One Comment

  1. Gurpreet Singh
    November 10, 2018 @ 5:09 pm

    विजयदान देथा जी की भाषा शैली बहुत अच्छी थी। लोक कथाओं को जो साहित्य रूप दिया वह पठनीय है।
    उनकी उक्त कथा काफी चर्चित रही है।
    धन्यवाद।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यू पी एस सी - हिन्दी साहित्य कोचिंग के लिए संपर्क करें - 8800695993-94-95 या और जानकारी प्राप्त करें