हमारा कहा नहीं माना अब तुम भी कहीं हमको धोका न देना” मुन्शी चुन्नीलाल नें कहा.

 

“आज तो दोनों मैं बड़ी घुट, घुट कर बातें हो रही हैं” लाला मदनमोहन नें आते ही कहा. तुम्हारी सलाह क़भी पूरी नहीं होती. न जानें कौन्से किले लेनें का बिचार किया करते हो !”

 

“जी हुजूर ! कुछ नहीं, मिस्टर रसल के मामले की चर्चा थी उस की जायदाद की नीलाम की तारीख मैं केवल दो दिन बाकी हैं परन्तु अब तक रुपे का कुछ बंदोबस्त नहीं हुआ” मुन्शी चुन्नीलाल नें तत्काल बात पलट कर कहा. “इस बिना बिचारी आफत का हाल किस्‍को मालूम था ? तुम उन्‍हें लिख दो कि जिस तरह हो सके थोड़े दिन की मुहलत लेलें. हम उस्‍के भीतर, भीतर रुपे का प्रबन्‍घ अवश्‍य कर देंगे” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“मुहलत पहले कई बार लेचुके हैं इस्‍सै अब मिलनी कठिन है. परन्‍तु इस्‍समय कुछ गहना गिरवे रखकर रुपे का प्रबन्‍ध कर दिया जाय तो उस्‍की जायदाद बनी रहै और धीरे, धीरे रुपया चुका कर गहना भी छुड़ा लिया जाय” मास्‍टर शिंभूदयाल नें जाते जाते सिप्‍पा लगानें की युक्ति की. उस्का मनोर्थ था कि यह रकम हाथ लग जाय तो किसी लेनदार को देकर भलीभांति लाभ उठायें अथवा मदनमोहन मांगनें योग्‍य न रहै तो सबकी सब रकम आप ही प्रसाद कर जायें. अथवा किसी के यहां गिरवी भी धरें तो लेनदारों को कुर्की करानें के लिये उस्‍का पता बता कर उनसै भली भांति हाथ रंगें. अथवा माल अपनें नीचे दबे पीछे और किसी युक्ति सै भर पूर फ़ायदे की सूरत निकालें. परन्‍तु मदनमोहन के सौभाग्‍य सै इस्‍समय लाला ब्रजकिशोर आ पहुँचे इसलिये उस्‍की कुछ दाल न गली.

 

“क्‍या है ? किस काम के लिये गहना चाहते हो ?” लाला ब्रजकिशोर नें शिंभूदयाल की उछटतीसी बात सुनी थी, इस्‍पर आते ही पूछा.

 

“जी कुछ नहीं, यह तो मिस्‍टर रसल की चर्चा थी” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें बात उड़ानें के वास्‍ते गोल-मोल कहा.

 

“उस्‍का क्‍या लेनदेन है ? उस्‍का मामला अब तक अदालत मैं तो नहीं पहुँचा ?” लाला ब्रजकिशोर पूछनें लगे.

 

“वह एक नीलका सौदागर है और उस्‍पर बीस, पच्‍चीस हजार रुपे अपनें लेनें हैं. इस्‍समय उस्‍की नीलकी कोठी और कुछ बिस्वै बिस्‍वान्सी दूसरे की डिक्री मैं नीलाम पर चढ़े हैं और नीलाम की तारीख मैं केवल दो दिन बाकी हैं. नीलाम हुए पीछै अपनें रुपे पटनें की कोई सूरत नहीं मालूम होती इसलिये ये लोग कहते थे कि गहना गिरवी रखकर उस्‍का कर्ज चुका दो परन्‍तु इतना बंदोबस्‍त तो इस्‍समय किसी तरह नहीं हो सक्ता” लाला मदनमोहन नें लजाते हुए कहा.

 

“अभी आप को अपनें कर्जेका प्रबन्‍ध करना है और यह मामला केवल मुहलत लेनें सै कुछ दिन टल सक्ता है” लाला ब्रजकिशोर नें अपनें मनका संदेह छिपाकर कहा.

 

“मैं जान्ता हूँ कि मेरा कर्ज चुकानें के लिये तो मेरे मित्रों की तरफ़ सै आज कल मैं बहुत रुपया आ पहुँचेगा” लाला मदनमोहन नें अपनी समझ मूजिब जवाब दिया.

 

“और मुहलत कई बार लेली गई है इस्‍सै अब मिलनी कठिन है” मास्‍टर शिंभूदयाल बोले.

 

“मैं खयाल करता हूँ कि अदालत को विश्‍वास योग्‍य कारण बता दिया जायगा तो मुहलत अवश्‍य मिल जायगी” लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

“और जो न मिली ?” शिंभूदयाल हुज्‍जत करनें लगा.

 

“तो मैं अपनी जामिनी देकर जायदाद नीलाम न होनें दूंगा” ब्रजकिशोर नें जवाब दिया और अब शिंभूदयाल को बोलनें की कोई जगह न रही.

 

“कल कई मुकद्दमों की तारीखैं लगरही हैं और अबतक मैं उन्‍के हाल सै कुछ भेदी नहीं हूँ. तुमको अवकाश हो तो लाला साहब सै आज्ञा लेकर थोड़ी देरके लिये मेरे साथ चलो” लाला ब्रजकिशोर नें मुन्शी चुन्‍नीलाल सै कहा.

 

“हां, हां तुम साथ जाकर सब बातें अच्‍छी तरह समझा आओ” लाला मदनमोहन नें मुन्शी चुन्‍नीलाल को हुक्‍म दिया.

 

“आप इस्‍समय किसी काम के लिये किसी को अपना गहना न दें. ऐसे अवसर पर ऐसी बातों मैं तरह, तरह का डर रहता है” लाला ब्रजकिशोर नें जाती बार मदनमोहन सै संकेत मैं कहा और मुन्शी चुन्‍नीलाल को साथ लेकर रुख़सत हुए.

 

आज लाला मदनमोहन की सभा मैं वह शोभा न थी. केवल चुन्‍नीलाल शिंभूदयाल आदि दो चार आदमी दिखाई देते थे परन्‍तु उन्‍के मन भी बुझे हुए थे. हँसी चुहल की बातें किसी के मुखसै नहीं सुनाई देती थीं. खास्कर ब्रजकिशोर और चुन्‍नीलाल के गए पीछे तो और भी सुस्‍ती छागई. मकान सुन्‍सान मालूम होनें लगा. शिंभूदयाल ऊपर के मन सै हँसी चुहल की कुछ, कुछ बातें बनाता था परन्‍तु उन्‍मैं मोमके फूलकी तरह कुछ रस न था. निदान थोड़ी देर इधर-उधर की बातें बनाकर सब अपनें, अपनें रस्‍ते लगे और लाला मदनमोहन भी मुर्झाए चित्तसै पलंग पर जा लेटे.

 

प्रकरण-31

 

चालाक की चूक.

 

सुखदिखाय दुख दीजिये खलसों लरियेकाहि

 

जो गुर दीयेही मरै क्यौं विष दीजै ताहि ?

 

बृन्‍द.

 

“लाला मदनमोहन का लेन देन किस्‍तरह पर है ?” ब्रजकिशोर नें मकान पर पहुँचते ही चुन्‍नीलाल सै पूछा.

 

“विगत बार हाल तो कागज तैयार होनें पर मालूम होगा परन्‍तु अंदाज यह है कि पचास हजार के लगभग तो मिस्‍टर ब्राइट के देनें होंगे, पन्दरह बीस हजार आगाहसनजान महम्‍मद जान वगैरे खेरीज सौदागरों के देनें होंगे, दस बारह हजार कलकत्ते, मुंबई के सौदागरों के देनें होंगे, पचास हजार मैं निहालचंद, हरकिशोर वगैर बाजार के दुकानदार और दिसावरों के आढ़तिये आ गये” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें जवाब दिया.

 

“और लेनें किस, किस पर हैं ?” ब्रजकिशोर नें पूछा.

 

“बीस पच्‍चीस हजार तो मिस्‍टर रसल की तरफ़ बाकी होगें, दस बार‍ह हजार आगरे के एक जौहरी मैं जवाहरात की बिक्रीके लेनें हैं, दस पंदरह हजार यहां के बाजारवालों मैं और दिसावरों के आढ़तियों में लेनें होंगे. पांच, सात हजारका खेरीज लोगों मैं और नौकरों मैं बाकी होंगे, आठ दस हजार का व्‍यापार सीगे का माल मौजूद है, पांच हजार रुपे अलीपुर रोड के ठेके बाबत सरकार सै मिलनेंवाले हैं और रहनें का मकान, बाग. सवारी सर सामान वगैरे सब इन्‍सै अलग हैं” मुन्शी चुन्‍नीलालनें जवाब दिया.

 

“इस तरह अटकल पंच्चू हिसाब बतानें सै कुछ काम नहीं चल्ता. जब तक लेनें देनें का ठीक हाल मालूम नहीं फैस्ला किस तरह किया जाय ? तुम सबेरे लाला जवाहरलाल को मेरे पास भेज देना मैं उस्सै सब हाल पूछ लूंगा. ऐसे अवसर पर असावधानी रखनें सै देना सिर पर बना रहता है और लेना मिट्टी हो जाता है” ब्रजकिशोर नें कहा.

 

“कागज बहुत दिनों का चढ़ रहा है और बहुत जमा खर्च होनें बाकी है इस लिये कागज सै कुछ नहीं मालूम हो सक्ता” मुन्शी चुन्‍नीलालनें बात उड़ानें की तजबीज की.

 

“कुछ हर्ज नहीं, मैं लोगों सै जिरहके सवाल करके अपना मतलब निकाल लूंगा. मुझको अदालत मैं हर तरहके मनुष्‍यों सै नित्‍य काम पड़ता है” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “तुमनें आज सबेरे मुझसै सफाई करनें की बात कही थी परन्‍तु अभी सै उस्‍मैं अन्‍तर आनें लगा. मै वहां पहुँचा उस्‍समय तुम लोग लाला साहब सै गहना लेनें की तजबीज कर रहे थे परन्‍तु मेरे पहुँचते ही वह बात उड़ानें लगे. मुझको कुछ का कुछ समझानें लगे सो मैं ऐसा अन्‍समझ नहीं हूँ. यदि मेरा रहना तुमको असह्य है, मेरे मेल से तुम्‍हारी कमाई मैं जर्क आता है, मेरे मेल करनें का तुमको पछतावा होता है तो मैं तुम्‍हारी मारफत मेल करकै तुम्‍हारा नुक्‍सान हरगिज नहीं किया चाहता, लाला साहब सै मेल नहीं रक्‍खा चाहता. तुम अपना बंदोवस्‍त आप कर लेना.”

 

“आप वृथा खेद करते हैं. मैंनें आप से छिप कर कोन्‍सा काम किया ? आप के मेल सै मेरी अप्रसन्‍नता कैसे मालूम हुई ? आप पहुँचे जब निस्‍सन्‍देह शिंभूदयालनें मिस्‍टर रसल के लिये गहनें की चर्चा छेड़ी थी परन्‍तु वह कुछ पक्‍की बात न थी और आपकी सलाह बिना किसी तरह पूरी नहीं पड़ सक्ती थी. आपसै पहले बात करनें का समय नहीं मिला इसी लिये आपके साम्नें बात करनें मैं इतना संकोच हुआ था परन्‍तु आप को हमारी तरफ़ सै अब तक इतना संदेह बना रहा है तो आप लाला साहबके छोड़नें का बिचार क्‍यों करते हैं आप के लिये हमहीं अपनी आवाजाई बन्‍द कर देंगे” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें कहा.

 

सादी नें सच कहा है “बृद्धा बेश्‍या तपश्विनी न होय तो और क्‍या करे ? उतरा सेनक किसीका क्‍या बिगाड़कर सक्ता है कि साधु न बनें ?”  लाला ब्रजकिशोर मुस्‍कराकर कहनें लगे “मैं किसी काम मैं किसी का उपकार नहीं सहा चाहता. यदि कोई मुझपर थोड़ा सा उपकार करे तो मैं उस्से अधिक करनें की इच्‍छा रखता हूँ फ़िर मुझको इस थोथे काम मैं किसी का उपकार उठानें की क्‍या ज़रूरत है ? जो तुम महरबानी करके मेरा पूरा महन्‍ताना मुझको दिवा दोगे तो मैं इसी मैं तुम्‍हारी बड़ी सहायता समझूंगा और प्रसन्‍नता सै तुम्‍हारा कमीशन तुम्‍हारी नजर करूंगा” लाला ब्रजकिशोर इस बातचीत मैं ठेठ सै अपनी सच्‍ची सावधानी के साथ एक दाव खेल रहे थे. उन्‍नें इस युक्ति सै बात-चीत की थी जिस्सै उनका कुछ स्‍वार्थ न मालूम पड़े और चुन्‍नीलाल आप सै आप मदनमोहन को छोड़ जानें के लिये तैयार हो जाय, पास रहनें मैं अपनी हानि, और छोड़ जानें मैं अपना फायदा समझे बल्कि जाते, जाते अपनें फ़ायदे के लालच सै ब्रजकिशोर का महन्‍ताना भी दिवाता जाय.

 

“आप अपना महन्‍ताना भी लें और लाला मदनमोहन के यहां कुल अख्‍त्‍यार भी लें हमको तो हर भांति आपकी प्रसन्‍नता करनी है हमनें तो आपकी शरण ली है. हमारा तो यही निवेदन है कि इस्‍समय आप हमारी इज्‍जत बचालें” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें हार मानकर कहा. वह भीतर सै चाहे जैसा पापी था परन्‍तु प्रगट मैं अपनी इज्‍जत खोनें सै बहुत डरता था. संसार मैं बड़ा भला मानस बना फ़िरता था और इसी भलमनसात के नीचे उसनें अपनें सब पाप छिपा रखे थे.

 

“इन बातों सै इज्‍जत का क्‍या संबन्‍ध है ! मुझसै हो सकेगा जहां तक मैं तुम्‍हारी इज्‍जत पर धब्‍बा न आनें दूंगा परन्‍तु इस कठिन समय मैं तुम मदनमोहन के छोड़नें का बिचार करते हो इस्मैं मुझको तुम्हारी भूल मालूम होती है. ऐसा न होकि पीछै सै तुम्‍हें पछताना पड़े. चारों तरफ़ दृष्टि रखकर बुद्धिमान मनुष्‍य काम किया करते हैं” लाला ब्रजकिशोर नें युक्तिसै कहा.

 

“तो क्‍या इस्‍समय आपकी राय मैं लाला मदनमोहन के पास सै हमारा अलग होना अनुचित है ?” मुन्शी चुन्‍नीलाल नें ब्रजकिशोर पर बोझ डालकर पूछा.

 

“मैं साफ कुछ नहीं कह सकता क्‍योंकि और की निस्बत वह अपना हानि लाभ आप अधिक समझ सकते हैं” लाला ब्रजकिशोर नें भरम मैं कहा.

 

“तो खैर मेरी तुच्‍छ बुद्धि मैं इस्‍समय हमारी निस्‍बत आप लाला मदनमोहन की अधिक सहायता कर सकते हैं और इसी मैं हमारी भी भलाई है” मुन्शी चुन्‍नीलाल बोले.

 

“तुमनें इन दिनों मैं नवल और जुगल (ब्रजकिशोर के छोटे भाई) की भी परीक्षा ली या नहीं ! तुम गए तब वह बहुत छोटे थे परन्‍तु अब कुछ होशियार होते चले हैं” लाला ब्रजकिशोर नें पहली बात बदलकर घरबिधकी चर्चा छेड़ी;

 

“मैनें आज उन्‍को नहीं देखा परन्‍तु मुझको उनकी तरफ़ सै भली भांत विश्‍वास है. भला आपकी शिक्षा पाए पीछै किसी तरह की कसर रह सकती है ?” मुन्शी चुन्‍नीलालनें कहा.

 

“भाई ! तुम तो फ़िर खुशामद की बातें करनें लगे. यह रहनें दो. घर मैं खुशामद की क्‍या ज़रूरत है ?” लाला ब्रजकिशोर नें नरम ओलंभा दिया और चुन्‍नीलाल उनसै रुख़सत होकर अपनें घर गया.

 

प्रकरण–32

 

अदालत.

 

काम परेही जानि ये जो नर जैसो होय ।।

बिन ताये खोटो खरो गहनों लखै न कोय ।।

 

बृन्‍द.

 

अदालत में हाकिम कुर्सीपर बैठे इज्‍लास कर रहे हैं. सब अ‍हलकार अपनी, अपनी जगह बैठे हैं निहालचंद मोदी का मुकद्दमा हो रहा है. उस्‍की तरफ़ सै लतीफ हुसैन वकील हैं. मदनमोहनकी तरफ़ सै लाला ब्रजकिशोर जवाबदिही करते हैं. ब्रजकिशोर नें बचपन मैं मदनमोहन के हां बैठकर हिंदी पढ़ी थी इस वास्तै वह सराफी कागज की रीति भांति अच्‍छी तरह जान्‍ता था और उस्‍नें मुकद्दमा छिड़नें सै पहले मामूली फीस देकर निहालचंद के बही खाते अच्‍छी तरह देख लिये थे. इस मुकद्दमें मैं क़ानूनी बहस कुछ न थी केवल लेन देनका मामला था.

 

ब्रजकिशोर नें निहालचंदको गवाह ठैराकर उस्‍सै जिरहके सवाल पूछनें शुरू किये “तुम्‍हारा लेन देन रुक्‍के पर्चों सै है !”

 

जवाब “नहीं”

 

“तो तुम किस तरह लेन देन रखते हो ?”

 

ज0 “नोकरों की मारफत”

 

“तुमको कैसे मालूम होता है कि यह आदमी लाला मदनमोहन की तरफ़ सै माल लेनें आया है और उन्‍हींके हां ले जायगा !”

 

“हम यह नहीं जान सक्‍ते परन्‍तु लाला साहब का हुक्‍म है कि वह लोग जो, सामान मांगें तत्‍काल दे दिया करो”

 

“अच्‍छा ? वह हुक्‍म दिखाओ !”

 

ज0 “वह हुक्‍म लिखकर नहीं दिया था जबानी है”

 

“अच्‍छा ! वह हुक्‍म किस्के आगे दिया था-?” किस किसके लिये दिया था !” कितनें दिन हुए ?” “कौन्सा समय था ?” “कौन्‍सी जगह थी ?” “क्‍या कहा था ?”

 

“बहुत दिन की बात है मुझको अच्‍छी तरह याद नहीं है”

 

“अच्‍छा ? जितनी बात याद हो वही बताओ ?”

 

ज0 “मैं इस्‍समय कुछ नहीं कह सक्‍ता”

 

“तो क्‍या किसीसै पूछकर कहोगे ?”

 

“ज0 “जी नहीं याद करके कहूँगा”

 

“अच्‍छा ! तुम्‍हारा हिसाब होकर बीच मैं बाकी निकल चुकी है ?”

 

ज0 “नहीं”

 

“तो तुमनें साल की साल बाकी निकालकर ब्‍याज पर ब्‍याज कैसे लगा लिया ?”

 

“साहुकारे का दस्‍तूर यही है,”

 

“साहूकारे मैं तो साल की साल हिसा‍ब होकर ब्‍याज लगाया जाता है फ़िर तुमनें हिसाब क्‍यों नहीं किया ?”

 

ज0 “अवकाश नहीं मिला”

 

“तुम्‍हारी बहियों मैं उदरत खाते सै क्‍या मतलब है ?”

 

“लाला मदनमोहनके लेन देन सिवाय आप और किसी खाते का सवाल न करें” निहालचंदके वकीलनें कहा.

 

“मुझको इस सै लाला मदनमोहन के लेन देनका विशेष सम्बन्ध मालूम होता है इसीसै मैंनें वह सवाल किया है” लाला ब्रजकिशोरनें जवाब दिया और परिणाम मैं हाकिम के हुक्‍म सै यह सवाल पूछा गया.

 

“जो रक़मैं बही खाते मैं हिसाब पक्‍का करके लिखी जानेंके लायक होती हैं और तत्‍काल उन्‍का हिसाब पक्‍का नहीं हो सक्‍ता वह रक़मैं हिसाब की सफाई हौनें तक इस खाते मैं रहती हैं और सफाई होनें पर जहांकी तहां चली जाती है” निहालचंदनें जवाब दिया.

 

“अच्‍छा ! तुम्‍हारे हां जिन मितियों मैं बहुत करके लाला मदनमोहन के नाम बड़ी, बड़ी रक़में लिखी गई हैं उनहीं मितियों मैं उदरत खाते कुछ रक़म जमा की गई है और फ़िर कुछ दिन पीछे उदरत खाते नाम लिखकर वह रक़में लोगों को हाथों हाथ दे दी गई हैं या उन्‍के खाते मैं जमा कर दी गई हैं इस्का क्‍या सबब है ?” लाला ब्रजकिशोरनें पूछा.

 

“मैं पहले कह चुका हूँ कि जिन लोगों की रक़में अलल हिसाब आती जाती हैं या जिन्‍का लेन देन थोड़े दिनके वास्‍तै हुआ करता है उन्‍की रक़म कुछ दिनके लिये इस तरह पर उदरत खाते मैं रहती है परन्‍तु मैं किसी ख़ास रक़म का हाल बही देखे बिना नहीं बता सक्ता” निहालचंदनें जवाब दिया.

 

“और यह भी ज़रूर है कि जिस दिन लाला मदनमोहन का काम पड़े उस दिन की यह कारवाई अयोग्‍य समझी जाय ?” निहालचंद के वकील नें कहा.

 

“तो ये क्‍या ज़रूर है कि जिस मितिमैं लाला मदनमोहनके नाम बड़ी रक़म लिखी जाय उसी मितीमैं कुछ रक़म उदरत खाते जमा हो और थोड़े दिन पीछै वह रक़म जैसीकी तैसी लोगों को बांट दी जाय ?” लाला ब्रजकिशोरनें जवाब दिया.

 

“देखो जी ! इस मुकद्दमे मैं किसी तरह का फ़रेब साबित होगा तो हम उसै तत्‍काल फ़ौजदारी सुदुर्द कर देंगे” हाकिमनें संदेह करके कहा.

 

“हजूर हमको एक दिनकी मुहलत मिल जाय. हम इन सब बातोंके लिये लाला ब्रजकिशोर साहबकी दिलजमई अच्‍छी तरह कर देंगे” निहालचंद के वकीलनें हाकिम सै अर्ज की और ब्रजकिशोर नें इस बातको खुशी सै मंजूर किया.

 

उदरत खाते सै लाला मदनमोहनके नौकरों की कमीशन वगैरे का हाल खुल्‍ता था. जहां रक़म जमा थी किस्‍सै आई ? किस बाबत आई इसका कुछ पता न था परन्‍तु जहां रकम दी गई मदनमोहनके नोकरोंका अलग, अलग नाम लिखा था और हिसाब लगानें सै उसका भेद भाव अच्‍छी तरह मिल सक्‍ता था. जिन नोकरोंके खाते थे उन्‍के खातोंमैं यह रकमें जमा हुई थीं और कानूनके अनुसार ऐसे मामलोंमैं रिश्‍वत लेनें देनें वाले दोनों अपराधी थे परन्तु ब्रजकिशोरके मनमैं इन्‍के फंसानें की इच्‍छा न थी वह केवल नमूना दिखाकर लेनदारों की हिम्‍मत घटाया चाहता था. उस्‍नें ऐसी लपेट सै सवाल किये थे कि हाकिम को भारी न लगे और लेनदारों के चित्तमैं गढ़ जांय सो ब्रजकिशोर की इतनी ही पकड़सै बहुतसे लेनदारों के छक्‍के छूट गए.

 

कितनें ही छिपे लुच्‍चे मदनमोहनकी बेखरची, और कागजका अंधेर, लेनदारों का हुल्‍लड़, मुकद्दमोंके झटपट हो जानेंकी उम्मेद, मदनमोहनके नोकरोंकी स्‍वार्थपरता के भरोसे पर कुछ कुछ बढ़ाकर दावे कर बैठे थे. यह सूरत देखतेही उन्के पांव तलेकी जमीन निकल गई. मिस्‍टर ब्राइट की कुर्की मैं सब माल अस्‍बाबके हो जानें सै लेनदारोंको अपनी रकम के पटनेंका संदेह तो पहलेही हो गया था. अब किसी तरह की लपेट आजानें पर इज्‍जत खो बैठनेंका डर मालूम होनें लगा “नमाजको गए थे रोजे गले पड़े”

 

सिवायमैं यह चर्चा सुनाई दी कि मदनमोहन को और, और दिसावरों का बहुत देना है. यदि सब माल जायदाद नीलाम होकर हिस्से रसदी सब लेनदारों को दिया गया तो भी बहुत थोड़ी रकम पल्‍ले पड़ेगी, ब्रजकिशोरसै लोग इस्‍का हाल पूछते थे तब वह अजान बन्कर अलग हो जाता था इस्‍सै लोगोंकी और भी छाती बैठी जाती थी. जिस्‍तरह पलभर मैं मदनमोहन के दिवालेकी चर्चा चारों तरफ़ फैल गई थी इसी तरह अब यह सब बातें अफ़वाकी जहरी हवामैं मिलकर चारों तरफ़ उड़नें लगीं.

 

मोदीके मुकद्दमें के सिवाय आज कोई पेचदार मुकद्दमा अदालतमैं न हुआ जिन्‍के मुकद्दमोंमैं आज की तारीख लगी थी उन्‍नें भी निहालचंदके मुकद्दमें का परिणाम देखनेंके लिये अपनें मुकद्दमें एक, एक दो, दो दिन आगे बढ़वा दिये.

 

जब इस कामसै अवकाश मिला तो लाला ब्रजकिशोरनें अदालतसै अर्ज करके मिस्‍टर रसलकी जायदाद नीलाम होनें की तारीख आगे बढ़वा दी परन्‍तु यह बात ऐसी सीधी थी कि इस्‍के लिये कुछ विशेष परिश्रम न उठाना पड़ा.

 

लाला ब्रजकिशोर की चाल देखकर बड़ा आश्‍चर्य होता है. सब लेनदार चारों तरफ़सै निराश होकर उस्‍के पास आते हैं परन्‍तु वह आप उस्सै अधिक निराश मालूम होता है. वह उन्‍के साथ बड़ा बेपरवाई सै बातचीत करता है उन्‍को हर तरहके चढ़ाव उतार दिखाता है जब वह लोग अपना पीछा छुटानें के लिये उस्से बहुत आधीनता करते हैं तो वह बड़ी बेपरवाईसै उन्‍के साथ लगाव की बात करता है परन्‍तु जब वह किसी बात पर जमते हैं तो वह आप कच्‍चा पक्‍का होनें लगता है उल्‍टी सीधीं बात करके अपनी बातसै निकला चाहता है और जब कोई बात मंजूर करता है तो बड़ी आनाकानीसै जबान निकलनें के कारण उस्‍को यह बोझ उठाना पड़ता हो ऐसा रूप दिखाई देता है. कचहरी से लौटती बार उस्‍ने घन्टे डेढ़ घन्टे मिस्‍टर ब्राइटसै एकाँतमैं बातचीत की ! अदालतके कामोंमें उस्‍का वैसा ही उद्योग दिखाई देता है परन्‍तु दरअसल वह किसी अत्यन्त कठिन काममैं लग रहा हो ऐसा ढंग मालूम होता है उस्‍के पहले सब काम नियमानुसार दिखाई देते थे परन्तु इस समय कुछ क्रम नहीं रहा इस्‍समय उसके सब काम परस्‍पर बिपरीत दिखाई देते हैं इसलिये उस्‍का निज भाव पहचान्‍ना बहुत कठिन है परन्‍तु हम केवल इतनी बात पर संतोष बांध बैठे हैं कि जब उस्‍की कारवाईका परिणाम प्रगट हो जायगा तो वह अपना भाव सर्व साधारण की दृष्टिसे कैसे गुप्‍त रख सकेगा ?

 

प्रकरण-33.

 

मित्रपरीक्षा.

 

धन न भयेहू मित्रकी सज्‍जन करत सहाय ।।

 

मित्र भाव जाचे बिना कैसे जान्‍यो जाय ।।

 

विदुरप्रजागरे

 

आज तो लाला ब्रजकिशोर की बातोंमैं लाला मदनमोहन की बात ही भूल गये थे !

 

लाला मदनमोहन के मकान पर वैसी ही सुस्ती छा रही है केवल मास्‍टर शिंभूदयाल और मुन्शी चुन्‍नीलाल आदि तीन, चार आदमी दिखाई देते हैं परन्‍तु उन्‍का भी होना न होना एकसा है वह भी अपनें निकासका रस्‍ता ढूंढ़ रहे हैं. हम अबतक लाला मदनमोहनके बाकी मुसाहबोंकी पहचान करानें के लिये अवकाश देख रहे थे इतनेंमैं उन्‍नें मदनमोहन का साथ छोड़ कर अपनी पहचान आप बतादी. हरगोबिन्‍द और पुरुषोत्तमदास नें भी कल सै सूरत नहीं दिखाई थी. बाबू बैजनाथ को बुलानें के लिये आदमी गया था परन्‍तु उन्‍हैं आनें का अवकाश न मिला. लाला हरदयाल साहब के नाम कुछ दिन के लिये थोड़े रुपे हाथ उधार देनें को लिखा गया था परन्‍तु उन्‍का भी जवाब नहीं आया. लाला मदनमोहन का ध्‍यान सबसै अधिक डाककी तरफ़ लग रहा था उन्को विश्वास था कि मित्रों के तरफ़सै अवश्‍य अवश्‍य सहायता मिलेगी बल्कि कोई, कोई तो तार की मार्फ़त रुपे भिजवायेंगे.

 

“क्‍या करें? बुद्धि काम नहीं करती” मास्‍टर शिंभूदयाल नें समय देखकर अपनें मतलब की बात छेड़ी “इन्‍हीं दिनोंमैं यहां काम है और इन्हीं दिनों मैं लड़कों का इमतहान है. कल मुझको वहां पहुँचनें मैं पाव घन्टे की देर हो गई थी इस्‍पर हेडमास्‍टर सिर हो गये. वहां न जायं तो रोजगार जाता है यहां न रहैं तो मन नहीं मानता (मदनमोहन सै) आप आज्ञा दें जैसा किया जाय ?”

 

“खैर ? यहां का तो होना होगा सो हो रहैगा तुम अपना रोज़गार न खोओ” लाला मदनमोहन नें रुखाई सै जवाब दिया.

 

“क्‍या करूं ? लाचार हूँ” मास्‍टर शिंभूदयाल बोले “यहां आए बिना तो मन नहीं मानेंगा परन्‍तु हां कुछ कम आना होगा आठ पहर की हाजरी न सध सकेगी. मेरी देह मदरसेमैं रहेगी परन्‍तु मेरा मन यहां लगा रहैगा”

 

“बस आपकी इतनी ही महरबानी बहुत है” लाला मदनमोहन नें जोर देकर कहा.

 

निदान मास्‍टर शिंभूदयाल मदरसे जानें का समय बताकर रूख़सत हुए.

 

“आज निहालचंद का मुकद्दमा है देखैं ब्रजकिशोर कैसी पैरवी करते हैं” मुन्शी चुन्‍नीलालनें कहा “कल आपके पाकटचेन देनेंसै उन्‍का मन बहुत बढ़गया परन्तु वह उसे अपनें महन्‍तानें मैं न समझैं. मेरे निकट अब उन्‍का महन्ताना तत्‍काल भेज देना चाहिए जिस्‍सै उन्‍को यह संदेह न रहै और मन लगाकर अपनें मुकद्दमों मैं अच्‍छी जवाब दि‍ही करैं मैं इन्के पास रहक़र देख चुका हूं कि यह अपनें मुखसै तो कुछ नहीं कहते परन्‍तु इन्‍के साथ जो जितना उपकार करता है यह उस्‍सै बढ़कर उसका काम कर देते हैं”

 

“अच्‍छा ! तो आज शाम को कोई कीमती चीज इन्‍के महन्‍तानेंमैं दे देंगे और काम अच्‍छा किया तो शुक्राना जुदा देंगे” लाला मदनमोहननें कहा.

 

इतनें मैं डाक आई उस्‍मैं एक रजिस्‍ट्री चिट्ठी मेरठसै एक मित्र की आई थी जिस्‍मैं दस हजार की दर्शनी हुंडी निकली और यह लिखा था कि “जितनें रुपे चाहियें और मंगा लेना. आपका घर है” लाला मदनमोहन यह चिट्ठी देखते ही उछल पड़े और अपनें मित्रों की बड़ाई करनें लगे. हुंडी तत्‍काल सकरानें को भेज दी परन्‍तु जिसके नाम हुंडी थी उस्‍नें यह कहक़र हुंडी सिकारनेंसै इन्‍कार किया कि जिस साहूकार के हां सै लाला मदनमोहन के पास हुंडी आई है उसीनें तार देकर मुझको हुंडी सिकारनें की मनाई की है इस्‍सै सब भेद खुल गया. असल बात यह थी कि जिस्‍समय मदनमोहन की चिट्ठी उस्‍के पास पहुँची उस्को मदनमोहनके बिगड़नें का जरा भी संदेह न था इसलिये मदनमोहन की चिट्ठी पहुँचते ही उस्‍नें सच्‍ची प्रीति दिखानेंके लिये दस हजार की हुंडी खामदी परन्‍तु पीछेसै और लोगोंकी जबानी मदनमोहन के बिगड़नें का हाल सुन्कर घबराया और तत्‍काल तार देकर हुंडी खड़ी रखवादी.

 

लाला मदनमोहन इस तरह अपनें एक मित्रके छलसै निराश होकर तीसरे पहर अपनें शहरके मित्रोंसै सहायता मांगनेंके लिये आप सवार हुए. पहलै रस्‍तै मैं जो लोग झुक-झुक कर सलाम करते थे वही आज इन्‍हें देखकर मुख फेरनें लगे बल्कि कोई, कोई तो आवाजें कसनें लगे. मदनमोहन को सबसै अधिक विश्‍वास लाला हरदयाल का था इसलिये वह पहलै उसीके मकान पर पहुँचे.

 

हरदयाल को मदनमोहनके काम बिगड़नें का हाल पहले मालूम हो चुका था और इसी वास्‍तै उस्‍नें मदनमोहन की चिट्ठी का जवाब नहीं भेजा था. अब मदनमोहनके आनें का हाल सुन्‍ते ही वह जरासी देर मैं मदनमोहन के पास पहुँचा और बड़े सत्‍कार सै मदनमोहनको लिवा लेजाकर अपनी बैठकमैं बिठाया.

 

लाला मदनमोहननें कल सहायता मांगनेंके लिये चिट्ठी भेजी थी उस्‍को पहलै उस्‍नें हंसीकी बात ठैराई और जवाब न भेजनें का भी यही कारण बताया परन्‍तु जब मदनमोहननें वह बात सच्‍ची बताई और उस्‍के पीछे का सब वृत्तान्त कहा तो लाला हरदयाल अत्‍यन्‍त दुखित हुए और बड़ी उमंगसे अपनी सब दौलत लाला मदनमोहन पर न्‍योछावर करनें लगे. लाला हरदयाल की यह बातें केवल कहनें के लिये न थी वह दौड़कर अपनें गहनें का कलमदान उठा लाए और उस्मैंसै एक एक, रकम निकाल कर लाला मदनमोहन को देनें लगे. इतनें मैं एकाएक दरवाजा खुला हरदयाल का पिता भीतर पहुँचा और वह हरदयाल को जवाहरात की रकमें मदनमोहनके हाथमें देते देख कर क्रोध सै लाल हो गया.

 

“अभागे हटधर्मी ! मैंनें तुझको इतनी बार बरजा परन्‍तु तू अपना हठ नहीं छोड़ता आजकल के कपूत लड़के इतनी बातको सच्‍ची स्‍वतन्‍त्रता समझते हैं कि जहां तक हो सके बड़ों का निरादर और अपमान किया जाय, उन्‍को मूर्ख और अनसमझ बताया जाय, परन्‍तु मैं इन बातों को क़भी नहीं सहूँगा मेरे बैठे तुझको घर बरबाद करनें का क्‍या अधिकार है ? निकल यहांसै काला मुंहक़र तेरी इच्‍छा होय जहां चला जा मेरा तेरा कुछ सम्‍बन्‍ध नहीं रहा” यह कह कर एक तमाचा जड़ दिया और गहना सम्‍हाल, सम्हालकर संदूक मैं संदूक मैं रखनें लगा. थोड़ी देर पीछे लाला मदनमोहन की तरफ़ देखके कहा. “संसारके सब काम रुपै सै चल्‍ते हैं फ़िर जो लोग अपनी दौलत खोकर बैरागी बन बैठें और औरों की दौलत उड़ाकर उन्को भी अपनी तरह बैरागी बनाना चाहें वह मेरे निकट सर्वथा दया करनेंके योग्‍य नहीं हैं और जो लोग ऐसे अज्ञानियों की सहायता करते हैं वह मेरे निकट ईश्‍वर का नियम तोड़तेहैं और संसारी मनुष्‍यों के लिये बड़ी हानिका काम करते हैं मेरे निकट ऐसे आदमियों को उन्की मूर्खताका दण्‍ड अवश्‍य होना चाहिये जिस्‍सै और लोगों की आंखें खुलैं, क्‍या मित्रता का यही अर्थ है कि आप तो डूबें सो डूबें अपनें साथ औरों को भी ले डूबें ! नहीं, नहीं आप ऐसे बिचार छोड़ दीजिये और चुपचुपाते अपनें घर की राह लीजिये यह समय अपनें मित्रोंको देनें का है अथवा उल्टा उन्‍सै लेनें का है ?”

 

“बुरे वक्‍त मैं एक मित्रका जी दुखाना, और दयाके समय क्रूरता करनी, किसीकी दुखती चोट पर हँसना, एक गरीब को उस्‍की गरीबीके कारण तुच्‍छ समझना, अथवा उस्‍की गरीबी की याद दिवाकर उसै सताना, दूसरे का बदला भुगताती बार अपनें मतलब का खयाल करना, कैसा ओछापन और घोर पाप है. जहां सज्‍जन धनवानों की खुशामद सै दूर रहक़र गरीबोंका साथ देनें और सहायता करनें मैं सच्‍ची सज्‍जनता समझते हैं. कठोर वचन दो तरह से कहा जाता है. जो लोग अपनायत की रीति सै कहते हैं उन्‍कीकहनसै तो अपनें चित्तमैं वफादारी और आधीनता बढ़ती हैं पर जो अभिमान की राहसै दूसरे को तुच्‍छ बनाते हैं उन्‍की कहनसै चित्तमैं क्रोध और धि:कार बढ़ता जाता है. हर तरह का घाव ओषधि सै अच्‍छा हो सक्ता है परन्‍तु मर्म बेधी बात का नासूर किसी तरह नहीं रुझता. विदुरजीनें सच कहा है “नावक सर धनु तीर काढे कुढत शरीरते ।। कुबचन तीर गम्भीर कढत न क्‍यों हूँ उर गढे ।।।।”

 

निदान लाला मदनमोहन को यह कहना अत्‍यन्‍त असह्य हुई. वह तत्‍काल उठकर वहांसै चल दिये परन्‍तु बैठक सै बाहर जाते, जातै उन्हैं पीछैसै हरदयाल का यह बचन सुनकर बड़ा आश्‍चर्य हुआ कि “चलो यह स्‍वांग (अभिनय) हो चुका अब अपना काम करो.”

 

लाला मदनमोहन वहां सै चलकर एक दूसरे मित्रके मकान पर पहुँचे और उस्‍सै अपनै आनेंकी खबर कराई वह उस्‍समय कमरेमैं मोजूद था परन्‍तु उस्‍नें लाला मदनमोहन को थोड़ी देर अपनें दरवाजे पर बाट दिखानेंमैं और अपनें कमरे को ज़रा मेज कुरसी, किताब, अखबार आदि सै सजाकर मिलनेंमैं अधिक शोभा समझी इसलिये कहला भेजा कि “आप ठैरें लाला साहब भोजन करनें गये हैं अभी आकर आप सै मिलेंगे.” देखिये आज-कलके सुधरे विचारोंका नमूना यह है ? थोड़ी देर पीछै वह लाला मदनमोहनको लिवानें आया और बड़े शिष्‍टाचारसै लिवा ले जाकर उन्‍हैं तकियेके सहारे बिठाया. लाला मदनमोहन को थोड़ी देर उस्‍की बाट देखनी पड़ी थी इस्‍की क्षमा चाही और इधर-उधर की दो चार बातें करके मानों कुछ चिट्ठियाँ अत्‍यन्‍त आवश्‍यकीय लिखनी बाकी रह गई हों. इस्‍तरह चिट्ठी लिखनें लगा परन्‍तु दो चार पल पीछे फ़िर कलम रोककर बोला “हां यह तो कहिये आपनें इस्‍समय किस्‍तरह परिश्रम किया ?”

 

“क्‍यों भाई ! आनें जानें का कुछ डर है ? क्‍या मैं पहले क़भी तुम्‍हारे यहां नहीं आया ? या तुम मेरे यहां नहीं गए ?” लाला मदनमोहननें कहा.

 

“आपनें यह तो बड़ी कृपा की परन्‍तु मेरे पूछनें का मतलब यह था कि कुछ ताबेदारी बताकर मुझे अधिक अनुग्रहीत कीजिये” उस मनुष्‍यनें अजानपनें मैं कहा.

 

“हां कुछ काम भी है. मुझको इस्‍समय कुछ रुपे की ज़रूरत है मेरे पास बहुत कुछ माल अस्‍बाब मौजूद है परन्‍तु लोगोंनें बृथा तकाजा करके मुझको घबरा लिया” लाला मदनमोहन भोले भाव सै बोले.

 

“मुझको बड़ा खेद है कि मैंनें अपना रुपया अभी एक और काम मैं लगा दिया यदि मुझको पहलै सै सूचना होती तो मैं सर्वथा वह काम न करता” उस मनुष्‍य नें जवाब दिया.

 

“अच्‍छा ! कुछ चिन्‍ता नहीं आप मेरे लेनदारोंकी जमाखातर ज़रा अपनी तरफ़ सै कर दें.

 

“इस्‍सै हमारी स्‍वरूपहानि है हम ज़ामनी करें तो हमको रुपया उसी समय देना चाहिये” उस पुरुष नें जवाब दिया और लाला मदनमोहन वहां सै भी निराश होकर रवानें हुए.

 

रस्‍ते मैं एक और मित्र मिले वह दूरी ही सै अजानकी तरह दृष्टि बचाकर गली मैं जानें लगे परन्‍तु लाला मदनमोहन नें आवाज देकर उन्हें ठैराया और अपनी बग्‍गी खड़ी की इस्‍सै लाचार होकर उन्‍हें ठैरना पड़ा परन्‍तु उनके मनमैं पहली सी उमंग नाम को न थी.

 

“आप प्रसन्‍न हैं ? मुझको इस्‍समय एक बड़ा जरूरी काम था. माफ़ करें मैं किसी समय आपके पास हाजिर होऊँगा” यह कहक़र वह मनुष्‍य जानें लगा परन्‍तु मदनमोहननें उसै फ़िर रोका और कहा “हां भाई ? अब तुमको अपनें जरूरी कामों के आगे मुझसैं मिलनें का अवकाश क्‍यों मिलनें लगा था ? अच्‍छा ? जाओ हमारा भी परमेश्‍वर रक्षक है.”

 

इस तानें सै लाचार होकर उसै ठैरना पड़ा और उसके ठैरनें पर लाला मदनमोहन नें अपना वृत्तान्त कहा.

 

“यह हाल सुन्‍कर मुझको अत्यन्त खेद हुआ. परमेश्‍वर आप पर कृपा करें. वह सर्वशक्तिमान दीनदयाल सर्वं का दु:ख दूर करता है. उस्‍पर विश्‍वास रखनें सै आपके सब दु:ख दूर हो जायंगे आप धैर्य रक्‍खें. मुझको इस्‍समय सचमुच बहुत जरूरी काम है इस लिये मैं अधिक नहीं ठैर सक्ता परन्‍तु मैं आजकल मैं आपके पास हाजिर होऊंगा और सलाह करके जो बात मुनासिब मालूम होगी उस्‍के अनुसार बरताव किया जायगा” यह कह कर वह मनुष्‍य तत्‍काल वहां सै चल दिया.

 

लाला मदनमोहन और एक मित्रके मकान पर पहुँचे. बाहर खबर मिली कि “वह मकान के भीतर हैं” भीतर सै जवाब आया कि “बाहर गए” लाचार मदनमोहन को वहां सै भी खाली हाथ फ़िरना पड़ा. और अब और मित्रों के यहां जानें का समय नहीं रहा इसलिये निराश होकर सीधे अपनें मकान को चले गए.

 

प्रकरण-34.

 

हीनप्रभा (बदरोबी)

नीचन के मन नीति न आवै । प्रीति प्रयोजन हेतु लखावै ।।

कारज सिद्ध भयो जब जानैं । रंचकहू उर प्रीति न मानै ।।

प्रीति गए फलहू बिनसावै । प्रीति विषै सुख नैक न पावै ।।

जादिन हाथ कछू नहीं आवै । भाखि कुबात कलंक लगावै ।।

सोइ उपाय हिये अवधारै । जासु बुरो कछु होत निहारै ।।

रंचक भूल कहूँ लख पा वैं । भाँति अनेक बिरोध बढ़ावै ।।

 

विदुरप्रजागरे.

 

लाला मदनमोहन मकान पर पहुँचे उस्‍समय ब्रजकिशोर वहां मौजूद थे.

 

लाला ब्रजकिशोर नें अदालत का सब वृत्तान्त कहा. उस्‍मैं मदनमोहन, मोदी के मुकद्दमें का हाल सुन्‍कर बहुत प्रसन्‍न हुए. उस्‍समय चुन्‍नलीलाल नें संकेत मैं ब्रजकिशोर के महन्‍तानें की याद दिवाई जिस्‍पर लाला मदनमोहन नें अपनी अंगुली सै हीरे की एक बहुमूल्‍य अंगूठी उतार कर ब्रजकिशोर को दी और कहा “आपकी मेहनत के आगे तो यह महन्‍ताना कुछ नहीं है परन्‍तु अपना पुराना घर और मेरी इस दशा का बिचार करके क्षमा करिये”

 

य‍ह बात सुन्‍ते ही एक बार लाला ब्रजकिशोर का जी भर आया परन्तु फ़िर तत्‍काल सम्‍हल कर बोले “क्‍या आपनें मुझ को ऐसा नीच समझ रक्‍खा है कि मैं आपका काम महन्‍तानें के लालच सै करता हूँ ? सच तो यह है कि आप के वास्‍ते मेरी जान जाय तो भी कुछ चिन्‍ता नहीं परन्‍तु मेरी इतनी ही प्रार्थना है कि आपनें अँगूठी देकर मुझसै अपना मित्र भाव प्रगट किया सो मैं आपको बराबर का नहीं बना चाहता मैं आपको अपना मालिक समझता हूँ इसलिये आप मुझे अपना ‘हल्‍क:बगोश’ (सेवक) बनायं”

 

“यह क्‍या कहते हो ! तुम मेरे भाई हो क्‍योंकि तुमको पिता सदा मुझसै अधिक समझते थे. हां तुम्‍हैं बाली पहन्‍नें की इच्‍छा हो तो यह लो मेरी अपेक्षा तुम्‍हारे कान मैं यह बहुमूल्‍य मोती देखकर मुझको अधिक सुख होगा परन्‍तु ऐसे अनुचित बचन मुखसै न कहो” यह कहक़र लाला मदनमोहन नें अपनें कानकी बाली ब्रजकिशोर को दे दी !

 

”कल हरकिशोर आदि के मुकद्दमे होंगे उन्‍की जवाबदिहि का बिचार करना है कागज तैयार करा कर उन्सै रहत (बदर) छांटनी है इसलिये अब आज्ञा हो” यह कह कर ब्रजकिशोर रुख़सत हुए और लाला मदनमोहन भोजन करनें गए.

 

लाला मदनमोहन भोजन करके आये उस्‍समय मुन्शी चुन्‍नीलालनें अपनें मतलब की बात छेड़ी.

 

“मुझको हर बार अर्ज करनेंमैं बड़ी लज्‍जा आती है परन्‍तु अर्ज किये बिना भी काम नहीं चल्‍ता” मुन्शी चुन्‍नीलाल कहनें लगा “ब्‍याह का काम छिड़ गया परन्‍तु अबतक रुपेका कुछ बन्‍दोबस्‍त नहीं हुआ. आपनें दो सौके नोट दिये थे वह जाते ही चटनी हो गए. इस्‍समय एक हजार रुपयेका भी बन्‍दोबस्‍त हो जाय तो खैर कुछ दिन काम चल सक्ता है, नहीं तो काम नहीं चल्‍ता.”

 

“तुम जान्‍ते हो कि मेरे पास इस्‍समय नगद कुछ नहीं है और गहना भी बहुतसा काममें आचुका है” लाला मदनमोहन बोले “हां मुझको अपनें मित्रों की तरफ़ सै सहायता मिल्नें का पूरा भरोसा है और जो उन्‍की तरफ़ सै कुछ भी सहायता मिली तो मैं प्रथम तुम्‍हारी लड़की के ब्‍याहका बन्‍दोबस्‍त कर दूंगा.”

 

“और जो मित्रों सै सहायता न मिली तो मेरा क्‍या हाल होगा ?” मुन्शी चुन्‍नीलालनें कहा “ब्‍याह का काम किसी तरह नहीं रुक सक्‍ता और बड़े आदमियों की नौकरी इसी वास्‍ते तन तोड़ कर की जाती है कि ब्‍याह शादी मैं सहायता मिले, बराबरवालोंमैं प्रतिष्‍ठा हो परन्‍तु मेरे मन्‍द भाग्‍य सै यहां इस्‍समय ऐसा मौका नहीं रहा इसलिये मैं आपको अधिक परिश्रम नहीं दिया चाहता. अब मेरी इतनी ही अर्ज है कि आप मुझको कुछ दिनकी रुख्सत देदें जिस्‍सै मैं इधर उधर जाकर अपना कुछ सुभीता करूं.”

 

“तुमको इस्‍समय रुख़सत का सवाल नहीं करना चाहिये मेरे सब कामों का आधार तुम पर है फ़िर तुम इस्‍समय धोका दे कर चले जाओगे तो काम कैसे चलेगा ?” लाला मदनमोहननें कहा.

 

“वाह ! महाराज वाह ! आपनें हमारी अच्छी कदर की !” मुन्शी चुन्‍नीलाल तेज होकर कहनें लगा “धोका आप देते हैं या हम देते हैं ? हम लोग दिन रात अपकी सेवा मैं रहैं तो ब्‍याह शादी का खर्च लेनें कहां जायं ? आपनें अपनें मुख सै इस ब्‍याह मैं भली भांति सहायता करनें के लिये कितनी ही बार आज्ञा की थी, परन्‍तु आज वह सब आस टूट गई तो भी हमनें आपको कुछ ओलंभा नहीं दिया. आप पर कुछ बोझ नहीं डाला केवल अपनें कार्य निर्वाह के लिये कुछ दिन की रुख्सत चाही तो आपके निकट बड़ा अधर्म हुआ. खैर ! जब आपके निकट हम धोखेबाज ही ठैरे तो अब हमारे यहां रहनें सै क्‍या फायदा है ? यह आप अपनी तालियां लें और अपना अस्‍बाब सम्भाल लें. पीछे घटे बड़ेगा तो मेरा जिम्‍मा नहीं है. मैं जाता हूँ.” यह कह कर तालियोंका झूमका लाला मदनमोहनके आगे फेंक दिया और मदनमोहन के ठंडा करते-करते क्रोध की सूरत बना कर तत्‍काल वहां सै चल खड़ा हुआ.

 

सच है नीच मनुष्‍य के जन्‍म भर पालन पोषण करनें पर भी एक बार थोड़ी कमी रहजानें सै जन्‍म भर का किया कराया मट्टी मैं मिल जाता है. लोग कहते हैं कि अपनें प्रयोजन मैं किसी तरह का अन्‍तर आनें सै क्रोध उत्‍पन्‍न होता है अपनें काम मैं सहायता करनें सै बिरानें हो जाते हैं और अपनें काम में बिघ्‍न करनें सै अपनें बिरानें समझे जाते हैं परन्‍तु नहीं क्रोध निर्बल पर विशेष आता है और नाउम्‍मेदी की हालात मैं उस्‍की कुछ हद नहीं रहती. मुन्शी चुन्‍नीलाल पर लाला मदनमोहन कितनी ही बार इस्‍सै बढ़, बढ़ कर क्रोधित हुए थे परन्‍तु चुन्‍नीलाल को आज तक क़भी गुस्‍सा नहीं आया ? और आज लाला मदनमोहन उस्‍को ठंडा करते रहे तो भी वह क्रोध करके चल दिया. वृन्‍दनें सच कहा है “बिन स्‍वारथ कैसे सहे कोऊ करुए बैन । लात खाय पुचकारिए होय दुधारू धेन ।।”

 

मुन्शी चुन्‍नीलाल के जानें सै लाला मदनमोहन का जी टूट गया परन्‍तु आज उनको धैर्य देनें के लिये भी कोई उन्‍के पास न था. उन्‍के यहां सैकड़ों आदमियों का जमघट हर घड़ी बना रहता था सो आज चिड़िया तक न फटकी. लाला मदनमोहन इस सोच बिचार मैं रात के नौ बजे तक बैठे रहे परन्‍तु कोई न आया तब निराश होकर पलंग पर जा लेटे.

 

अब लाला मदनमोहन का भय नोकरोंपर बिल्‍कुल नहीं रहा था. सब लोग उन्‍के माल को मुफ्तका माल समझनें लगे थे. किसी नें घड़ी हथियाई, किसी नें दुशालेपर हाथ फैंका. चारों तरफ़ लूटसी होनें लगी. मोजे, गुलूबंद, रूमाल आदिकी तो पहलेही कुछ पूछ न थी. मदनमोहन को हर तरह की चीज खरीदनें की धत थी परन्‍तु खरीदे पीछे उस्‍को कुछ याद नहीं र‍हती थी और जहां सैकड़ों चीजें नित्‍य खरीदी जायँ वहां याद क्‍या धूल रहै ? चुन्‍नीलाल, शिंभूदयाल आदि कीमत मैं दुगनें चौगनें कराते थे परन्‍तु यहां असल चीजोंही का पता न था. बहुधा चीजें उधार आती थीं इस्‍सै उन्‍का जमा खर्च उस्‍समय नहीं होता था और छोटी, छोटी चीजों के दाम तत्‍काल खर्च मैं लिख दिये जाते थे. इस्‍सै उन्‍की किसी को याद नहीं रहती थी. सूची पत्र बनानें की वहां चाल न थी और चीज बस्‍त की झडती क़भी नहीं मिलाई जाती थी नित्‍य प्रति की तुच्‍छ बातोंपर क़भी, क़भी वहां हल्‍ला होता था परन्‍तु सब बातोंके समूह पर दृष्टि करके उचित रीतिसै प्रबन्‍ध करनें की युक्ति क़भी नहीं सोची जाती थी और दैवयोगेन किसी नालायक सै कोई काम निकल आता था तो वह अच्‍छा समझ लिया जाता था परन्‍तु काम करनें की प्रणाली पर किसी की दृष्टि न थी. लाला साहब दो तीन वर्ष पहलै आगरे लखनऊ की सैर को गए थे वहां के रस्‍ते खर्च के हिसाब का जमा खर्च अबतक नहीं हुआ था और जब इस तरह कोई जमा खर्च हुए बिना बहुत दिन पड़ा रहता था तो अन्‍त मैं उस्‍का कुछ हिसाब किताब देखे बिना यों ही खर्च मैं रकम लिखकर खाता उठा दिया जाता था. कैसेही आवश्‍यक काम क्‍यों न हो लाला साहब की रुचि के बिपरीत होनें सै वह सब बेफ़ायदे समझे जाते थे और इस ढब की बाजबी बात कहना गुस्‍ताखी मैं गिना जाता था. निकम्‍मे आदमियों के हरवक्‍त घेरे बैठे रहनें सै काम के आदमियों को काम की बातें करनें का समय नहीं मिल्‍ता था. “जिस्की लाठी उस्की भैंस” हो रही थी. जो चीज जिस्‍के हाथ लगती थी वह उस्‍को खूर्दबुर्द कर जाता था. भाड़े और उघाई आदिकी भूली भुलाई रकमों को लोग ऊपर का ऊपर चट कर जाते थे आधे परदे पर कर्जदारों को उनकी दास्‍तावेज फेर दी जाती थी. देशकाल के अनुसार उचित प्रबन्‍ध करनें में लोक निंदाका भय था ! जो मनुष्‍य कृपापात्र थे उनका तन्‍तना तो बहुत ही बढ़ रहा था उन्‍के सब अपराधों सै जान बूझकर दृष्टि बचाई जाती थी. वह लोग सब कामों मैं अपना पांव अड़ाते थे और उन्‍के हुक्‍म की तामील सबको करनी पड़ती थी यदि कोई अनुचित समझकर किसी काम मैं उज्र करता तो उस्‍पर लाला साहब का कोप होता था और इस दुफसली कारवाई के कारण सब प्रबन्‍ध बिगड़ रहा था (बिहारी) “दुसह दुराज प्रजान को क्‍यों न बढ़ै दुंख दुंद ।। अधिक अंधेरो जग करै मिल मावस रबि चंद ।।” ऐसी दशा मैं मदनमोहन की स्‍त्री के पीछे चुन्‍नीलाल और शिंभूदयाल के छोड़ जानें पर सब माल मतेकी लूट होनें लगे, जो पदार्थ जिसके पास हो वह उस्‍का मालिक बन बैठे इस्‍मैं कौन आश्‍चर्य है ?

 

प्रकरण-35

 

स्तुति निन्‍दा का भेद.

 

बिनसत बार न लागही ओछे जनकी प्रीति ।।

अंबर डंबर सांझके अरु बारूकी भींति ।।

 

सभाविलास.

 

दूसरे दिन सवेरे लाला मदनमोहन नित्‍य कृत्‍य सै निबटकर अपनें कमरे मैं इकल्‍ले बैठे थे. मन मुर्झा रहा था किसी काम मैं जी नहीं लगता था एक, एक घड़ी एक, एक बरस के बराबर बीतती थी इतनें मैं अचानक घड़ी देखनें के लिये मेज़पर दृष्टि गई तो घड़ी का पता न पाया. हें ! यह क्‍या हुआ ! रात को सोती बार जेबसै निकालकर घड़ी रक्‍खी थी फ़िर इतनी देर मैं कहां चली गई ! नौकरों सै बुलाकर पूछा तो उन्‍होंनें साफ जवाब दिया कि “हम क्‍या जानें आपनें कहां रक्‍खी थी ? जो मौकूफ करना हो तो यों ही करदें वृथा चोरी क्‍यों लगाते हैं” लाचार मदनमोहन को चुप होना पड़ा क्‍योंकि आप तो किसी जगह आनें जानें लायक ही न थे सहायता को कोई आदमी पास न रहा. लाला जवाहरलाल की तलाश कराई तो वह भी घर सै अभी नहीं आए थे. लाला मदनमोहन को अपाहजों की तरह अपनी पराधीन दशा देखकर अत्‍यन्‍त दु:ख हुआ परन्‍तु क्‍या कर सक्ते थे ? उन्‍के भाग्‍य सै उन्‍का दु:ख बंटानें के लिये इस्‍समय बाबू बैजनाथ आं पहुँचे. उन्‍को देखकर लाला मदनमोहन के शरीर मैं प्राण आगया.

 

लाला मदनमोहन नें आंखों सै आंसू बहाकर उन्सै अपना सर्व दु:ख कहा और अन्‍त मैं अपनी घड़ी जानें का हाल कह कर इस काम मैं सहायता चाही.

 

“आपका हाल सुन्‍कर मुझको बहुत खेद होता है मुझे चुन्‍नीलाल की तरफ़ सै सर्वथा ऐसा भरोसा न था इसी तरह आप अपनें काम काज सै इतनें बेखबर होंगे यह भी उम्‍मेद न थी” बाबू बैजनाथ नें काम बिगड़े पीछे अपनी आदत मूजिब सबकी भूल निकालकर कहा “मैंनें तो अखबारों मैं भी आपके नाम की धूम मचा दी थी परन्‍तु आप अपनें काम ही को सम्‍हाल न रक्‍खें तो मैं क्‍या करूं ? महाजनी काम मुझको नहीं आता और इतना अवकाश भी नहीं मिलता. मैं घड़ी का पता लगानें के लिये उपाय करता परन्‍तु आजकल रेल पर काम बहुत है इस्‍सै लाचार हूँ. मेरे निकट इस्‍समय आपके लिये यही मुनासिब है कि आप इन्‍सालवन्‍ट होनें की दरखास्‍त दे दें.”

 

“अच्‍छा ! बाबू साहब ! आपसै और कुछ नहीं हो सक्‍ता तो आप केवल इतनीही कृपा करें कि मेरी घड़ी जानें की रपट कोतवाली मैं लिखाते जायं” लाला मदनमोहननें गिड़गिड़ाकर कहा.

 

“मैं रेलवे कम्‍पनी का नौकर हूँ इस वास्‍तै कोतवाली मैं रिपोर्ट नहीं लिखा सक्‍ता बल्कि प्रगट होकर किसी काम मैं आपको कुछ सहायता नहीं दे सक्ता. मुझसै निज मैं आपकी कुछ सहायता हो सकेगी तो मैं बाहर नहीं हूँ परन्‍तु आप मुझ सै किसी जाहरी काम के वास्‍तै कहक़र मुझे अधिक लज्जित न करें और अन्‍त मैं मैं आपको इतनी ही सलाह देता हूँ कि “आप लाला ब्रजकिशोर पर विश्‍वास रखकर उस्‍के बसमें न हो जायं बल्कि उसको अपनें बस मैं रखकर अपना काम आप करते रहैं.”

 

“सच है यह समय किसी पर विश्‍वास रखनें का नहीं है जो लोग अपनें मतलब की बार सच्‍चे मित्र बनकर मेरे पसीनें की जगह खून डालनें को तैयार रहते थे मतलब निकल जानें सै आज उन्‍की छाया भी नहीं दिखाई देती. सत्‍सम्‍मति देना तो अलग रहा मेरे पार खड़े रहनें तक के साथी नहीं होते. जो लोग किसी समय मेरी मुलाकात के लिये तरस्‍ते थे वह अब तीन; तीन बार बुलानें सै नहीं आते. मेरे पास आनें जानें मैं जिन लोगों की इज्‍जत बढ़ती थी वह आज मुझ सै किसी तरह का सम्‍बन्‍ध रखनें मैं लजाते हैं” लाला मदनमोहन नें भरमा भरमी इतनी बात कहक़र अपनी छाती का बोझ हल्‍का किया.

 

“यह तो सच है जिसका प्रयोजन होता है उसै उचित अनुचित बातों का कुछ बिचार नहीं रहता” बाबू बैजनाथ नें जैसे का तैसा जवाब दिया और थोड़ी देर इधर-उधर की बातें करके रुख़सत हुआ.

 

लाला मदनमोहन बड़े चकित थे कि हे ! परमेश्‍वर ! य‍ह क्‍या भेद है मेरी दशा बदलते ही सब संसार के बिचार कैसे बदल गए. और जिन्‍सै मेरा किसी तरह का सम्‍बन्‍ध न था वह भी मुझको अकारण क्‍यों तुच्‍छ समझनें लगे ? मेरे नर्म होनें पर भी बेप्रयोजन मुझ सै क्‍यों लड़ाई झगड़ा करनें लगे ? जिन लोगों को मेरी योग्‍यता और सावधानी के सिवाय अब तक कुछ नहीं दिखाई देता था उन्‍को अब क्‍यों मेरे दोष दृष्टि आनें लगे ? लाला मदनमोहन इन बातों का बिचार कर रहे थे इतनें मैं लाला ब्रजकिशोर वहां जा पहुँचे और मदनमोहन नें अपनें मन का सब संदेह उन्‍हें कह सुनाया.

 

“एक तो जो लोग प्रथम स्वार्थबस प्रीति करते हैं उनकी कलई ऐसे अवसर पर खुल जाती है. दूसरे साधारण लोगों की स्‍तुति निन्‍दा कुछ भरोसे लायक नहीं होती. वह किसी बात का तत्‍व नहीं जान्‍ते प्रगट मैं जैसी दशा देखते हैं वैसा ही कहनें लगते हैं बल्कि उसीके अनुसार बरताव करते हैं इस्‍सै साधारण लोगों की प्रतिष्‍ठा योग्‍यता के अनुसार नहीं होती द्रव्य अथवा जाहरदारी के अनुसार होती हैं और द्रव्‍य अथवा जाहरदारी के परदे तले घोर पापी अपनें पापों को छिपाकर क्रम, क्रम सै प्रतिष्ठित लोगों मैं मिल सकता है बल्कि प्रतिष्ठित लोगों मैं मिलना क्‍या ? कोई पूरा चालाक मनुष्य हो तब तो वह द्रव्‍य के भरम और जाहरदारी के बरताव सै द्रव्‍य तक पैदा कर सकता है ! ऐसा मनुष्‍य पहले अपनें द्रव्‍य अथवा योग्‍यता का झूठा प्रपंच फैलाकर लोगों के मन मैं अपना विश्‍वास बैठाता है और विश्‍वास हुए पीछै कमाई की अनेक राह सहज मैं उस्‍के हाथ आ जाती है. लोग उस्‍को अपनें आप धीरनें लगते हैं क़भी, क़भी ऐसे मनुष्‍य अपनी धूर्तता सै सच्‍चे योग्‍य अथवा धनवानों सै बढ़कर काम बना लेते हैं यद्यपि अन्त मैं उन्‍की कलई बहुधा खुल जाती है परन्‍तु साधारण लोग केवल वर्तमान दशा पर दृष्टि रखते हैं. जिस्‍समय जिसकी उन्‍नति देखते हैं उन्‍नति का मूल कारण निश्‍चय किये बिना उस्‍की बड़ाई करनें लगते हैं उस्‍के सब काम बुद्धिमानी के समझते हैं इसी तरह जब किसी की प्रगट मैं अवनति दिखाई देती है तो वह उस्‍की मूर्खता समझते हैं और उस्‍के गुणों मैं भी दोषारोप करनें लगते हैं ? सस्‍समय उन्‍को भूलहीं भूल दृष्टि आती है सो आप प्रत्‍यक्ष देख लीजिये कि जब तक सर्व साधारण को प्रगट मैं आप की उन्‍नति का रूप दिखाई देता था. आपका द्रव्‍य, आपका वैभव, आपका यश, आपकी उदारता, आपका सीधापन, आपकी मिलन सारी, देखकर वह आपका आचरण अच्‍छा समझते थे आपकी बुद्धिमानीकी प्रशंसा करते थे आपसै प्रीति रखते थे. जब आपको यह झटका लगा प्रगट मैं आपकी अवनति का सामान दिखाई देनें लगा झट उस्‍की राह बदल गई आपके बड़प्‍पन के बदले उनके मन मैं धिक्‍कार उत्‍पन्न हुआ. आपकी अतिव्‍ययशीलता, अदूरदृष्टि, अप्रबंध, और आत्‍मसुखपरायणता आदि दोष उस्‍को दिखाई देनें लगे. आपके बनें रहनें पर उन लोगों को आप सै जो, जो आशाएँ थीं और उन आशाओं के कारण आपसै स्‍वार्थपरता की जितनी प्रीति थी वह उन आशाओं के नष्ट होते ही सहसा छाया के समान उन्‍के ह्रदयसै जाती रही बल्कि आशा भंग होनें का एक प्रकार खेद हुआ फ़िर जब साधारण लोगों का यह अभिप्राय हो, मुन्‍शी चुन्‍नीलाल, शिंभूदयाल आदि आपको यों अकेला छोड़कर चले जायं तब आपके छोटे नौकर निडर होकर आपके माल की लूट मचानें लगें जो चीज जिस्‍के पास हो वह उसका मालिक बन बैठे इस्‍मैं कौन आश्‍चर्य है ?”

 

“अच्‍छा ? अब आगे के लिये आप कहैं जैसे करूँ इस्का कुछ प्रबंध तो अवश्‍य होना चाहिये” लाला मदनमोहन नें गिड़गिड़ाकर कहा.

 

इस्‍पर लाला ब्रजकिशोर घर के सब नौकरों को धमका कर बड़े क्रोध सै कहनें लगे “आज सवेरेसै इस कमरे के भीतर कौन, कौन आया था उन सबके नाम लिखवाओ मैं अभी कोतवाली को रुक्का लिखता हूँ वह सब हवालात मैं भेज दिये जायंगे और उन्‍के मकान की उन्‍के सम्‍बन्धियों समेत तलाशी ली जायगी जिनके घर सै कोई चीज चोरी की निकलेगी या जिनपर और किसी तरह चोरी का अपराध साबित होगा उन्‍को ताजी-रात हिन्‍द की दफै 408 के अनुसार सात बरस तक की कैद और जुर्मानें का दण्‍ड भी हो सकेगा.”

 

“अजी महाराज ! एक मनुष्‍य के अपराध सै सबको दण्‍ड हो यह तो बड़ा अनर्थ है” बहुतसे नौकर गिड़गिड़ाकर कहनें लगे “हम लोग अब तक लाला साहब के यहां बेटा बेटी की तरह पले हैं इस्‍सै अब ऐसी ही मर्जी हो तो हमको मौकूफ कर दीजिये परन्‍तु बदनामी का टीका लगा कर और जगह के कमानें खानें का रस्‍ता तो बंद न कीजिये.”

 

“हां हां यह तो सफाईसै निकल जानें का अच्‍छा ढंग है परन्‍तु इस्‍तरह तुम्‍हारा पीछा पहीं छुटेगा जो तुम लाला साहब के यहां बेटा बेटी की तरह पले हो तो तुमको इस्‍समय यह बात कहनी चाहिये ? तुम इस्‍समय लाला साहब सै अलग होनें मैं अपना लाभ समझते हो परन्‍तु यह तुम्‍हारी भूल है इस्मैं तुम उल्‍टे फंस जाओगे” लाला ब्रजकिशोर नें सिंह की तरह गर्ज कर कहा.

 

“अच्‍छा ! हम को साँझ तककी छुट्टी दीजिये हमसै हो सकेगा जहां तक हम घड़ी का पता लगावेंगे” नौकरोंनें जवाब दिया.

 

“तुम लोग यह बहाना करके अपनें घर सै चोरी का माल दूर किया चाहते हो परन्‍तु मैं घड़ी का पता लगाये बिना तुम को क़भी ढीला नहीं छोडूंगा, मैं अभी कोतवाली को रुक्‍का लिखता हूँ” यह कह कर लाला ब्रजकिशोर सचमुच रुक्‍का लिखनें लगे.

 

जिन लोगोंनें सवेरे मदनमोहन की बात पर कुछ ध्‍यान नहीं दिया था वही इस्‍समय ब्रजकिशोर की जरा सी धमकी सै मदनमोहन के पांव पकड़ कर रोनें लगे. तुलसी दासजी नें सच कहा है “शूद्र गमार ढोल पशु नारी । सकल ताड़ना के अधिकारी ।।”

 

“भाई ! इन्‍को सांझ तक अवकाश दे दो. जो तुम अब करना चाहते हो सांझ को कर लेना” लाला मदनमोहन नें पिघल कर अथवा किसी गुप्‍त कारण सै दब कर कहा.

 

“आप को किसीकी रिआयत हो तो आप निज मैं भले ही उन्‍को कुछ इनाम दे दें परन्‍तु प्रबन्‍ध के कामों मैं इस तरह अपराधियों पर दया करके अपनें हाथ सै प्रबन्‍ध न बिगाड़ें. ये लोग आपका क्‍या कर सक्ते हैं ? मनुस्‍मृति मैं कहा है “दंड विषै संभ्रम भये वर्ण दोष है जाय । मचै उपद्रव देश मैं सब मर्याद नसाय ।।”

 

सादी कहते हैं “पापिन मांहिं दया है ऐसी । सज्‍जन संग क्रूरता जैसी ।।”

 

लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

“खैर ! कुछ हो आज का दिन तो इन्‍को छोड़ दीजिये” लाला मदनमोहन नें दबा कर कहा.

 

“बहुत अच्‍छा ! जैसी आपकी मर्जी” ब्रजकिशोर नें रुखाई से जवाब दिया.

 

“मुझकौ मित्रों की तरफ़ सै सहायता मिलनेंका विश्‍वास है परन्‍तु दैवयोग सै न मिली तो क्‍या इन्‍सालवन्‍ट होनें की दरख्‍वास्‍त देनी पड़ेगी” लाला मदनमोहननें पूछा.

 

“अभी तो कुछ ज़रूरत नहीं मालूम होती परन्‍तु ऐसा बिचार किया भी जाय तो आपके लेन देन और माल अस्‍बाब का कागज कहां तैयार है ?” लाला ब्रजकिशोर नें जवाब दिया और कचहरी जानें के लिये मदनमोहन सै रुख्सत होकर रवानें हुए.

 

 

 

 

 

प्रकरण-36

 

धोके की टट्टी

 

बिपत बराबर सुख नहीं जो थो रे दिन होय

इष्‍ट मित्र बन्‍धू जिते जान परैं सब कोय ।।

 

लोकोक्ति.

 

लाला ब्रजकिशोर के गये पीछे मदनमोहन की फ़िर वही दशा हो गई. दिन पहाड़ सा मालूम होनें लगा. खास कर डाक की बड़ी तला मली लगरही थी. निदान राम, राम करके डाक का समय हुआ डाक आई. उस्‍मैं दो तीन चिट्ठी और कई अखबार थे.

 

एक चिट्ठी आगरे के एक जौहरी की आई थी जिस्‍मैं जवाहरात की बिक्री बाबत लाला साहब के रुपे लेनें थे और वह यों भी लाला साहब सै बड़ी मित्रता जताया करता था. उस्‍नें लाला साहब की चिट्ठी के जवाब मैं लिखा था कि “आप की ज़रूरत का हाल मालूम हुआ मैं बड़ी उमंग सै रुपे भेज कर इस्‍समय आपकी सहायता करता परन्‍तु मुझको बड़ा खेद है कि इन दिनों मेरा बहुत रुपया जवाहरात पर लग रहा है इसलिये मैं इस्‍समय कुछ नहीं भेज सक्ता. आपनें मुझकौ पहले सै क्‍यों न लिखा ? अब जिस्‍समय मेरे पास रुपया आवेगा मैं प्रथम आपकी सेवा मैं ज़रूर भेजूंगा. मेरी तरफ़ सै आप भलीभांति विश्‍वास रखना और अपनें चित्त को सर्वथा अधैर्य न होनें देना. परमेश्‍वर कुशल करेगा” यह चिट्ठी उस कपटी नें ऐसी लपेट सै लिखी थी कि अजान आदमी को इस्के पढ़नें सै लाला मदनमोहन के रुपे लेनें का हाल सर्वथा नहीं मालूम होसक्ता था. वह अच्‍छी तरह जान्‍ता था कि लाला मदनमोहनका काम बिगड़ जायगा तो मुझसै रुपे मांगनें वाला कोई न रहैगा इस वास्‍तै उस्‍नें केवल इतनी ही बात पर सन्‍तोष न किया बल्कि वह गुप्‍तरीति सै मदनमोहनके बिगड़नें की चर्चा फैलानें, और उस्‍के बड़े, बड़े लेनदारों को भड़कानें का उपाय करनें लगा. हाय ! हाय ! इस असार संसार मैं कुछ दिन की अनिश्चित आयु के लिये निर्भय होकर लोग कैसे घोर पाप करते हैं ! ! !

 

दूसरी चिट्ठी मदनमोहन के और एक मित्र (!) की थी. वह हर साल आकर महीनें बीस रोज मदनमोहन के पास रहते थे इसलिये तरह, तरह की सोगात के सिवाय उन्‍की खातिरदारी मैं मदनमोहन के पांच सात सौ रुपे सदैव खर्च हो जाया करते थे. उन्‍नें लिखा था कि “मैंनें बहुत सस्‍ता समझकर इस्‍समय एक गांव साठ हजार रुपे मैं खरीद लिया है. मेरे पास इस्‍समय पचास हजार अन्‍दाज मोजूद हैं इसलिये मुझको महीनें डेढ़ महीनें के वास्‍ते दस हजार रुपे की ज़रूरत होगी. जो आप कृपा करके यह रुपया मुझको साहूकारी ब्‍याजपर दे देंगे तो मैं आपका बहुत उपकार मानूंगा” यह चिट्ठी लाला मदनमोहन की चिट्ठी पहुँचते ही उस्‍नें अगमचेती करके लिख दी थी और मिती एक दिन पहलेकी डाल दी थी कि जिस्‍सै भेद न खुलनें पावै-

 

मदनमोहन के तीसरे मित्र की चिट्ठी बहुत संक्षेप थी. उस्‍मैं लिखा था कि “आपकी चिट्ठी पहुँची उस्के पढ़नें सै बड़ा खेद हुआ. मैं रुपे का प्रबन्‍ध कर रहा हूँ यदि हो सकेगा तो कुछ दिन मैं आपके पास अवश्‍य भेजूंगा” इस्‍के पास पत्र भेजनें के समय रुपया मोजूद था परन्‍तु इस्‍नें यह पेच रक्‍खा था कि मदनमोहन का काम बना रहैगा तो पीछे सै उस्‍के पास रुपया भेज कर मुफ्तमैं अहसान करेंगे और काम बिगड़ जायगा तो चुप हो रहैंगे अर्थात् उस्‍को रुपे की ज़रूरत होगी तो कुछ न देंगे और ज़रूरत न होगी तो जबरदस्‍ती गले पड़ेंगे !

 

इन्के पीछै लाला मदनमोहन एक अखबार खोलकर देखनें लगे तो उस्‍मैं एक यह लेख दृष्टि आया :-

 

“सुसभ्‍यता का फल”

 

हमारे शहरके एक जवान सुशिक्षित रईसकी पहली उठान देखकर हमको यह आशा होती थी बल्कि हमनें अपनी यह आशा प्रगट भी कर दी थी कि कुछ दिनमैं उस्‍के कामोंसै कोई देशोपकारी बात अवश्‍य दिखाई देगी परन्‍तु खेद है कि हमारी वह आशा बिल्‍कुल नष्‍ट हो गई बल्कि उस्‍के विपरीत भाव प्रतीत होनें लगा. गिन्‍ती के दिनोंमैं तीन चार लाख पर पानी फ़िरगया. बिलायत मैं डरमोडी नामी एक लड़का ऐसा तीक्षण बुद्धि हुआ था कि वह नो वर्ष की अवस्‍था मैं और विद्यार्थियों को ग्रीक और लाटिन भाषाके पाठ पढ़ाता था परन्‍तु आगे चलकर उस्‍का चाल चलन अच्‍छा नहीं रहा. इसी तरह ही यहां प्रारम्‍भ सै परिणाम बिपरीत हुआ. हिनदुस्तानियों का सुधरना केवल दिखानें के लिये है वह अपनी रीति भांति बदलनें मैं सब सुसभ्‍यता समझते हैं परन्‍तु असल मैं अपनें स्‍वभाव और विचारोंके सुधारनें का कुछ उद्योग नहीं करते. बचपन मैं उन्‍की तबियत का कुछ, कुछ लगाव इस तरफ़ को मालूम होता भी तो मदरसा छोड़े पीछे नाम को नहीं दिखाई देता. दरिद्रियों को भोजन वस्‍त्र की फिकर पड़ती है और धनवानों को भोग बिलास सै अवकाश नही मिल्‍ता फ़िर देशोन्‍नति का बिचार कौन करे ? बिद्या और कला की चर्चा कौन फैलाय ? हमको अपनें देश की दीन दशा पर दृष्टि करके किसी धनवान का काम बिगड़ता देखकर बड़ा खेद होता है परन्‍तु देश के हित के लिये तो हम यही चाहते हैं कि इस्‍तरह पर प्रगट मैं नए सुधारे की झलक दिखा कर भीतर सै दीया तले अंधेरा रखनें वालों का भंडा जल्‍दी फूट जाय जिस्‍सै और लोगों की आंखै खुलें और लोग सिंह का चमड़ा ओढ़नें वाले भेड़िये को सिंह न समझैं” इस अखबार के एडीटर को पहलै लाला मदनमोहन सै अच्‍छा फायदा हो चुका था परन्‍तु बहुत दिन बीत जानें सै मानों उस्‍का कुछ असर नहीं रहा. जिस तरह हरेक चीज के पुरानें पड़नें सै उस्‍के बन्‍धन ढ़ीले पड़ते जाते हैं इसी तरह ऐसे स्‍वार्थपर मनुष्‍यों के चित्त मैं किसी के उपकार पर, लेन देन पर, प्रति व्‍यवहार पर, बहुत काल बीत जानें सै मानों उस्‍का असर कुछ नहीं रहता जब उन्‍के प्रयोजन का समय निकल जाता है तब उन्‍की आंखैं सहसा बदल जाती हैं तब वह किसी लायक होते हैं तब उन्के ह्रदय पर स्‍वेच्‍छाचार छा जाता है. जब उन्‍के स्‍वार्थ मैं कुछ हानि होती है तब वह पहले के बड़े से बड़े उपकारों को ताक मैं रख कर बैर लेनें के लिये तैयार हो जाते हैं. सादी नें कहा है “करत खुशामद जो मनुष्य सो कछु दे बहु लेत । एक दिवस पावै न तो दो सै दूषण देत ।।” इस अखबार का एडीटर विद्वान था और विद्या निस्‍सन्‍देह मनुष्‍य की बुद्धि को तीक्ष्‍ण करती है परन्‍तु स्‍वभाव नहीं बदल सक्‍ती, जिस मनुष्य को विद्या होती है पर वह उस्‍पर बरताव नहीं करता वह बिना फल के बृक्ष की तरह निकम्‍मा है.

 

लाला मदनमोहन इन लिखावटों को देख कर बड़ा आश्‍चर्य करते थे परन्‍तु इस्सै भी अधिक आश्‍चर्य की बात यह थी कि बहुत लोगोंनें कुछ भी जवाब नहीं भेजा. उन्‍मैं कोई, कोई तो ऐसे थे कि बड़ों की लकीर पर फकीर बनें बैठे थे यद्यपि उन्‍के पास कुछ पूंजी नहीं रही थी उन्‍का कार ब्‍योहार थक गया था उन्‍का हाल सब लोग जान्‍ते थे इस्‍सै आगे को भी कोई बुर्द हाथ लगनें की आशा न थी परन्‍तु फ़िर भी वह खर्च घटानें मैं बेइज्‍जती समझते थे. सन्‍तान को पढ़ानें लिखानें की कुछ चिन्‍ता न थी परन्‍तु ब्‍याह शादियोंमैं अब तक उधार लेकर द्रब्य लुटाते थे उन्‍सै इस अवसर पर सहायता की क्‍या आशा थी ? कितनें ही ऐसे थे जिन्‍होंनें केवल अपनें फ़ायदे के लिये धनवानों का सा ठाठ बना रक्‍खा था इस वास्‍तै वह मदनममोहन के मित्र न थे उस्‍के द्रब्यके मित्र थे वह मदनमोहन पर किसी न किसी तरह का छप्‍पर रखनें के लिये उस्‍का आदर सत्‍कार करते थे इसलिये इस अवसर पर वह अपना पर्दा ढ़कनें के हेतु मदनमोहन के बिगाड़नें मैं अधिक उद्योग न करें इसी मैं उन्‍का विशेष अनुग्रह था. इस्‍सै अधिक सहायता मिलनें की उन्‍सै क्‍या आशा हो सकती थी ? कोई, कोई धनवान ऐसे थे जो केवल हाकमों की प्रसन्‍नता के लिये उन्‍की पसन्‍द के कामों मैं अपनी अरुचि होनें पर भी जी खोलकर रुपया दे देते थे परन्‍तु सच्‍ची देशोन्‍नति और उदारता के नाम फूटी कौड़ी नहीं खर्ची जाती थी वह केवल हाकमों सै मेल रखनें मैं अपनी प्रतिष्‍ठा समझते थे परन्‍तु स्‍वदेशियों के हानि लाभ का उन्‍हें कुछ बिचार न था, केवल हाकमों मैं आनें जानें वाले रईसों से मेल रखते थे और हाकमों की हां मैं हां मिलाया करते थे इस वास्‍ते साधारण लोगों की दृष्टि मैं उन्‍का कुछ महत्‍व न था. हाकमों मैं आनें जानें के हेतु मदनमोहन की उन्‍सै जान पहचान हो गई थी परन्‍तु वह मदनमोहन का काम बिगड़नें सै प्रसन्‍न थे क्‍योंकि वह मदनमोहन की जगह कमेटी इत्‍यादि मैं अपना नाम लिखाया चाहते थे इस वास्‍तै वह इस अवसर पर हाकमों सै मदनमोहन के हक़ मैं कुछ उलट पुलट न जड़ते यही उनकी बड़ी कृपा थी इस्‍सै बढ़ कर उन्‍की तरफ़ सै और क्‍या सहायता हो सक्ती थी ? कोई, कोई मनुष्‍य ऐसे भी थे जो उन्‍की रकम मैं कुछ जोखों न हो तो वह मदनमोहन को सहारा देनें के लिये तैयार थे परन्‍तु अपनें ऊपर जोखों उठाकर इस डूबती नाव का सहारा लगानें वाला कोई न था. विष्‍णु पुराण के इस वाक्‍य सै उन्‍के सब लक्षण मिल्‍ते थे “जाचत हूँ निज मित्र हित करैं न स्‍वारथ हानि । दस कौड़ी हू की कसर खायं न दुखिया जानि ।”

 

निदान लाला मदनमोहन आज की डाक देखे पीछे बाहर के मित्रों की सहायता सै कुछ, कुछ निराश होकर शहर के बाकी मित्रों का माजना देखनें के लिये सवार हुए.

 

प्रकरण-37.

 

बिपत्त मैं धैर्य.

 

प्रिय बियोग को मूढ़जन गिन‍त गड़ी हिय भालि ।।

ताही कों निकरी गिनत धीरपुरुष गुणशालि ।।

 

लाला ब्रजकिशोर नें अदालत मैं पहुँचकर हरकिशोर के मुकद्दमे मैं बहुत अच्‍छी तरह बिबाद किया. निहालचंद आदि के छोटे, छोटे मामलों मैं राजीनामा होगया. जब ब्रजकिशोर को अदालत के काम सै अवकाश मिला तो वह वहां सै सीधे मिस्‍टर ब्राइट के पास चले गए.

 

हरकिशोर नें इस अवकाश को बहुत अच्‍छा समझा तत्‍काल अदालत मैं दरख्‍वास्‍त की कि “लाला मदनमोहन अपनें बाल-बच्‍चों को पहलै मेरठ भेज चुके हैं उन्‍के सब माल अस्‍बाब पर मिस्‍टर ब्राइट की कुर्की हो रही है और अब वह आप भी रूपोश (अन्तर्धान) हुआ चाहते हैं. मैं चाहता हूँ कि उन्‍के नाम गिरफ्तारी या वारन्‍ट जारी हो.” इस बात पर अदालत मैं बड़ा विवाद हुआ, जवाब दिही के वास्‍तै लाला ब्रजकिशोर बुलाये गए परन्‍तु उन्‍का कहीं पता न लगा. हरकिशोर के वकील नें कहा कि लाला ब्रजकिशोर झूंट बोलनें के भय सै जान बूझकर टल गए हैं. निदान हरकिशोर के हलफ़ी इजहार (अर्थात् शपथ पूर्वक वर्णन करनें) पर हाकीम को बिबस होकर वारन्ट जारी करनें का हुक्‍म देना पड़ा. हरकिशोर नें अपनी युक्ति सै तत्‍काल वारन्‍ट जारी करा लिया और आप उस्‍की तामील करनें के लिये उस्‍के साथ गया. मदनमोहन सै जिन लोगों का मेल था उस्‍मैं सै कोई, कोई मदनमोहन को खबर करनें के लिये दौड़े परन्‍तु मंद भाग्‍य सै मदनमोहन घर न मिले.

 

हां मदनमोहन की स्‍त्री अभी मेरठ सै आई थी वह यह खबर सुन्‍कर घबरा गई उस्‍नें चारों तरफ़ को आदमी दौड़ा दिये. मेरठ मैं मदनमोहन के बिगड़नें की खबर कल से फैल रही थी परन्‍तु उस्‍के दु:ख का बिचार करके उस्‍के आगे यह बात करनें का किसी को साहस न हुआ. आज सबेरे अनायास यह बात उस्‍के कान पड़ गई बस इस बात को सुन्‍ते ही वह मच्‍छी की तरह तड़पनें लगी, रेलके समय मैं दो घन्टे की देर थी यह उसै दो जुग सै अधिक बीते. उस्‍के घरके बहुत कुछ धैर्य देते थे परन्‍तु उसै किसी तरह कल नहीं पड़ती थी. जब वह दिल्‍ली पहुँची तो उस्‍नें अपनें घर का और ही रंग देखा. न लोगों की भीड़, न हँसी दिल्‍लगी की बातें, सब मकान सूना पड़ा था और उस्‍मैं पांव रखते ही डर लगता था. जिस्‍पर विशेष यह हुआ कि आते ही भयंकर खबर सुनी. जब सै उस्‍नें यह खबर सुनी उस्‍के आंसू पल भर नहीं बन्‍द हुए वह अपनें पतिके लिये प्रसन्‍नतासे अपना प्राण देनें को तैयार थी.

 

इधर लाला मदनमोहन आपनें स्‍वार्थपर मित्रों से नए, नए बहानों की बातें सुन्‍ते फ़िरते थे इतनें मैं एकाएक कान्‍सटेबल नें कोचमैंन को पुकार कर बग्‍गी खड़ी कराई और नाजिर नें पास पहुँचतेही सलाम करके वारन्‍ट दिखाया, लाला मदनमोहन उस्‍को देखते ही सफेद होगए, सिर झुका लिया, चेहरे पर हवाइयां उड़नें लगी, मुखसै एक अक्षर न निकला. हरकिशोर नें एक खखार मारी परन्‍तु मदनमोहन की आंख उस्‍के सामनें न हुई. निदान मदनमोहन नें नाजिर को संकेत मैं अपनी पराधीन्ता दिखाई इस्‍पर सब लोग कचहरी को चले.

 

मदनमोहन अदालत मैं हाकम के सामनें खड़े हुए. उस्‍समय लाजसै उन्‍की आंख ऊँची नहीं होती थी. हाकम को इस बात का अत्‍यन्‍त खेद था परन्‍तु वह कानून सै परबस थे.

 

“हमको आपकी दशा देखकर अत्‍यन्‍त खेद है और इस हुक्‍म के जारी करनें का बोझ हमारे सिर आपड़ा इस्‍सै हमको और भी दु:ख होता है परन्‍तु हमारे आपके निज के सम्‍बन्‍ध को हम अदालत के काम मैं शामिल नहीं कर सक्ते. ताजकी वफ़ादारी, ईमानदारी, मुल्‍क का इन्‍तजाम सब लोगों की हरक़सी, और हरेक आदमीके फ़ायदे के लिये इन्साफ़ करना बहुत जरूरी है” हाकम नें कहा “आपसे सीधे सादे आदमियों को अपनें भोलेपन सै इतनी तक्लीफ उठानी पड़े यह बड़े खेद की बात है और मेरा जी यह चाहता है कि मुझसै हो सके तो मैं अपनें निज सै आपके कर्ज का इन्‍तजाम करके आपको छोड़ दूं परन्‍तु यह बात मेरे बूते सै बाहर है. क्या आपके कोई ऐसे दोस्त नहीं हैं जो इस्समय आपकी सहायता करैं ? या आप इन्‍सालवन्‍सी वगैरे की दरख्‍वास्‍त रखते हैं.”

 

लाला मदनमोहन के मुख सै कुछ अक्षर न निकले इस वास्‍तै थोड़ी देर पीछे हारकर उन्‍को हवालात मैं भेजना पड़ा.

 

इतनें मैं लाला ब्रजकिशोर आ गए. उन्‍का स्‍वभाव बड़ा गंभीर था परन्‍तु बिना बादल के इस बिजली गिरनें सै तो वह भी सहम गए. उन्‍को इतनें तूल हो जानें का स्‍वप्‍न मैं भी खयाल न था इस लिये वह थोड़ी देर कुछ न समझ सके. वह क़भी इन्‍सालवन्‍सी का बिचार करते थे. क़भी हरकिशोर की डिक्री का रुपया दाखिल करके मदनमोहन को तत्‍काल छुड़ा लिया चाहते थे. परन्‍तु इन बातों से उनके और प्रबन्‍ध मैं अन्‍तर आता था इसलिये इन्‍मैं सै कोई बात उस्‍समय न कर सके. वह समझे कि “ईश्‍वर की कोई बात युक्ति शून्‍य नहीं होती कदाचित् इसी मैं कुछ हित समझा हो. ईश्‍वर की अपार महिमा है. सेआक्‍सनी का हेनरी नामी अमीर बड़ा दुष्‍ट, क्रूर और अन्‍याई था. उस्‍के स्‍वेच्‍छाचारसै सब प्रजा त्राहि, त्राहि कर रही थी इसलिये उस्‍को भी प्रजासै बड़ा भय रहता था. एकबार वह कुछ दुष्‍कर्म करके निद्राबस हुआ उस्‍समय उस्‍नें यह स्‍वप्‍न देखा कि वहां का ग्राम्‍य देवता उस्‍की और कुछ क्रोध और दया की दृष्टि सै देख रहा है और यह कह रहा है कि “ले अधम पुरुष ! तेरे लिये यह आज्ञा हुई है” यह कहक़र उस ग्राम देवतानें लिपटा हुआ कागज हेनरी की तरफ़ फेंक दिया और अन्‍तर्धान हो गया. हेनरीनें कागज खोलकर देखा तो उस्‍मैं ये शब्‍द लिखे थे कि “छ:के पश्‍चात्” हेनरी नें जगकर निश्‍चय समझा कि मैं छ:पहर, छ:दिन, छ:अठवाड़े, छ:मास या छ:वर्ष मैं अवश्‍य मर जाऊंगा इस्‍सै हेनरी को अपनें दुष्‍कर्मों का बड़ा पछतावा हुआ और छ: महीनें तक मृत्‍यु भय सै अत्‍यन्‍त व्‍याकुल रहा परन्‍तु मृत्‍यु की अवधि छठे वर्ष समझ कर समाधानीसै सत्‍कर्म करनें लगा. अपनें कुकर्मों के लिये सच्‍चे मनसै ईश्‍वर की क्षमा चाही और उस्‍सै पीछे केवल सत्‍कर्म करके प्रजा की प्रीति प्रतिदिन बढ़ता गया. उस्‍की पहली चालसै वह कड़ुवा फल उस्‍को मिला था कि जिस्‍सै बेचैन होकर वह गुमराह हो जाता था उस्‍के बदले इस्‍समय के आनन्‍द के मिठाससै उस्सका चित्त प्रफुल्लित रहनें लगा और जैसे, जैसे वह पहले के कड़ु आपनसै इस्‍समय के मिठास का मुकाबला करता गया वैसे वैसे उस्‍का आनन्‍द विशेष बढ़ता गया. उस्‍के चित्त मैं कोई बात छिपानेंके लायक नहीं रही इस्‍सै उस्‍के मन पर किसी तरह का बोझ न मालूम होता था. लोगों के जी मैं उस्‍का विश्‍वास एक साथ बढ़ गया बड़े-बड़े राजा उस्‍को अपना मध्‍यस्‍थ करनें लगे और छ: वर्ष पीछे जब वो अपनें मरनें की घड़ी समझता था ईश्‍वर की कृपा सै उसी स्‍वप्‍न के कारण वह जर्मनी का राज करनें के सबसै योग्‍य पुरुष समझा जाकर राज सिंहासनपर बैठाया गया ! ! !” इस लिये अब यह सूरत हो चुकी है तो लाला मदनमोहन के चित्त पर इस्‍का पूरा असर हो जाना चाहिये क्‍योंकि जो बात सौ बार समझानें सै समझमें नहीं आती वह एक बार की परीक्षा सै भली भांति मनमैं बैठ जाती है और इसीवास्‍तै लोग “परीक्षा (को) ‘गुरु’ मान्‍ते हैं” बस इतनी बात समझमें आते ही लाला ब्रजकिशोर मदनमोहन को धैर्य देनें के लिये उस्‍के पास हवालात में गए. उस्‍का मुंह उतर गया था. आँसू डबडबा रहे थे, लज्‍जा के मारे आंख ऊँची नहीं होती थी.

 

“आप इतनें अधीर न हों इस बिना बिचारी आफत आनेंसै मुझको भी बहुत खेद हुआ परन्‍तु अब गई बीतीं बातोंके याद करनें सै कुछ फायदा नहीं मालूम होता है कि लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “हर बात के बन्‍ते बिगड़ते रहनें सै मालूम होता है कि सर्व शक्तिमान परमेश्‍वर की इच्‍छा संसार का नकशा एकसा बनाये रखनें की नहीं है. देवताओं को भी दैत्‍योंसै दु:ख उठाना पड़ता है, सूर्य चन्‍द्रमा को भी ग्रहण लगता है, महाराज रामचन्‍द्रजी और राजा नल, राजा हरिश्‍चन्‍द्र राजा युधिष्ठिर आदि बड़े बड़े प्रतापियों को भी हद्दसै बढ़कर दु:ख झेलनें पड़े हैं अभी तीन सौ साढ़े तीन सौ वर्ष पहलै दिल्‍ली के बादशाह जलालुद्दीन बाबर और हुमायूं नें कैसी, कैसी तक्‍लीफें उठाई थीं. क़भी वह हिन्‍दुस्‍थान के बादशाह हो जाते थे क़भी उन्‍के पास पानी पीनें तकको लोटा नहीं रहता था और वलायतों मैं देखो. फ्रांस का सुयोग्‍य बादशाह चोथा हेनरी एक बार भूखों मरनें लगा तब उस्‍नें एक पादरी सै गवैयों मैं नौकर रखनें की प्राथर्ना की परन्‍तु उस्‍के मन्‍द भाग्‍य सै वह भी नामंजूर हुई. फ़्रांसके सातवें लूईनें एक अपना बूट गांठनें के लिये एक चमार को दिया तब उस्‍की गठवाईके पैसे उस्‍की जेबमैं न निकले इस्‍सै उसै लाचार होकर वह बूट चमारके पास छोड़ देना पड़ा. अरस्‍ततालीस नें लोगों के जुल्‍मसै विष पीकर अपनें प्राण दिये थे और और अनेक विद्वान बुद्धिमान राजाओं को काल चक्र की कठिनाई सै अनेक प्रकार का असह्य क्‍लेश झेल, झेल कर यह असार संसार छोड़ना पड़ा है इसलिये इस दु:ख सागर मैं जो दु:ख न भोगना पड़े उसी का आश्‍चर्य है.जब अपनें जीनें का पलभर का भरोसा नहीं तो फ़िर कौन्‍सी बात का हर्ष बिषाद किया जाय. यदि संसार मैं कोई बात बिचार करनें के लायक है तो यह है कि हमारी इतनी आयु वृथा नष्‍ट हुई इस्‍मैं हमनें कौन्‍सा शुभ कार्य किया ? परन्‍तु इस विषय मैं भी कोरे पछतावे के निस्‍बत आगे के लिये समझ कर चलना अच्‍छा है क्‍योंकि समय निकला जाता है. तुलसी दास जी विनय पत्रिका मैं लिखते हैं “लाभ कहा मानुष तन पाये । काय बचन मन सपनें हुँ कबहुंक घटत न काज पराये । जो सुख सुर पुर नरक गेह बन आवत बिनिहिं बुलाये । तिह सुख कहुँ बहु यत्‍न करत मन समुझत नहीं समुझाये । परदारा पर द्रोह मोहबस किये मूढ़ मन भाये । गर्भ बास दुखरासि जातना तीब्र बिपति बिसराये । भय निद्रा मैथुन अहार सबके समान जग जाये । सुरदुर्लभ तन धरिन भजे हरि मद अभिमान गंवाये । गई न निज पर बुद्धि शुद्धि ह्वै रहे राम लयलाये । तुलसी दास यह अवसर बीते का पुनके पछताये ?” धर्म का आधार केवल द्रव्‍य पर नहीं है हरेक अवस्‍था मैं मनुष्‍य धर्म कर सक्ता है अलबत्ता पहले उस्‍को अपना स्‍वरूप यथार्थ जान्‍ना चाहिये यदि अपनें मैं भूल रह जायगी तो धर्म अर्धम हो जायगा और व्‍यर्थ दु:ख उठाना पड़ेगा. विपत्तिके समय घबराहटकी बराबर कोई बस्‍तु हानिकारक नहीं होती विपत्ति भंवर के समान हैं जों, जों मनुष्‍य बल करके उस्‍सै निकला चाहता है अधिक फंसता है और थक कर बिबस होता जाता है परन्‍तु धैर्य सै पानी का बहावके साथ सहज मैं बाहर निकल सक्ता है. ऐसे अवसर पर मनुष्‍य को धैर्य सै उपाय सोचना चाहिये और परमादयालु भगवान की कृपा दृष्टि पर पूर्ण विश्‍वास रखना चाहिये उस्‍को सब सामर्थ है”

 

“यह सब सच है परन्‍तु विपत्ति के समय धैर्य नहीं रहता” लाला मदनमोहन नें आंसू भर कर कहा.

 

“विपत्तिमनुष्‍य की कसौटी है, नीति शास्‍त्र मैं कहा है ‘दूरहि सों डरपत रहैं निकट गए तें शूर । बिपत पड़े धीरज गहैं सज्‍जन सब गुण पूर।। ” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “महाभारत मैं लिखा है कि राजा बलि देवताओं सै हारकर एक पहाड़ की कन्‍दरा में जा छिपे तब इन्‍द्र नें वहां जाकर अभिमान सै उन्‍को लज्जित करनेंका बिचार किया इस्‍पर बलि शान्तिपूर्वक बोले “तुम इस्‍समय अपना वैभव दिखाकर हमारा अपमान करते हो परन्‍तु इस्‍मैं तुम्‍हारी कुछ भी बड़ाई नहीं है हार हुए के आगे अपनी ठसक दिखानें सै पहली निर्बलता मालूम होती है जो लोग शत्रु को जीतकर उस्‍पर दया करते हैं वही सच्‍चे वीर समझे जाते हैं. जीत और हार किसी के हाथ नहीं है यह दोनों समयाधीन हैं. प्रथम हमारा राज था अब तुम्‍हारा हुआ पाछे किसी और का हो जायगा. दुख सुख सदा अदलते बदलते रहते हैं होनहार को कोई नहीं मेट सक्ता. तुम भूल सै इस वैभव को अपना समझते हो. यह किसी का नहीं है. पृथु, ऐल, मय और भीम आदि बहुत से प्रतापी राजा पृथ्‍वी पर होगए हैं परन्‍तु काल नें किसी कौ न छोड़ा इसी तरह तुम्‍हारा समय आवेगा तब तुम भी न रहोगे. इसलिये मिथ्‍याभिमान न करो. सज्‍जन सुख दुख सै क़भी हषै विषाद नहीं करते. वह सब अवस्‍थाओं मैं परमेश्‍वर का उपकार मानकर सन्‍तोषी रहते हैं++और सब मनुष्‍यों को अपना समय देख कर उपाय करना चाहिए सो यह समय हमारे बल करनें का नहीं है सहन करनें का है इसीसै हम तुम्‍हारे कठोर वचन सहन करते हैं. दु:ख के समय धैर्य रखना बहुत आवश्‍यक है क्‍योंकि अधैर्य होनें सै दु:ख घटता नहीं बल्कि बढ़ता जाता है इसलिये हम चिन्‍ता और उद्वेग को अपनें पास नहीं आनें देते.” ऐसे अवसर पर मनुष्‍य के मन को स्थिर रखनें के लिये ईश्‍वर नें कृपा करके आशा उत्‍पन्‍न की है और इसी आशा सै संसार के सब काम चल्‍ते हैं इसलिये आप निराश न हों परमेश्‍वर पर विश्‍वास रखकर इस दु:ख की निवृत्ति का उपाय सोचें, यह विपत्ति आप पर किस तरह एकाएक आ पड़ी इस्‍का कारण ढ़ूंड़े ईश्‍वर शीघ्र कोई सुगम मार्ग दिखावेगा”.

 

“मुझको तो इस्‍समय कोई राह नहीं दिखाई देती. तुम्‍हें अच्‍छा लगे सो करो” लाला मदनमोहन नें जवाब दिया.

 

इतनें मैं लाला ब्रजकिशोर सै आकर एक चपरासी नें आकर कहा कि “आपको कोई बाहर बुलाता है.” इस्‍पर वह बाहर चले गए,

 

प्रकरण-38

 

सच्‍ची प्रीति

 

धीरज धर्म्‍म मित्र अरु नारी

आपतिकाल परखिये चारी

 

तुलसीकृत

 

लाला ब्रजकिशोर बाहर पहुँचे तो उन्‍को कचहरी सै कुछ दूर भीड़ भाड़सै अलग वृक्षों की छाया मैं एक सेजगाड़ी दिखाई दी. चपरासी उन्‍हें वहां लिवा ले गया तो उस्‍मैं मदनमोहन की स्‍त्री बच्‍चों समेत मालूम हुई. लाला मदनमोहन की गिरफ्तारी का हाल सुन्ते ही वह बिचारी घबराकर यहां दौड़ आई थी उस्‍की आंखों सै आंसू नहीं थमते थे और उस्‍को रोती देखकर उस्‍के छोटे, छोटे बच्‍चे भी रो रहे थे. ब्रजकिशोर उन्की यह दशा देख कर आप रोनें लगे. दोनों बच्‍चे ब्रजकिशोर के गले से लिपट गए और मदनमोहन की स्‍त्रीनें अपना और अपनें बच्‍चों का गहना ब्रजकिशोर के पास भेजकर यह कहला भेजा कि “आपके आगे उन्‍की यह दशा हो इस्‍सै अधिक दु:ख और क्‍या है ? खैर ! अब यह गहना लीजिये और जितनी जल्‍दी होसके उन्‍को हवालात सै छुड़ानें का उपाय करिये.”

 

“वह समझदार होकर अनसमझ क्‍यों बन्‍ती हैं ? इस घबराहट सै क्‍या लाभ है ? वह मेरठ गईं जब उन्‍‍होंनें आप कहवाया था कि ऐसी सूरत मैं इन अज्ञान बालकों की क्‍या दशा होगी ? फ़िर वह आप इस बात को कैसे भूली जाती हैं ? उन्‍को अपनें लिये नहीं तो इन छोटे, छोटे बच्‍चों के लिये हिम्‍मत रखनी चाहिये” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “इंग्लेंड के बादशाह पहले जेम्‍स की बेटी इलेक्‍टर पेलेटीन के साथ ब्‍याही थी उस्‍नें अपनें पति को बोहोमिया का बादशाह बनानें की उमंग मैं इन्‍की तरह अपना सब जेवर खो दिया इस्‍सै अन्‍त मैं उस्‍को अपनें निर्वाहके लिये भेष बदलकर भीख मांगनी पड़ी थी.”

 

“अपनें पति के लिये भीख मांगनी पड़ी तो क्‍या चिन्‍ता हुई ? स्‍त्री को पति सै अधिक संसार मैं और कौन है ? जगत माता जानकीजीनें राज सुख छोड़कर पति के संग बनमैं रहना बहुत अच्‍छा समझा था और यह वाक्‍य कहा था “देत पिता परिमित सदा परिमित सुत और भ्रात । देत अमित पति तासुपद नहीं पूजहिं किहिं भांति ? ” सती शिरोमणि सावित्रीनें पतिके प्राण वियोग पर भी वियोग नहीं सहा था. मनुस्‍मृति मैं लिखा है “शील रहित पर नारि रत होय सकल गुण हानि । तदपि नारि पूजै पति हि देव सदृश जिय जानि ।।

 

नारिन को ब्रत यज्ञतप और न कछु जगमाहिं । केवल पति पद पूज नित सहज स्‍वर्ग मैं जाहिं ।। ” पति के लिये गहना क्‍या ? प्राण तक देनें पड़ें तो मैं बहुत प्रसन्‍न हूँ. हाय ! वह कैद रहैं और मैं गहनें का लालच करूँ ? वह दु:ख सहें और मैं चैन करूँ ? हम लोगों की जबान नहीं है इस्‍सै क्‍या हमारे हृदय की प्रीति शून्‍य है क्‍या कहूँ ? इस्‍समय मेरे चित्त को जो दु:ख है वह मैं जान्‍ती हूँ. हे धरती माता ! तू क्‍यों नहीं फटती जो मैं अभागी उस्‍मैं समा जाऊँ ?” लाला मदनमोहन की स्‍त्री गद्गद स्‍वर और रुके हुए कंठ सै भीतर बैठी हुई बहुत धीरे, धीरे बोली ! “भाई ! मैं तुमसै आज तक नहीं बोली थी परन्‍तु इस्‍समय दु:ख की मारी बोल्ती हूँ सो मेरी ढिठाई क्षमा करना. मुझसै यह दु:ख नहीं सहा जाता मेरी छाती फटती है. मुझको इस्‍समय कुछ नहीं सूझता जो तुम अपनी बहन के और इन छोटे, छोटे बच्‍चों के प्राण बचाया चाहते हो तो यह गहना लो और हो सके जैसे इसी समय उन्‍को छुड़ा लाओ नहीं तो केवल मैं ही नहीं मरूंगी मेरे पीछे ये छोटे, छोटे बालक भी झुर, झुर कर-”

 

“बहन ! क्‍या इस्‍समय तुम बावली हो गई हो. तुम्हैं अपनें हानि लाभका कुछ भी बिचार नहीं है ?” लाला ब्रजकिशोर बाहर सै समझानें लगे “देखो शकुन्‍तला भी पतिव्रता थी परन्‍तु जब उस्‍के पतिनें उस्‍को झूंठा कलंक लगाकर परित्‍याग करनें का बिचार किया तब उसे भी क्रोध आए बिना नहीं रहा. क्‍या तुम उस्‍सै बढ़कर हो जो अपनें छोटे, छोटे बच्‍चों के दु:ख का कुछ बिचार नहीं करतीं ? थोड़ी देर धैर्य रक्‍खो धीरे, धीरे सब, हो जायगा”

 

“भाई ! धैर्य तो पहलैही विदा हो चुका अब मैं क्‍या करूं ? तुम बार, बार बाल बच्‍चों की याद दिवाते हो परन्‍तु मेरे जान पति सै अधिक स्‍त्री के लिये कोई भी नहीं है” मदनमोहन की स्‍त्री लजा कर भीतर सैं कहनें लगी “पति से विवाद करना तो बहुत बात है परन्‍तु शकुन्‍तलाके मन मैं दुष्‍यन्‍त की अत्‍यन्‍त प्रीति हुए पीछे शकुन्‍तला को दुष्‍यन्‍तके दोष कैसे दिखाई दिये यही बात मेरी समझ मैं नहीं आती. फ़िर मैं शकुन्‍तला की अधिक नकल कैसे करूं ? मैं बड़ी अधीन्‍ता सै कहती हूँ कि ऐसे मर्मवेधी बचन कहक़र मेरे हृदय को अधिक घायल मत करो और यह सब गहना ले जाकर होसके जितनी जल्‍दी इस डूबती नावको बचानें का उपाय करो. मुझको तुम्‍हारे सामनें इस विषयमें बात करते अत्‍यन्‍त लज्‍जा आती है हाय ! यह पापी प्राण अब भी क्‍यों नहीं निकलते इस्‍सै अधिक और क्‍या दु:ख होगा ?” यह बात सुन्‍ते ही ब्रजकिशोर की आंखों से आंसू टपकनें लगे थोड़ी देर कुछ नहीं बोला गया उस्‍को उस्समय नारमण्‍डी के अमीरजादे रोबर्टकी स्‍त्री समबिल्‍ला की सच्‍ची प्रीति याद आई. रोबर्ट के शरीर मैं एक जहरी तीर लगनेंसै ऐसा घाव हो गया था कि डाक्‍टरोंके बिचार मैं जबतक कोई मनुष्य उस्का जहर न चूसे रोबर्ट के प्राण बचनें की आशा न थी और जहर चूसनें सै चूसनें वाले का प्राण भय था. रोबर्टनें अपनी प्राण रक्षाके लिये एक मनुष्‍य के प्राण लेनें सर्वथा अंगीकार न किये परन्‍तु उसकी पतिव्रता स्‍त्रीनें उस्‍के सोतेमैं उस्के घाव का विष चूसकर उस्‍पर अपनें प्राण न्‍योछावर कर दिये.

 

“बहन ! मैं तुम्‍हारे लिये तुम सै कुछ नहीं कहता परन्‍तु तुम्‍हारे छोटे, छोटे बालकोंको देखकर मेरा हृदय अकुलाता है तुम थोड़ी देर धैर्य धरो ईश्‍वर सब मंगल करेगा” लाला ब्रजकिशोरनें जैसे तैसे हिम्‍मत बांधकर कहा.

 

“भाई ! तुम कहते हो सो मैं भी समझती हूँ यह बालक मेरी आत्‍मा हैं और विपत्त मैं धैर्य धरना भी अच्‍छा है परन्‍तु क्‍या करूं ? मेरा बस नहीं चल्‍ता. देखो तुम ऐसे कठोर मत बनो” मदनमोहनकी स्‍त्री विलाप कर कहनें लगी महाभारत मैं लिखा है कि जिस्‍समय एक कपोतनें अतिथि सत्‍कारके बिचार सै एक बधिक के लिये प्रसन्‍नतापूर्वक अपनें प्राण दिये तब उस्‍की कपोती बिलाप कर कहनें लगी हा ! नाथ ! हमनें क़भी आपका अमंगल नहीं बिचारा. संतानके होनें पर भी स्‍त्री पति बिना सदा दु:ख सागर मैं डूबी रहती है भाई बंधु भी उस्‍को देखकर शोक करते हैं. आप के साथ मैं सब दशाओं मैं प्रसन्‍न थी. पर्बत, गुफा, नदी, झर्ना, वृक्ष और आकाश मैं मुझको आपके साथ अत्‍यन्‍त सुख मिल्‍ता था परन्‍तु वह सुख आज कहां है ? पति ही स्‍त्री का जीवन है पति बिना स्‍त्री को जीकर क्‍या करना है” यह कहक़र वह कपोती आग मैं कूद पड़ी. फ़िर क्या मैं एक पक्षी सै भी गई बीती हूँ ? तुमसै हो सके तो सौ काम छोड़कर पहलै इस्‍का उपाय करो न हो सके तो स्‍पष्‍ट उत्तर दो. मुझ स्‍त्री की जातिसै जो उपाय हो सकेगा सो मैं ही करूंगी. हाय ! यह क्‍या गजब है ! क्‍या अभागों को मौत भी नहीं मिलती !”

 

“अच्‍छा ! बहन ! तुमको ऐसा ही आग्रह है तो तुम घर जाओ मैं अभी जाकर उन्‍कौ छुड़ानैं का उपाय करता हूँ” लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

“न जानें कैसी घड़ीमैं मैं मेरठ गई थी कि पीछेसै यह गजब हुआ. जिस्‍समय मेरे पास रहनें की आवश्‍यकता थी उसी समय मैं अभागी दूर जा पड़ी ! इस दु:ख सै मेरा कलेजा फटता है मुझको तुम्‍हारे कहनें पर पूरा विश्‍वास है परन्‍तु एक बार अपनी आंख सै भी उन्हैं देख सक्ती हूँ ?” मदनमोहन की स्‍त्री नें रोकर कहा.

 

“इस्‍समय तो कचहरी मैं हजारों आदमियों की भीड़ हो रही है. सन्‍ध्‍या को मौका होगा तो देखा जायगा” ब्रजकिशोरनें जवाब दिया.

 

“तो क्‍या संध्‍या तक भी वह-” मदनमोहन की स्‍त्री के मुख सै पूरा वचन न निकल सका कंठ रुक गया और उस्‍को रोते देखकर उस्‍के बच्‍चे भी रोनें लगे.

 

निदान बड़ी कठिनाई सै समझाकर ब्रजकिशोरनें मदनमोहन की स्‍त्री को घर भेजा परन्‍तु वह जाती बार जबरदस्‍ती अपना सब गहना ब्रजकिशोर को देती गई और उस्‍के बच्‍चे भी ब्रजकिशोर को छोड़कर घर न आए. जब ब्रजकिशोर के साथ कचहरी मैं गए तब उन्‍‍की दृष्टि एकाएक मदनमोहन पर जा पड़ी और वह उस्‍को वहां देखते ही उस्‍सै जाकर लिपट गए.

 

“क्‍यों जी ! यह कहां सै आए ?” मदनमोहननें आश्‍चर्य सै पूछा.

 

“इन्‍की माके साथ ये अभी मेरठ सै आए हैं. वह विचारी आप का यह हाल सुन्कर यहां दौड़ आई थी सो मैंनें उसे बड़ी मुश्किलसै समझा बुझाकर घर भेजा है” ब्रजकिशोरनें जवाब दिया.

 

“लाला जी घर क्‍यों नहीं चल्‍ते ? यहां क्‍यों बैठे हो ?” एक लड़केनें गले सै लिपट कर कहा.

 

“मैं तो तुम्‍हारे छंग (संग) आज हवा खानें चलूंगा और अपनें बाग मैं चलकर मच्छियों का तमाछा (तमाशा) देखूंगा” दूसरा लड़का गोदमैं बैठकर कहनें लगा.

 

“लाला जी तुम बोल्‍ते क्‍यों नहीं ? यहां इकल्लै क्‍यों बैठे हो ? चलो छैल (सैर) करनें चलैं” एक लड़का हाथ पकड़ कर खैचनें लगा.

 

“जानें चुन्‍नीआल (लाल) कहां हैं ? विन्‍नें (उन्‍होंनें) हमें एक तछवीर (तस्‍वीर) देनी कही थी लालाजी ! तुम उछे (उसे) चोकटे मैं लगवा दोगे ?” दूसरे लड़केनें कहा.

 

“छैल (सैर) करनें नहीं चल्‍ते तो घर ही चलो, अम्‍मा आज सवेरे सै न जानें क्‍यों रो रही हैं और विन्‍नें आज कुछ भोजन भी नहीं किया” एक लड़का बोला.

 

“लाला जी तुम बोल्‍ते क्‍यों नहीं ? गुछा (गुस्‍सा) हो ? चलो, घर चलो. हम मेरठ छे (सै) खिलौनें लाए हैं छो (सो) तुम्‍हैं दिखावेंगे” दूसरा ठोडी पकड़ कर कहनें लगा.

 

“तुम तो दंगा करते हो चलो हमारे साथ चलो हम तुमको बरफी मंगादैंगे यहां लालाजी को कुछ काम है” ब्रजकिशोरनें कहा.

 

“आं आं हमतो लालाजी के छंग (संग) छैल को जायंगे. बाग मैं मच्छियोंका तमाछा देखेंगे हमको बप्‍फी (बरफ़ी) नहीं चाहिये हम तुम्‍हारे छंग नहीं चल्‍ते” दोनों लड़के मचल गए.

 

“चलो हम तुम्हैं पीतल की एक, एक मछली खरीद देंगे जो लोहेकी सलाई दिखाते ही तुम्‍हारे पास दौड़ आया करेगी” लाला ब्रजकिशोरनें कहा.

 

“हम यों नहीं चल्‍ते हम तो लालाजीके छंग चलेंगे.”

 

“और जबतक लालाजी घर नहीं जायंगे हम भी नहीं जायंगे” कहक़र दोनों लड़के मदनमोहन के गले से लिपट गए और रोनें लगे. उस्‍समय मदनमोहन की आंखों सै आंसू टपक पड़े और ब्रजकिशोर का जी भर आया.

 

“अच्‍छा ! तो तुम लालाजीके पास खेल्‍ते रहोगे ? मैं जाऊं ?” लाला ब्रजकिशोरनें पूछा.

 

“हां हां तुम भलेई जाओ, हम अपनें लालाजी के पाछ (पास) खेला करेंगे” एक लड़केनें कहा.

 

“और भूक लगी तो ?” ब्रजकिशोरनें पूछा.

 

“यह हमें बप्‍फी मंगा देंगे” छोटा लड़का अंगुली सै मदनमोहन को दिखाकर मुस्करा दिया,

 

“महाकवि कालिदास नें सच कहा है वे मनुष्‍य धन्‍य हैं जो अपनें पुत्रों को गोद मैं लेकर उन्‍के शरीर की धूल सै अपनी गोद मैली करते हैं और जब पुत्रों के मुख अकारण हंसी सै खुल जाते तो उन्‍के उज्जवल दांतों की शोभा देखकर अपना जन्‍म सफल करते हैं” लाला ब्रजकिशोर बोले और उन लड़कों के पास उन्‍के रखवाले को छोड़कर आप अपनें काम को चले गए.

 

बच्‍चे थोड़ी देर प्रसन्‍नता सै खैल्‍ते रहे परन्तु उन्‍को भूक लगी तब वह भूक के मारे रोनें लगे पर वहां कुछ खानें को मौजूद न था इसलिये मदनमोहन का जी उस्‍समय बहुत उदास हुआ.

 

इतनैं मैं सन्‍ध्‍या हुई इस्सै हवालात का दरवाजा बन्‍द करनें के लिये पोलिस आ पहुँची. अबतक उस्‍नें दीवानी हवालात और मदनमोहन ब्रजकिशोर आदि का काम समझ कर विशेष रोक टोक नहीं की थी परन्‍तु अब करनी पड़ी, वह छोटे, छोटे बच्‍चे मदनमोहन के साथ घर जानें की जिद करते थे और जबरदस्‍ती हटानें सै फूटफूटकर रोते थे. लोगोंके हाथों सै छूट, छूट कर मदनमोहन के गले सै जा लिपटेते थे इसलिये इस्‍समय ऐसी करुणा छा रही थी कि सब की आंखों सै टप, टप आंसू टपकनें लगे.

 

निदान उन बच्‍चों को बड़ी कठिनाई सै रखवाले के साथ घर भेजा गया और हवालात का दरवाजा बन्‍द हुआ.

 

 

 

प्रकरण-39

 

प्रेत भय

 

पियत रूधिर बेताल बाल निशिचरन सा थि पुनि ।।

करत बमन बि कराल मत्त मन मुदित घोर धुनि ।।

सा द्य मांस कर लि ये भयंकर रूप दिखावत ।।

रु धिरासव मद मत्त पूतना नाचि डरावत ।।

मांस भेद बस बिबस मन जोगन नाच हिं बिबिध गति ।।

बीर जनन की बीरता बहु विध बरणैं मन्‍द मति ।।

 

रसिकजीवनें.

 

सन्ध्या का समय है कचहरी के सब लोग अपना काम बन्‍द करके घर को चलते जाते हैं. सूर्य के प्रकाश के साथ लाला मदनमोहनके छूटनें की आशा भी कम हो जाती है. ब्रजकिशोर नें अब तक कुछ उपाय नहीं किया. कचहरी बन्‍द हुए पीछे कल तक कुछ न हो सकेगा. रात को इसी छोटीसी कोठरी मैं अन्धेरे के बीच जमीन पर दुपट्टा बिछा कर सोना पड़ेगा. कहां मित्र मिलापियों के वह जल्‍से ! कहां पानी प्‍यानें के लिये एक खिदमतगार तक पास न हो ! इन बातों के बिचार सै लाला मदनमोहन का व्‍याकुल चित्त अधिक अकुलानें लगा.

 

इसी बिचार मैं सन्‍ध्‍या हो गई चारों तरफ़ अंधेरा फैल गया. मकान मनुष्‍य शून्‍य होगया. आस पास सब चीजें दिखनी बन्‍द हो गईं.

 

लाला मदनमोहन के मानसिक बिचारों का प्रगट करना इस्समय अत्‍यन्‍त कठिन है. जब वह अपनें बालकपन सै लेकर इससमय तक के बैभव का बिचार करता है तो उस्‍की आंखों के आगे अन्धेरा आ जाता है ! लाला हरदयाल आदि रंगीले मित्रों की रंगीली बातें, चुन्‍नीलाल शिंभूदयाल आदि की झूंटी प्रीति, रात एक, एक बजे तक गानें नाचनें के जल्‍से, खुशामदियों का आठ पहर घेरे रहना, हर बात पर हां मैं हां, हर बात पर वाह वाह, हर काम में प्राण देनें की तैयारी के साथ अपनी इस्‍समय की दशा का मुकाबला करता है और उन लोगों की इन दिनों की कृतघ्नता पर दृष्टि पहुँचाता है तो मन मैं दुख की हिलोरें उठनें लगती हैं ! संसार केवल धोके की टट्टी मालूम होता है जिन्‍के ऊपर अपनें सब कार्य व्‍यवहार का आधार था, जिन्को बारबार हजारों रुपे का फायदा कराया गया था, जो हर बात मैं पसीनें की जगह खून डालनें को तैयार रहते थे वह सब इस्‍समय कहां हैं ? क्‍या उन्‍मैं सै इस थोड़े से कर्ज को चुकानें के लिये कोई भी आगे नहीं आ सकता ? जिन्‍की झूंटी प्रीति मैं आ कर अपनी पतिब्रता स्‍त्री की प्रीति भूल गया, अपनें छोटे, छोटे बच्‍चों के लालन पालन का कुछ बिचार नहीं किया वह मुफ़्त मैं चैन करनेंवाले इस्‍समय कहां हैं ?

 

“मेरी इज्‍जत गई, मेरी दौलत गई, मेरा आराम गया, मेरा नाम गया, मैं लज्‍जा सै किसी को मुख नहीं दिखा सक्‍ता, किसी सै बात नहीं कर सक्ता, फ़िर मुझको संसार मैं जीनें सै क्‍या लाभ है ? ईश्‍वर मोत दे तो इस दु:ख सै पीछा छुटे परन्‍तु अभागे मनुष्‍य को मोत क्‍या मांगेसै मिल सकती है ? हाय ! जब मुझको तीस वर्ष की अवस्‍था मैं यह संसार ऐसा भयंकर लगता है तौ साठ वर्ष की अवस्‍था मैं न जानें मेरी क्‍या दशा होगी ?”

 

“हा ! मोत का समय किसी तरह नहीं मालूम हो सक्ता. सूर्य के उदय अस्‍त का समय सब जान्‍ते हैं, चन्‍द्रमा के घटनें बढ़नें का समय सब जान्‍ते हैं, ऋतुओं के बदलनें का, फूलों के खिलनें का, फलों के पकनें का समय सब जान्‍ते हैं परन्‍तु मोत का समय किसी को नहीं मालूम होता. मोत हर वक्‍त मनुष्‍य के सिर पर सवार रहती है उस्‍के अधिकार करनें का कोई समय नियत नहीं है. कोई जन्‍म लेते ही चल बसता है, कोई हर्ष बिनोद मैं, कोई पढ़नें लिखनें मैं, कोई खानें कमानें मैं, कोई जवानी की उमंग मैं, कोई मित्रों के रस रंग मैं अपनी सब आशाओं को साथ लेकर अचानक चल देता है परन्‍तु फ़िर भी किसी को मोत की याद नहीं रहती कोई परलोक का भय करके अधर्म नहीं छोड़ता ? क्‍या देखत भूली का तमाशा ईश्‍वर नें बना दिया है ?”

 

लाला मदनमोहन के चित्त मैं मोत का बिचार आते ही भूत प्रेतादि का भय उत्‍पन्‍न हुआ. वह अंधेरी रात, छोटी सी कोठरी, एकान्‍त जगह, चित्त की व्‍याकुलता मैं यह बिचार आते ही सब सुधरे हुए बिचार हवा मैं उड़ गए. छाती धड़कनें लगी, रोमांच हो आए, जी दहला गया और मोत की कल्‍पना शक्ति नें अपना चमत्‍कार दिखाना शुरू किया.

 

कोई प्रेत उन्‍की कोठरी मैं मोजूद है. उस्‍के चलनें फ़िरनें की आवाज सुनाई देती है बल्कि क़भी, क़भी अपनी लाल, लाल आंखों सै क्रोध करके मदनमोहन को घुरकता है, क़भी अपना भट्टीसा मुंह फैला कर मदनमोहन की तरफ़ दौड़ता है, क़भी गुस्‍सेसै दांत पीसता है, क़भी अपना पहाड़सा शरीर बढ़ाकर बोझसै मदनमोहन को पीस डाला चाहता है, क़भी कानके पर्दे फाड़ डालनें वाले भयंकर स्‍वरसै खिल खिलाकर हंसता है, क़भी नाचता है, क़भी गाता है, क़भी ताली बजाता है, और क़भी जम-दूत की तरह मदनमोहन को उस्‍के कुकर्म्मों के लिये अनेक तरहके दुर्बचन कहता है ! लाला मदनमोहननें पुकारनें का बहुत उपाय किया परन्‍तु उन्‍के मुख सै भयके मारे एक अक्षर न निकल सका वह प्रेत मानों उन्की छातीपर सवार होकर उन्‍का गला घोटनें लगा उस्‍के भयसै मदनमोहन अधमरे होगए उन्‍होंनें हाथ पांव चलानें का बहुत उद्योग किया परन्‍तु कुछ न हो सका. इस्समय लाला मदनमोहन को परमेश्‍वर की याद आई.

 

जो मदनमोहन परमेश्वर की उपासना करनें वालों को और धर्मकी चर्चा करनें वालों पर नास्तिक भाव सै हंसा करता था और मनुष्‍य देह का फल केवल संसारी सुख बताता था किसी तरह सै छल छिद्र करकै अपना मतलब निकाल लेनें को बुद्धिमानी समझता था वही मदनमोहन इस्‍समय सब तरफ़सै निराश होकर ईश्‍वर की सहायता मांगता है ! हा ! आज इस रंगीले जवान की क्‍या दशा हो गई ! इस्‍का अभिमान कहां जाता रहा ! जब इस्‍का कुछ बस न चल सका तो यह मूर्छित होकर पृथ्‍वी पर गिर पड़ा और कुछ देर यों ही पड़ा रहा.

 

जब थोड़ी देर पीछे इसै होश आया चित्त का उद्वेग कुछ कम हुआ तो क्‍या देखता है कि उस भयंकर प्रेतके बदले एक स्‍त्री इस्‍का सिर अपनें गोदमैं लिये बैठी हुई धीरे धीरे इस्‍के पांव दबा रही है अन्‍धेरेके कारण मुख नहीं दिखाई देता परन्‍तु उस्‍की आंखोंसै गरम, गरम आंसुओं की बूंदें उस्‍के मुख पर गिर रहीं हैं और इन आंसुओं ही सै मदनमोहन को चेत हुआ है.

 

इस्‍समय लाला मदनमोहन के व्‍याकुल चित्त को दिलासा मिलनें की बहुत ज़रूरत थी सो यह स्‍त्री उन्हैं दिलासा देनेंके लिये यहां आ पहुँची परन्‍तु मदनमोहन को इस्‍सै कुछ दिलासा न मिला वह इसै देखकर उल्‍टे डरगए.

 

“प्राणनाथ अब कैसै हो ! आपके चित्तमैं इस्‍समय अत्‍यन्‍त व्‍याकुलता मालूम होती है इसलिये अपनें चित्तका जरा समाधान करो, हिम्‍मत बांधो मैं आपके लिये भोजन लाई हूँ सो कुछ भोजन करके दो घूंट पानी के पिओ जिस्‍सै आपके चित्तका समाधान हो इस छोटीसी कोठरीमैं अन्धेरेके बीच आपको जमीन पर लेटे देखकर मेरा कलेजा फटता है” उस स्‍त्रीनें कहा.

 

“यह कोन ? वह मेरी पतिव्रता स्‍त्री है जिस्‍नें मुझसै सब तरह का दु:ख पानेंपर भी क़भी मन मैला नहीं किया ? आवाज सै तो वैसी ही मालूम होती है परन्‍तु उस्‍का आना संभव नहीं रातके समय कचहरी के बन्‍द मकान मैं पुलिस की पहरे चोकी के बीच वह बिचारी कैसे आ सकैगी ! मैं जानता हूँ कि मुझको कोई छलावा छलता है” यह कह कर लाला मदनमोहन नें फ़िर आंखैं बन्‍द करलीं.

 

“मेरे प्राण पतिके लिये यहां क्‍या ? मुझको नर्क मैं भी जाना पड़े तो क्‍या चिन्‍ता है ? सच्‍ची प्रीतिका मार्ग कोई रोक सक्‍ता है ? स्‍त्रीको पति के संग कैद, जंगल, या समुद्रादि मैं जानें सै कुछ भी भय नहीं है परन्‍तु पति के बिना सब संसार सूना है. यदि सुख दु:ख के समय उस्‍की विवाहिता स्‍त्री उस्‍के काम न आवैगी तो और कौन आवैगा ?” उस स्‍त्री नें कहा

 

लाला मदनमोहन सै थोड़ी देर कुछ नहीं बोला गया न जानें उन्‍के चित्तमैं किसी तरहका भय उत्‍पन्‍न हुआ, अथवा किसी बात के सोच बिचार मैं अपना आपा भूल गए, अथवा लज्‍जा सै कुछ न बोल सके, और लज्‍जा थी तो अपनी मूर्खता सै इस दशा मैं पहुँचनें की थी, अथवा अपनी स्‍त्रीके साथ ऐसे अनुचित व्‍यवहार करनें की थी ? परन्‍तु लाला मदनमोहन के नेंत्रों के आंसू निस्‍सन्‍देह टपकते थे वह उसी स्‍त्री की गोद मैं सिर रख; फूट, फूटकर रो रहे थे.

 

“मेरे प्राण प्रीतम ! आप उदास न हों जरा हिम्‍मत रक्‍खो जो आप की यह दशा होगी तो हम लोगोंका पता कहां लगेगा ? दु:ख सुख वायु के समान सदा अदलते बदलते रहते हैं इसलिये आप अधैर्य न हों आप के चित्त की स्थिरता पर हम सब का आधार है” उस स्‍त्री नें कहा.

 

“मुझ सै इस्‍समय तेरे सामनें आंख उठाकर नहीं देखा जाता, एक अक्षर नहीं बोला जाता, मैं अपनी करनी सै अत्‍यन्‍त लज्जित हूँ जिस्‍पर तू अपनी लायकी सै मेरे घायल ह्रदय को क्‍यों अधिक घायल करती है ? मुझको इतना दु:ख उन कृतघ्न मित्रों की शत्रुता सै नहीं होता जितना तेरी लायकी और अधीनता सै होता है. तू मुझको दु:खी करनें के लिये यहां क्‍यों आई ? तैनै मेरे साथ ऐसी प्रीति क्‍यों की ? मैनें तेरे साथ जैसी क्रूरता की थी वैसी ही तैनें मेरे साथ क्‍यों न की. मैं निस्‍सन्‍देह तेरी इस प्रीति के लायक नहीं हूँ फ़िर तू ऐसी प्रीति करके क्‍यों मुझको दु:खी करती है ?” लाला मदनमोहन नें बड़ी कठिनाई सै आंसू रोककर कहा.

 

“प्‍यारे प्राणनाथ ! मैं आपकी हूँ और अपनी चीज पर उस्‍के स्‍वामी को सब तरह का अधिकार होता है जिस्‍पर आप इतनी कृपा करते हैं यह तो बड़े ही सौभाग्‍य की बात है” वह स्‍त्री मदनमोहन की इतनी सी बात पर न्योछावर होकर बोली. “महाभारत मैं एक कपोती नें एक बधिक के जाल मैं अपनें पतिके फंसे पीछे उस्‍के मुख सै अपनी बड़ाई सुन्‍कर कहा था कि “आहा ! हम मैं कोई गुण हो या न हो जब हमारे पति हम सै प्रसन्‍न होकर हमारी बड़ाई करते हैं तो हमारे बड़ भागिनी होनें मैं क्‍या संदेह है ? जिस स्‍त्री सै पति प्रसन्‍न नहीं रहते वह झुल्‍सी हुई बेलके समान सदा मुर्झाई रहती है.”

 

“तेरी ये ही तो बातें ह्रदय विदीर्ण करनेंवाली हैं. मुझको क्षमा कर मेरे पिछले अपराधों को भूल जा. मैं जानता हूँ कि मुझसै अबतक जितनी भूलें हुई हैं उन्‍मैं सब सै अधिक भूल तेरे हक़ मैं हुई है. मैं एक हीरा को कंकर समझा, एक बहुमूल्‍य हार को सर्प समझकर मैंनें अपनें पास सै दूर फैंक दिया, मेरी बुद्धिपर अज्ञानता का पर्दा छा गया परन्‍तु अब क्‍या करूं ? अब तो पछतानें के सिवाय मेरे हाथ कुछ भी नहीं है” लाला मदनमोहन आंसू भरकर बोले.

 

“मुझको तो ऐसी कोई बात नहीं मालूम होती जिस्‍सै मेरे लिये आपको पछताना पड़े. मैं आपकी दासी हूँ फ़िर ऐसे सोच बिचार करनें की क्‍या ज़रूरत है ? और मैं आपकी मर्जी नहीं रख सकी उस्मैं तो उल्‍टी मेरी ही भूल पाई जाती है” उस स्‍त्रीनें रुके कंठ सै कहा.

 

“सच है सोनें की पहचान कसोटी लगाये बिना नहीं होती परन्‍तु तू यहां इस्‍समय कैसे आ सकी ? किस्‍के साथ आई ? कैसे पहरेवालोंनैं तुझे भीतर आनें दिया ? यह तो समझाकर कह” लाला मदनमोहन नें फ़िर पूछा.

 

“मैं अपनी गाड़ी मैं अपनी दो टहलनियों के साथ यहां आई हूँ और मुझको मेरे भाई के कारण यहां तक आनें मैं कुछ परिश्रम नहीं हुआ. मैं विशेष कुछ नहीं कह सक्ती वह आप आकर अभी आपसै सब वृत्तान्त कहैंगे” यह कहते, कहते वह स्‍त्री दरवाजे के पास जाकर अन्‍तर्धान होगई ! ! !

 

प्रकरण 40

 

सुधारनें की रीति.

 

कठिन कलाहू आय है करत करत अभ्‍यास ।।

नट ज्‍यों चालतु बरत पर साधे बरस छमास ।।

वृन्‍द

 

लाला मदनमोहन बड़े आश्‍चर्य मैं थे कि क्‍या भेद है जगजीवनदास यहां इस्समय कहां सै आए ? और आए भी तो उन्‍के कहनें सै पुलिस कैसे मान गई ! क्‍या उन्‍होंनें मुझको हवालात से छुड़ानें के लिये कुछ उपाय किया ? नहीं उपाय करनें का समय अब कहां है ? और आते तो अब तक मुझसै मिले बिना कैसे रह जाते ?

 

इतनें मैं दूर सै एकाएक प्रकाश दिखाई दिया और लाला ब्रजकिशोर पास आ खड़े हुए.

 

“हैं ! आप इस्‍समय यहां कहां ! मैंनें तो समझा था कि आप अपनें मकान मैं आराम सै सोते होंगे” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“यह मेरा मन्‍द भाग्‍य है जो आप ऐसा समझते हैं. क्‍या मुझ को भी आपनें उन्‍हीं लोगों मैं गिन लिया ?” लाला ब्रजकिशोर बोले.

 

“नहीं, मैं आप को सच्‍चा मित्र समझता हूँ परन्‍तु समय आए बिना फल नहीं होता”

 

“यदि यह बात आपनें अपनें मन सै कही है तो मेरे लिये भी आप वैसाही धोका खाते हैं जैसा औरोंके लिये खाते थे. मित्र मालूम होता उस्के कामों सै. मालूम होता है फ़िर आपनें मुझको किस्तरह सच्‍चा मित्र समझ लिया ?” लाला ब्रजकिशारे पूछनें लगे. “मैंनें आपके मुकद्दमों मैं पैरवी की जिस्‍के बदले भर पेट महन्‍ताना ले लिया यदि आपके निकट उन्‍के मेरे चाल चलन मैं कुछ अन्‍तर हो तो इतना ही होसक्ता है कि वह कच्‍चे खिलाड़ी थे जरा सी हलचल होते ही भग निकले, मैं अपना फायदा समझ कर अब तक ठैरा रहा”

 

“जो लोग फायदा उठा कर इस्‍समय मेरा साथ दें उन्‍को भी मैं कुछ बुरा नहीं समझता क्‍योंकि जिन् पर मुझको बड़ा विश्‍वास था वह सब मुझे अधर धार मैं छोड़कर चले गए और ईश्‍वरनें मुझको किसी लायक न रक्‍खा” लाला मदनमोहन रो कर कहनें लगे.

 

“ईश्‍वर को सर्वथा दोष न दो वह जो कुछ करता है सदा अपनें हितही की बात करता है” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे. श्रीमद्भागवत मैं राजा युधिष्ठिर सै श्रीकृष्‍णचन्द्र नें कहा है “जा नर पर हम हित न करें ताको धन हर लेहिं । धन दुख दुखिया को स्‍वत: सकल बन्धु तज देहिं।।” सो निस्‍सन्‍देह सच है क्‍योंकि उद्योग की माता आवश्‍यकता है इसी तरह अनुभव सै उपदेश मिल्‍ता है सादी नें गुलिस्तां मैं लिखा है कि “एक बादशाह अपनें एक गुलाम को साथ लेकर नाव मैं बैठा. वह गुलाम क़भी नाव मैं नहीं बैठा था इसलिये भय सै रोनें लगा. धैर्य और उपदेशों की बातों सै उस्‍के चित्त का कुछ समाधान न हुआ. निदान बादशाह सै हुक्‍म लेकर एक बुद्धिमान नें (जो उसी नाव मैं बैठा था) उसै पानी मैं डाल दिया और दो, चार गोते खाए पीछै नाव पर ले लिया जिस्‍सै उस्‍के चित्तकी शान्ति हो गई. बादशाह नें पूछा इस्‍मैं क्‍या युक्ति थी ? बुद्धिमान नें जवाब दिया कि पहले यह डूबनें का दु:ख और नाव के सहारे बचनें का सुख नहीं जान्‍ता था. सुख की महिमा वही जान्‍ता है जिस्को दु:ख का अनुभव हो”

 

“परन्‍तु इस्‍समय इस अनुभव सै क्‍या लाभ होगा. ‘घोड़ा बिना चाबुक वृथा है’ लाला मदनमोहननें निराश होकर कहा.

 

“नहीं, नहीं ईश्‍वर की कृपा सै क़भी निराश न हो वह कोई बात युक्ति शून्‍य नहीं करता” लाला ब्रजकशोर कहनें लगे “मि. पारनेंलनें लिखा है कि “एक तपस्‍वी जन्‍म सै बन मैं रहक़र ईश्‍वराराधन करता था. एक बार धर्मात्‍माओं को दुखी और पापियों को सुखी देखकर उस्‍के चित्त मैं ईश्‍वर के इन्साफ़ विषै शंका उत्‍पन्‍न हुई और वह इस बात का निर्धार करनें के लिये बस्‍ती की तरफ़ चला. रस्‍ते मैं उस्‍को एक जवान आदमी मिला और यह दोनों साथ, साथ चलनें लगे. सन्‍ध्‍या समय इन्‍को एक ऊँचा महल दिखाई दिया और वहां पहुँचे जब उस्‍के मालिकनें इन दोनों का हद्द सै ज्‍याद: सत्‍कार किया. प्रात:काल जब ये चलनें लगे तो उस जवाननें एक सोनें का प्‍याला चुरा लिया. थोड़ी दूर आगे बढ़े. इतनें मैं घनघोर घटा चढ़ आई और मेह बरसनें लगा इस्‍सै यह दोनों एक पास की झोपड़ी मैं सहारा लेनें गए. उस झोपड़ी का मालिक अत्‍यन्‍त डरपोक और निर्दय था इसलिये उसनें बड़ी कठिनाई सै इन्‍हें थोड़ी देर ठैरनें दिया, अनादर सै सूखी रोटी के थोड़े से टुकड़े खानें को दिये और बरसात कम होते ही चलनें का संकेत किया, चल्‍ती बार उस जबाननें अपनी बगल सै सोनें का प्‍याला निकालकर उसै दे दिया. जिस्‍पर तपस्‍वी को जवान की यह दोनों बातें बड़ी अनुचित मालूम हुईं. खैर आगे बढ़े सन्‍ध्‍या समय एक सद्गृहस्‍थ के यहां पहुँचे जो माध्‍यम भाव सै रहता था और बड़ाई का भी भूखा न था. उस्‍नें इन्‍का भलीभांति सत्‍कार किया और जब ये प्रात:काल चलनें लगे तो इन्‍को मार्ग दिखानें के लिये एक अगुआ इन्‍के साथ कर दिया. पर यह जवान सबकी दृष्टि बचाकर चल्‍ती बार उस सद्गृ‍हस्‍थ के छोटे से बालका का गला घोंट कर उसै मारता गया ! और एक पुल पर पहुँचकर उस अगुए को भी धक्‍का दे नदी मैं डाल दिया ! इन्‍बातों सै अब तो इस तपस्वी के धि:कार और क्रोध की कुछ हद न रही. वह उस्‍को दुर्वचन कहा चाहता था इतनें मैं उस जवान का आकार एकाएक बदल गया उस्के मुखपर सूर्य का सा प्रकाश चमकनें लगा और सब लक्ष्ण देवताओं के से दिखाई दिये. वह बोला “मैं परमेश्‍वर का दूत हूँ और परमेश्‍वर तुम्‍हारी भक्ति सै प्रसन्‍न है इसलिये परमेश्‍वर की आज्ञा सै मैं तुम्‍हारा संशय दूर करनें आया हूँ. जिस काम मैं मनुष्‍य की बुद्धि नहीं पहुँचती उस्‍को वह युक्ति शून्‍य समझनें लगता है परन्‍तु यह उस्‍की केवल मूर्खता है. देखो यह सब काम तुमको उल्‍टे मालूम पड़ते होंगे परन्‍तु इन्हीं सै उस्‍के इन्साफ़ का बिचार करो. जिस मनुष्‍य का प्‍याला मैंनें चुराया वह नामवरी का लालच करके हद्द सै ज्‍याद: अतिथि सत्‍कार करता था और इस रीति सै थोड़े दिन मैं उस्‍के भिखारी हो जानें का भय था इस काम सै उस्‍की वह उमंग कुछ कम होकर मुनासिब हद्द आगई. जिस्‍को मैंनें प्‍याला दिया वह पहले अत्‍यन्‍त कठोर और निठुर था इस फ़ायदे सै उस्को अतिथि सत्कार की रुचि हुई. जिस सद्गृहस्‍थ का पुत्र मैंनें मारा उस्‍को मेरे मारनें का वृत्तान्त न मालूम होगा परन्‍तु वह इन दिनों सन्‍तान की प्रीति मैं फंसकर अपनें और कर्तव्य भूलनें लगा था इस्‍सै उस्‍की बुद्धि ठिकानें आगई. जिस मनुष्‍य को मैंनें अभी उठाकर नदीमैं डाल दिया वह आज रात को अपनें मालिक की चोरी करके उसै नाश किया चाहता था इसलिये परमेश्‍वर के सब कामों पर विश्‍वास रक्‍खो और अपना चित्त सर्वथा निराश न होनें दो.”

 

“मुझको इस्‍समय इस्‍बात सै अत्‍यन्‍त लज्‍जा आती है कि मैंनें आपके पहले हितकारी उपदेशों को वृथा समझ कर उन्‍पर कुछ ध्‍यान नहीं दिया” लाला मदनमोहननें मनसै पछतावा करके कहा.

 

“उन सब बातों का खुलासा इतना ही है कि सब पहलू बिचार कर हरेक काम करना चाहिये क्‍योंकि संसार मैं स्‍वार्थपर विशेष दिखाई देते हैं” लाला ब्रजकिशोरनें कहा.

 

“मैं आपके आगे इस्‍समय सच्‍चे मनसै प्रतिज्ञा करता हूँ कि मैं अब क़भी स्‍वार्थपर मित्रों का मुख नहीं देखूंगा. झूंटी ठसक दिखानें का बिचार न करूंगा, झूंठे पक्षपात को अपनें पास न आनें दूंगा और अपनें सुख के लिये अनुचित मार्ग पर पांव न रखूंगा” लाला मदनमोहननें बड़ी दृढ़ता सै कहा.

 

“इस्‍समय आप यह बातें निस्सन्देह मनसै कहते हैं परन्‍तु इस तरह प्रतिज्ञा करनें वाले बहुत मनुष्‍य परीक्षाके समय दृढ़ नहीं निकलते मनुष्‍य का जातीय स्‍वभाव (आदत) बड़ा प्रबल है तुलसीदासजीनें भगवान सै यह प्रार्थना की है:-

 

“मेरो मन हरिजू हठ न तजैं ।। निशदिन नाथ देउं सिख बहुबिध करय सुभाव निजै ।। ज्‍यों युवति अनुभवति प्रसव अति दारूण दुख उपजै ।। व्है अनुकूल बिसारि शूल शठ पुनि खल पतिहि भजै ।। लोलुप भ्रमत गृह पशू ज्‍यों जहं तहं पदत्राण बजैं ।। तदपि अधम बिचरत तेहि मारग कबहुँ न मूढ़लजै ।। हों हायौं कर बिबिध विधि अतिशय प्रबल अजै ।। तुलसिदास बस होइ तबहि जब प्रेरक प्रभु बरजै ।।” आदतकी यह सामर्थ्‍य है कि वह मनुष्‍य की इच्‍छा न होनें पर भी अपनी इच्‍छानुसार काम करा लेती है, धोका दे, देकर मनपर अधिकार कर लेती है, जब जैसी बात करानी मंजूर होती है तब वैसी ही युक्ति बुद्धि को सुझाती है, अपनी घात पाकर बहुत काल पीछे राख मैं छिपीहुई अग्नि के समान सहसा चमक उठती है. मैं गई बीती बातों की याद दिवाकर आपको इस्‍समय दुखित नहीं किया चाहता परन्‍तु आपको याद होगी कि उस्‍समय मेरी ये सब बातें चिकनाई पर बूंद के समान कुछ असर नहीं करती थीं इसी तरह यह समय निकल जायगा तो मैं जान्‍ता हूँ कि यह सब बिचार भी वायु की तरह तत्‍काल पलट जायेंगे. हम लोगों का लखोटिया ज्ञान है वह आग के पास जानें सै पिघल जाता है परन्तु उस्सै अलग होते ही फ़िर कठोर हो जाता है इस दशा मैं जब इस्समय का दुख भूलकर हमारा मन अनुचित सुख भोगनें की इच्‍छा करे तब हमको अपनी प्रतिज्ञा के भय सै वह काम छिपकर करनें पड़ें, और उन्‍को छिपानें के लिये झूंटी ठसक दिखानी पड़े, झूंटी ठसक दिखानें के लिये उन्हीं स्‍वार्थपर मित्रों का जमघट करना पड़े, और उन स्‍वार्थपर मित्रों का जमघट करनें के लिये वही झूंटा पक्षपात करना पड़े तो क्‍या आश्‍चर्य है ?” लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

“नहीं, नहीं यह क़भी नहीं हो सक्‍ता. मुझको उन लोगों सै इतनी अरुचि हो गई कि मैं वैसी साहूकारी सै ऐसी गरीबी को बहुत अच्‍छी समझता हूँ. क्‍या अपनी आदत कोई नहीं बदल सक्‍ता ?” लाला मदनमोहन नें जोर देकर पूछा.

 

“क्‍यों नहीं बदल सक्ता ? मनुष्‍य के चित्त सै बढ़कर कोई बस्‍तु कोमल और कठोर नहीं है वह अपनें चित्त को अभ्‍यास करके चाहै जितना कम ज्‍याद: कर सकता है कोमल सै कोमल चित्त का मनुष्‍य कठिन सै कठिन समय पड़नें पर उसे झेल लेता है और धीरै, धीरै उस्‍का अभ्‍यासी हो जाता है इसी तरह जब कोई मनुष्‍य अपनें मनमैं किसी बातकी पक्‍की ठान ले और उस्‍का हर वक्‍त ध्‍यान बना रक्‍खे उस्‍पर अन्त तक दृढ़ रहैं तो वह कठिन कामों को सहज मैं कर सकता है परन्तु पक्‍का बिचार किये बिना कुछ नहीं हो सकता” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे:-

 

“इटली का प्रसिद्ध कवि पीट्रार्क लोरा नामी एक परस्‍त्री पर मोहित हो गया इसलिये वह किसी न किसी बहानें सै उस्‍के सन्मुख जाता और अपनी प्रीतिभरी दृष्टि उस्पर डाल्ता परन्‍तु उस्‍के पतिब्रतापन सै उस्‍के आगे अपनी प्रीति प्रगट नहीं कर सकता था. लोरानें उस्‍के आकार सैं उस्‍का भाव समझकर उस्‍को अपनें पास सै दूर रहनें के लिये कहा और पीट्रार्क नें भी अपनें चित्त सै लोरा की याद भूलनेंके लिये दूर देशका सफ़र किया परन्‍तु लोरा का ध्‍यान क्षणभर के लिये उस्‍के चित्त सै अलग न हुआ. एक तपस्‍वी नें बहुत अच्‍छी तरह उस्‍को अपना चित्त अपनें बस मैं रखनें के लिये समझाया परन्‍तु लोरा को एक दृष्टि देखते ही पीट्रार्क के चित्त सै वह सब उपदेश हवामैं उड़ गए. लोरा की इच्‍छा ऐसी मालूम होती थी कि पीट्रार्क उस्‍सै प्रीति रक्‍खे परन्‍तु दूरकी प्रीति रक्‍खे. जब पीट्रार्क का मन कुछ बढ़नें लगता तो वह अत्‍यन्‍त कठोर हो जाती परन्‍तु जब उस्‍को उदास और निराश देखती तब कुछ कृपा दृष्टि करके उस्‍का चित्त बढ़ा देती. इस तरह अपनें पतिब्रत मैं किसी तरह का धब्‍बा लगाये बिना लोरानें बीस वर्ष निकाल दिये. पीट्रार्क बेरोना शहर मैं था उस्‍समय एक दिन लोरा उसै स्‍वप्‍न में दिखाई दी और बड़े प्रेम सै बोली कि “आज मैंनें इस असार संसार को छोड़ दिया. एक निर्दोष मनुष्‍य को संसार छोड़ती बार सच्‍चा सुख मिल्‍ता है और मैं ईश्‍वर की कृपा सै उस सुख का अनुभव करती हूँ परन्‍तु मुझको केवल तेरे बियोग का दु:ख है”, “तो क्‍या तू मुझ सै प्रीति रखती थी ?” पीट्रार्क नें पूछा. “सच्‍चे मन सै” लोरानें जवाब दिया और उस्‍का उस दिन मरना सच निकला. अब देखिये कि एक कोमल चित्त स्‍त्री, अपनें प्‍यारे की इतनी अधीनता पर बीस वर्ष तक प्रीतिकी अग्नि को अपनें चित्त मैं दबा सकी और उसे सर्वथा प्रबल न होनें दिया. फ़िर क्‍या हम लोग पुरूष होकर भी अपनें मनकी छोटी, छोटी, कामनाओं के प्रबल होनें पर उन्हैं नहीं रोक सक्‍ते ?”

 

“यूनान के प्रसिद्ध वक्‍ता डिमास्टिनीज को पहलै पूरा सा बोलना नहीं आता था. उसकी ज़बान तोतली थी और ज़रासी बात कहनेंमैं उस्‍का दम भर जाता था परन्‍तु वह बड़े, बड़े उस्‍तादों की वक्‍तृता का ढंग देखकर उन्‍की नकल करनें लगा और दरियाके किनारे या ऊंची टेकड़ियों पर मुंह मैं कंकर भरकर बड़ी देर, देर तक लगातार छन्‍द बोलनें लगा जिस्‍सै उस्‍का तुतलाना और दम भरनाही नहीं बन्‍द हुआ बल्कि लोगों के हल्‍ले को दबाकर आवाज देनें का अभ्‍यास भी हो गया. वह वक्‍तृता करनें सै पहलै अपनें चेहरे का बनाव देखनें के लिये काचके सामनें खड़े होकर अभ्‍यास करता था और उस्‍को वक्‍तृता करती बार कंधेउचकांनें की आदत पड़ गई थी इस्‍सै वह अभ्‍यास के समय दो नोकदार हथियार अपनें कन्धों सै जरा ऊंचे लटकाए रखता था कि उन्‍के डरसै कन्धे न उचकनें पायें. उस्‍नें अपनी भाषा मैं प्रासिद्ध इतिहासकर्ता टयूसीडाइगस का सा रस लानेंके लिये उस्के लेख की आठ नकल अपनें हाथ सै की थीं.

 

“इंग्लेण्डका बादशाह पांचवां हेनरी जब प्रिन्‍स आफ वेल्‍स (युवराज) था तब इतनी बदचलनी में फंस गया था और उस्‍की संगति के सब आदमी ऐसे नालायक थे कि उस्‍के बादशाह होनें पर बड़े जुल्‍म होनें का भय सब लोगों के चित्त मैं समा रहा था. जिस्‍समय इंग्लेण्ड के चीफ जस्टिस गासकोइननें उस्‍के अपराध पर उसै कैद किया तो खास उस्‍के पिता नें इस बात सै अपनी प्रसन्‍नता प्रगट की थी कि शायद इस रीति सै वह कुछ सुधरे. परन्तु जब वह शाहजादा बादशाह हुआ और राजका भार उस्‍के सिर आ पड़ा तो उस्‍नें अपनी सब रीति भांति एकाएक ऐसी बदल डाली कि इतिहास मैं वह एक बड़ा प्रामाणिक और बुद्धिमान बादशाह समझा गया. उस्‍नें राज पाते ही अपनी जवानी के सब मित्रोंको बुलाकर साफ कह दिया था कि मेरे सिर राजका बोझ आ पड़ा है इसलिये मैं अपना चाल-चलन सुधारा चाहता हूँ सो तुम भी अपना चालचलन सुधार लेना. आज पीछे तुम्‍हारी कोई बदचलनी मुझको मालूम होगी तो मैं तुम्हैं अपनें पास न फटकनें दूंगा. उस्‍सै पीछे हेनरी नें बड़े योग्‍य, धर्मात्‍मा, अनुभवी और बुद्धिमान आदमियोंकी एक काउन्सिल बनाई और इन्साफ़ की अदालतों मैं सै संदिग्‍ध मनुष्यों को दूर करके उन्‍की जगह बड़े ईमानदार आदमी नियत किये. खास कर अपनें कैद करनें वाले गासकोइनकी बड़ी प्रतिष्‍ठा करके उस्‍सै कहा कि “जिस्‍तरह तुमनें मुझको स्‍वतन्त्रता सै कैद किया था इसी तरह सदा स्‍वतन्त्रता सै इन्साफ़ करते रहना”

 

“मेरे चित्तपर आपके कहनें का इस्समय बड़ा असर होता है और मैं अपनें अपराधोंके लिये ईश्‍वर सै क्षमा चाहता हूँ मुझको उस अमीरीके बदले इस कैद मैं अपनी भूलका फल पानें सै अधिक संतोष मिल्‍ता है. मैं अपनें स्‍वेच्‍छाचार का मजा देख चुका अब मेरा इतना ही निवेदन है कि आप प्रेमबिवस होकर मेरे लिये किसी तरह का दुख न उठायं और अपना नीति मार्ग न छोड़ें” लाला मदनमोहन नें दृढ़ता से कहा.

 

“अब आपके बिचार सुधर गए इस लिये आपके कृतकार्य (कामयाब) होनें मैं मुझको कुछ भी संदेह नहीं रहा ईश्वर आपका अवश्‍य मंगल करेगा” यह कहक़र लाला ब्रजकिशोरनें मदनमोहन को छाती सै लगा लिया.

 

प्रकरण-41

 

सुखकी परमावधि.

 

जबलग मनके बीच कछु स्‍वारथको रस होय ।।

सुद्ध सुधा कैसे पियै ? परै बी ज मैं तोय ।।

 

सभाविलास

 

“मैंनें सुना है कि लाला जगजीवनदास यहां आए हैं” लाला मदनमोहननें पूछा.

 

“नहीं इस्‍समय तो नहीं आए आपको कुछ संदेह हुआ होगा” लाला ब्रजकिशोरनें जवाब दिया.

 

“आपके आनें सै पहलै मुझको ऐसा आश्‍चर्य मालूम हुआ कि जानें मेरी स्‍त्री यहां आई थी परन्‍तु यह संभव नहीं कदाचित् स्‍वप्‍न होगा” लाला मदनमोहननें आश्‍चर्य सै कहा.

 

“क्‍या केवल इतनी ही बात का आपको आश्‍चर्य है ? देखिये चुन्नीलाल और शिंभूदयाल पहलै बराबर मेरी निन्‍दा करके आपका मन मेरी तरफ़सै बिगाड़ते रहे थे बल्कि आपके लेनदारों को बहकाकर आपके काम बिगाड़नें तकका दोषारोप मुझपर हुआ था परन्‍तु फ़िर उसी चुन्‍नीलालनें आपसै मेरी बड़ाई की, आपसै मेरी सफाई कराई, आपको मेरे मकान पर लिवा लाया आपकी तरफ़ सै मुझसै क्षमा मांगी मुझे फ़ायदा पहुँचाकर प्रसन्‍न रखनें के लिये आपको सलाह दी और अन्‍तमैं मेरा आपका मेल करवाकर चुन्‍नीलाल और शिंभूदयाल दोनों अलग हो गए ! उसी समय मेरठ सै जगजीवनदास आकर आपके घरकों लिवा ले गया ! मैंनें जन्‍म भर आपसै रुपे का लालच नहीं किया था सो तीन दिन मैं ऐसे कठिन अवसर पर ठगोंकी तरह पाकटेचेन, हीरे की अंगूठी और बाली ले ली ! एक छोटेसे लेनदार की डिक्री मैं आपको इतनी देर यहां रहना पड़ा क्‍या इन बातों से आपको कुछ आश्‍चर्य नहीं होता ? इन्मैं कोई बात भेद की नहीं मालूम होती ?” लाला ब्रजकिशोर नें पूछा.

 

“आपके कहनें सै इस मामले मैं इस्‍समय निस्‍सन्‍देह बहुत सी बातें आश्‍चर्य की मालूम होती हैं और किसी, किसी बात का कुछ, कुछ मतलब भी समझ मैं आता है परन्‍तु सब बातों के जोड़ तोड़ पूरे नहीं मिल्‍ते और मन भरनें के लायक कोई कारण समझ मैं नहीं आता यदि आप कृपा करके इनबातों का भेद समझा देंगे तो मैं आपका बड़ा उपकार मानूंगा” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“उपकार मान्नें के लायक मुझ सै आपकी कौन्‍सी सेवा बन पड़ी है ?” लाला ब्रजकिशोरनें जवाब दिया और अपनी बगल सै बहुत से कागज और एक पोटली निकाल कर लाला मदनमोहन के आगे रखदी. इन कागजों मैं मदनमोहन के लेनदारों की तरफ़ सै अन्‍दाजन् पचास हजार रुपे के राजी नामे फारखती, और रसीद वगैरे थीं और मिस्टर ब्राइट का फैसलानामा था जिस्मैं पैंतीस हजार पर उस्‍सै फैसला हुआ था और मिस्‍टर रसल की रकम उस्के देनें में लगादी थी, और मिस्टर ब्राइट की बेची हुई चीजोंमैं सै जो चीज फेरनी चाहें बराबर दामोंमैं फेर देनें की शर्त ठैर गई थी. उस पोटली मैं पन्दरह बीस हजार का गहना था !

 

लाला मदनमोहन यह देखकर आश्‍चर्य सै थोड़ी देर कुछ न बोल सके फ़िर बड़ी कठिनाई सै केवल इतना कहा कि “मुझको अबतक जितनी आश्‍चर्य की बातें मालूम हुई थीं उन सब मैं यह बढ़कर है !”

 

“जितना असर आपके चित्तपर हौना चाहिये था परेश्‍वर की कृपा सै हो चुका इसलिये अब छिपानें की कुछ ज़रूरत नहीं मालूम होती” लाला ब्रजकिशोर कहनें लगे “आप किसी तरह का आश्‍चर्य न करैं, इन सब बातों का भेद यह है कि मैं ठेठसै आपके पिताके उपकार मैं बंधरहा हूँ जब मैंनें आपकी राह बिगड़ती देखी तो यथा शक्ति आपको सुधारनें का उपाय किया परन्‍तु वह सब वृथा गया. जब हरकिशोर के झगड़े का हाल आपके मुखसै सुना तो मुझको प्रतीत हुआ कि अब रुपे की तरी नहीं रही लोगों का विश्‍वास उठता जाता है और गहनें गांठें के भी ठिकानें लगनें की तैयारी है, आपकी स्‍त्री बुद्धिमान होनें पर भी गहनें के लिये आपका मन न बिगाड़ेगी लाचार होकर उसे मेरठ लेजानें के लिये जगजीवनदास को तार दिया और जब आप मेरे कहनें सै किसी तरह न समझे तो मैंनें पहलै बिभीषण और बिदुरजी के आचरण पर दृष्टि करके अलग हो बैठनें की इच्‍छा की परन्‍तु उस्‍सै चित्तको संतोष न हुआ तब मैं इस्बात के सोच बिचार मैं बड़ी देर डूबा रहा तथापि स्‍वाभाविक झटका लगे बिना आपके सुधरनें की कोई रीत न दिखाई दी और सुधरे पीछे उस अनुभव सै लाभ उठानें का कोई सुगम मार्ग न मिला. अन्‍तमैं सुग्रीव को धमकी देकर रघुनाथ जी जिस्‍तरह राह पर ले आये थे इसी तरह मुझको आपके सुधारनें की रुचि हुई और मैं आपके वास्‍तै आपही सै कुछ रुपया लेकर बचा रखनें के बिचार किया पर यह काम चुन्‍नीलाल के मिलाये बिना नहीं हो सक्ता था इसलिये तत्‍काल उस्‍के भाई (हीरालाल) को अपनें हां नोकर रख लिया. परन्‍तु इस अवसर पर हरकिशोर की बदोलत अचानक यह बिपत्ति सिर पर आपड़ी. चुन्‍नीलाल आदिका होसला कितना था ? तत्‍काल घबरा उठे और उस्‍सै मेल करनें के लिये फ़िर मुझको कुछ परिश्रम न करना पड़ा. वह सब रुपे के गुलाम थे जब यहां कुछ फ़ायदे की सूरत न रही, उधर लोगोंनें आप पर अपनें लेनें की नालशैं कर दीं और आपकी तरफ़ सै जवाब दिही करनें मैं उन्‍को अपनी खायकी प्रगट होनें का भय हुआ तत्‍काल आपको छोड़, छोड़ किनारे हो बैठै. मैंनें आप सै कुछ जो इनाम पाया था उस्‍की कीमत सै यह सब फैंसले घटा, घटा कर किये गए हैं. अब दिशावर वालों का कुछ जुज्वी सा देना बाकी होगा सो दो, चार हजार मैं निबट जायगा परन्‍तु मेरे मनकी उमंग इस्‍समय कुछ नहीं निकली इस्सै मैं अत्‍यन्‍त लज्जित हूँ” लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

“आपनें मेरे फ़ायदे के लिये बिचारे लेनदारों को वृथा क्‍यों दबाया” लाला मदनमोहन बोले.

 

“न मैंनें किसी को दबाया न धोका दिया न अपनें बस पड़ते कसर दीं उन लोगोंनें बढ़ा, बढ़ा कर आप के नाम जो रकमैं लिख लीं थीं वही यथा शक्ति कम की गई हैं और वह भी उन्‍की प्रसन्‍नता सैं कम की गई हैं” लाला ब्रजकिशोर नें अपना बचाव किया.

 

“इन सब बातों सै मैं आश्‍चर्य के समुद्र मैं डूबा जाता हूँ. भला यह पोटली कैसी है ?” लाला मदनमोहन नें पूछा.

 

“आपकी हवालात की खबर सुन्‍कर आपकी स्‍त्री यहां दौड़ आई थी और जिस्‍समय मैं आप सै बातें कर रहा था उस्‍समय उसी के आनें की खबर मुझको मिली थी मैंनें उसै बहुत समझाया परन्‍तु वह आपकी प्रीति मैं ऐसी बावली हो रही थी कि मेरे कहनें सै कुछ न समझी, उस्नें आपको हवालात सै छुड़ानें के लिये यह सब गहना जबरदस्‍ती मुझै दे दिया. वह उस्‍समय सै पांच फेरे यहां के कर चुकी है उस्नें सवेरे सै एक दाना मुंहमैं नहीं लिया उस्‍का रोना पलभर के लिये बन्‍द नहीं हुआ रोते, रोते उस्‍की आंखें सूज गईं हा ! उस्की एक, एक बात याद करनें सै कलेजा फटता है. और आप ऐसी सुपात्र स्‍त्री के पति होंनें सै निस्‍सन्‍देह बड़े भाग्‍य शाली हो” लाला ब्रजकिशोर नें आंसू भरकर कहा.

 

“भाई जब उस्नें उसी समय तुमको यह गहना देदिया था तो फ़िर मेरे छुड़ानें मैं देर क्‍यों हुई ?” लाला मदनमोहननें संदेह करके पूछा.

 

“एक तो दो एक लेनदारों का फैसला जब तक नहीं हुआ था और हरकिशोर की डिक्री का रुपया दाखिल कर दिया जाता तो फ़िर उन्‍के घटनें की कुछ आशा न थी, दूसरे आपके चित्तपर अपनी भूलों के भली भांति प्रतीत हो जानें के लिये भी कुछ ढ़ील की गई थी परन्‍तु कचहरी बरखास्‍त होनेंसै पहले मैंनें आपके छुड़ानें का हुक्‍म ले लिया था और इसी कारण सै मेरी धर्मकी बहन आपकी सुशीला स्‍त्री को आपके पास आनेंमैं कुछ अड़चन नहीं पड़ी थी. हां मैंनें आपका अभिप्राय जानें बिना मिस्‍टर ब्राइट सै उस्‍की चीजैं फेरनें का बचन कर लिया है यह बात कदाचित् आपको बुरी लगी होगी” लाला ब्रजकिशोरनें मदनमोहन का मन देखनें के लिये कहा.

 

“हरगिज नहीं, इस बातको तो मैं मनसें पसन्‍द करता हूँ झूंटी भड़क दिखानें मैं कुछ सार नहीं ‘आई बहू आए काम गई बहू गए काम’ की कहावत बहुत ठीक है और मनुष्‍य अपनें स्‍वरूपानुरूप प्रामाणिकपनेंसै रहक़र थोड़े खर्च मैं भली भांति निर्वाह कर सकता है” लाला मदनमोहन नें संतोष करके कहा.

 

“अब तो आपके बिचार बहुत ही सुधर गए. एबडोलोमीन्‍स को गरीबी सै एकाएक साइडोनिया के सिंहासन पर बैठाया गया तब उस्‍नें सिकन्‍दरसै यही कहा था कि “मेरे पास कुछ न था जब मुझको विशेष आवश्‍यकता भी न थी अब मेरा वैभव बढ़ेगा वैसी ही मेरी आवश्‍यकता भी बढ़ जायगी” कच्‍चे मन के मनुष्‍यों को अपनें स्‍वरूपानुरूप बरताव रखनेंमैं जाहिरदारी की झूंटी झिझक रहती है इसीसै वह लोग जगह, जगह ठोकर खाते हैं परन्‍तु प्रामाणिकपनें सै उचित उद्योग करकै मनुष्‍य हर हालत मैं सुखी रह सक्ता है” लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

“क्‍या अब चुन्‍नीलाल और शिंभूदयाल आदिको उन्‍की बदचलनी का कुछ मजा दिखाया जायगा ?” लाला मदनमोहननें पूछा.

 

“किसी मनुष्य की रीति भांति सुधरे बिना उस्‍सै आगे को काम नहीं लिया जा सक्ता परन्‍तु जिन लोगों का सुधारना अपनें बूते सै बाहर हो उन्सै काम काजका सम्बन्ध न रखना ही अच्‍छा है और जब किसी मनुष्‍य सै ऐसा सम्बन्ध न रखा जाय तो उस्‍के सुधारनें का बोझ सर्व शक्तिमान परमेश्‍वर अथवा राज्याधिकारियों पर समझकर उस्सै द्वेष और बैर रखनें के बदले उस्‍की हीन दशा पर करुणा और दया रखनी सज्‍जनों को विशेष शोभित करती हैं” लाला ब्रजकिशोर नें जवाब दिया.

 

“मेरी मूर्खता सै मुझपर जो दुख पड़ना चाहिये था पड़ चुका अब अपना झूंटा बचाव करनें सै कुछ फायदा नहीं मालूम होता मैं चाहता हूँ कि सब लोगों के हित निमित्त इन दिनों का सब वृत्तान्‍त छपवा कर प्रसिद्ध कर दिया जाय” लाला मदनमोहन नें कहा.

 

“इस्‍की क्‍या ज़रूरत है ? संसार मैं सीखनें वालों के लिये बहुत सै सत्शास्‍त्र भरे पड़े हैं” लाला ब्रजकिशोरनें अपना सम्बन्ध बिचार कर कहा.

 

“नहीं सच्‍ची बातों मैं लजानें का क्‍या काम है ? मेरी भूल प्रगट हो तो हो मैं मन सै चाहता हूँ कि मेरा परिणाम देखकर और लोगों की आंखैं खुलैं इस अवसर पर जिन, जिन लोगों सै मेरी जो, जो बात चीत हुई है वह भी मैं उस्‍मैं लिखनें के लिये बता दूंगा” लाला मदनमोहननें उमंगसै कहा.

 

“धन्‍य ! लालासाहब ! धन्य ! अब तो आपके सुधरे हुए बिचार हद्द के दरजें पर पहुँच गए” लाला ब्रजकिशोरनें गद्गद बाणी सै कहा “औरों के दोष देखनें वाले बहुत मिल्‍ते हैं परन्‍तु जो अपनें दोषों को यथार्थं जान्‍ता हो और जान बूझकर उन्‍का झूंटा पक्ष न करता हो बल्कि यथाशक्ति उन्‍के छोड़नें का उपाय करता हो वही सच्‍चा सज्‍जन है”

 

“सिलसिले बन्‍द सीधा मामूली काम तो एक बालक भी कर सक्‍ता है परन्‍तु ऐसे कठिन समय मैं मनुष्य की सच्‍ची योग्‍यता मालूम होती है आपनें मुझको इस अथाह समुद्र मैं डूबनें सै बचाया है इस्‍का बदला तो आपको ईश्‍वर के हां सै मिलैगा मैं सो जन्‍म तक लगातार आपकी सेवा करूं तो भी आपका कुछ प्रत्‍युपकार नहीं कर सक्ता परन्‍तु जिस्‍तरह महाराज रामचन्‍द्र नें भिलनी के बेर खाकर उसे कृतार्थ किया था इसी तरह आप भी अपनी रुचिके विपरीत मेरा मन रखनें के लिये मेरी यही प्रेम भेंट अंगीकार करैं” लाला मदनमोहन ब्रजकिशोर को आठ दस हजार का गहना देनें लगे.

 

“क्‍या आप अपनें मनमैं यह समझते हैं कि मैंनें किसी तरह के लालच सै यह काम किया ?” लाला ब्रजकिशोर रुखाई सै बोले “आगे को आप ऐसी चर्चा करके मेरा जी बृथा न दुखावैं. क्‍या मैं गरीब हूँ इसी सै आप ऐसा बचन कहक़र मुझको लज्जित करते हैं ? मेरे चित्त का संतोष ही इस्‍का उचित बदला है. जो सुख किसी तरह के स्‍वार्थ बिना उचित रीति सै परोपकार करनें मैं मिल्‍ता है वह और किसी तरह नहीं मिल सक्‍ता. वह सुख, सुख की परमावधि है इसलिये मैं फ़िर कहता हूँ कि आप मुझको उस सुख सै वंचित करनें के लिये अब ऐसा बचन न कहैं.”

 

“आप का कहना बहुत ठीक है और प्रत्‍युपकार करना भी मेरे बूते सै बाहर है परन्‍तु मैं केबल इस्समय के आनन्द मैं-”

 

“बस आप इस विषय मैं और कुछ न कहैं. मुझको इस्‍समय जो मिला है उस्‍सै अधिक आप क्‍या दे सक्‍ते हैं मैं रुपे पैसे के बदले मनुष्‍य के चित्त पर विशेष दृष्टि रखता हूँ और आपको देनें ही का आग्रह हो तो मैं यह मांगता हूँ कि आप अपना आचरण ठीक रखनें के लिये इस्‍समय जैसे मजबूत हैं वैसे ही सदा बनें रहैं और यह गहना मेरी तरफ़ सै मेरी पतिब्रता बहन और उस्‍के गुलाब जैसे छोटे, छोटे बालकों को पहनावें जिन्‍के देखनें सै मेरा जी हरा हो” लाला ब्रजकिशोर नें कहा.

 

“परमेश्‍वर चाहेंगे तो आगे को आप की कृपा सै कोई बात अनुचित न होगी” लाला मदनमोहन नें जवाब दिया.

 

“ईश्‍वर आप को सदा भले कामों की सामर्थ्‍य दे और सब का मंगल करे !” लाला ब्रजकिशोर सच्‍चे सुख मैं निमग्‍न होकर बोले.

 

निदान सब लोग बड़े आनन्‍द सै हिल मिलकर मदनमोहन को घर लिवा ले गए और चारों तरफ़ सै “बधाई” “बधाई” होनें लगी.

 

जो सच्‍चा सुख, सुख मिलनें की मृगतृष्‍णा से मदनमोहन को अब तक स्‍वप्‍न मैं भी नहीं मिला था वही सच्‍चा सुख इस्‍समय ब्रजकिशोर की बुद्धिमानी से परीक्षागुरु के कारण प्रामाणिक भाव से रहनें मैं मदनमोहन को मिल गया ! ! !

 

0 0 वोट
पोस्ट को रेट करें
सबस्क्राइब करें
सूचित करें
guest
0 टिप्पणियाँ
इनलाइन प्रतिक्रिया
सभी टिप्पणियाँ देखें

.

Avatar

साहित्य विमर्श

हिंदी साहित्य चर्चा का मंच कथा -कहानी ,कवितायें, उपन्यास. किस्से कहानियाँ और कविताएँ, जो हमने बचपन में पढ़ी थी, उन्हें फिर से याद करना और याद दिलाना
0
आपके विचार महत्वपूर्ण हैं। कृपया टिप्पणी करें। x
()
x